अजितनाथ

अजितनाथ जैन धर्म के २४ तीर्थकरो में से वर्तमान अवसर्पिणी काल के द्वितीय तीर्थंकर है।अजितनाथ का जन्म अयोध्या के राजपरिवार में माघ के शुक्ल पक्ष की अष्टमी में हुआ था। इनके पिता का नाम जितशत्रु और माता का नाम विजया था। अजितनाथ का चिह्न हाथी था।
जैन ग्रन्थों के अनुसार द्वितीय तीर्थंकर, अजितनाथ का जन्म प्रथम तीर्थंकर ऋषभनाथ के जन्म के बाद 50 लाख करोड़ वर्गरोस पम और 12 लाख पूर्व बीत जाने के बाद हुआ था। उनकी ऊंचाई 450 धनुष थी। उन्होंने 18 लाख पूर्व युवा अवस्था कुमारकाल में व्यतीत किए। उन्होंने अपने राज्य पर 53 लाख पूर्व और १ पूर्वांग तक शासन किया राज्यकाल। उन्होंने १ पूर्वांग कम १ लाख पूर्व काल संयम साधना में व्यतीत किया संयमकाल। भगवान अजिताथ की कुल आयु 72 लाख पूर्व की थी।

1. सन्दर्भ सूची
Tandon, Om Prakash 2002, Jaina Shrines in India 1 संस्करण, New Delhi: Publications Division, Ministry of Information and Broadcasting, Government of India, आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 81-230-1013-3
Tukol, T. K. 1980, Compendium of Jainism, Dharwad: University of Karnataka

  • जन मभ म ह बन रस म ज न धर म क स प र श वन थ व प र श वन थ क जन मभ म ह अय ध य म आद न थ, अज तन थ अभ न दन थ, स मत न थ व अन त न थ क जन मभ म ह
  • च ल क य र ज क म रप ल न म सबस प र न म द र क न र म ण क य थ अज तन थ क म टर स गमरमर क म र त क द र य म र त ह श व त बर पर सर म
  • म क ष प र प त क य थ 12व शत ब द म यह श व त बर स ल क र ज क म रप ल न भगव न अज तन थ क सम म न म यह एक ख बस रत म द र क न र म ण करव य थ
  • अन स र द सर चक रवर त र ज थ ज न पर पर स ग र थ छ ट भ ई क भगव न अज तन थ द व त य त र थ कर वह प द ह आ थ करन क ल ए क षत र य र ज स म त र और
  • प रद श क भ व वरण आय ह उत तरप र ण मह प र ण क प रक भ ग ह इसम अज तन थ स आर भ कर त र थ कर, सगर स आर भ कर 11 चक रवर त बलभद र, न र यण
  • ह ज न धर म म वर ण त त र थ कर क न म न म नल ख त ह 1 ऋषभद व 2 अज तन थ 3 सम भवन थ 4 अभ न दन ज 5 स मत न थ ज 6 पद ममप रभ ज 7 स प र श वन थ ज
  • अल व यह च र अन य म द र भ द ख ज सकत ह ज सम भगव न चन द रप रभ अज तन थ प र श वन थ और स भवन थ क म र त य स थ प त ह ख डव र लव स ट शन स
  • त र थ कर क जन म ह आ थ क रम स पहल त र थ कर ऋषभन थ ज द सर त र थ कर अज तन थ ज च थ त र थ कर अभ न दनन थ ज प चव त र थ कर स मत न थ ज और च दहव
  • शत ब द क ह इसक अत र क त इस म द र ज न त र थ कर श न त न थ और भगव न अज तन थ क क स म बन प रत म ए भ ह यह म द र अपन स दरत और श न त प र ण
  • ह आ ह म द र क दक ष ण - प र व क न पर आद न थ, दक ष ण - पश च म क न पर अज तन थ उत तर - पश च म क न पर स भवन थ तथ उत तर - प र व म च न त मण प र श वन थ
  • क य थ 12व शत ब द म यह श व त बर स ल क र ज क म रप ल न भगव न अज तन थ क सम म न म यह एक ख बस रत म द र क न र म ण करव य थ यह ल कप र य ज न
  • प ड ह कहत ह क श र ऋषभद व न यह तप क य थ अय ध य आद न थ, अज तन थ अभ नन दनन थ, स मत न थ, अनन तन थ क जन म स थ न रत नप र फ ज ब द ज ल म
  • क क लद त स द धन थ व द य व ग श क पवनद त क ष णन थ न य यप च नन क व तद त अज तन थ न य यरत न क बकद त रघ न थ द स क ह स द त आद रचन ए ह इनम स
  • श त न थ ज न म द र: भगव न श त न थ 16 व त र थ कर क 18 फ ट ऊ च खड आसन अज तन थ ज न म द र द व त य त र थ कर Adinath ज न: म द र एक श नद र और व श ल भगव न
  • क रम क त र थ कर 1 ऋषभद व - इन ह आद न थ भ कह ज त ह 2 अज तन थ 3 सम भवन थ 4 अभ न दन ज 5 स मत न थ ज 6 पद ममप रभ ज 7 स प र श वन थ ज 8 च द प रभ
  • अन य न म आद न थ, ऋषभन थ, व षभन थ श क ष ए अह स अपर ग रह अगल त र थ कर अज तन थ ग हस थ ज वन व श इक ष व क प त न भ र ज म त मह र न मर द व प त र भरत चक रवर त
  • ह आ ह म द र क दक ष ण - प र व क न पर आद न थ, दक ष ण - पश च म क न पर अज तन थ उत तर - पश च म क न पर स भवन थ तथ उत तर - प र व म च त मण प र श वन थ
  • अन य न म सम भवन थ ज न एत ह स क क ल वर ष प र व प र व त र थ कर अज तन थ अगल त र थ कर अभ न दनन थ ग हस थ ज वन व श इक ष व क प त र ज ज त र म त
  • करत ह ए कहत ह क अय ध य वह जगह ह जह प च ज न त र थ कर, ऋषभद व, अज तन थ अभ न दनन थ, स मत न थ और अन तन थ रह करत थ 1527 स पहल यह प र च न शहर
  • प र व व त बरगद ग म ख और चक र श वर प द र क ब रह मम अष टपद क लश अज तन थ ज व जय व मन अय ध य सम म त श खरज व जय द व ज तशत र स वर ण म ह थ
  • ग म ख और चक र श वर प ण डर क ब र ह म अष टपद क ल स 10224 वर ष प र व 2 अज तन थ व जयव म न अय ध य श खरज ज तशत र व जयम त स वर ण ह थ 1, 350 Meters 508
  • क न दक न द स व म एक प रस द ध ज न आच र य प र ष ल खक Tirutakkatevar प र ष ल खक अज तन थ ज द व त य त र थ कर प रभ ज प र ष Q2304859 क म रप ल प र ष र ज भद रब ह

अजितनाथ: पारसनाथ भगवान को प्रथम आहार किसने दिया, तीर्थंकर के चिन्ह, 24 तीर्थंकर के कल्याणक, जैन धर्म के २३ तीर्थंकर कौन थे, महिला जैन तीर्थंकर, जैन धर्म के प्रमुख तीर्थ कर कौन कौन से हैं, स्त्री तीर्थंकर, तीर्थंकर के शरीर में कितने लक्षण होते हैं

पारसनाथ भगवान को प्रथम आहार किसने दिया.

अजितनाथ की आरती ENCYCLOPEDIA. १ ऋषभदेव २ अजितनाथ ३ संभवनाथ ४ अभिनन्दन. ५ सुमतिनाथ ६ पद्मप्रभ ७ सुपार्श्वनाथ ८ चन्द्रप्रभ. ६ सुविधिनाथ १० शीतलनाथ. ११ श्रेयांसनाथ १२ वासुपूज्य. १३ विमलनाथ १४ अनन्तनाथ १५ धर्मनाथ १६ शान्तिनाथ. १७ कुंथुनाथ १८ अरनाथ ​१६. जैन धर्म के प्रमुख तीर्थ कर कौन कौन से हैं. Water saving appel समाज भी करे पानी बचाने का कार्य. द्वितीय तीर्थंकर श्री अजितनाथ भगवान चैत्यवंदन स्तुति श्री अजीतनाथ प्रभु का जीवन परिचय अजितनाथ प्रभु के पिता का नाम जितशत्रु अजितनाथ प्रभु की. महिला जैन तीर्थंकर. जैन तीर्थंकरों के बारे में कुछ तथ्य Jain Tirthankar List. भगवान अजितनाथ की रथयात्रा निकाली बड़ौत। अजितनाथ दिगंबर जैन कमेटी के तत्वावधान में चल रहे पंच कल्याणक महोत्सव के अंतिम दिन मोक्ष कल …. तीर्थंकर के शरीर में कितने लक्षण होते हैं. जैन दर्शन विभाग Shri Lal Bahadur Shastri Rashtriya Sanskrit. Ajitnath selection. Previous Next. Ajitnath Selection Baraut अजितनाथ सिलेक्शन बडौत. Main Business: Gents Wear Only. Address: Old Gas Agency. Near Jain Gali. Gandhi Road. City: Baraut. District: Baghpat. State: Uttar Pradesh. Pin: 250611. Mobile: 7417318088. Email: ashishjain3421@. Website: GSTIN:.

24 तीर्थंकर के कल्याणक.

पर्यूषण पर्व पर भगवान अजितनाथ भगवान का Bharatpages. श्री कुन्थुगिरी. सम्मेदाचलपर्वत. मुखपृष्ठ कूट. पार्श्वनाथ कूट. नेमिनाथ कूट. अजितनाथ कूट. सुपार्श्वनाथ कूट. विमलनाथ कूट. महावीर कूट. शान्तिनाथ कूट. सुमतिनाथ कूट. धर्मनाथ कूट. गणधर कूट. कुन्थुनाथ कूट. नमिनाथ कूट. अरनाथ कूट. पार्श्वनाथ कूट. अजितनाथ हिंदी शब्दमित्र. Hindi News उत्तर प्रदेश bagpat. Saturday, 17 Sep, 1.54 am. अजितनाथ भगवान की स्वर्ण गजरथ यात्रा निकाली. quick access. Country & Language Newspapers Browse By Topics Newspaper By Language. others. Privacy Policy BACK TO TOP. Ajitnath Bhagwan अजितनाथ भगवान टोंक जैन Monasticism. अजितनाथ जैन मंदिर के पास बिक्री के लिए से अधिक 1 BHK हाउस खोजें। निर्माणाधीन। लक्जरी हाउस विला। सुसज्जित और बजट हाउस बिक्री के लिए। अधिक जानकारी के लिए वेबसाइट पर जाएं. अजितनाथ जन्मभूमि Archives Yugbharat. शुरू करूँ श्री अजितनाथ का, चालीसास्व – सुखदाय ।। जय श्री अजितनाथ जिनराज । पावन चिह्न धरे गजराज ।। नगर अयोध्या करते राज । जितराज नामक महाराज ।। विजयसेना उनकी महारानी । देखे सोलह स्वप्न ललामी ।। दिव्य विमान विजय से चयकर । जननी.

द्वितीय तीर्थंकर श्री अजितनाथ भगवान लॉग इन या.

December 83. ▻ November 177. ▽ October 461. भव आलोचना Shri Ajitnath bhagavan श्री अजितनाथ भगवान અજિતનાથ श्री रिषभदेव जी आदिनाथ २४ तीर्थंकर भगवानों के वैराग्य प्रसंग: વર્તમાન ચોવીસીના તીર્થંકર ભગવંતો प्रथम देशना का विषय क्या था?. जैन परिपथ उत्तर प्रदेश पर्यटन Uttar Pradesh. अयोध्या में कई महान योद्धा, ऋषि मुनि और अवतारी पुरुष हो चुके हैं। जैन मत के अनुसार यहां प्रथम तीर्थंकर आदिनाथ ऋषभनाथ सहित 5 तीर्थंकरों का जन्म हुआ था। अयोध्या में आदिनाथ के अलावा अजितनाथ, अभिनंदननाथ, सुमतिनाथ और. 24 तीर्थंकर भगवानों के वैराग्य प्रसंग Jain Library. ललितपुर। श्री क्षेत्रपाल मंदिर अभिनंदननाथ से प्रारंभ हुई अजितनाथ बंधाजी वंदन यात्रा की बंधाजी में अगुवाई की गई। यहां श्रद्धालुओं ने 1008 कलशों से भगवान अजितनाथ का महामस्तिकाभिषेक किया। जैन मंदिर प्रांगण में धर्म.

भगवान श्री अजितनाथ.

परिभाषा जैनियों के चौबीस तीर्थंकरों में से एक वाक्य में प्रयोग अजितनाथ जैन धर्म के दूसरे तीर्थंकर थे । समानार्थी शब्द अजित, अजित नाथ, अजीतनाथ, अजीत लिंग अज्ञात एक तरह का धर्मगुरु. Hindi Shabdamitra Copyright © 2017, Developed by Center For. Ajitnath Selection Baraut अजितनाथ B. Ajitnath Bhagwan Tonk भगवान अजितनाथ की टोंक इस टोंक का नाम सिद्धवर कूट है। यहाँ से भगवान अजितनाथ ने एक हजार महामुनियों के साथ मोक्ष प्राप्त किया था। यहाँ से एक अरब, अस्सी कोटि, चौवन लाख अन्य मुनियों ने भी निर्वाणपद की.

धार्मिक अजितनाथ स्वामी का जन्म कल्याणक मनाकर.

धार्मिक अजितनाथ स्वामी का जन्म कल्याणक मनाकर बांटी मिठाईगुना जैन दर्शन के द्वितीय तीर्थंकर भगवान श्री अजितनाथ स्वामी का जन्म कल्याणक नगर में श्रद्धालुओं द्वारा भक्ति Guna Madhya Pradesh News In Hindi Guna News mp. अनटाइटल्ड Vitragvani. दूसरे तीर्थंकर का नाम बताइये।,भगवान श्री अजितनाथ ने कहां जन्म लिया?भगवान श्री अजितनाथ कहां से गर्भ में आये?. Book10 sy.cdr. Agra News: श्री महावीर स्वामी दिगम्बर जैन मंदिर हनुमान चौराहा मोतीकटरा में श्री 1008 अजितनाथ विधान का आयोजन बड़े धूमधाम से मनाया गया। प्रातःकाल में भगवान का अभिषेक एवं शांतिधारा की गई। आज की शांति धारा करने का.

अजितनाथ भगवान का परिचय इनसाइक्लोपीडिया.

जैन तीर्थंकर जैसे ऋषभदेव, अजितनाथ और अरिष्टनेमि का भी वर्णन हमें इनसे प्राप्त होता है। भारत के भूतपूर्व राष्ट्रपति और विश्वप्रसिद्ध दार्शनिक डॉ० सर्वपल्ली राधाकृष्णन् ने लिखा है. इस बात के सबूत प्राप्त होते हैं कि पहली शताब्दी ई० पू०. New भगवान अजितनाथ Status, Photo, Video Nojoto. परिचय. इस जम्बूद्वीप के अतिशय प्रसिद्ध पूर्व विदेहक्षेत्र में सीता नदी के दक्षिण तट पर वत्स नाम का विशाल देश है। उसके सुसीमा नामक नगर में विमलवाहन राजा राज्य करते थे। किसी समय राज्यलक्ष्मी से निस्पृह होकर राजा विमलवाहन ने. Ajitnath Jain Tirthankar श्री अजितनाथ धर्म रफ़्तार. निम्नलिखित में से किस स्थान पर अजितनाथ तीर्थंकर का जन्म हुआ था? A. अयोध्या. B. किष्किन्धा. C. नासिक. D. उज्जैन. Ans: A. Explanation: अजितनाथ जैन धर्म के 24 तीर्थकरो में से वर्तमान अवसर्पिणी काल के द्वितीय तीर्थंकर है। इनका जन्म. Agra News: अजितनाथ विधान का हुआ आयोजन बड़े. अयोध्या नगरी का जैन धर्म के लिए भी विशेष स्थान है, यहाँ विभिन्न तीर्थंकरों के जीवन से सम्बंधित १८ कल्याणक घटित हुए हैं अयोध्या नगरी को पांच तीर्थकरो आदिनाथ, अजितनाथ, अभिनंद नाथ, सुमतिनाथ एवं अनंतनाथ की जन्मस्थली होने का गौरव.

श्री अजितनाथ चालीसा – Jain Story.

Hindustan College of Science And Technology AKTU 064, Agra Delhi Highway NH 2 Churmura, Farah, Uttar Pradesh 281122, India, Agra, India. Mar 01 INR 2.100 to 6.000. SUPER GENIUS LEAGUE AUDITION. Shikohabad, MAA ANJANI SR.OL ETAH ROAD SHIKOHABAD U.P, Agra, India. Index of indonet owl hindi v1 wordSense अजितनाथ. Find the latest Status about भगवान अजितनाथ from top creators only on Nojoto App. Also find trending photos & videos. Religious programme. टीकमगढ़ नईदुनिया प्रतिनिधि बुंदेलखंड के प्रसिद्ध जैन तीर्थक्षेत्र बंधा जी अजितनाथ भगवान का महा मस्तकाभिषेक किया गया बंधा जी में बुधवार को नई साल के पावन अवसर पर निर्यापक श्रमण समयसागर ऋषिराज के ससंघ 14 मुनिराजों एवं. पार्श्वनाथ कूट श्री कुन्थुगिरी दर्शन. बागपत में फर्जी दस्तावेजों पर नौकरी करने वाली शिक्षिका को बर्खास्त कर दिया है। जांच में खुलासा हुआ है।.

Goddess Ajitnaths Nirvana Festival Will Be Celebrated In A Highly.

Answer d अजितनाथ. यह जैन धर्म के दूसरे तीर्थकर थे। अजितनाथ का प्रतीक चिन्ह हाथी है। 5. जैन धर्म कितने सम्प्रदायों में बट गया और उनका नाम क्या है? Answer जैन धर्म के दो सम्प्रदाय है. 1. श्वेताम्बर. 2. दिगम्बर. अनुमान के अनुसार 300. श्री १००८ अजितनाथ दिगम्बर जैन मंदिर, ऐरोली, Bombai. श्री अजितनाथ दि. जैन मंदिर, Address हमीम जी खिड़की, शाहपुर अहमदाबाद गुज. 380004. Hamim Ji Khidki, Shahpur Ahmedabad Guj. 380004, मो जिनेन्द्र भैया अध्यक्ष 9426758442, अनिल भैया 9571314090, सुशील छाबड़ा 9426758442. श्री चंद्रप्रभ दिगम्बर जैन.

हिंदी GK Quiz on Ancient Indian History: Jain Dharma and.

Index of indonet owl hindi v1 wordSense अजितनाथ., noun, 23 Sep 2015. Apache 2.2.22 Fedora Server at oa.ac.in Port 80. भगवान अजितनाथ का महामस्तिकाभिषेक अमर उजाला. अजितनाथ जैन धर्म के २४ तीर्थकरो में से वर्तमान अवसर्पिणी काल के द्वितीय तीर्थंकर है।अजितनाथ का जन्म अयोध्या के राजपरिवार में माघ के शुक्ल पक्ष की अष्टमी में हुआ था। इनके पिता का नाम जितशत्रु और माता का नाम विजया था। अजितनाथ का चिह्न हाथी था।. अजितनाथ का अर्थ Meaning of ajitnath in English And शब्द. दिगम्बर जैन मंदिर के चौकीदार की निर्मम हत्या December 23, 2017 4:18 PM By युग भारत डेस्क. अयोध्या। रामनगरी अयोध्या के तुलसी नगर क्षेत्र में अजितनाथ जन्मभूमि दिगम्बर जैन मन्दिर के चौकीदार की बीती रात धारदार हथियार. Read more. श्री अजितनाथ चालीसा Quotes & Writings YourQuote. अजियसंतिथय अजितनाथ तथा शांतिनाथ. स्तवन को. गाथार्थ पाक्षिक प्रतिक्रमणमें, चौमासी प्रतिक्रमण में और संवत्सरी प्रतिक्रमण में उपसर्गों का. निवारण करने वाले इस स्तवन को अवश्य पढना चाहिये और सर्व संघ ने सुनना चाहिये ३८. जो पुरुष.

२४ यक्ष और २४ यक्षिणी चौबीस तीर्थंकर भगवंतो के शासन देव.

2 श्री अजितनाथ 2.महायक्ष देव 2. रोहिणी देवी 3 श्री संभवनाथ 3. त्रिमुख देव 3. प्रज्ञप्तिदेवी 4 श्री अभिनंदननाथ 4. यक्षेश्वर देव 4. व्रजश्रृंखला देवी 5 श्री सुमतिनाथ 5. तुम्बरू देव 5. पुरुषदत्ता देवी 6 श्री पद्यप्रभु 6. कुसुमदेव 6. श्री १००८ अजितनाथ दिगम्बर जैन मंदिर, ऐरोली, Plot No. अजितनाथ का हिन्दी मे अर्थ Meaning of ajitnath in Hindi. जैनियों के चौबीस तीर्थंकरों में से एक. अजितनाथ का वाक्य मे प्रयोग ​Usage of ajitnath. अजितनाथ जैन धर्म के दूसरे अजितनाथ के समानार्थी शब्द synonyms of ajitnath. अजित. अजित नाथ. अजीतनाथ. अजीत. तीर्थ छात्र Sammedachal. जासं, बड़ौत बागपत श्री 108 अजितनाथ दिगंबर जैन प्राचीन मंदिर कमेटी द्वारा जैन धर्म के दूसरे तीर्थंकर श्री 108 अजितनाथ भगवान का निर्वाण महोत्सव धूमधाम से मनाया गया। जैन श्रद्धालुओं ने भगवान अजितनाथ को निर्वाण लडडू.

अजितनाथ परिभाषा हिन्दी Glosbe.

श्री अजितनाथ भगवान की स्तुति. १. विजया सूत वंदे, तेज थी ज्युं दिदी, शीतलता चंदा, धीरता गिरी दो मुख जिम अरविंदो, जस सेवे सुरिंदर, लहो परमानंदा, सेवता सुख कंदो. ॥ तारंगा तीर्थ अधिपति श्री अजित नाथाय नमः ॥ २. देखी मूर्ति अजित जिननी नेत्र. श्री अजितनाथ भगवान की स्तुति Shree Ajitnath jainsite. उदाहरण वाक्य के साथ अजितनाथ, अनुवाद स्मृति. दिखा रहा है पृष्ठ 1. मिला 0 वाक्यांश मिलान वाक्य अजितनाथ.0 एमएस में. अयोध्या में जैन मंदिर ayodhya jain mandir Webdunia Hindi. नगरि अयोध्या धन्य हो गयी, जहाँ प्रभू ने जन्म लिया, माघ सुदी दशमी तिथि थी, इन्द्रों ने जन्मकल्याण किया। आरति करो, आरति करो, आरति करो रे, जितशत्रु पिता, विजयानन्दन की आरति करो रे।।​श्री अजितनाथ.।।१।।. हाथी चिन्ह सहित.

काल्पनिक चरित्रों द्वारा किस तीर्थंकर के माता.

श्री १००८ अजितनाथ दिगम्बर जैन मंदिर, ऐरोली, Mumbai 4.8. Plot No. 65, Sector 19, Airoli, Sector 19, Airoli, Navi Mumbai, Maharashtra 400786,. श्री अजितनाथ भक्ति विधान एवं 6वां आचार्य. 1.1 ऋषनाथ या आदिनाथ 1.2 अजितनाथ 1.3 संभवनाथ 1.4 अभिनंदन 1.5 सुमतिनाथ 1.6 पद्मप्रभ 1.7 सुपार्श्वनाथ 1.8 चन्द्रप्रभ 1.9 सुविधिनाथ या पुषपदंत 1.10 शीतलनाथ 1.11 श्रेयांशनाथ 1.12 वासुपूज्य 1.13 विमलनाथ 1.14 अनंतनाथ 1.15 धर्मनाथ. जैन धर्म सामान्य ज्ञान हिंदी में Jain Religion Gk in. उठाया तो उसके हाथ ऊपर ही बंध गये और क्षेत्र का नाम पड़ा. बंधा जी। भगवान अजितनाथ और चन्द्रप्रभु के दर्शन करने से. समस्त पापों का क्षरण हो जाता है। ऐसे अतिशय क्षेत्र के दर्शन. कर पुाजन करें। क्षेत्र बंधा की पुण्य धरा गा रही गौरव गीत. एक बार जो आ. अजितनाथ HinKhoj Dictionary. श्री अजितनाथ चालीसा श्री आदिनाथ को शीश नवाकर, माता सरस्वती को ध्याय । शुरू करू श्री अजितनाथ का, चालीसा स्व पर सुखदाय ।। जय श्री अजितनाथ जिनराज, पावन चिन्ह धरे गजराज । नगर अयोध्या करते राज, जिनाशत्रू नामक महाराज।.