पर्यावरण

पर्यावरण शब्द का निर्माण दो शब्दों से मिल कर हुआ है। "परि" जो हमारे चारों ओर है"आवरण" जो हमें चारों ओर से घेरे हुए है। पर्यावरण उन सभी भौतिक, रासायनिक एवं जैविक कारकों की समष्टिगत इकाई है जो किसी जीवधारी अथवा पारितंत्रीय आबादी को प्रभावित करते हैं तथा उनके रूप, जीवन और जीविता को तय करते हैं।
सामान्य अर्थों में यह हमारे जीवन को प्रभावित करने वाले सभी जैविक और अजैविक तत्वों, तथ्यों, प्रक्रियाओं और घटनाओं के समुच्चय से निर्मित इकाई है। यह हमारे चारों ओर व्याप्त है और हमारे जीवन की प्रत्येक घटना इसी के अन्दर सम्पादित होती है तथा हम मनुष्य अपनी समस्त क्रियाओं से इस पर्यावरण को भी प्रभावित करते हैं। इस प्रकार एक जीवधारी और उसके पर्यावरण के बीच अन्योन्याश्रय संबंध भी होता है।
पर्यावरण के जैविक संघटकों में सूक्ष्म जीवाणु से लेकर कीड़े-मकोड़े, सभी जीव-जंतु और पेड़-पौधे आ जाते हैं और इसके साथ ही उनसे जुड़ी सारी जैव क्रियाएँ और प्रक्रियाएँ भी। अजैविक संघटकों में जीवनरहित तत्व और उनसे जुड़ी प्रक्रियाएँ आती हैं, जैसे: चट्टानें, पर्वत, नदी, हवा और जलवायु के तत्व इत्यादि।

1. परिचय
सामान्यतः पर्यावरण को मनुष्य के संदर्भ में परिभाषित किया जाता है और मनुष्य को एक अलग इकाई और उसके चारों ओर व्याप्त अन्य समस्त चीजों को उसका पर्यावरण घोषित कर दिया जाता है। किन्तु यहाँ यह भी ध्यातव्य है कि अभी भी इस धरती पर बहुत सी मानव सभ्यताएँ हैं, जो अपने को पर्यावरण से अलग नहीं मानतीं और उनकी नज़र में समस्त प्रकृति एक ही इकाई है।जिसका मनुष्य भी एक हिस्सा है। वस्तुतः मनुष्य को पर्यावरण से अलग मानने वाले वे हैं जो तकनीकी रूप से विकसित हैं और विज्ञान और तकनीक के व्यापक प्रयोग से अपनी प्राकृतिक दशाओं में काफ़ी बदलाव लाने में समर्थ हैं।
मानव हस्तक्षेप के आधापर पर्यावरण को दो प्रखण्डों में विभाजित किया जाता है - प्राकृतिक या नैसर्गिक पर्यावरण और मानव निर्मित पर्यावरण। हालाँकि पूर्ण रूप से प्राकृतिक पर्यावरण जिसमें मानव हस्तक्षेप बिल्कुल न हुआ हो या पूर्ण रूपेण मानव निर्मित पर्यावरण जिसमें सब कुछ मनुष्य निर्मित हो, कहीं नहीं पाए जाते। यह विभाजन प्राकृतिक प्रक्रियाओं और दशाओं में मानव हस्तक्षेप की मात्रा की अधिकता और न्यूनता का द्योतक मात्र है। पारिस्थितिकी और पर्यावरण भूगोल में प्राकृतिक पर्यावरण शब्द का प्रयोग पर्यावास habitat के लिये भी होता है।
तकनीकी मानव द्वारा आर्थिक उद्देश्य और जीवन में विलासिता के लक्ष्यों की प्राप्ति हेतु प्रकृति के साथ व्यापक छेड़छाड़ के क्रियाकलापों ने प्राकृतिक पर्यावरण का संतुलन नष्ट किया है, जिससे प्राकृतिक व्यवस्था या प्रणाली के अस्तित्व पर ही संकट उत्पन्न हो गया है। इस तरह की समस्याएँ पर्यावरणीय अवनयन कहलाती हैं।
पर्यावरणीय समस्याएँ जैसे प्रदूषण, जलवायु परिवर्तन इत्यादि मनुष्य को अपनी जीवनशैली के बारे में पुनर्विचार के लिये प्रेरित कर रही हैं और अब पर्यावरण संरक्षण और पर्यावरण प्रबंधन की चर्चा है। मनुष्य वैज्ञानिक और तकनीकी रूप से अपने द्वारा किये गये परिवर्तनों से नुकसान को कितना कम करने में सक्षम है, आर्थिक और राजनैतिक हितों की टकराव में पर्यावरण पर कितना ध्यान दिया जा रहा है और मनुष्यता अपने पर्यावरण के प्रति कितनी जागरूक है, यह आज के ज्वलंत प्रश्न हैं।

2. नामोत्पत्ति
पर्यावरण शब्द संस्कृत भाषा के परि उपसर्ग चारों ओर और आवरण से मिलकर बना है जिसका अर्थ है ऐसी चीजों का समुच्चय जो किसी व्यक्ति या जीवधारी को चारों ओर से आवृत्त किये हुए हैं। पारिस्थितिकी और भूगोल में यह शब्द अंग्रेजी के environment के पर्याय के रूप में इस्तेमाल होता है।
अंग्रेजी शब्द environment स्वयं उपरोक्त पारिस्थितिकी के अर्थ में काफ़ी बाद में प्रयुक्त हुआ और यह शुरूआती दौर में आसपास की सामान्य दशाओं के लिये प्रयुक्त होता था। यह फ़्रांसीसी भाषा से उद्भूत है जहाँ यह "state of being environed" see environ + -ment के अर्थ में प्रयुक्त होता था और इसका पहला ज्ञात प्रयोग कार्लाइल द्वारा जर्मन शब्द Umgebung के अर्थ को फ्रांसीसी में व्यक्त करने के लिये हुआ।

3. पर्यावरण का ज्ञान
आज पर्यावरण एक जरूरी सवाल ही नहीं बल्कि ज्वलंत मुद्दा बना हुआ है लेकिन आज लोगों में इसे लेकर कोई जागरूकता नहीं है। ग्रामीण समाज को छोड़ दें तो भी महानगरीय जीवन में इसके प्रति खास उत्सुकता नहीं पाई जाती। परिणामस्वरूप पर्यावरण सुरक्षा महज एक सरकारी एजेण्डा ही बन कर रह गया है। जबकि यह पूरे समाज से बहुत ही घनिष्ठ सम्बन्ध रखने वाला सवाल है। जब तक इसके प्रति लोगों में एक स्वाभाविक लगाव पैदा नहीं होता, पर्यावरण संरक्षण एक दूर का सपना ही बना रहेगा।
पर्यावरण का सीधा सम्बन्ध प्रकृति से है। अपने परिवेश में हम तरह-तरह के जीव-जन्तु, पेड़-पौधे तथा अन्य सजीव-निर्जीव वस्तुएँ पाते हैं। ये सब मिलकर पर्यावरण की रचना करते हैं। विज्ञान की विभिन्न शाखाओं जैसे-भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान तथा जीव विज्ञान, आदि में विषय के मौलिक सिद्धान्तों तथा उनसे सम्बन्ध प्रायोगिक विषयों का अध्ययन किया जाता है। परन्तु आज की आवश्यकता यह है कि पर्यावरण के विस्तृत अध्ययन के साथ-साथ इससे सम्बन्धित व्यावहारिक ज्ञान पर बल दिया जाए। आधुनिक समाज को पर्यावरण से सम्बन्धित समस्याओं की शिक्षा व्यापक स्तर पर दी जानी चाहिए। साथ ही इससे निपटने के बचावकारी उपायों की जानकारी भी आवश्यक है। आज के मशीनी युग में हम ऐसी स्थिति से गुजर रहे हैं। प्रदूषण एक अभिशाप के रूप में सम्पूर्ण पर्यावरण को नष्ट करने के लिए हमारे सामने खड़ा है। सम्पूर्ण विश्व एक गम्भीर चुनौती के दौर से गुजर रहा है। यद्यपि हमारे पास पर्यावरण सम्बन्धी पाठ्य-सामग्री की कमी है तथापि सन्दर्भ सामग्री की कमी नहीं है। वास्तव में आज पर्यावरण से सम्बद्ध उपलब्ध ज्ञान को व्यावहारिक बनाने की आवश्यकता है ताकि समस्या को जनमानस सहज रूप से समझ सके। ऐसी विषम परिस्थिति में समाज को उसके कर्त्तव्य तथा दायित्व का एहसास होना आवश्यक है। इस प्रकार समाज में पर्यावरण के प्रति जागरूकता पैदा की जा सकती है। वास्तव में सजीव तथा निर्जीव दो संघटक मिलकर प्रकृति का निर्माण करते हैं। वायु, जल तथा भूमि निर्जीव घटकों में आते हैं जबकि जन्तु-जगत तथा पादप-जगत से मिलकर सजीवों का निर्माण होता है। इन संघटकों के मध्य एक महत्वपूर्ण रिश्ता यह है कि अपने जीवन-निर्वाह के लिए परस्पर निर्भर रहते हैं। जीव-जगत में यद्यपि मानव सबसे अधिक सचेतन एवं संवेदनशील प्राणी है तथापि अपनी आवश्यकताओं की पूर्ति हेतु वह अन्य जीव-जन्तुओं, पादप, वायु, जल तथा भूमि पर निर्भर रहता है। मानव के परिवेश में पाए जाने वाले जीव-जन्तु पादप, वायु, जल तथा भूमि पर्यावरण की संरचना करते है।
शिक्षा के माध्यम से पर्यावरण का ज्ञान शिक्षा मानव-जीवन के बहुमुखी विकास का एक प्रबल साधन है। इसका मुख्य उद्देश्य व्यक्ति के अन्दर शारीरिक, मानसिक, सामाजिक, संस्कृतिक तथा आध्यात्मिक बुद्धी एवं परिपक्वता लाना है। शिक्षा के उद्देश्यों की पूर्ति हेतु प्राकृतिक वातावरण का ज्ञान अति आवश्यक है। प्राकृतिक वातावरण के बारे में ज्ञानार्जन की परम्परा भारतीय संस्कृति में आरम्भ से ही रही है। परन्तु आज के भौतिकवादी युग में परिस्थितियाँ भिन्न होती जा रही हैं। एक ओर जहां विज्ञान एवं तकनीकी के विभिन्न क्षेत्रों में नए-नए अविष्कार हो रहे हैं। तो दूसरी ओर मानव परिवेश भी उसी गति से प्रभावित हो रहा है। आने वाली पीढ़ी को पर्यावरण में हो रहे परिवर्तनों का ज्ञान शिक्षा के माध्यम से होना आवश्यक है। पर्यावरण तथा शिक्षा के अन्तर्सम्बन्धों का ज्ञान हासिल करके कोई भी व्यक्ति इस दिशा में अनेक महत्वपूर्ण कार्य कर सकता है। पर्यावरण का विज्ञान से गहरा सम्बन्ध है, किन्तु उसकी शिक्षा में किसी प्रकार की वैज्ञानिक पेचीदगियाँ नहीं हैं। शिक्षार्थियों को प्रकृति तथा पारिस्थितिक ज्ञान सीधी तथा सरल भाषा में समझायी जानी चाहिए। शुरू-शुरू में यह ज्ञान सतही तौपर मात्र परिचयात्मक ढंग से होना चाहिए। आगे चलकर इसके तकनीकी पहलुओं पर विचार किया जाना चाहिए। शिक्षा के क्षेत्र में पर्यावरण का ज्ञान मानवीय सुरक्षा के लिए आवश्यक है।

4. पर्यावरण और पारितंत्र
पर्यावरण अपनी सम्पूर्णता में एक इकाई है जिसमें अजैविक और जैविक संघटक आपस में विभिन्न अन्तर्क्रियाओं द्वारा संबद्ध और अंतर्गुम्फित होते हैं। इसकी यह विशेषता इसे एक पारितंत्र का रूप प्रदान करती है क्योंकि पारिस्थितिक तंत्र या पारितंत्र पृथ्वी के किसी क्षेत्र में समस्त जैविक और अजैविक तत्वों के अंतर्सम्बंधित समुच्चय को कहते हैं। अतः पर्यावरण भी एक पारितंत्र है।
पृथ्वी पर पैमाने scale के हिसाब से सबसे वृहत्तम पारितंत्र जैवमंडल को माना जाता है। जैवमंडल पृथ्वी का वह भाग है जिसमें जीवधारी पाए जाते हैं और यह स्थलमंडल, जलमण्डल तथा वायुमण्डल में व्याप्त है। पूरे पार्थिव पर्यावरण की रचना भी इन्हीं इकाइयों से हुई है, अतः इन अर्थों में वैश्विक पर्यावरण, जैवमण्डल और पार्थिव पारितंत्र एक दूसरे के समानार्थी हो जाते हैं।
माना जाता है कि पृथ्वी के वायुमण्डल का वर्तमान संघटन और इसमें ऑक्सीजन की वर्तमान मात्रा पृथ्वी पर जीवन होने का कारण ही नहीं अपितु परिणाम भी है। प्रकाश-संश्लेषण, जो एक जैविक या पारिस्थितिकीय अथवा जैवमण्डलीय प्रक्रिया है, पृथ्वी के वायुमण्डल के गठन को प्रभावित करने वाली महत्वपूर्ण प्रक्रिया रही है। इस प्रकार के चिंतन से जुड़ी विचारधारा पूरी पृथ्वी को एक इकाई गाया या सजीव पृथ्वी living earth के रूप में देखती है।
इसी प्रकार मनुष्य के ऊपर पर्यवारण के प्रभाव और मनुष्य द्वारा पर्यावरण पर डाले गये प्रभावों का अध्ययन मानव पारिस्थितिकी और मानव भूगोल का प्रमुख अध्ययन बिंदु है।

5. पर्यावरणीय समस्याएँ
* यह भी देखें: प्रदूषण और जलवायु परिवर्तन
ज्यादातर पर्यावरणीय समस्याएँ पर्यावरणीय अवनयन और मानव जनसंख्या और मानव द्वारा संसाधनों के उपभोग में वृद्धि से जुड़ी हैं। पर्यावरणीय अवनयन के अंतर्गत पर्यावरण में होने वाले वे सारे परिवर्तन आते हैं जो अवांछनीय हैं और किसी क्षेत्र विशेष में या पूरी पृथ्वी पर जीवन और संधारणीयता को खतरा उत्पन्न करते हैं। अतः इसके अंतर्गत प्रदूषण, जलवायु परिवर्तन, जैव विविधता का क्षरण और अन्य प्राकृतिक आपदाएं इत्यादि शामिल की जाती हैं। पर्यावरणीय अवनयन के साथ मिलकर जनसंख्या में चरघातांकी दर से हो रही वृद्धि तथा मानव द्वारा उपभोग के बदलते प्रतिरूप लगभग सारी पर्यावरणीय समस्याओं के मूल कारण हैं।

5.1. पर्यावरणीय समस्याएँ संसाधन न्यूनीकरण
संसाधन न्यूनीकरण का अर्थ है प्राकृतिक संसाधनों का मनुष्य द्वारा अपने आर्थिक लाभ हेतु इतनी तेजी से दोहन कि उनका प्राकृतिक प्रक्रियाओं द्वारा पुनर्भरण replenishment न हो पाए। वर्तमान परिप्रेक्ष्य में संसाधन क्षरण के लिये जनसंख्या के दबाव, तेज वृद्धि दर और लोगों के उपभोग प्रतिरूप का भी प्रभाव जिम्मेवार माना जा रहा है।
संसाधनों को दो वर्गों में विभक्त किया जाता है - नवीकरणीय संसाधन और अनवीकरणीय संसाधन। इसके आलावा कुछ संसाधन इतनी पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हैं कि उनका क्षय नहीं हो सकता उन्हें अक्षय संसाधन कहते हैं जैसे सौर ऊर्जा।
अनवीकरणीय संसाधनों का तेजी से दोहन उनके भण्डार को समाप्त कर मानव जीवन के लिये कठिन परिस्थितियां पैदा कर सकता है। कोयला, पेट्रोलियम, या धत्वित्क खनिजों के भण्डारों का निर्माण एक दीर्घ अवधि की घटना है और जिस तेजी से मनुष्य इन का दोहन कर रहा है ये एक न एक दिन समाप्त हो जायेंगे। वहीं दूसरी ओर कुछ नवीकरणीय संसाधन भी मनुष्य द्वारा इतनी तेजी से प्रयोग में लाये जा रहे हैं कि उनका प्राकृतिक प्रक्रियाओं द्वारा पुनर्भरण उतनी तेजी से संभव नहीं और इस प्रकार वे भी अनवीकरणीय संसाधन की श्रेणी में आ जायेंगे।

5.2. पर्यावरणीय समस्याएँ प्रदूषण
प्रदूषण अथवा पर्यावरणीय प्रदूषण पर्यावरण में किसी पदार्थ ठोस, द्रव या गैस अथवा ऊर्जा के प्रवेश को कहते हैं यदि इसकी गति इतनी तेज हो कि सामान्य और प्राकृतिक प्रक्रियाओं द्वारा इसका परिक्षेपण, मंदन, वियोजन, पुनर्चक्रण अथवा अहानिकारक रूप में संरक्षण न हो सके। इस प्रकार प्रदूषण के दो स्पष्ट सूचक हैं, किसी पदार्थ या ऊर्जा का पर्यावरण में प्रवेश और उसका प्राकृतिक पर्यावरण के प्रति हानिकारक या अवांछित होना। इस तरह के अवांछित तत्व को प्रदूषक या दूषक कहते हैं।
प्रदूषण का वर्गीकरण प्रदूषक के प्रकार, स्रोत अथवा पारितंत्र के जिस हिस्से में उसका प्रवेश होता है, के आधापर किया जाता है। उदाहरण के तौपर वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण, मृदा प्रदूषण, इत्यादि प्रकार इस आधापर निश्चित किये जाते हैं कि पारितंत्र के इस हिस्से में दूषक तत्व का प्रवेश होता है। वहीं दूसरी ओर रेडियोधर्मी प्रदूषण, प्रकाश प्रदूषण, ध्वनि या रव प्रदूषण इत्यादि प्रकार प्रदूषक के खुद के प्रकापर आधारित वर्गीकरण हैं।

5.3. पर्यावरणीय समस्याएँ जलवायु परिवर्तन
हमारे जीवन मे हमने बहुत सारे परिवर्तन देखे है जल वायु परिवर्तन उन्ही मे से एक है जल वायु परिवर्तन के कारण ही पृथ्वी पर मौसम परिवर्तन होता है मौसम से हमे बहुत लाभ हो ता है मोसम के बिना कोई फसल नही उगाई जा सकती एवं ना ही मनुष्य जीवन एक मौसम मे गुजार सकता है समस्त जीव धारी को को मौसम की जरूरत होती है जलवायु परिवर्तन से हमे लाभ भी है तो नुकसान भी क्योंकि

5.4. पर्यावरणीय समस्याएँ प्राकृतिक आपदाएँ
इनमें चक्रवात, तेज तूफान, अत्यधिक बारिश, सूखा आदि शामिल है।

6. पर्यावरण प्रबंधन
पर्यावरण प्रबंधन का तात्पर्य पर्यावरण के प्रबंधन से नहीं है, बल्कि आधुनिक मानव समाज के पर्यावरण के साथ संपर्क तथा उस पर पड़ने वाले प्रभाव के प्रबंधन से है। प्रबंधकों को प्रभावित करने वाले तीन प्रमुख मुद्दे हैं राजनीति नेटवर्किंग, कार्यक्रम परियोजनायें और संसाधन । पर्यावरण प्रबंधन की आवश्यकता को कई दृष्टिकोणों से देखा जा सकता है।

7. भारतीय संस्कृति में पर्यावरण चिंतन
भारतीय संस्कृति में पर्यावरण को विशेष महत्त्व दिया गया है। प्राचीन काल से ही भारतीय संस्कृति में पर्यावरण के अनेक घटकों जैसे वृक्षों को पूज्य मानकर उन्हें पूजा जाता है। पीपल के वृक्ष को पवित्र माना जाता है। वट के वृक्ष की भी पूजा होती है। जल, वायु, अग्नि को भी देव मानकर उनकी पूजा की जाती है। समुद्र, नदी को भी पूजन करने योग्य माना गया है। गंगा, सिंधु, सरस्वती, यमुना, गोदावरी, नर्मदा जैसी नदीयों को पवित्र मानकर पूजा की जाती है। धरती को भी माता का दर्जा दिया गया है। प्राचीन काल से ही भारत में पर्यावरण के विविध स्वरुपों की पूजा होती है।

8. पर्यावरण विधि भारत में
पर्यावरणीय विधि अथवा पर्यावरण विधि समेकित रूप से उन सभी अंतर्राष्ट्रीय, राष्ट्रीय अथवा क्षेत्रीय सन्धियों, समझौतों और संवैधानिक विधियों को कहा जाता है जो प्राकृतिक पर्यावरण पर मानव प्रभाव को कम करने और पर्यावरण की संधारणीयता बनाये रखने हेतु हैं।
भारत में पर्यावरण क़ानून पर्यावरण रक्षा अधिनियम 1986 से नियमित होता है जो एक व्‍यापक विधान है। इसकी रूप रेखा केन्‍द्रीय सरकार के विभिन्‍न केन्‍द्रीय और राज्‍य प्राधिकरणों के क्रियाकलापों के समन्‍वयन के लिए तैयार किया गया है जिनकी स्‍थापना पिछले कानूनों के तहत की गई है जैसा कि जल अधिनियम और वायु अधिनियम।
अन्य विधियों में भारतीय वन अधिनियम, 1927 और वन्यजीव संरक्षण अधिनियम, 1972 प्रमुख हैं।
एक राष्ट्रीय हरित प्राधिकरण का भी गठन किया गया है।

विज्ञानं विषय की अभिवृति

पर्यावरण शब्द फ्रेंच भाषा का "वातावरण" शब्द से बना रहे हैं, जो सभी राज्य या निजी होता है! इसके तहत, वे सभी प्राचीन और प्रभाव है जो sevice मूल कारण पर प्रभाव है! वह है पर्यावरण पार्क के अनुसार, "पर्यावरण के लिए उन्हें का योग कहा जाता है जो मानव जाति की ओर, निश्चित स्थान पर आवृत है"

कागज के थैले

कागज के थैले या पेपर बैग कागज के निर्मित थैले हैं। इन्हें पर्यावरण की दृष्टि से प्लास्टिक अथवा पॉलीथीन बैग का एक बेहतर विकल्प माना जाता है। कई शहरों में पॉलीथिन को प्रतिबंधित करने के बाद कागज के थैलों की माँग बढ़ी है।

  • ह पर य वरण इ ज न यर ग म श म ल ह जल और व य प रद षण न य त रण, प नर वर तन, अपश ष ट न पट न और स र वजन क स व स थ य क म द द और स थ ह स थ पर य वरण इ ज न यर ग
  • वन एव पर य वरण म त र लय, भ रत सरक र क एक महत वप र ण म त र लय ह वर तम न म श र श र प रक श ज वड कर इसक म त र ह स थ पन - 1985 पर य वरण म त र लय
  • ज स क इस न म स लग सकत ह पर य वरण प रब धन क त त पर य पर य वरण क प रब धन स नह ह बल क आध न क म नव सम ज क पर य वरण क स थ स पर क तथ उसपर पड न
  • भ रत म पर य वरण क कई समस य ह व य प रद षण, जल प रद षण, कचर और प र क त क पर य वरण क प रद षण भ रत क ल ए च न त य ह पर य वरण क समस य क पर स थ त
  • पर य वरण शब द पर आवरण क स य ग स बन ह पर क आशय च र ओर तथ आवरण क आशय पर व श ह द सर शब द म कह त पर य वरण अर थ त वनस पत य प र ण य
  • स य क त र ष ट र पर य वरण क र यक रम अ ग र ज य न ईट ड न श स एन व यरनम ट प र ग र म, लघ UNEP स य क त र ष ट र क पर य वरण स ब ध गत व ध य क न य त रण
  • पर य वरण भ ग ल अ ग र ज Environmental geography पर य वरण य दश ओ उनक क र यश लत और तकन क र प स सबल आर थ क म नव और पर य वरण क ब च स ब ध क अध यययन
  • व श व पर य वरण द वस पर य वरण क स रक ष और स रक षण ह त प र व श व म मन य ज त ह इस द वस क मन न क घ षण स य क त र ष ट र न पर य वरण क प रत व श व क
  • म नव पर य वरण क रक ष और स ध र करन एव प ड - प ध और सम पत त क छ ड कर म नव ज त क आपद स बच न क ल ए ईप ए प र त क य गय यह क न द र सरक र क पर य वरण य
  • ह ज प र क त क पर य वरण पर म नव प रभ व क कम करन और पर य वरण क स ध रण यत बन य रखन ह त ह भ रत म पर य वरण क न न पर य वरण रक ष अध न यम 1986
  • पर य वरण स रक षण पर य वरण क रक ष क एक व यक त स गठन य सरक र स तर पर, अभ य स ह प र क त क पर य वरण और म नव य क ल भ क ल ए क रण जनस ख य क दब व
  • प र क त क पर य वरण म सभ ज व त और न र ज व प थ व य क छ उसक क ष त र पर स व भ व क र प स ह न व ल ब त श म ल ह यह एक व त वरण ह क सभ सज व प रज त य
  • म ब ह य श क ष और अन भव त मक श क ष श म ल ह पर य वरण श क ष अध गम क एक प रक र य ह ज पर य वरण व इसस ज ड च न त य क सम बन ध म ल ग क ज नक र
  • ज सक इस प रक र स पर य वरण क रक ष करत ह ए प रद षण कचर क कम क य ज सकत ह akshay जल श धन: इसक म ल व च र प र पर य वरण म बहन व ल जल क ध ल ज व ण प रद षण
  • श ख ह पर य वरण दव क द क न स र वजन क, न ज और सरक र प रय गश ल ओ क एक क स म म क म करत ह यह पर य वरण क प रद षण क प रभ व पर य वरण प रद षण
  • उसक वनस पत पर ह न व ल प रभ व क ज च कर ग पर य वरण म ल य कन वह प रक र य ह ज सक जर ए पर य वरण स रक ष और सतत व क स पर व च र ह सकत ह पर य वरण य
  • प रद षण, पर य वरण म द षक पद र थ क प रव श क क रण प र क त क स त लन म प द ह न व ल द ष क कहत ह प रद षक पर य वरण क और ज व - जन त ओ क न कस न
  • र ष ट र य बन पर य वरण स स थ न अल म ड द न क ज गरण. ज न अभ गमन त थ द सम बर अल म ड क ज ब प त ह म लय पर य वरण स स थ न बन र ष ट र य
  • सन दर भ म म नव न र म त पर य वरण Built environment म नव द व र प रय सप र वक न र म त पर य वरण क कहत ह यह भ त क पर य वरण स भ न न ह इसम भवन
  • दस त व ज अ तरर ष ट र य पर य वरण प र ट क ल स म प र पर य वरण य समस य ओ क व य पक र प स 1960 क दशक म कथ त बन ब द पर य वरण श सन म स व ध क ल ए आय
  • पर य वरण म य र न यम क अर थ पर य वरण और ज व जन त ओ पर य र न यम क प रभ व स ह य र न यम एक कमज र र ड य धर म पद र थ ह इसक अर ध - आय 44.68 कर ड वर ष
  • पर य वरण स रक षण क क ष त र म य गद न क ल य द य ज न व ल इस प र सक र क श र आत भ रत सरक र द व र वर ष 1987 म ह ई इसम प च ल ख र पय और प रशस त
  • पर य वरण म प ल ट न यम 20व सद क मध य म ख य र प स म नव गत व ध य क क रण ह न र म ण ह त थ पहल ब र इसक स य त र क न र म ण श त य द ध क द र न
  • र ष ट र य पर य वरण अभ य त र क अन स ध न स स थ न NEERI न र स एसआईआर क एक उपक रम ह यह न गप र म स थ त ह यह पर य वरण व ज ञ न एव इ ज न यर स सम बन ध त
  • पर य वरण दर शन क महत व आज प र द न य ज नत ह
  • व श व पर य वरण द वस द वस क अवसर पर आय ज त क र यक रम ज न क व श व पर य वरण द वस द वस क अवसर पर आय ज त क र यक रम ज न क व श व पर य वरण द वस
  • Environmental crime व ग र - क न न क र य ह ज पर य वरण क न न क उल ल घन क र प म क य ज त ह और ज नस पर य वरण क ग णवत त क न कस न पह चत ह Division
  • पर य वरण प र ट Miljöpartiet de Gröna स व ड न क एक र जन त क दल ह इस दल क स थ पन म ह ई थ इस दल क य व स गठन Grön Ungdom ह क स सद य
  • दक ष ण एश य सहक र पर य वरण क र यक रम, ज स एसएस ईप SACEP भ कह ज त ह दक ष ण एश य ई सरक र द व र इस क ष त र म पर य वरण स रक षण, प रब धन और
  • आवश यकत ओ और पर य वरण क प रत अध क सच त प र क त क स स धन न त क ल ए दब ब बन न म भ सफल रह स न दरल ल बह ग ण ग र द व पर य वरण स रक षण क म र

पर्यावरण: पर्यावरण शिक्षा, पर्यावरण का महत्व, पर्यावरण के प्रकार, पर्यावरण का अर्थ है, पर्यावरण किसे कहते हैं, पर्यावरण संरक्षण, पर्यावरण रिपोर्ट, पर्यावरण विज्ञान

पर्यावरण का महत्व.

साइकिल चलाएं और पर्यावरण बचाएं Patrika. हममें से कितने ऐसे लोग हैं, जिन्होंने अपने जीवन में कम से कम एक पेड़ भी लगाया हो? शायद 10 में से एक भी बड़ी मुश्किल से। आज पर्यावरण दिवस है तो हमें पर्यावरण की बड़ी चिंता होगी, जगह सेमिनार होंगे, सम्मेलन होंगे और यह विशेष.

पर्यावरण के प्रकार.

पर्यावरण क्षरण के लिए जिम्मेदार हैं कई कारण. निम्नलिखित में कौन सी बीमारी से कोयले की खान में काम करने वाले मजदूरों की उम्र कम हो जाती है और उस बीमारी को ब्लैक लंग्स बीमारी कहा जाता है? इनमें से कोई. पर्यावरण संरक्षण. पर्यावरण नीति THDC India Ltd. भारत में जनसंख्या वृद्धि का बढ़ता खतरा, औद्योगिक विकास और प्रदूषण पर्यावरण क्षरण के लिए जिम्मेदार प्रमुख कारणों में हैं। बढ़ता नगरीकरण भी एक मुख्य कारण है।. पर्यावरण रिपोर्ट. पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवतन विभाग. पर्यावरण. पर्यावरण देखभाल. हिंदुस्तान कॉपर लिमिटेड पर्यावरण अनुकूल माहौल में परिचालन की अवधारणा के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है.पर्यावरण संरक्षण उपायों के अलावा जो मूल परियोजना के साथ निर्मित थे, प्रदूषण नियंत्रण प्राधिकरण द्वारा. पर्यावरण विज्ञान. पर्यावरण और परिस्थितिकीय पहलुएं नीपको NEEPCO. पर्यावरण की रक्षा हेतु दुनिया भर में जागरूकता और कार्रवाई को प्रोत्साहित करने के लिये प्रत्येक वर्ष 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस World Environment Day मनाया जाता है। इस बार पर्यावरण दिवस की थीम.

पर्यावरण के लिए कैसा हो 2019 का एजेंडा DownToEarth.

यह जिम्मेवारी अब वैश्विक समुदाय के कंधों पर है कि वह सुनिश्चित करे कि फैशन की दुनिया में आ रहे उत्पाद बिना बहुत महंगे किए ही पर्यावरण अनुकूल भी हों। प्रदूषण, शॉपिंग मॉल, कपड़े, फैशन, पर्यावरण, सामाजिक, महिला, कार्बन. आम तौर पर. जिला पर्यावरण योजना ज़िला सिरमौर. हिमाचल. प्राकृतिक पर्यावरण में सभी जीवित और निर्जीव पृथ्वी या कुछ उसके क्षेत्पर स्वाभाविक रूप से होने वाली बातें शामिल हैं। यह एक वातावरण है कि सभी सजीव प्रजातियों की बातचीत शामिल है। प्राकृतिक वातावरण की अवधारणा घटकों द्वारा प्रतिष्ठित किया जा सकता है:.

पर्यावरण क्षतिपूर्ति शुल्क Drishti IAS.

पर्यावरण. पर्यावरण प्रबंधन योजना. समुद्र के बंदरगाह अत्यंत जटिल तंत्र हैं जिनमें विभिन्न प्रकार के पर्यावरणीय मुद्दे शामिल होते हैं: जल, वायु और मिट्टी में अपशिष्ट त्याग, अपशिष्ट उत्पादन, शोऔर निकर्षण इत्यादि। कामराजर बंदरगाह पर्यावरण. पर्यावरण बचाने की राह में आस्था का रोड़ा. प्रिय प्रकाश जावड़ेकर जी, सुनिए पर्यावरण पर ग्रामीण भारत क्या सोचता है? समुद्र तल से 2000 मीटर ऊपर पश्चिमी सिक्किम जिले के ही पाताल गाँव में रहने वाले तिल बहादुर छेत्री 90 वर्ष इलायची की खेती करने वाले एक बड़े किसान हैं।. पर्यावरण संरक्षण की सिर्फ बातें ही करते हैं हम. पर्यावरण Окружающая среда.

प्रकृति पर्यावरण संकट के प्रति आगाह कर Amar Ujala.

पृथ्वी के तत्वों के संयोजन को बनाये रखने के लिए एक मात्र उपाय है कटते हुए वनों को बचाया जाये और अधिक से अधिक वृक्षारोपण के लिए लोग आगे आयें। मनुष्य ने अपनी जरूरत के लिए वृक्षों की अन्धाधुन्ध कटाई की।. प्रगति के लिए बेहद ज़रूरी है पर्यावरण संरक्षण. पर्यावरण शब्द का निर्माण दो शब्दों से मिल कर हुआ है। परि जो हमारे चारों ओर हैआवरण जो हमें चारों ओर से घेरे हुए है। पर्यावरण उन सभी भौतिक, रासायनिक एवं जैविक कारकों की समष्टिगत इकाई है जो किसी जीवधारी अथवा पारितंत्रीय आबादी को प्रभावित करते हैं. पर्यावरण प्रवाह. प्राकृतिक संसाधनों के उत्‍कृष्‍ठ परिस्थितिकीय संतुलन को अगली पीढ़ी के लिए संरक्षित रखते हुए भारत के पूर्वोत्‍तर क्षेत्र में पर्यावरण संरक्षण तथा निरंतर विकास एक महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है। भारत के पूर्वोत्‍तर क्षेत्र के स्‍थानीय लोगों.

पर्यावरण Archives The Better India Hindi.

पर्यावरण संरक्षण अधिनियम – 1986 के अनुसार किसी जीव के चरों तरफ घिरे जैविक व अजैविक भौतिक संघटकों से मिलकर पर्यावरण का निर्माण होता है पर्यावरण Enviourment शब्द फ्रेंच French भाषा से लिया गया है, जिसका अर्थ होता है – घिरा. पर्यावरण एवं वन मंत्रालय की आधिकारिक वेबसाइट. The Ministry of Environment & Forests MoEF is the nodal agency in the administrative structure of the Central Government for the planning, promotion, co​ ordination and overseeing the implementation of Indias environmental and forestry policies and programmes. पर्यावरण जनपद गाजियाबाद, उत्तर प्रदेश सरकार भारत. जिला पर्यावरण योजना. शीर्षक, दिनांक, View Download. जिला पर्यावरण योजना, 27 11 2019, देखें 587 KB वेबसाइट नीतियां मदद हमसे संपर्क करें फ़ीडबैक. विषयवस्तु का स्वामित्व जिला प्रशासन के आधीन है. © जिला प्रशासन, सिरमौर, इस वेबसाइट का.

पर्यावरण सामान्य ज्ञान GK in Hindi सामान्य ज्ञान.

हम विद्यार्थियों के लिए पर्यावरण पर बहुत से भाषणों की श्रृंखला उपलब्ध करा रहे हैं। सभी पर्यावरण पर भाषण सरल और साधारण शब्दों वाले वाक्यों का प्रयोग करके लिखे गए हैं। ये सभी भाषण विद्यार्थियों की जरुरत और आवश्यकता के अनुसार बहुत सी. पर्यावरण का दुश्मन बन रहा फास्ट फैशन ORF. पर्यावरण की सुरक्षा. कोयला आधारित विद्युत केंद्रों से प्रदूषण से संबंधित चिंताओं तथा बड़े पैमाने पर राख के निपटान, जोकि भारत के विद्युत उत्पादन का मुख्य आधार है, को पर्यावरणीय रूप से सतत् विद्युत विकास प्रोत्साहित करने की.

विज्ञापन पर्यावरण एवं वन मंत्रालय, भारत सरकार.

पर्यावरण को बचाने के लिए सार्वजनिक परिवहन पर जोर दिया गया निर्मला सीतारमण. पेट्रोल और डीजल पर कर मध्य वर्ग को दुखी करने के लिए नहीं, बल्कि पर्यावरणीय चिंताओं को देखते हुए बढ़ागए हैं. आईएएनएस 7 July, 2019 4:36 pm IST. एनएचपीसी लिमिटेड पर्यावरण प्रस्तावना NHPC. पर्यावरण संरक्षण अधिनियम 1986 के तहत बनागए नियमों में जिला स्तर, राज्य स्तर और केंद्र सरकार के स्तर पर इन्वार्यनमेंट इम्पैक्ट असेसमेंट अथॉरिटी का गठन वर्ष 2006 07 में किया गया है। इसके तहत हर बड़ी परियोजनाओं की मंजूरी से पहले. वर्षांत समीक्षा पर्यावरण, वन और जलवायु Pib. विश्व पर्यावरण संरक्षण दिवस प्रति वर्ष पर्यावरण संतुलन को बनाए रखने एवं लोगों को जागरूक करने के सन्दर्भ में सकारात्मक कदम उठाने के लिए 26 नवम्बर को मनाया जाता है।. पर्यावरण एनटीपीसी. पर्यावरण. कॉफ़ी टेबल बुक ऑन बायोडायवर्सिटी यहां क्लिक करें।. पेड़ पौधे एवं जल पीढियों के लिए खज़ाना है ऋगवेद संहिता । हमलोग अपने प्राचीन धर्मग्रंथों की नेक सलाह को मानते हैं और दायित्‍व निर्वहन की गहरी संवेदना के साथ अपनी व्‍यापारिक. पर्यावरण को खतरे में डाल रहे ये 5 कारण अमर उजाला. वन्य जीव एवं पर्यावरण गढवाल हिमालय में मन्दाकिनी घाटी में स्थित केदारनाथ कस्तूरी मृग विहार सेंचुरी प्रसिद है जो की लगभग 967 किलोमीटर वर्ग में फैला है मन्दाकिनी घाटी कई हिरनों की निवाश स्थली है, जिसमे कस्तूरी मृग, बारहसिंगा,​चीतल.

पर्यावरण: Latest पर्यावरण News & Updates Navbharat Times.

भौतिक विकास के पीछे दौड़ रही दुनिया ने आज जरा ठहरकर सांस ली तो उसे अहसास हुआ कि चमक धमक के फेर में क्या कीमत चुकाई जा रही है. आज ऐसा कोई देश नहीं है जो पर्यावरण संकट पर मंथन नहीं कर रहा हो. भारत भी चिंतित है. लेकिन, जहां दूसरे. पर्यावरण से बेपरवाह DownToEarth. आप यहाँ हैं. मुख्य पृष्ठ पर्यावरण प्रमाणपत्र प्राप्त करने के लिए आवश्यक दस्तावेज. पर्यावरण प्रमाणपत्र प्राप्त करने के लिए आवश्यक दस्तावेज. INDEAC स्तर INSEAC स्तर English. Page last updated: 22 09 2017.

पर्यावरण Enviourment – Gyan Academy.

ग्वालियर. पर्यावरण सुरक्षा हम सबकी जिम्मेदारी है। बढ़ते वायु प्रदूषण, दूषित होते जल और घटते वन और जंगल के कारण आज पृथ्वी पर सांस लेना भी मुश्किल हो रहा है। आईटीएम यूनिवर्सिटी की एनसीसी व एनएसएस इकाइयों के स्टूडेंट्स ने पर्यावरण को बचाने. पर्यावरण प्रमाणपत्र प्राप्त करने के लिए आवश्यक. जहाजों का पंजीकरण समुद्री सुरक्षा एंव बचाव नौसैनिक पर्यावरण संरक्षण बंदरगाह राज्य नियंत्रण एंव फ्लैग राज्य निरीक्षण नाविकों का प्रशिक्षण एंव प्रमाण पत्र आकस्मिक घटना की जाँच पड़ताल समुद्री सहायता सेवा एल.आर.आई.टी राष्ट्रीय. पर्यावरण Hindustan Copper Limited. यह भाग पर्यावरण से जुड़ी नीति,सुझाव प्रौद्योगिकी और अन्य सभी महत्वपूर्ण जानकारियों को प्रस्तुत करता है।.

नौसैनिक पर्यावरण संरक्षण Directorate General of Shipping.

दिल्ली ही नहीं देश के कई शहर धूल और धुएं से घिरे हुए हैं. पर्यावरण में आ रहे बदलावों से महानगर और अन्य शहर ही नहीं, पहाड़ी इलाके भी अछूते नहीं है. उत्तराखंड जैसा राज्य इसकी एक मिसाल है. पर्यावरण की देखभाल मंगलूर रिफाइनरी एंड. पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग की वृक्षारोपण योजनाओं का लाभ उठाये । योजना में शामिल होने हेतु ऑनलाइन आवेदन करे. बिहार स्टेट कैम्पा द्वारा वनरोपण कार्यों को बाह्य एजेंसियों से अनुश्रवण एवं मूल्यांकन कार्य कराने हेतु निविदा. जलवायु और पर्यावरण ISRO. पूरी दुनिया पर्यावरण प्रदूषण के भय से त्रस्त है। यह चिंता नई नहीं है पहले भी थी। तब हमारे मुनियों पर्यावरण की चिंता, Hindi News Hindustan. पर्यावरण को बचाने के लिए सार्वजनिक परिवहन पर जोर. पर्यावरण की मुख्य समस्या एवं संरक्षण के उपाय: पर्यावरण को सुधारने के लिये सरकार भरसक प्रयास कर रही है क्योंकि पर्यावरण को सुधारने की अति आवश्यकता है। वैज्ञानिक दृष्टि से प्रत्येक सरकार इस ओर विशेष ध्यान देती है। जनपद गाजियाबाद में.

पर्यावरण से जुड़े इन तथ्‍यों को जानकर हैरान रह.

पर्यावरण मंत्री आदित्‍य ठाकरे ने दिया निर्देश, 1 मई तक महाराष्‍ट्र हो सिंगल यूज प्‍लास्टिक से मुक्‍त. कोर्ट आदेश के खिलाफ ईट भट्टों के संचालन पर राज्य स्तरीय पर्यावरण प्राधिकारी को अवमानना नोटिस जारी. पेड़ों को बचाने के लिए​. आधुनिक उपन्यास प्रकृति एवं पर्यावरण Ignited Minds. एमआरपीएल की पर्यावरण संबंधी नीति देखें. एमआरपीएल में पर्यावरण प्रबंधन कक्ष की कुछ महत्वपूर्ण गतिविधियां इस प्रकार हैं. वायु प्रदूषण रोकने और घटाने के उपाय. पर्यावरण के निष्पा दन में सुधार करने की दिशा में कोशिश के तौपर हमने प्रदूषण. पर्यावरण की सुरक्षा Government of India Ministry of Power. पर्यावरण विज्ञान तथा प्रौद्योगिकी ई एस टी प्रभाग कृषि औद्योगिक अपशिष्‍टों जैसे धान की भूसी, उड़न राख, ब्‍लास्‍ट फरनेस स्‍लेग, फास्‍फोजिप्‍सम तथा चूना स्‍लज से सीमेंटीय उत्‍पादों के निर्माण के लिए प्रक्रम प्रौद्योगिकियों के विकास पर. भारतीय परम्पराओं का पर्यावरण संरक्षण से नाता. आस्था की स्वतंत्रता की गारंटी देते वक़्त कभी संविधान निर्माताओं ने यह नहीं सोचा होगा कि लोगों की निजी आस्था पर अमल पर्यावरण को कितना बड़ा ख़ामियाज़ा भुगतने के लिए मजबूकर सकता है. The post पर्यावरण बचाने की राह में.

लैबव्यू

साँचा:Third-party लैबव्यू LabVIEW:3 नेशनल इंन्स्ट्रुमेन्ट्स द्वारा विकसित एक सिस्टम-डिजाइन प्लेटफॉर्म एवं विकास-पर्यावरण है। इसे दृष्यमान विजुअल प्रोग्रामिंग...

वाटर कम्युनिटी इंडिया

फोन: 9250725116 9211530510 ईमेल: water.community gmail.com दिल्ली - 110091 राज्य: दिल्ली वेबसाइट: watercommunity.in सम्पर्क व्यक्ति: मीनाक्षी अरोड़ा चेयर पर्...