• हेमंत चौहान

    हेमंत चौहान गुजराती भाषा के जानेमाने भजनिक एवं लोकगायक है। ९ अक्तूबर २०१२ को उन्हें वर्ष २०११ के अकादमी रत्व एवोर्ड से सम्मानित किया गया था। गुजराती भजन, गरब...

  • हस्तशिल्प

    हस्तकला ऐसे कलात्मक कार्य को कहते हैं जो उपयोगी होने के साथ-साथ सजाने के काम आता है तथा जिसे मुख्यत: हाथ से या सरल औजारों की सहायता से ही बनाया जाता है। ऐसी ...

  • सौन्दर्यशास्त्र

    सौंदर्यशास्त्र संवेदनात्मक-भावनात्मक गुण-धर्म और मूल्यों का अध्ययन है। कला, संस्कृति और प्रकृति का प्रतिअंकन ही सौंदर्यशास्त्र है। सौंदर्यशास्त्र, दर्शनशास्त...

  • सोहराई कला

    सोहराई कला एक आदिवासी कला है। इसका प्रचलन हजारीबाग जिले के बादम क्षेत्र में आज से कई वर्ष पूर्व शुरू हुआ था। इस क्षेत्र के इस्को पहाड़ियों की गुफाओं में आज भ...

  • सिलाई

    घरेलू सिलाई अधिकतर मरम्मत, रफू, कपड़ों का ठीक करना तथा बच्चों के कपड़ों से संबंधित होती है। इसके लिये उचित साधन, उचित कपड़े और उचित तरीके का ज्ञान अत्यंत आवश...

  • सर्कस

    सर्कस एक चलती-फिरती कलाकारों की कम्पनी होती है जिसमें नट, विदूषक, अनेक प्रकार के जानवर एवं अन्य प्रकार के भयानक करतब दिखाने वाले कलाकार होते हैं। सर्क्स एक व...

  • सम्पादन

    संपादन का अर्थ है किसी लेख, पुस्तक, दैनिक, साप्ताहिक मासिक या सावधिक पत्र या कविता के पाठ, भाषा, भाव या क्रम को व्यवस्थित करके तथा आवश्यकतानुसार उसमें संशोधन...

  • श्येनपालन

    श्येनपालन एक कला है, जिसके द्वारा श्येनों और बाजों को शिकार के लिए साधा, या प्रशिक्षित, किया जाता है। मनुष्य को इस कला का ज्ञान ४,००० वर्षों से भी अधिक समय स...

  • शंकरदेव कलाक्षेत्र

    शंकरदेव कलाक्षेत्र असम का सांस्कृतिक संग्रहालय है। यह गुवाहाटी शहर के पंजाबाड़ी क्षेत्र में स्थित है। यह एक ही परिसर में पूरे पूर्वोत्तर क्षेत्र को दर्शाते ह...

  • व्यंग्यचित्र

    व्यंग्यचित्र या कार्टून दृष्य कला का एक रूप है। कार्टून शब्द के अर्थ में समय के साथ विस्तार होता गया है। इस समय कार्टून शब्द का प्रयोग कई अर्थों में होता है।...

  • वैचारिक कला

    वैचारिक कला, जिसे कभी-कभी केवल वैचारिकता कहा जाता है, वह कला है जिसमें काम में शामिल अवधारणा या विचार पारंपरिक सौंदर्यवादी, तकनीकी और भौतिक सरोकारों से अधिक ...

  • विरूप-चित्रण

    व्यक्ति, समाज अथवा राजनीति पर चित्रों के माध्यम से व्यंग्य कसने अथवा उपहास करने की सामान्य विधा को विरूप-चित्रण या कैरिकेचर कहते हैं। यह मूलत फ्रेंच का शब्द ...

  • वर्ण सिद्धान्त

    रंगों को मिलाने तथा रंगों के मिलान से उत्पन्न दृष्य प्रभावों से सम्बन्धित व्यावहारिक मार्गदर्शन वर्ण सिद्धान्त के अन्तर्गत आते हैं।दृश्य कला में, रंग सिद्धां...

  • ललित कला

    सौंदर्य या लालित्य के आश्रय से व्यक्त होने वाली कलाएँ ललित कला कहलाती हैं। अर्थात वह कला जिसके अभिव्यंजन में सुकुमारता और सौंदर्य की अपेक्षा हो और जिसकी सृष्...

  • राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय

    राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय) की स्थापना भारत सरकार द्वारा सन् २९ मार्च १९५४ में की गयी। सबसे पहले नयी दिल्ली में एक संग्रहालय खोला गया। इसके पास विभिन्न क...

  • राजपूत शैली

    राजपूत चित्रशैली, भारतीय चित्रकला की प्रमुख शैली है। राजस्थान में लोक चित्रकला की समृद्धशाली परम्परा रही है। मुगल काल के अंतिम दिनों में भारत के विभिन्न क्षे...

  • योसेमिटी में इमोजेन और ट्विंका

    योसेमिटी में इमोजेन और ट्विंका श्रीमती जूडी डेटर द्वारा 1974 में खींचा गया एक सुप्रसिद्ध छायाचित्र है। इस छायाचित्र में योसेमिटी राष्ट्रीय उद्यान में भ्रमण क...

  • मोना लीज़ा

    मोना लिसा) लिओनार्दो दा विंची के द्वारा कृत एक विश्व प्रसिद्ध चित्र है। यह एक विचारमग्न स्त्री का चित्रण है जो अत्यन्त हल्की मुस्कान लिये हुए हैं। यह संसार क...

  • मूर्ति कला

    शिल्पकला कला का वह रूप है जो त्रिविमीय होती है। यह कठोर पदार्थ, मृदु पदार्थ एवं प्रकाश आदि से बनाये जा सकते हैं। मूर्तिकला एक अतिप्राचीन कला है।

  • मुशायरा

    मुशायरा, उर्दु भाषा की एक काव्य गोष्ठी है। मुशायरा शब्द हिन्दी में उर्दू से आया है और यह उस महफ़िल की व्याख्या करता है जिसमें विभिन्न शायर शिरकत कर अपना अपना...

  • मीनाकारी

    मीनाकारी एक कलात्मक प्रक्रिया है। इसमें काच के बारीक पाउडर को ७५० डिग्री सेल्सियस से ८५० डिग्री सेल्सियस तक गर्म करके पिघलाकर धातु ऑक्‍साइड जैसे चांदी, सोना,...

  • भारतीय कला

    कला, संस्कृति की वाहिका है। भारतीय संस्कृति के विविध आयामों में व्याप्त मानवीय एवं रसात्मक तत्व उसके कला-रूपों में प्रकट हुए हैं। कला का प्राण है रसात्मकता। ...

  • बिनोद बिहारी मुखर्जी

    बिनोद बिहारी मुखर्जी का जन्म बेहला कोलकाता में हुआ। शांति निकेतन में कला शिक्षक थे। वे नंदलाल बोस के शिष्य थे। उनकी कला में समय पर शांति निकेतन में आने वाले ...

  • बार्तोलोमियो क्रिस्टोफोरी

    बार्तोलोमियो क्रिस्टोफोरी डि फ्राँसेस्को इटली के रहने वाले व संगीत वाद्ययंत्रों के निर्माता थे। इन्हें पियानो वाद्य यंत्र के आविश्कारक के रूप में जाना जाता ह...

  • बरॉक

    बरॉक, rohk यूरोप में 16वीं सदी के अंत और 18वीं सदी के आरंभ में प्रचलित एक कलात्मक शैली है। इसे अधिकतर "मैनेरिस्ट और रोकोको युगों में यूरोप की एक प्रभावशाली श...

  • प्रलाक्ष

    सामान्य अर्थों में प्रलाक्ष वह पदार्थ है जिसका व्यवहार धातु या काठ के तलों पर लेप चढ़ाने में होता है। लेप चढ़ाने का उद्देश्य तल का संरक्षण, या उसे आकर्षक बना...

  • न्यायालयिक कला

    न्यायालयिक कला कानून प्रवर्तन या कानूनी कार्यवाही में इस्तेमाल होने वाली कोई भी कला है। इस क्षेत्र के भीतर समग्र ड्राइंग, अपराध स्थल चित्र, छवि संशोधन और छवि...

  • नंदलाल बोस

    नन्दलाल बोस का जन्म दिसंबर 1882 में बिहार के हवेली खडगपुर, जिला मुंगेर में हुआ। उनके पिता पूर्णचंद्र बोस ऑर्किटेक्ट तथा महाराजाकी रियासत के मैनेजर थे। 16 अप्...

  • द्वारपाल

    द्वारपाल द्वार अथवा प्रवेश-स्थान पर खड़े योद्धा अथवा बहादूर व्यक्ति से समझा जाता है, जो सामान्यतः हथियार रखता है जिसमें सबसे सामान्य गदा है।

  • तैलचित्रण

    तैलचित्रण चित्र के उस अंकनविधान का नाम है जिसमें तेल में घोंटे गए रंगों का प्रयोग होता है। 19वीं शती के पूर्व यूरोप में ही इसका प्रयोग अधिक हुआ, पूर्वी देशों...

  • तारकसी

    तारकसी एक काष्ठकला है। पूरी दुनिया में तारकसी कला का मैनपुरी ही एक मात्र केंद्र है। तारकसी लकड़ी पर की जाने वाली एक तरह की नक्काशी है जो धातु के तारों से की ...

  • जोज़फ़ गोस्लाव्सकी

    जोज़फ़ गोस्लाव्सकी, पोलिश: Józef Jan Gosławski - पोलिश मूर्तिकाऔर medallic कलाकार. के सिक्के, स्मारकों और पदक के लेखक. कई कलात्मक प्रतियोगिताओं के विजेता, उत...

  • जापानी उद्यान-कला

    जापानी उद्यान कला जापान की राष्ट्रीयता और संस्कृति की द्योतक है। यह शैली का प्रचार जापान में कदाचित् छठी शताब्दी में मोहान लोन हान नामक व्यक्ति ने किया। उसने...

  • जनकला

    जनकला किसी भी माध्यम में रची हुई कला की उन कृतियों को बोलते हैं जिन्हें ऐसे खुले वातावरण में प्रदर्शित करने की नियत से बनाया गया हो जहाँ जन-साधारण का बहुत आन...

  • चौसठ कलाएँ

    दण्डी ने काव्यादर्श में कला को कामार्थसंश्रयाः कहा है - नृत्यगीतप्रभृतयः कलाः कामार्थसंश्रयाः । भारतीय साहित्य में कलाओं की अलग-अलग गणना दी गयी है। कामसूत्र ...

  • चित्रशाला

    चित्रशाला उस विशेष भवन को कहते हैं जिसमें विभिन्न कलाकृतियाँ संरक्षित तथा प्रदर्शित की जाती हैं। प्राय: कलासंग्रहालय का प्रयोग चित्रशाला के लिये होता रहा है ...

  • चर्मपूरण

    चर्मपूरण मृत प्राणियों को सुरक्षित रखने तथा उन्हें जीवित सदृश व्यवस्थित कर प्रदर्शित करने की एक विधि है। प्रकृति विज्ञान के संग्रहालयों में प्राय: इस प्रकार ...

  • घड़ीसाज़

    घड़ीसाज़ ऐसे व्यक्ति को बुलाया जाता है जो घड़ियाँ बनाता हो या उनकी मरम्मत करता हो। आधुनिक काल में लगभग सारी घड़ियाँ कारख़ानों में बनती हैं, इसलिए घड़ीसाज़ ज़...

  • गुईडीबाल्डो डि मोंटेफेल्ट्रो का चित्र

    गुईडीबाल्डो डि मोंटेफेल्ट्रो का चित्र इटली के पुनर्जागरण काल के चित्रकार राफेल द्वारा लगभग १५०६ में बनाया गया था। फिलहाल यह चित्र उफ़िज़ी संग्रहालय, फ्लोरेंस...

  • काला घोड़ा कला महोत्सव

    काला घोड़ा कला महोत्सव, मुंबई में आयोजित होने वाला एक वार्षिक कला महोत्सव हैं. ये वार्षिक सांस्कृतिक समारोह दक्षिण मुंबई के धरोहर उपक्षेत्र के व्यापक क्षेत्र...

  • कलावाद

    कलावाद कला कला के लिए मान्यता पर आधारित कला के प्रति एक दृष्टिकोणविशेष जिसे लेकर 19वीं शताब्दी के दौरान यूरोप में व्यापक वादविवाद छिड़ गया था। कलावाद को साहि...

  • कलाकृति

    कलाकृति ऐसी भौतिक वस्तु को कहते हैं जिनका कला या सौन्दर्य की दृष्टि से मूल्य हो। यह आमतौपर मानव-कृत होती हैं। चित्रकला, शिल्पकला, आभूषण, आंतरिक डिज़ाइन की वस...

  • कांस्य कला

    काँसा बनाना मनुष्य ने कैसे सीखा, यह कहना कठिन है। कदाचित्‌ ताँबा गलाने के समय उसके साथ मिली हुई खोट के गल जाने के कारण यह अकस्मात्‌ बन गया होगा क्योंकि काँसे...

  • कला

    कला शब्द इतना व्यापक है कि विभिन्न विद्वानों की परिभाषाएँ केवल एक विशेष पक्ष को छूकर रह जाती हैं। कला का अर्थ अभी तक निश्चित नहीं हो पाया है, यद्यपि इसकी हजा...

  • एलोरा गुफाएं

    एलोरा या एल्लोरा एक पुरातात्विक स्थल है, जो भारत में औरंगाबाद, महाराष्ट्र से 30 कि॰मि॰ की दूरी पर स्थित है। इन्हें राष्ट्रकूट वंश के शासकों द्वारा बनवाया गया...

  • उत्कीर्णन

    लकड़ी, हाथीदाँत, पत्थर आदि को गढ़ छीलकर अलंकृत करने या मूर्ति बनाने को उत्कीर्णन या नक्काशी करना कहते हैं। यहाँ काष्ठ उत्कीर्णन पर प्राविधिक दृष्टिकोण से विच...

  • आनन्‍द केंटिश कुमारस्‍वामी

    इनका जन्म कोलुपित्या, कोलंबो श्रीलंका में 22 अगस्त 1877 को हुआ था। उनके पिता सर मुतु कुमारस्वामी प्रथन हिंदू थे जिन्होंने 1863 ई. में इंग्लैंड से बैरिस्टरी प...

कला

चित्रवल्लरी

स्थापत्य कला के सन्दर्भ में, किसी स्तंभोपरिरचना के विस्तृत मध्य भाग को चित्रवल्लरी कहते हैं। अलग-अलग शैलियों में चित्रवल्लरी की रचना अलग-अलग होती है।

अभिस्वीकृति

रचनात्मक कला और वैज्ञानिक साहित्य में, एक अभिस्वीकृति, मूल काम में सहायता करने के लिए एक आभार की अभिव्यक्ति है। प्राधिकरण के बजाय अभिस्वीकृति के माध्यम से क्...

आनन्‍द केंटिश कुमारस्‍वामी

इनका जन्म कोलुपित्या, कोलंबो श्रीलंका में 22 अगस्त 1877 को हुआ था। उनके पिता सर मुतु कुमारस्वामी प्रथन हिंदू थे जिन्होंने 1863 ई. में इंग्लैंड से बैरिस्टरी प...

उत्कीर्णन

लकड़ी, हाथीदाँत, पत्थर आदि को गढ़ छीलकर अलंकृत करने या मूर्ति बनाने को उत्कीर्णन या नक्काशी करना कहते हैं। यहाँ काष्ठ उत्कीर्णन पर प्राविधिक दृष्टिकोण से विच...

उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार

उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादमी यह उत्तर प्रदेश राज्य सरकार के अंतर्गत संस्कृति विभाग की प्रमुख शाखा है। उत्तर प्रदेश संगीत नाटक अकादेमी प्रत्येक वर्ष कला व स...

एलोरा गुफाएं

एलोरा या एल्लोरा एक पुरातात्विक स्थल है, जो भारत में औरंगाबाद, महाराष्ट्र से 30 कि॰मि॰ की दूरी पर स्थित है। इन्हें राष्ट्रकूट वंश के शासकों द्वारा बनवाया गया...

कला

कला शब्द इतना व्यापक है कि विभिन्न विद्वानों की परिभाषाएँ केवल एक विशेष पक्ष को छूकर रह जाती हैं। कला का अर्थ अभी तक निश्चित नहीं हो पाया है, यद्यपि इसकी हजा...

कांस्य कला

काँसा बनाना मनुष्य ने कैसे सीखा, यह कहना कठिन है। कदाचित्‌ ताँबा गलाने के समय उसके साथ मिली हुई खोट के गल जाने के कारण यह अकस्मात्‌ बन गया होगा क्योंकि काँसे...

कलाकृति

कलाकृति ऐसी भौतिक वस्तु को कहते हैं जिनका कला या सौन्दर्य की दृष्टि से मूल्य हो। यह आमतौपर मानव-कृत होती हैं। चित्रकला, शिल्पकला, आभूषण, आंतरिक डिज़ाइन की वस...

कलावाद

कलावाद कला कला के लिए मान्यता पर आधारित कला के प्रति एक दृष्टिकोणविशेष जिसे लेकर 19वीं शताब्दी के दौरान यूरोप में व्यापक वादविवाद छिड़ गया था। कलावाद को साहि...

काला घोड़ा कला महोत्सव

काला घोड़ा कला महोत्सव, मुंबई में आयोजित होने वाला एक वार्षिक कला महोत्सव हैं. ये वार्षिक सांस्कृतिक समारोह दक्षिण मुंबई के धरोहर उपक्षेत्र के व्यापक क्षेत्र...

क्लीशे

क्लीशे या घिसा-पिटा या पिष्टोक्ति एक ऐसा वाक्य, विचार, या कला का तत्व होता है जो बहुत अधिक प्रयोग होने की वजह से अपना मूल अर्थ खो चूका हुआ। अक्सर यह ऐसी चीजे...

गुईडीबाल्डो डि मोंटेफेल्ट्रो का चित्र

गुईडीबाल्डो डि मोंटेफेल्ट्रो का चित्र इटली के पुनर्जागरण काल के चित्रकार राफेल द्वारा लगभग १५०६ में बनाया गया था। फिलहाल यह चित्र उफ़िज़ी संग्रहालय, फ्लोरेंस...

घड़ीसाज़

घड़ीसाज़ ऐसे व्यक्ति को बुलाया जाता है जो घड़ियाँ बनाता हो या उनकी मरम्मत करता हो। आधुनिक काल में लगभग सारी घड़ियाँ कारख़ानों में बनती हैं, इसलिए घड़ीसाज़ ज़...

चर्मपूरण

चर्मपूरण मृत प्राणियों को सुरक्षित रखने तथा उन्हें जीवित सदृश व्यवस्थित कर प्रदर्शित करने की एक विधि है। प्रकृति विज्ञान के संग्रहालयों में प्राय: इस प्रकार ...

चित्रशाला

चित्रशाला उस विशेष भवन को कहते हैं जिसमें विभिन्न कलाकृतियाँ संरक्षित तथा प्रदर्शित की जाती हैं। प्राय: कलासंग्रहालय का प्रयोग चित्रशाला के लिये होता रहा है ...

चौसठ कलाएँ

दण्डी ने काव्यादर्श में कला को कामार्थसंश्रयाः कहा है - नृत्यगीतप्रभृतयः कलाः कामार्थसंश्रयाः । भारतीय साहित्य में कलाओं की अलग-अलग गणना दी गयी है। कामसूत्र ...

जनकला

जनकला किसी भी माध्यम में रची हुई कला की उन कृतियों को बोलते हैं जिन्हें ऐसे खुले वातावरण में प्रदर्शित करने की नियत से बनाया गया हो जहाँ जन-साधारण का बहुत आन...

ज़रदोज़ी

ज़रदोज़ी फारसी एवं उर्दु: زردوزی) का काम एक प्रकार की कढ़ाई होती ह ऐ, जो भारत एवं पाकिस्तान में प्रचलित है। यह मुगल बादशाह अकबर के समय में और समृद्ध हुई, किं...

जापानी उद्यान-कला

जापानी उद्यान कला जापान की राष्ट्रीयता और संस्कृति की द्योतक है। यह शैली का प्रचार जापान में कदाचित् छठी शताब्दी में मोहान लोन हान नामक व्यक्ति ने किया। उसने...

जोज़फ़ गोस्लाव्सकी

जोज़फ़ गोस्लाव्सकी, पोलिश: Józef Jan Gosławski - पोलिश मूर्तिकाऔर medallic कलाकार. के सिक्के, स्मारकों और पदक के लेखक. कई कलात्मक प्रतियोगिताओं के विजेता, उत...

तारकसी

तारकसी एक काष्ठकला है। पूरी दुनिया में तारकसी कला का मैनपुरी ही एक मात्र केंद्र है। तारकसी लकड़ी पर की जाने वाली एक तरह की नक्काशी है जो धातु के तारों से की ...

तैलचित्रण

तैलचित्रण चित्र के उस अंकनविधान का नाम है जिसमें तेल में घोंटे गए रंगों का प्रयोग होता है। 19वीं शती के पूर्व यूरोप में ही इसका प्रयोग अधिक हुआ, पूर्वी देशों...

द्वारपाल

द्वारपाल द्वार अथवा प्रवेश-स्थान पर खड़े योद्धा अथवा बहादूर व्यक्ति से समझा जाता है, जो सामान्यतः हथियार रखता है जिसमें सबसे सामान्य गदा है।

नंदलाल बोस

नन्दलाल बोस का जन्म दिसंबर 1882 में बिहार के हवेली खडगपुर, जिला मुंगेर में हुआ। उनके पिता पूर्णचंद्र बोस ऑर्किटेक्ट तथा महाराजाकी रियासत के मैनेजर थे। 16 अप्...

न्यायालयिक कला

न्यायालयिक कला कानून प्रवर्तन या कानूनी कार्यवाही में इस्तेमाल होने वाली कोई भी कला है। इस क्षेत्र के भीतर समग्र ड्राइंग, अपराध स्थल चित्र, छवि संशोधन और छवि...

प्रलाक्ष

सामान्य अर्थों में प्रलाक्ष वह पदार्थ है जिसका व्यवहार धातु या काठ के तलों पर लेप चढ़ाने में होता है। लेप चढ़ाने का उद्देश्य तल का संरक्षण, या उसे आकर्षक बना...

बरॉक

बरॉक, rohk यूरोप में 16वीं सदी के अंत और 18वीं सदी के आरंभ में प्रचलित एक कलात्मक शैली है। इसे अधिकतर "मैनेरिस्ट और रोकोको युगों में यूरोप की एक प्रभावशाली श...

बार्तोलोमियो क्रिस्टोफोरी

बार्तोलोमियो क्रिस्टोफोरी डि फ्राँसेस्को इटली के रहने वाले व संगीत वाद्ययंत्रों के निर्माता थे। इन्हें पियानो वाद्य यंत्र के आविश्कारक के रूप में जाना जाता ह...

बिनोद बिहारी मुखर्जी

बिनोद बिहारी मुखर्जी का जन्म बेहला कोलकाता में हुआ। शांति निकेतन में कला शिक्षक थे। वे नंदलाल बोस के शिष्य थे। उनकी कला में समय पर शांति निकेतन में आने वाले ...

बेनेदेत्तो क्रोचे का अभिव्यंजनावाद

अभिव्यंजनावाद के प्रवर्तक बेनेदेत्तो क्रोचे मूलतः आत्मवादी दार्शनिक हैं। उनका उद्देश्य साहित्य में आत्मा की अन्तः सत्ता स्थापित करना था। इनसे पूर्व काण्ट ने ...

भयानक रस

भयानक रस नौ रसों में से एक रस है। भानुदत्त के अनुसार, ‘भय का परिपोष’ अथवा ‘सम्पूर्ण इन्द्रियों का विक्षोभ’ भयानक रस है। भयोत्पादक वस्तुओं को देखने या सुनने स...

भारतीय कला

कला, संस्कृति की वाहिका है। भारतीय संस्कृति के विविध आयामों में व्याप्त मानवीय एवं रसात्मक तत्व उसके कला-रूपों में प्रकट हुए हैं। कला का प्राण है रसात्मकता। ...

भारतीय चित्रशालाएँ

भारतीय पुराणों में प्राय: चित्रशाला तथा विश्वकर्मामंदिर का वर्णन मिलता है। ये संभवत: मनोविनोद तथा शिक्षा के केंद्र थे। पुराणों में चित्रकला में अभिरुचि के सा...

भारतीय नाट्यशालाएँ

भरत मुनि ने अपने नाट्यशास्त्र के द्वितीय अध्याय में तीन प्रकार के प्रेक्षागृहों का विधान किया है - 1 विकृष्ट लंबा आयताकार, 2 चतुरस्त्र वर्गाकाऔर 3 त्र्यस्त्र...

भूपेन खखर

भूपेन खखर समकालीन भारतीय कला जगत के एक बड़े कलाकार थे। वडोदरा ही उनकी कार्यभूमि थी और उनके कार्य को अंतराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति मिली थी।

मीनाकारी

मीनाकारी एक कलात्मक प्रक्रिया है। इसमें काच के बारीक पाउडर को ७५० डिग्री सेल्सियस से ८५० डिग्री सेल्सियस तक गर्म करके पिघलाकर धातु ऑक्‍साइड जैसे चांदी, सोना,...

मुशायरा

मुशायरा, उर्दु भाषा की एक काव्य गोष्ठी है। मुशायरा शब्द हिन्दी में उर्दू से आया है और यह उस महफ़िल की व्याख्या करता है जिसमें विभिन्न शायर शिरकत कर अपना अपना...

मूर्ति कला

शिल्पकला कला का वह रूप है जो त्रिविमीय होती है। यह कठोर पदार्थ, मृदु पदार्थ एवं प्रकाश आदि से बनाये जा सकते हैं। मूर्तिकला एक अतिप्राचीन कला है।

मृत्यु स्मृति स्तम्भ

मृत्यु स्मृति स्तम्भ छत्तीसगढ़ प्रांतके बस्तर अंचल की एक परम्परा है जिसके अन्तर्गत मृतक की कब्पर स्मृति स्वरूप एक स्तम्भ लगाया जाता है। इस स्तम्भ पर मृत्यु प...

मोना लीज़ा

मोना लिसा) लिओनार्दो दा विंची के द्वारा कृत एक विश्व प्रसिद्ध चित्र है। यह एक विचारमग्न स्त्री का चित्रण है जो अत्यन्त हल्की मुस्कान लिये हुए हैं। यह संसार क...

युगबोध

युगबोध समसामयिक परिस्थितियों के ज्ञान की अवधारणा है। समसामयिक परिस्थितियों में किसी काल की राजनितिक, आर्थिक, सामाजिक, धार्मिक, सांस्कृतिक और आर्थिक स्थितियाँ...

यूरोपीय नाट्यशालाएँ

यूनान में नाटकों का प्रारंभ डायनोसस देवता की पूजा से हुआ। हो सकता है कि यहाँ के प्रारंभिक नाटकों पर मिस्त्र का प्रभाव पड़ा हो क्योंकि डायनोसस का त्योहार मनान...

योसेमिटी में इमोजेन और ट्विंका

योसेमिटी में इमोजेन और ट्विंका श्रीमती जूडी डेटर द्वारा 1974 में खींचा गया एक सुप्रसिद्ध छायाचित्र है। इस छायाचित्र में योसेमिटी राष्ट्रीय उद्यान में भ्रमण क...

राजपूत शैली

राजपूत चित्रशैली, भारतीय चित्रकला की प्रमुख शैली है। राजस्थान में लोक चित्रकला की समृद्धशाली परम्परा रही है। मुगल काल के अंतिम दिनों में भारत के विभिन्न क्षे...

राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय

राष्ट्रीय आधुनिक कला संग्रहालय) की स्थापना भारत सरकार द्वारा सन् २९ मार्च १९५४ में की गयी। सबसे पहले नयी दिल्ली में एक संग्रहालय खोला गया। इसके पास विभिन्न क...

ललित कला

सौंदर्य या लालित्य के आश्रय से व्यक्त होने वाली कलाएँ ललित कला कहलाती हैं। अर्थात वह कला जिसके अभिव्यंजन में सुकुमारता और सौंदर्य की अपेक्षा हो और जिसकी सृष्...

ललित कला अकादमी के सभासदों की सूची

ललित कला अकादमी की फेलोशिप को "ललित कला अकादमी रत्न" भी कहा जाता है। यह भारत में ललित कला के क्षेत्र में दिया जाने वाला एक सम्मान है। इसमें २५००० रूपये नकद, ...

वर्ण सिद्धान्त

रंगों को मिलाने तथा रंगों के मिलान से उत्पन्न दृष्य प्रभावों से सम्बन्धित व्यावहारिक मार्गदर्शन वर्ण सिद्धान्त के अन्तर्गत आते हैं।दृश्य कला में, रंग सिद्धां...

विरूप-चित्रण

व्यक्ति, समाज अथवा राजनीति पर चित्रों के माध्यम से व्यंग्य कसने अथवा उपहास करने की सामान्य विधा को विरूप-चित्रण या कैरिकेचर कहते हैं। यह मूलत फ्रेंच का शब्द ...

वैचारिक कला

वैचारिक कला, जिसे कभी-कभी केवल वैचारिकता कहा जाता है, वह कला है जिसमें काम में शामिल अवधारणा या विचार पारंपरिक सौंदर्यवादी, तकनीकी और भौतिक सरोकारों से अधिक ...

व्यंग्यचित्र

व्यंग्यचित्र या कार्टून दृष्य कला का एक रूप है। कार्टून शब्द के अर्थ में समय के साथ विस्तार होता गया है। इस समय कार्टून शब्द का प्रयोग कई अर्थों में होता है।...

शंकरदेव कलाक्षेत्र

शंकरदेव कलाक्षेत्र असम का सांस्कृतिक संग्रहालय है। यह गुवाहाटी शहर के पंजाबाड़ी क्षेत्र में स्थित है। यह एक ही परिसर में पूरे पूर्वोत्तर क्षेत्र को दर्शाते ह...

श्येनपालन

श्येनपालन एक कला है, जिसके द्वारा श्येनों और बाजों को शिकार के लिए साधा, या प्रशिक्षित, किया जाता है। मनुष्य को इस कला का ज्ञान ४,००० वर्षों से भी अधिक समय स...

सम्पादन

संपादन का अर्थ है किसी लेख, पुस्तक, दैनिक, साप्ताहिक मासिक या सावधिक पत्र या कविता के पाठ, भाषा, भाव या क्रम को व्यवस्थित करके तथा आवश्यकतानुसार उसमें संशोधन...

सर्कस

सर्कस एक चलती-फिरती कलाकारों की कम्पनी होती है जिसमें नट, विदूषक, अनेक प्रकार के जानवर एवं अन्य प्रकार के भयानक करतब दिखाने वाले कलाकार होते हैं। सर्क्स एक व...

सिलाई

घरेलू सिलाई अधिकतर मरम्मत, रफू, कपड़ों का ठीक करना तथा बच्चों के कपड़ों से संबंधित होती है। इसके लिये उचित साधन, उचित कपड़े और उचित तरीके का ज्ञान अत्यंत आवश...

सोलह कलाएं

कला को अवतारी शक्ति की एक इकाई मानें तो श्रीकृष्ण सोलह कला अवतार माने गए हैं। सोलह कलाओं से युक्त अवतार पूर्ण माना जाता हैं, अवतारों में श्रीकृष्ण में ही यह ...

सोहराई कला

सोहराई कला एक आदिवासी कला है। इसका प्रचलन हजारीबाग जिले के बादम क्षेत्र में आज से कई वर्ष पूर्व शुरू हुआ था। इस क्षेत्र के इस्को पहाड़ियों की गुफाओं में आज भ...

सौन्दर्यशास्त्र

सौंदर्यशास्त्र संवेदनात्मक-भावनात्मक गुण-धर्म और मूल्यों का अध्ययन है। कला, संस्कृति और प्रकृति का प्रतिअंकन ही सौंदर्यशास्त्र है। सौंदर्यशास्त्र, दर्शनशास्त...

हस्तशिल्प

हस्तकला ऐसे कलात्मक कार्य को कहते हैं जो उपयोगी होने के साथ-साथ सजाने के काम आता है तथा जिसे मुख्यत: हाथ से या सरल औजारों की सहायता से ही बनाया जाता है। ऐसी ...

हेमंत चौहान

हेमंत चौहान गुजराती भाषा के जानेमाने भजनिक एवं लोकगायक है। ९ अक्तूबर २०१२ को उन्हें वर्ष २०११ के अकादमी रत्व एवोर्ड से सम्मानित किया गया था। गुजराती भजन, गरब...