कामदा एकादशी

चैत्र शुक्ल पक्ष में ‘कामदा’ नाम की एकादशी होती है। कहा गया है कि ‘कामदा एकादशी’ ब्रह्महत्या आदि पापों तथा पिशाचत्व आदि दोषों का नाश करनेवाली है। इसके पढ़ने और सुनने से वाजपेय यज्ञ का फल मिलता है।

1. पौराणिक उल्लेख
पुराणों में इसके विषय में एक कथा मिलती है। प्राचीनकाल में भोगीपुर नामक एक नगर था। वहाँ पर अनेक ऐश्वर्यों से युक्त पुण्डरीक नाम का एक राजा राज्य करता था। भोगीपुर नगर में अनेक अप्सरा, किन्नर तथा गन्धर्व वास करते थे। उनमें से एक जगह ललिता और ललित नाम के दो स्त्री-पुरुष अत्यंत वैभवशाली घर में निवास करते थे। उन दोनों में अत्यंत स्नेह था, यहाँ तक कि अलग-अलग हो जाने पर दोनों व्याकुल हो जाते थे। एक दिन गन्धर्व ललित दरबार में गान कर रहा था कि अचानक उसे अपनी पत्नी की याद आ गई। इससे उसका स्वर, लय एवं ताल बिगडने लगे। इस त्रुटि को कर्कट नामक नाग ने जान लिया और यह बात राजा को बता दी। राजा को ललित पर बड़ा क्रोध आया। राजा ने ललित को राक्षस होने का श्राप दे दिया। जब उसकी प्रियतमा ललिता को यह वृत्तान्त मालूम हुआ तो उसे अत्यंत खेद हुआ। ललित वर्षों वर्षों तक राक्षस योनि में घूमता रहा। उसकी पत्नी भी उसी का अनुकरण करती रही। अपने पति को इस हालत में देखकर वह बडी दुःखी होती थी। वह श्रृंगी ऋषि के आश्रम में जाकर विनीत भाव से प्रार्थना करने लगी। उसे देखकर श्रृंगी ऋषि बोले कि हे सुभगे! तुम कौन हो और यहाँ किस लिए आई हो? ‍ललिता बोली कि हे मुने! मेरा नाम ललिता है। मेरा पति राजा पुण्डरीक के श्राप से विशालकाय राक्षस हो गया है। इसका मुझको महान दुःख है। उसके उद्धार का कोई उपाय बतलाइए। श्रृंगी ऋषि बोले हे गंधर्व कन्या! अब चैत्र शुक्ल एकादशी आने वाली है, जिसका नाम कामदा एकादशी है। इसका व्रत करने से मनुष्य के सब कार्य सिद्ध होते हैं। यदि तू कामदा एकादशी का व्रत कर उसके पुण्य का फल अपने पति को दे तो वह शीघ्र ही राक्षस योनि से मुक्त हो जाएगा और राजा का श्राप भी अवश्यमेव शांत हो जाएगा। ललिता ने मुनि की आज्ञा का पालन किया और एकादशी का फल देते ही उसका पति राक्षस योनि से मुक्त होकर अपने पुराने स्वरूप को प्राप्त हुआ। फिर अनेक सुंदर वस्त्राभूषणों से युक्त होकर ललिता के साथ विहार करते हुए वे दोनों विमान में बैठकर स्वर्गलोक को प्राप्त हुए। ऐसी मान्यता है कि इस व्रत को विधिपूर्वक करने से समस्त पाप नाश हो जाते हैं तथा राक्षस आदि की योनि भी छूट जाती है। संसार में इसके बराबर कोई और दूसरा व्रत नहीं है। इसकी कथा पढ़ने या सुनने से वाजपेय यज्ञ का फल प्राप्त होता है।

  • पक ष क एक दश और अम वस य क ब द आन व ल एक दश क श क ल पक ष क एक दश कहत ह इन द न प रक र क एक दश य क भ रत य सन तन स प रद य म बह त महत त व

कामदा एकादशी व्रत, कथा पढ़ने से दैनिक भास्कर.

दिन विशेष कामदा एकादशी कामदा एकादशी चैत्र शुक्ल पक्ष एकादशी को मनाई जाती है। इस दिन भगवान वासुदेव का पूजन किया जाता है। व्रत के एक दिन पूर्व दशमी की. What is कामदा एकादशी Kamada Ekadashi Poojan Vidhi and. कामदा एकादशी - - - - - - - - - - - - - - - - - चैत्र महीने की शुक्‍ल पक्ष एकादशी को कामदा एकादशी के नाम से जाना जाता है. इस दिन व्रत रखने का विधान है. यह एकादशी चैत्र नवरात्और रामनवमी के बाद आती है. इस बार १५ अप्रैल २०१९ को कामदा एकादशी है. Kamada Ekadashi 2019: जानें कामदा एकादशी का AajTak. मान्यतानुसार मनोवांछित फल प्रदाता और समस्त कामना पूर्ण करने वाली कामदा एकादशी व्रत चैत्र शुक्ल पक्ष एकादशी के दिन किया जाता है। पौराणिक कथानुसार धर्मावतार महाराज युधिष्ठिर के द्वारा पूछे जाने पर वसुदेव देवकी नंदन भगवान श्री. Kamada Ekadashi 2019 Vrat Vidhi, Puja TIme, Story, Importance. टीकमगढ़ नईदुनिया प्रतिनिधि श्रीराम नवमी के बाद 15 अप्रैल को कामदा एकादशी का त्योहार मनाया जाएगा चैत्र नवरात्और रामनवमी के बाद यह पहली एकादशी है चैत्र शुकल पक्ष की एकादशी को कामदा एकादशी के रूप में जाना जाता है हिन्दू.

Kamda Ekadashi Vrat Vidhi, कामदा एकादशी का व्रत विधि.

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। चैत्र मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी को कामदा एकादशी कहा जाता है। इस कामदा एकादशी का विशेष महत्व होता है। इसका एक कारण यह भी है कि यह हिंदू संवत्सर की पहली एकादशी होती है। इस बार कामदा एकादशी 15. Kamda Ekadashi कामदा एकादशी इस व्रत के समान कोई. Kamada Ekadashi 2019: कामदा एकादशी चैत्र शुक्लपक्ष की एकादशी को मनाया जाता है। साल 2019 में यह एकादशी 15 अप्रैल, सोमवार को मनाई जाएगी। चैत्र नवरात्रि और राम नवमी के बाद यह पहली एकादशी है। समय – चैत्र शुक्ल पक्ष की एकादशी को. संतान की ईच्छा है तो करें कामदा एकादशी व्रत. हिन्दू धर्म में एकादशी व्रत का बहुत ही बड़ा महत्त्व है। चैत्र मास की शुक्ल एकादशी को कामदा एकादशी कहा जाता है। पद्म पुराण के अनुसार कामदा एकादशी के दिन भगवान विष्णु का पूजन किया जाता है। कामदा एकादशी व्रत Kamada Ekadashi Vrat के प्रभाव. कामदा एकादशी व्रत नहीं रख पाएं तो ऐसे करें भगवान. कामदा एकादशी का व्रत चैत्र शुक्ल पक्ष में एकादशी को किया जाता है। इस एकादशी व्रत का बहुत महत्व है। कहा जाता है कि कामदा एकादशी को व्रत करने से व्यक्ति ब्रह्महत्या जैसे पाप से मुक्ति मिलती है। इतना ही नहीं इस व्रत को करने से पिशाच योनि. Kamada Ekadashi कामदा एकादशी धर्म ShareChat. नई दिल्ली। आज पूरे देश में कामदा एकादशी मनाई जा रही है। माना जाता है आज के दिन विधि विधान से व्रत करने से व्यक्ति के सभी पाप खत्म हो सकते हैं। इस एकादशी को फलदा एकादशी भी कहा जाता है। हिंदू व्रत परंपरा में एकादशी को सबसे.

कामदा एकादशी व्रत विधि और पूजा धर्म रफ़्तार.

नई दिल्ली. चैत्र शुक्ल की एकादशी तिथि को कामदा एकादशी है। इस व्रत को करने से मनुष्य के सब कार्य सिद्ध होते हैं। साथ ही इस व्रत को करने से प्रेत योनि से भी मुक्ति मिल जाती है। इस एकादशी को फलदायी एकादशी भी कहा जाता है। इसके. कामदा एकादशी व्रत करने से मिलती है समस्त पापों. Kamda Ekadashi 2019: हिंदू पंचांग के अनुसार एकादशी चैत्र शुक्‍लपक्ष की एकादशी को मनाया जाता है। इस बार यह कामदा एकादशी का व्रत रखने से ना सिर्फ पुण्‍य की प्राप्‍ति होती है बल्‍कि इंसान को प्रेत योनि से भी मुक्ति मिलती है।. आज है कामिका एकादशी व्रत, जिसे रखने पर मिलता है. परिभाषा चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी वाक्य में प्रयोग शीला कामदा एकादशी को व्रत रखती है । समानार्थी शब्द चैत्र शुक्ल एकादशी, कामदा लिंग अज्ञात एक तरह का एकादशी. Hindi Shabdamitra Copyright © 2017, Developed by Center For Indian Languages. कामदा एकादशी know थे इम्पोर्टेंस एंड News State. एकादशी के दिन सर्व प्राणिमात्रों की सात्त्विकता बढती है, इसलिए यह व्रत करने से लाभ प्राप्त होता है । शैव तथा वैष्णव इन ललिता ने कामदा एकादशी का अनशन कर प्रार्थना करते ही पति ललित का पाप नष्ट हुआ । उसका राक्षसभाव नष्ट हुआ.

Navabharat 28 जुलाई को है कामदा एकादशी व्रत, जानें.

Kamada Ekadashi 2019: कामदा एकादश का व्रत 15 फरवरी को है. इस एकादशी का काफी महत्‍व है. कामदा एकादशी का महत्‍व इस दिन व्रत रखने से पाप नष्‍ट होते हैं. मन की हर कामना पूर्ण होती है. जाने ​अनजाने में किया पाप नाश होता है. व्रत करने वाले को. सोमवार को कामदा एकादशी, कथा सुनने Times Now Hindi. शनिवार, 4 अप्रैल 2020. जानिए कामदा एकादशी का महत्व, कथा और Amar Ujala. 17 मार्च 2019, रविवार, आमलकी एकादशी. 7. 31 मार्च 2019, रविवार, पापमोचिनी एकादशी. 1 अप्रैल, 2019, सोमवार, वैष्णव पापमोचिनी एकादशी. 8. 15 अप्रैल, 2019, सोमवार, कामदा एकादशी. 16 अप्रैल, 2019, मंगलवार, गौना कामदा एकादशी वैष्णव कामदा. एकादशी 2019 एकादशी व्रत तिथि 2019 Ekadashi 2019. कामिका एकादशी का क्या है महत्व. क्यों रखा जाता है व्रत. कामदा एकादशी, जानिए इसकी व्रत कथा Oneindia Hindi. चैत्र शुक्ल पक्ष में कामदा नाम की एकादशी होती है.

कामदा एकादशी इस व्रत के समान कोई अन्य व्रत नहीं.

कामदा एकादशी व्रत कथा. युधिष्ठिर ने पूछा वासुदेव! आपको नमस्कार है! कृपया आप यह बताइये कि चैत्र शुक्लपक्ष में किस नाम की एकादशी होती है? भगवान श्रीकृष्ण बोले राजन्! एकाग्रचित्त होकर यह पुरातन कथा सुनो, जिसे वशिष्ठजी ने राजा दिलीप के. कामदा एकादशी 2019: जाने क्या है कामदा एकादशी का. कामदा एकादशी का उपवास चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को रखा जाता है। अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार साल 2018 में कामदा एकादशी का व्रत 27 मार्च मंगलवार को है।इस बार कामदा एकादशी व्रत चैत्र शुक्ल एकादशी, 27 मार्च 2018. कामदा एकादशी हिंदी शब्दमित्र. चैत्र मास में शुक्ल पक्ष एकादशी को कामदा एकादशी कहा जाता है। यह हिंदू संवत्सर की पहली एकादशी है। इस संसार में कामदा एकादशी के समान कोई अन्य व्रत नहीं है।.

कामदा एकादशी 2020 जानें एकादशी व्रत की तिथि व.

चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को कामदा एकादशी कहते हैं। कामदा एकादशी को फलदा एकादशी भी कहा जाता है। धर्म ​कर्म न्यूज़. कामदा एकादशी Navbharat Times. चैत्र मास में शुक्ल पक्ष एकादशी को कामदा एकादशी कहा जाता है। यह हिंदू संवत्सर की पहली एकादशी है। इस संसार में कामदा एकादशी के समान कोई अन्य व्रत नहीं है। कामदा एकादशी को भगवान श्री हरि विष्णु का उत्तम व्रत कहा गया है।.

कामदा एकादशी व्रत करने और कथा सुनने मात्र से.

जानें कामदा एकादशी व्रत, उत्सव, अनुष्ठान और धार्मिक महत्व के बारे में व पढ़े इसकी कहानी। यह एकादशी हिंदू माह चैत्र के शुक्ल पक्ष की ग्यारहवीं तिथि को आती है।. कल है फलदायी कामदा एकादशी व्रत, जानिए इसके महत्व. चैत्र शुक्ल ग्यारस के उपलक्ष्य में कामदा एकादशी पर्व मनाया जाएगा। इस दिन श्रीहरि के वासुदेव स्वरूप का पूजन किया जाता है। शास्त्रों में कामदा एकादशी को फलदा एकादशी कहकर संबोधित किया गया है। इसे श्री हरि का उत्तम व्रत कहा गया है।. सांसारिक कामनाओं की पूर्ति करता है कामदा. कामदा एकादशी का व्रत News in Hindi Find the latest news & updates on कामदा एकादशी का व्रत. हिंदी में पाइए कामदा एकादशी का व्रत से सम्बंधित सभी खबरें पर्दाफाश पर. हिंदू संवत्सर की पहली एकादशी है आज, कामदा एकादशी. कामदा एकादशी 2020 कामदा एकादशी का व्रत रखने व्रती को प्रेत योनि से भी मुक्ति मिल सकती है। आइये जानते हैं क्या है कामदा एकादशी की व्रत कथा व क्या है इस एकादशी की पूजा विधि।.

फलदायी है कामदा एकादशी की कथा Vrat story of AajTak.

धर्म डेस्क। चैत्र मास के शुक्ल पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को कामदा एकादशी के नाम से जाना जाता है। आज कामदा एकादशी व्रत है, ये व्रत सबसे पहले किसने किया और इसके करने से क्या फल मिलता है। इसका वर्णन पुराणों में किया गया है, आइए आपको. दिन विशेष कामदा एकादशी कामदा एकादशी माँ. 24 जुलाई: कालाष्टमी। 26 जुलाई: गुरु हरिकृष्ण जयंती। 28 जुलाई​: कामदा एकादशी व्रत। 29 जुलाई: सोम प्रदोष व्रत। श्रावण सोमवार व्रत। प्रत्येक वर्ष एक बुरी आदत को पूर्णरूप से खत्म किया जाए, तो कुछ ही वर्षों में बुरे से बुरा व्यक्ति भी. कामदा एकादशी 15 अप्रैल को, इस दिन व्रत Dainik Bhaskar. चैत्र मास अप्रैल के शुक्ल पक्ष की एकादशी को कामदा एकादशी कहते हैं। इसे फलदा एकादशी भी कहा जाता है। हिन्दू धर्म में एकादशी का व्रत महत्वपूर्ण माना जाता है। फलदा एकादशी को श्री विष्णु का उत्तम व्रत कहा गया है। इस व्रत को.

Kamada Ekadashi 2019: जानें कामदा एकादशी.

सावन महीने में आने वाली कामिका एकादशी Kamika Ekadashi का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। इस एकादशी में भगवान विष्णु ​Lord Vishnu की पूजा की जाती है। पुराणों के अनुसार इस एकादशी के महत्व के. Следующая Войти Настройки. Kamada Ekadashi Vrat Katha, Vidhi: कामदा एकादशी Jansatta. सावन महीने में आने वाली कामिका एकादशी Kamika Ekadashi का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। इस एकादशी में भगवान विष्णु ​Lord Vishnu की पूजा की जाती है। पुराणों के अनुसार इस एकादशी के महत्व के. Следующая Войти Настройки Конфиденциальность Условия. कामदा एकादशी 2018: जानिये! कामदा एकादशी के दिन. चैत्र महीने की शुक्‍ल पक्ष एकादशी को कामदा एकादशी के नाम से जाना जाता है इस दिन व्रत रखने का विधान है यह एकादशी चैत्र नवरात्और रामनवमी के बाद आती है इस बार 27 मार्च को कामदा एकादशी है पौराणिक मान्‍यताओं के अनुसार इस. कामदा एकादशी का व्रत पर्दाफाश. कामदा एकादशी विष्णु भगवान की कृपा पाने का दिन होता है कामदा एकादशी का व्रत बड़ा ही दिव्य और चमत्कारी माना जाता है इस दिन भगवान विष्णु के साथ वासुदेव श्रीकृष्ण की उपासना से सभी सांसारिक दोष और पापों का नाश होता है मान्यता है कि.

सोमवार को कामदा एकादशी, जानें कामदा एकादशी का.

Kamika ekadashi 2019 पाप से मुक्ति और अक्षय पुण्य दिलाने वाला व्रत कामिका एकादशी का व्रत 28 जुलाई को रखा जाएगा। इस व्रत का महात्मय और पूजन विधि जानने के लिए पढ़ें यह लेख Read latest hindi news ताजा हिन्दी समाचार on कामिका. एकादशी सनातन संस्था. आज कामदा एकादशी Kamada Ekadashi 2019 है यह दिन भगवान विष्णु की कृपा पाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण दिन होता है कामदा एकादशी का व्रत बड़ा ही दिव्य और चमत्कारी माना जाता है हिंदू पंचांग के अनुसार एकादशी चैत्र शुक्‍ल पक्ष की. कामिका एकादशी में क्या करें और क्या न पकवानगली. Kamada Ekadashi कामदा एकादशी धर्म ✝️ Install ShareChat from Google Play Store for FREE!. कामदा एकादशी का व्रत करने से मिलती है प्रेत योनि. Kamada Ekadashi 2019: चैत्र मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी को कामदा एकादशी मनाई जाती है. इस बार कामदा एकादशी 15 अप्रैल, सोमवार के दिन है.

कामदा एकादशी 2018 जानिए कामदा एकादशी कब, क्या.

सावन महीने में आने वाली कामिका एकादशी Kamika Ekadashi का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। इस एकादशी में भगवान विष्णु ​Lord Vishnu की पूजा की जाती है। पुराणों के अनुसार इस एकादशी के महत्व के. कामदा एकादशी Archives प्रवक्‍ता.कॉम. कामदा एकादशी Камада Экадаши. कामदा एकादशी Hindustan. चैत्र मास के शुक्ल पक्ष में आने वाली एकादशी को कामदा एकादशी कहा जाता है। सभी सांसारिक कामनाओं की पूर्ति हेतु कामदा एकादशी का व्रत किया जाता है। कामदा एकादशी को फलदा एकादशी भी कहा जाता है। इस बार यह एकादशी 27 मार्च 2018 को पड़ रही. कामदा एकादशी 2019 पंचांग, व्रत विधि, कहानी. कामदा एकादशी चैत्र शुक्ल पक्ष की एकादश को कहते है कथा प्राचीन काल मे नागलोक मे राजा पुण्डरीक राज करता था । उस विलासी के सभा मे अप्सराए किन्नर,गंधर्व नृत्य किया करते थे । एक बार ललित नामक गंधर्व जब उसकी राज सभा मे नृत्य गान कर रहा था।. हर मनोरथ पूर्ण करती कामदा एकादशी की व्रत कथा तथा. Dus Ka Dum News in Hindi: विष्णु जी को आम समेत इन चीजों का भोग लगाएं कामदा एकादशी को फलदा एकादशी के नाम से भी जाना जाता है.

कामदा एकादशी 2018 दो these Hindi News.

चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को कामदा एकादशी कहते हैं। कामदा एकादशी को भगवान श्रीविष्णु का उत्तम व्रत कहा गया है। इस बार यह व्रत 15 अप्रैल, मंगलवार को है। इस व्रत की विधि और महत्व इस प्रकार है Kamda Ekadashi 2019, the date of. Vrit Fast कामदा एकादशी व्रत कथा BhaktiDarpan. Kamda Ekadashi Vrat Vidhi, कामदा एकादशी का व्रत विधि, पूजा विधि हिंदू धर्म में एकादशी का व्रत बहुत महत्वपूर्ण समझा जाता है​। प्रत्येक मास के कृष्ण और शुक्ल पक्ष में आने वाली दोनों एकादशियों का अपना विशेष महत्व होता है, लेकिन. कामदा एकादशी के दिन कर लें इनमें से कोई भी Patrika. मान्यता है कि कामदा एकादशी का व्रत रखने से प्रेत योनि से मुक्ति मिलती है। इस व्रत में अपने मन को संयमित रखकर भगवान विष्णु की आराधना करें। भगवान श्री हरि विष्णु को फल, फूल, दूध, तिल, पंचामृत अर्पित करना चाहिए। एकादशी व्रत की. कामदा एकादशी. कामदा एकादशी व्रत Kamada Ekadashi Fast Kamada Ekadasi Vrat Method Vrat Katha. कामदा एकदशी व्रत चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की एकादशीको कामदा एकादशी के नाम से जाना जाता है. कामदा एकादशी अपने नाम के अनुरुप सभी कामनाओं की पूर्ति करती है. इस व्रत. कामदा एकादशी का व्रत करने से मिलता यह फल Tejas. कामदा एकादशी 2019 की व्रत कथा. प्राचीन समय में पुण्डरीक नामक एक राजा नागलोक में राज्य करता था। उसका दरबार अप्सराओं, किन्नरों व गंधर्वो से भरा रहता था। एक दिन जब ललित नामक गन्धर्व दरबार में गान कर रहा था तो अचानक उसे अपनी.