उद्देश्यवाद

उद्देश्यवाद के अनुसार प्रत्येक कार्य या रचना में कोई उद्देश्य, प्रयोजन या अंतिम कारण निहित रहता है जो उसके संपादनार्थ प्रेरणा प्रदान किया करता है। इसे प्रयोजनवाद, हेतुवाद और साध्यवाद भी कहते हैं। इसके विपरीत यंत्रवाद का सिद्धांत है। इसके अनुसार संसार की प्रत्येक घटना कार्य-कारण-सिद्धांत से घटती है। हर कार्य के पूर्व एक कारण होता है। वह कारण ही कार्य के होने का उत्तरदायी है। इसमें प्रयोजन के लिए कोई स्थान नहीं है। संसार के जड़ पदार्थ ही नहीं चेतन प्राणी भी, यंत्रवाद के अनुसार, कार्य-कारण-नियम से ही हर व्यवहार करते हैं। साध्यवाद के सिद्धांतानुसार संसार में सर्वत्र एक सप्रयोजन व्यवस्था है। विश्व की प्रत्येक घटना किसी उद्देश्य की सिद्धि के लिए संपादित होती है। चेतन प्राणी तो हर कार्य किसी उद्देश्य से करता ही है, जड़ पदार्थों का संघटन और विघटन भी सप्रयोजन होता है। यंत्रवादी यदि भूत के माध्यम से वर्तमान और भविष्य की व्याख्या करते हैं, तो साध्यवादी भविष्य के माध्यम से भूत और वर्तमान की व्याख्या करते हैं। यंत्रवाद के अनुसार कोई न कोई कारण हर कार्य को ढकेलकर आगे बढ़ा रहा है। साध्यवाद के अनुसार कोई न कोई प्रयोजन हर कार्य को खींचकर आगे बढ़ा रहा है।

1. परिचय
साध्यवाद दो प्रकार का हो सकता है--बाह्य साध्यवाद और अंतर साध्यवाद। बाह्य साध्यवाद के अनुसार कार्य में स्वयं कोई प्रयोजन न होकर उससे बाहर अन्यत्र प्रयोजन रहता है। घड़ी की रचना में प्रयोजन घड़ी में नहीं, वरन्‌ घड़ीसाज में निहित रहता है। इसी प्रकार संसार का रचयिता संसार की रचना अपने प्रयोजन के लिए करता है। संसाऔर उसके रचयिता में बाह्य संबंध है। ईश्वरवादी इस सिद्धांत के समर्थक हैं। आंतरिक साध्यवाद के अनुसार संसार की सब क्रियाओं का प्रयोजन संसार में ही निहित है। विश्व जिस चेतन सत्ता की अभिव्यक्ति है वह संसार में ही व्याप्त है। संसार में व्याप्त चेतना संसार के द्वारा अपना प्रयोजन सिद्ध करती है। हीगेल, ब्रेडले, लोत्जे आदि अंतर साध्यवाद के ही समर्थक हैं।
साध्यवाद के समर्थन में अनेक प्रमाण दिए जाते हैं। प्रकृति में सर्वत्र साधन और साध्य का सामंजस्य दिखाई देता है। पृथ्वी के घूमने से दिन, रात और ऋतु परिवर्तन होते हैं। गर्मी, सर्दी और वर्षा के अनुपात से वनस्पति उत्पन्न होती है। वृक्षों के मोटे तने से आँधी से वृक्ष की रक्षा होती है। पत्तियाँ साँस लेने का काम करती हैं। पशुओं के शरीर उनकी आवश्यकता के अनुसार हैं। इस प्रकार संसार में सर्वत्र प्रयोजन दिखाई देता है। विश्व में जो क्रमिक विकास होता दिखाई देता है वह किसी प्रयोजन की सूचना देता है। संसार की यंत्रवादी व्याख्या इस प्रश्न का उत्तर नहीं दे सकती कि संसार यंत्र के समान क्यों चल रहा है। इसलिये संसार की रचना का प्रयोजन मानना पड़ता है।
साध्यवाद बहुत प्राचीन सिद्धांत है। संभवत: मनुष्य ने जब से दार्शनिक चिंतन करना शुरू किया, इस्ी सिद्धांत से संसारसृष्टि की व्याख्या करता रहा है। मानवीय व्यवहार सदा प्रयोजन देखकर संसार की रचना को भी वह सप्रयोजन समझता रहा है। अरस्तू के चार कारणों में "अंतिम कारण साध्यवाद को स्वीकार करता है। मध्य काल के अंत में देकार्त आदि ने यंत्रवाद की ओर झुकाव दिखाया किंतु आधुनिक युग में साध्यवादी सिद्धांत का पुन: समर्थन होने लगा। आधुनिक साध्यवाद नवसाध्यवाद के नाम से प्रसिद्ध है। इसके प्रमुख समर्थक हीगेल, ग्रीन, ब्रेडले, बोसांके और रायस आदि है। हीगेल के विचार से संसार एक निरपेक्ष चेतना सत्ता की अभिव्यक्ति है। संसार अपने विकासक्रम के द्वारा निरपेक्ष चेतन सत्ता को अनूभूति प्राप्त कर स्वचेतन बनना चाहता है। इसी प्रयोजन से संसार की सब घटनाएँ घट रही हैं।
भारतीय दर्शन में प्राय: सर्वत्र साध्यवाद का समर्थन मिलता है। सांख्य दर्शन में प्रकृति इस उद्देश्य से सृष्टिरचना करती है कि पुरुष उसमें सुख दु:ख का अनुभव करे और अंत में मुक्ति प्राप्त कर ले। जड़ प्रकृति में अंध प्रयोजन निहित होने के कारण डॉ॰ दासगुप्त ने इसे अंतर्निहित साध्यवाद इनहेरेटं टिलियोलाजी कहा है। योग दर्शन में अंध प्रयोजन असंभावित मानकर ईश्वर की सत्ता स्वीकार की गई है। ईश्वर प्रकृति को सृष्टिरचना में नियोजित करता है। इस प्रकार सांख्य साध्यवाद और योग बाह्य साध्यवाद का समर्थन करता है। न्याय जैसे ईश्वरवादी दर्शन बाह्य साध्यवाद के ही समर्थक हैं।
नीतिशास्त्र में साध्यवाद के अनुसार मूल्य या शुभ ही मानवजीवन का मानक स्टेंडर्ड स्वीकार किया जाता है। नैतिक आचरण का उद्देश्य उच्च मूल्यों को प्राप्त करना है। सर्त्य, शिवं, सुंदरं हमें उसी प्रकार आकृष्ट करते हैं जैसे कोई सुंदर चित्र अपनी ओर आकृष्ट करता है। कर्तव्य या कानून मनुष्य को ढकेलकर नैतिक आचरण कराते हैं, यह साध्यवाद सिद्धांत के विपरीत है।
ज्ञानमीमांसा के साध्यवादी दृष्टिकोण के अनुसार सत्य की खोज में बुद्धि उद्देश्यों, मूल्यों, रुचियों, प्रवृत्तियों और तात्विक या तार्किक प्रमाणों से संचालित या निर्देशित होती है।
मनोविज्ञान में प्रो॰ मैकडूगल का हार्मिक स्कूल साध्यवाद का ही परिणाम है। इसके अनुसार मनुष्य के कार्यव्यापार किसी न किसी प्रयोजन से होते हैं, यंत्रवत्‌ नहीं।
प्राणिशास्त्र में वाईटलिज्म का सिद्धांत भी साध्यवादी प्रकृति का है।

  • पर ण मव द Consequentialism म नदण डक न त श स त र क स द ध त म वह व च रध र ए ह ज नक अन स र क स क र य य व यवह र क अच छ ई य ब र ई क आ कलन

माॅडल प्रैक्टिस सेट 9 25 Questions MCQ Test EduRev.

इसमें शहर के लगभग 330 विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया। बहस का मुख्य उद्देश्य वाद विवाद, कार्यशालाओं, टूर्नामेंट एवं लैग्वेज लैब के जरिए प्रतिभागियों की अभिव्यक्ति एवं तार्किक कौशल की क्षमताओं को उभारना है। सलिल सिंह ने. Pranishastr हिंदी में मतलब हिंदी शब्दकोष. दर्जनों ग्रामीण भाजपा में हुए शामिल. jharkhand3 years ago. बीसीए एमसीए के छात्रों का होगा कैंपस सेलेक्शन. jharkhand3 years ago. साहित्य का उद्देश्य वाद विवाद नहीं प्रकाश. jharkhand3 years ago. सवा दो घंटे तक ठप रही बिजली आपूर्ति. jharkhand3 years ago. Tele Hindi translation of tele K. परिणामवाद. परिणामवाद मानदण्डक नीतिशास्त्र के सिद्धांतों में वह विचारधाराएँ हैं जिनके अनुसार किसी क्रिया या व्यवहार की अच्छाई या बुराई का आंकलन अंततः इसी बुनियाद पर परिणामवाद उद्देश्यवाद धर्म का दर्शन. उद्देश्यवाद श्रेणी:. भगत सिंह – एक प्रेरक व्यक्तित्व. उद्देश्यवाद के अनुसार प्रत्येक कार्य या रचना में कोई उद्देश्य, प्रयोजन या अंतिम कारण निहित रहता है जो उसके संपादनार्थ प्रेरणा प्रदान किया करता है। इसे प्रयोजनवाद, हेतुवाद और साध्यवाद भी कहते हैं। इसके विपरीत यंत्रवाद का सिद्धांत है। इसके अनुसार. Page: 2322 Jamshedpur News जमशेदपुर समाचार:Jamshedpur. कुछ लोग होते हैं जो छोटी छोटी बातों पर किसी से भी विवाद कर लेते हैं। वह ऐसा जान बूझकर नहीं करते बल्कि उनका स्वभाव ही ऐसा होता है। मनु स्मृति के अनुसार 15 लोग ऐसे बतागए हैं, जिनसे कभी विवाद नहीं करना चाहिए। ये 15 लोग इस.

REET मनोविज्ञान अभ्यास 03 जीके बैंक.

किया जा सके। उनका मत है कि यह उद्देश्यवादी संभ्रम के अलावा कुछ देते हैं, जो. इसे वस्तुपरक विवेचन के लिए युक्त करती है। हमें यह भली भाँति याद होगा कि पश्च. संरचनावादी और पश्च ​आधुनिकतावादी एक बार राजनीतिक सिद्धांत में अत्यधिक लोकप्रिय. दर्शनशास्त्र विभाग की ओर से तीन अमर उजाला. दुनिया में प्रचलित हैं कारणवाद, क्रियावाद, संगणकवाद और उद्देश्यवाद। इनमें से एक भी सिद्धान्त इसलिए पूर्ण नहीं लगता क्योंकि चेतना कोई. ठहरी हुई प्रतिभिज्ञा नहीं शायद इसीलिए भारतीय चिन्तन के इतिहास. में चेतना कभी आत्मा के पर्याय के. अनटाइटल्ड jpsc. उदाहरण वाक्य के साथ उद्देश्यवाद, अनुवाद स्मृति. दिखा रहा है पृष्ठ 1. मिला 0 वाक्यांश मिलान वाक्य उद्देश्यवाद.0 एमएस में मिला है.अनुवाद यादें मानव द्वारा बनागई हैं, लेकिन कंप्यूटर, जो गलतियों के कारण हो सकता है गठबंधन. वे कई स्रोतों से. Pratilipi कथेतर Non Fiction गति के महाआख्यान में. इसे लागू करने का एक अन्य उद्देश्य वाद विवाद को कम करना और मुकदमों को कम करना है। यह कर प्रणाली पूरी तरह से अंतर्राष्ट्रीय कर प्रणाली के अनुरुप होगी। इसके द्वारा अन्तोगत्वा सिंगल यूनीफाइड टैक्सपेयर रिपोर्टिंग सिस्टम की.

एजुकेशन साइकोलॉजी.

उद्देश्यवाद का सिद्धांत अन्वेषण का सिद्धांत उद्देश्यवाद का सिद्धांत. 75. एडविन गूथरी ने अधिगम का कौनसा सिद्धांत प्रस्तुत किया? स्थानापन्नता का सिद्धांत अन्वेषण का सिद्धांत दशा का सिद्धांत उद्देश्यवाद का सिद्धांत. समागम. प्रत्यक्षवाद और प्रकृतिवादी जांच के दो प्रतिमान सामाजिक वास्तविकता की दो अवधारणाओं से चिंतित हैं। जबकि प्रत्यक्षवाद उद्देश्यवाद, मापनीयता, पूर्वानुमेयता, व्यवहार्यता और निर्माण कानूनों और मानव व्यवहार के नियमों के लिए खड़ा है. अध्याय २३ मनुष्य और विकास एको देव: सर्वभूतेषु गुढ़. अधिगम का उद्देश्यवाद का सिद्धान्ती किसने दिया? वाटसन एडवर्ड टोलमैन फ्रायड कोहलर. सबमिट बटन दबाने से पूर्व सभी प्रश्नों के उत्तर जरूर दे. 15 अंक में से प्राप्त अंक सफलता प्रतिशत उत्तरमाला देखे छिपाये. आउट ऑफ द बॉक्स अपसारी चिंतन. Founder of modern and other geographical ideas. गोरखपुर। गोरखपुर यूनिवर्सिटी के दर्शनशास्त्र विभाग में शुक्रवार को तीन दिवसीय संगोष्ठी का शुभारंभ हुआ। भारतीय दार्शनिक अनुसंधान परिषद के अध्यक्ष प्रो. एसआर भट्ट ने कहा कि यांत्रिकवाद और उद्देश्यवाद को पश्चिमी जगत में. अनटाइटल्ड Samyak IAS & RAS. सिद्ध आनुभविक विचार था. d उद्देश्यवादी टीलियोलॉजिकल संकल्पना. 4. विश्व मानचित्र की रचना हेतु इरैटोस्थिनीज़ ने. प्रमुख याम्योत्तर निम्नलिखित में से किस एक. से होकर प्रयुक्त किया? a केनारी द्वीप. b सिकन्दरिया ​अलेक्जेंड्रिया.

B जन्मजात प्रेरक.

नोटिस का मुख्य उद्देश्य वाद के संबंध में. जानकारी होना है। यह सही है कि नोटिस मृत व्यक्ति के नाम से निर्गत. हुआ। परन्तु नोटिस प्राप्ति के उपरान्त मृत ब्यक्ति के उतराधिकारी अंचल. कार्यालय अरवल में उपस्थित हुए और अपना आपति आवेदन समर्पित. अनटाइटल्ड Shodhganga. दूसरा तर्क उसी गतिप्रिय परिणामोत्पादक उद्देश्यवाद ​टेलियोलॉजी से उपजा था। सार्वजनिक वृत्त में यदि लोग मिले बैठें तो उसका कोई स्पष्ट उद्देश्य होना चाहिए गति सक्रियता की परिणामोत्पादकता की एक तार्किक अन्विति होनी. तूर्यनाद प्रतियोगिताए संसदीय वाद विवाद. उद्देश्य से हार uddeshy se haarobjective scoring उद्देश्य स्कोरिंग uddeshy skoriNgpurposeful उद्देश्यपूर्ण uddeshypuurnn​teleology उद्देश्यवाद uddeshyvaadteleologist उद्देश्यवादी uddeshyvaadiian objective एक उद्देश्य ek uddeshyfit for a purpose एक उद्देश्य के.

तीरंदाज: चर्चा को माहौल चाहिए Jansatta.

बंद दिमागों के बीच चर्चा नहीं हो सकती। चर्चा के लिए उदारता चाहिए। धीरज चाहिए। कहने से पहले सुनने की क्षमता चाहिए और आपसी समझ चाहिए। चर्चा का उद्देश्य वाद नहीं है, सहृदयता है। अपना पक्ष जीतना नहीं, रूटों को मानना है। व्यक्ति. Dictionary भारतवाणी Part 189. क्षेत्र सिद्धांत. – उद्देश्यवाद या संकेतवाद का सिद्धांत. प्रतिस्थापन का सिद्धांत. अनुभवजन्य अधिगम सिद्धांत. – मानवतावादी अधिगम सिद्धांत. सुचना प्रक्रियाकरण का सिद्धांत. – सरंचनात्मक सिद्धांत अन्वेषण सिद्धांत. मो.: 9829542044. 18. उद्देश्यवाद परिभाषा हिन्दी Glosbe. वेल्स एक स्पष्ट नास्तिक और उद्देश्यवाद का अनुयायी है, लेखक एयन रैंड द्वारा लोकप्रिय एक दर्शन। उद्देश्यवाद विशेषाधिकार व्यक्तिगतता, पूंजीवाद और कारण। वह एक उदारवादी के रूप में पहचानता है हालांकि वह लिबर्टीरियन पार्टी का समर्थक नहीं है।. उनकी भूखंड के कोर में रियल एस्टेट के साथ 5 PropTiger. इसका मुख्य उद्देश्य वाद या कार्यवाही की विषय. वस्तु का निपटारा करने या तथ्यों की सच्चाई पता लगाना होता है। 9. अधिवक्ता वकील की मदद. Right to Lawyer. क्या सिंक्लि न्यायालय के समक्ष अधिक्क्ता पक्षों की मदद कर सकता. है? 29. कुटुम्ब न्यायालय. ब्लॉक 1 eGyanKosh. उद्देश्य वाद विवाद प्रतियोगिता का उद्देश्य प्रतिभागियों में तार्किक क्षमता, विषय ज्ञान, दल भावना, तथ्य प्रस्तुतीकरण और विषम परिस्थिति में प्रतिक्रिया का परीक्षण करना है। अर्हता किसी भी महाविद्यालय में अध्ययनरत छात्र छात्राएँ.

कर संरचना Jagran Josh.

Teaching methods Quiz 01 सामाजिक विषयों का एकीकृत स्वरूप बालक को उसके वातावरण में समंजित करता है, यह कथन है, सामाजिक विज्ञान व सामाजिक अध्ययन में अंतर है. उद्देश्य All translation of उद्देश्य K. इस अभौतिक शक्ति का व्यापार उद्देश्यात्मक1 माना गया जिससे दर्शनशास्त्र में उद्देश्यवाद का समर्थन हुआ। प्रसिद्ध दार्शनिक कांट ने भी कह दिया कि यद्यपि सिद्धांतदृष्टि से सृष्टि के व्यापारों का भौतिक कारण बतलाने में बुद्धि में अपार. उद्देश्यवादी अनुवाद हिन्दी पंजाबी शब्दकोश. भारतीय प्रेस भी युगांतकारी दौर से गुजरा था। गुलाम भारत की स्थितियां और चुनौतियां स्वतंत्र भारत से भिन्न थीं। स्वतंत्रता पूर्व की प्रेस की अंतर्धारा मुख्यतः मिशनवादी, मूल्यवादी और जन उद्देश्यवादी हुआ करती थी। 15 अगस्त. उद्देश्यवाद. धर्म का दर्शन. Meaning of उद्देश्यवाद in English उद्देश्यवाद का अर्थ ​उद्देश्यवाद ka Angrezi Matlab Pronunciation of उद्देश्यवाद ​उद्देश्यवाद play. Meaning of उद्देश्यवाद in English. Teleology Teleology. आज का मुहूर्त. muhurat. शुभ समय में शुरु किया गया कार्य अवश्य ही.

Teaching methods Quiz 01 शिक्षा मनोविज्ञान शिक्षण.

उसके अलावा वह हम्बोल्ट के समान अज्ञेयवादी नहीं बल्कि उद्देश्यवादी Teleology एवं ईश्वर में प्रबल विश्वास करने वाला था। उसने एकता में अनेकता के विचार को विकसित किया। रिटर की पद्धति को निगमनात्मक Deductive कहा जा सकता है. Meaning of उद्देश्यवाद in English उद्देश्यवाद का अर्थ. भौतिक जगत् में उच्चतर, आध्यात्मिक दृष्टि के रूप में अभिव्यक्त न हो जाये क्रमविकास का उद्देश्य माना जा सकता है । यह उद्देश्यवाद ऐसा कोई नया तत्त्व नहीं लाता जो समग्रता में न हों । वह केवल अंश में समग्रता की उपलब्धि का प्रस्ताव रखता है ।. शिक्षा मनोविज्ञान ऑनलाइन टेस्ट इन हिंदी. रूप में अर्जित किया इस तरह से ऑयन रैंड के उद्देश्यवाद पर अद्वितीय दर्शन की सफलता थी किताब एक पारिस्थितिकी ​सामाजिक राजनीतिक दर्शन का एक भव्य चित्रण है जिसे एक उपकरण के रूप में वास्तुकला की दुनिया का उपयोग किया जाता है।. जिमी वेल्स जीवनी Biography of Jimmy Wales in Hindi Jivani. गोरखपुर। गोरखपुर यूनिवर्सिटी के दर्शनशास्त्र विभाग में शुक्रवार को तीन दिवसीय संगोष्ठी का शुभारंभ हुआ। भारतीय दार्शनिक अनुसंधान परिषद के अध्यक्ष प्रो. एसआर भट्ट ने कहा कि यांत्रिकवाद और उद्देश्यवाद को पश्चिमी जगत में. Microsoft Word Unit 2.docx. प्रयोजनवाद, उद्देश्यवाद यंत्रवाद के विपरीत, उद्देश्यों, लक्ष्यों तथा अंतिम कारणों का अस्तित्व मानने वाला सिद्धांत। यंत्रवाद भविष्य तथा वर्तमान को भूत के परिप्रेक्ष्य में देखता है, परंतु प्रयोजनवाद भूत तथा वर्तमान को भविष्य के.

041 Subject Geography Previous Year Questions in Hindi for NET.

भूलवश हो गया है, जबकि निम्न न्यायालय का उद्देश्य वाद को स्थगित किया जाना था. ना कि समाप्त करना। भूमि सुधार उप समाहर्ता द्वारा दिनांक 28.04.2005 को पारित. आदेश विधि सम्मत है। पूर्व निर्धारित तिथि 18.07.2013 को उभय पक्षों को सुना गया।. मनु स्मृति इन 15 लोगों के साथ कभी वाद विवाद नहीं. उद्देश्यवाद Телеология. रामचंद्र शुक्ल आचार्य रामचंद्र शुक्ल ग्रंथावली. टेलियोलॉजी उद्देश्यवाद की अवधारणा किसने प्रतिपादित की है? a अलेक्जेंडर वॉन हम्बोल्ट ने b कार्ल रिटर ने c ऑस्कर पेशल ने d विडाल डि ला ब्लॉश ने. Ans: b. Q8. निम्नलिखित में से किस भूगोवेत्ता ने सामान्य बनाम विशेष भूगोल. यूनिट II रिसर्च एप्टीट्यूड क्रैश कोर्स क्विक. उद्देश्यवादी हिन्दी शब्दकोश में अनुवाद पंजाबी Glosbe, ऑनलाइन शब्दकोश, मुफ्त में. Milions सभी भाषाओं में शब्दों और वाक्यांशों को ब्राउज़ करें.

रेडिएंट इंटरनेशनल में बहस का आयोजन रेडिएंट.

पूर्व की प्रेस की अंतर्धारा मुख्यतः मिशनवादी, मूल्यवादी और अर्थवादी गठबंधन की अनुपस्थिति। और जन उद्देश्यवादी हुआ करती थी। 15 अगस्त 1947 के 9. राज्य का कल्याणकारी चरित्और प्रेस की रचनात्मक व. पश्चात भारतीय प्रेस के कार्य. उद्देश्यवाद. Solution: QUESTION: 17. कथन A रू मानव भूगोल मानवीय समाजों और भूसतह के बीच सम्बन्ध का संश्लेषी अध्ययन है। कारण R रू इसमें भूगोल के वे सभी भाग सम्मलित हैं जो भौतिक पर्यावरण अथवा मानचित्राकला, किसी से भी एकमात्रा सम्बन्धित. प्रयोजनवाद उद्देश्यवाद एवं कर्त्तव्यवाद बंधनकारक में क्या अंतर होता है? 6 लामा । What are the differences between Teleological and Deontological ethics? ायो मनबाट दग्नबाद कार Gध का 3. लम जारिए सिम की साधना मनव्यकर्म. पुरित मून साष्टय चिमन,.