• संकेतविज्ञान

    भाषाविज्ञान में, संकेत प्रक्रियाओं, या अभिव्यंजना और संप्रेषण, लक्षण और प्रतीक का अध्ययन संकेतविज्ञान कहलाता है। इसे आम तौपर निम्नलिखित तीन शाखाओं में विभाजि...

  • वाक्यविन्यास

    किसी भाषा में जिन सिद्धान्तों एवं प्रक्रियाओं के द्वारा वाक्य बनते हैं, उनके अध्ययन को भाषा विज्ञान में वाक्यविन्यास, वाक्यविज्ञान या सिन्टैक्स कहते हैं। वाक...

  • भाषाई सापेक्षता

    भाषाई सापेक्षता या भाषागत सापेक्षतावाद की परिकल्पना के अनुसार किसी भाषा की संरचना, उस भाषा के बोलने वालों की विश्वदृष्टि या को प्रभावित करती है। दूसरे शब्दों...

  • प्रतिज्ञप्ति

    दर्शनशास्त्र व तर्कशास्त्र में प्रतिज्ञप्ति या प्रकथन ऐसा वाक्य या कथन होता है जो या तो सत्य हो या फिर असत्य हो। यह आवश्यक नहीं है कि हमें यह ज्ञात हो कि प्र...

  • परिभाषा

    परिभाषा किसी भी विषय या वस्तु या चीज का संक्षिप्त और तार्किक वर्णन है, जो वस्तुओं के मूलभूत विशिष्ट गुण या संकल्पनाओं के अर्थ, अंतर्वस्तु और सीमाएं बताता है।...

भाषा दर्शन

निर्वचन (तर्क)

तर्कशास्त्र, गणित व कम्प्यूटर विज्ञान में निर्वचन किसी औपचारिक भाषा के चिन्हों के साथ अर्थ जोड़ने की प्रक्रिया को कहते हैं। अधिकांश औपचारिक भाषाएँ केवल वाक्य...

परिभाषा

परिभाषा किसी भी विषय या वस्तु या चीज का संक्षिप्त और तार्किक वर्णन है, जो वस्तुओं के मूलभूत विशिष्ट गुण या संकल्पनाओं के अर्थ, अंतर्वस्तु और सीमाएं बताता है।...

प्रतिज्ञप्ति

दर्शनशास्त्र व तर्कशास्त्र में प्रतिज्ञप्ति या प्रकथन ऐसा वाक्य या कथन होता है जो या तो सत्य हो या फिर असत्य हो। यह आवश्यक नहीं है कि हमें यह ज्ञात हो कि प्र...

भाषाई सापेक्षता

भाषाई सापेक्षता या भाषागत सापेक्षतावाद की परिकल्पना के अनुसार किसी भाषा की संरचना, उस भाषा के बोलने वालों की विश्वदृष्टि या को प्रभावित करती है। दूसरे शब्दों...

वाक्यविन्यास

किसी भाषा में जिन सिद्धान्तों एवं प्रक्रियाओं के द्वारा वाक्य बनते हैं, उनके अध्ययन को भाषा विज्ञान में वाक्यविन्यास, वाक्यविज्ञान या सिन्टैक्स कहते हैं। वाक...

संकेतविज्ञान

भाषाविज्ञान में, संकेत प्रक्रियाओं, या अभिव्यंजना और संप्रेषण, लक्षण और प्रतीक का अध्ययन संकेतविज्ञान कहलाता है। इसे आम तौपर निम्नलिखित तीन शाखाओं में विभाजि...

स्फोट

स्फोट भारतीय व्याकरण की परम्परा एवं पाणिनि दर्शन का महत्वपूर्ण विषय है। कुछ लोग इसी स्फोट को संसार का कारण मानते हैं। जो स्फोट या नित्य शब्द को ही संसार का म...