धर्मांतरण

धर्मांतरण किसी ऐसे नये धर्म को अपनाने का कार्य है, जो धर्मांतरित हो रहे व्यक्ति के पिछले धर्म से भिन्न हो. एक ही धर्म के किसी एक संप्रदाय से दूसरे में होने वाले परिवर्तन को सामान्यतः धर्मांतरण के बजाय पुनर्संबद्धता कहा जाता है।
अनेक कारणों से लोग विभिन्न धर्मों में धर्मांतरित होते हैं, जिनमें विश्वास में हुए परिवर्तन के कारण स्वेच्छा से होने वाला सक्रिय धर्मांतरण, द्वितीयक धर्मांतरण, मृत्यु-शैय्या पर होने वाला धर्मांतरण, किसी लाभ के लिये किया जाने वाला तथा वैवाहिक धर्मांतरण एवं बलपूर्वक किया जाने वाला धर्मांतरण शामिल हैं।
ईसाइयों का मानना है कि धर्मांतरण के लिये नई विश्वास प्रणाली को आत्मसात करना आवश्यक होता है। इसमें धर्मांतरित व्यक्ति की स्वयं की पहचान के लिये एक संदर्भ बिंदु निहित होता है और यह उस धर्म तथा संबद्धता दोनों के विश्वास तथा सामाजिक संरचना का मामला है।
विशिष्ट रूप से इसमें एक नई विश्वास प्रणाली को ईमानदारी से स्वीकार करने की आवश्यकता होती है, लेकिन यह स्वयं को अन्य तरीकों, जैसे किसी पहचान समूह या आध्यात्मिक वंश में शामिल होकर, भी प्रस्तुत कर सकता है।
अपने लाभ के लिये किया जाने वाला धर्मांतरण या पुनर्संबद्धता एक पाखण्ड है, जो कभी-कभी अपेक्षाकृत मामूली कारणों से किया जाता है, जैसे किसी अभिभावक द्वारा अपने बच्चे का धर्मांतरण करवाना ताकि वह किसी विशिष्ट धर्म से जुड़े किसी अच्छे विद्यालय में प्रवेश पा सके, अथवा किसी व्यक्ति द्वारा इसलिये धर्मांतरण किया जाना, ताकि वह उस सामाजिक वर्ग में शामिल हो सके, जिसमें शामिल होने की वह इच्छा रखता है। जब लोग विवाह करते हैं, तब भी पति या पत्नी में से कोई अपने जीवन-साथी के धर्म में धर्मांतरित हो सकता है।
बलपूर्वक होने वाले धर्मांतरण में किसी जबरदस्ती के तहत दूसरे धर्म को अपनाया जाता है। संभव है कि इस स्थिति में धर्मांतरित व्यक्ति गुप्त रूप से अपने पूर्व धार्मिक विश्वास को बनाये रखे और, गुप्त रूप से, अपने मूल धर्म की पद्धतियों का पालन जारी रखते हुए बाहरी तौपर नये धर्म का पालन दिखावे के लिये करता रहे. हो सकता है कि बलपूर्वक धर्मांतरित किया गया परिवार कुछ पीढ़ियां बीत जाने पर सच्चे दिल से नये धर्म को अपना ले.
अनुनय के द्वारा किसी दूसरे धर्म य विश्वास प्रणाली वाले व्यक्ति को धर्मांतरित करने का प्रयास धर्म-परिवर्तन कहलाता है। नवदीक्षित देखें
धर्मच्युत एक निन्दात्मक शब्द है, जिसका प्रयोग किसी धर्म या धार्मिक शाखा के सदस्यों द्वारा उस धर्म या शाखा का त्याग कर देने वाले व्यक्ति का उल्लेख करने के लिये किया जाता है।

1.1. अब्राहमिक धर्म इतिहास
हेलेनिस्टिक व रोमन काल में, कुछ फैरिसी लोग उत्सुक नवदीक्षित थे और पूरे साम्राज्य में उन्हें कुछ हद तक सफलता मिली.
कुछ यहूदी लोग भूमध्यसागरीय विश्व के बाहर यहूदी धर्म में धर्मांतरित हुए लोगों के भी वंशज हैं। यह ज्ञात है कि पहले कुछ कज़ार, एडोमाइट, ईथियोपियाई और साथ ही अनेक अरब, विशिष्ट रूप से येमन में, अतीत में यहूदी धर्म में धर्मांतरित हुए थे; आज पूरी दुनिया में लोग यहूदी धर्म में धर्मांतरित होते हैं। मूल रूप से "नवदीक्षित proselyte" शब्द यहूदी धर्म में धर्मांतरित होने वाले ग्रीक व्यक्ति का उल्लेख करने के लिये प्रयोग किया जाता था। छठीं सदी तक भी पूर्वी रोमन साम्राज्य अर्थात बाइज़ेन्टाइन साम्राज्य यहूदी धर्म में धर्मांतरण के विरूद्ध आदेश जारी करता रहा था, जिससे स्पष्ट है कि यह कार्य उस समय भी हो रहा था।
हालिया समय में, रिफॉर्म ज्यूडाइज़्म Reform Judaism आंदोलन के सदस्यों ने अंतर्धार्मिक विवाह करने वाले अपने सदस्यों के गैर-यहूदी जीवन-साथियों तथा यहूदी धर्म में रूचि रखने वाले गैर-यहूदियों को यहूदी धर्म में धर्मांतरित करने के लिये एक कार्यक्रम की शुरुआत की. उनका तर्क यह है कि यहूदियों के नरसंहार के दौरान इतने अधिक यहूदी मारे गये कि अब नये नवागतों को ढूंढना व उनका स्वागत करना अनिवार्य हो गया है। आर्थोडॉक्स व कंज़र्वेटिव यहूदियों द्वारा इस पद्धति को अवास्तविक तथा खतरनाक कहकर अस्वीकाकर दिया गया है। उनका कहना है कि इन प्रयासों के द्वारा यहूदी धर्म अपनाने और पालन करने में सरल दिखाई देता है, जबकि वास्तविकता यह है कि यहूदी धर्म में अनेक कठिनाइयां और त्याग आवश्यक होते हैं।

1.2. अब्राहमिक धर्म ईसाईयत
ईसाईयत में होने वाला धर्मांतरण किसी पूर्व गैर-ईसाई व्यक्ति का ईसाईयत के किसी रूप में होने वाला धार्मिक परिवर्तन है। इसकी सटीक आवश्यकताएं विभिन्न चर्चों व संप्रदायों के अनुसार भिन्न-भिन्न होती हैं। मुख्यतः इसमें पाप की स्वीकारोक्ति और प्रायश्चित्त तथा ईसा मसीह की प्रायश्चित्त के लिये हुई मृत्यु और पुनरूत्थान में विश्वास के द्वारा एक ऐसा जीवन जीने का निर्णय शामिल होता है, जो ईश्वर को स्वीकार्य हो तथा पवित्र हो. यह सब संबंधित व्यक्ति की इच्छा से किया जाता है और एक सच्चे धर्मांतरण के लिये विशिष्ट आवश्यकता है। इस प्रकार, स्वाभाविक रूप से किसी का सच्चा धर्मांतरण बलपूर्वक नहीं किया जा सकता. जहां तक ईसाई विश्वास का प्रश्न है, बलपूर्वक किया जाने वाला धर्मांतरण एक विरोधाभास है क्योंकि सच्चा धर्मांतरण कभी भी किसी मनुष्य पर लादा नहीं जा सकता. धर्मांतरितों से लगभग सदैव ही बपतिस्मा की उम्मीद की जाती है।

1.3. अब्राहमिक धर्म बपतिस्मा
कैथलिक, आर्थोडॉक्स व अनेक प्रोटेस्टेंट संप्रदाय बच्चों में अपनी अवस्था की समझ विकसित होने से पूर्व ही नवजात बपतिस्मा किये जाने को प्रोत्साहित करते हैं। रोमन कैथलिकवाद तथा प्रोटेस्टेंटवाद के कुछ उच्च चर्च वाले रूपों में, बपतिस्मा किये जाने वाले बच्चों से यह अपेक्षित होता है कि वे पूर्व-किशोरावस्था में पुष्टिकरण की कक्षाओं में शामिल हों. पूर्वी आर्थोडॉक्सी पद्धति, बपतिस्मा के तुरंत बाद, सभी धर्मांतरितों पर पुष्टि के समतुल्य, विलेपन chrismation किया जाता है, जो कि वयस्कों व नवजात शिशुओं दोनों पर समान रूप से लागू होता है।
बपतिस्मा की विधियों में निमज्जन, छिड़काव फुहार तथा बौछार अभिसिंचन शामिल हैं। ऐसे वयस्कों या युवा लोगों, जो समझदारी की आयु तक पहुंच चुके हों और अपने व्यक्ति धार्मिक निर्णय ले पाने में सक्षम हों, के द्वारा प्राप्त किया जाने वाले बपतिस्मा का उल्लेख कंज़र्वेटिव इवैन्जेलिकल प्रोटेस्टेंट समूहों में विश्वासकर्ता के बपतिस्मा के रूप में किया जाता है।
यह व्यक्ति के ईसाई बनने के पूर्व निर्णय की एक सार्वजनिक घोषणा के रूप में होना अभीष्ट है। कुछ ईसाई समूह, जैसे कैथलिक, चर्चेस ऑफ क्राइस्ट तथा क्रिस्टाडेल्फियाई, मानते हैं कि बपतिस्मा मोक्ष प्राप्ति के लिये आवश्यक है।

1.4. अब्राहमिक धर्म ईसा को स्वीकार करना और पाप का परित्याग करना
धर्मांतरण से केवल धार्मिक पहचान में होने वाला एक सरल परिवर्तन ही नहीं, बल्कि मूल्यों में परिवर्तन के द्वारा स्वभाव में परिवर्तन पुनर्जीवन होना अपेक्षित है। ग्रीक शब्द मेटानोइया metanoia का अनुवाद करने पर बने लैटिन शब्द कॉन्वर्सियो conversio, का शाब्दिक अर्थ "दूसरे मार्ग पर जाना" या "अपना मन बदलना" होता है। ईसाईयत के अनुसार, एक धर्मांतरित व्यक्ति वह है, जो अपने पाप को व्यर्थ मानकर उसका त्याग कर देता है और इसके बजाय ईसा मसीह के परम महत्व को संभालकर रखता है; धर्मांतरित व्यक्ति ईसा मसीह की त्यागमयी मृत्यु व पुनरूत्थान में ईसा के महत्व को देखता है और पाप का परित्याग करता है।
ईसाई धर्मांतरित से यह विश्वास करने की उम्मीद की जाती है कि ईश्वर से उसके पृथक्करण को व्यक्तिगत नैतिक आत्म-संतुष्टि प्राप्त करने की इच्छा से किये जाने वाले अच्छे कार्यों के द्वारा नहीं जीता जा सकता; इसके बजाय, उसे ईसा के रक्त में अपने पापों के लिये क्षमा प्राप्त करने का प्रयास करना चाहिये और अपनी इच्छाओं को ईसा की धार्मिकता से आच्छादित करना चाहिये. चूंकि धर्मांतरण मूल्यों में एक ऐसा परिवर्तन है, जो ईश्वर को अपनाता है और पाप को अस्वीकार करता है, अतः इसमें पवित्रता के एक ऐसे जीवन, जो कि टार्सस के पॉल द्वारा वर्णित है और जिसका उदाहरण ईसा मसीह ने प्रस्तुत किया है, के प्रति व्यक्तिगत प्रतिबद्धता शामिल होती है। कुछ प्रोटेस्टेंट परंपराओं में, इसे "ईसा को व्यक्ति के उद्धारकर्ता के रूप में स्वीकार करना तथा उसे अपना रक्षक मानकर उसका अनुसरण करना” कहा जाता है। एक अन्य संसकरण में, 1910 कैथलिक शब्दकोश" धर्मांतरण” को" पाप की अवस्था से पश्चाताप की अवस्था की ओर, धर्मभ्रष्टता से जीवन के एक अधिक सच्चे व गंभीर तरीके की ओर, अविश्वास से विश्वास की ओर, पाखंड से सच्चे धर्म की ओर मोड़ने या परिवर्तित करने वाले कार्य” के रूप में परिभाषित किया गया। धर्मांतरण की पूर्वी आर्थोडॉक्स समझ बपतिस्मा की रस्म में दिखाई देती है, जिसमें धर्मांतरित व्यक्ति सार्वजनिक रूप से अपने पापों का प्रायश्चित्त करते समय पश्चिम दिशा की ओर मुंह करके खड़ा होता है तथा प्रतीकात्मक रूप से शैतान पर थूकता है और इसके बाद" राजा व ईश्वर के रूप में” ईसा की आराधना करने के लिये पूर्व की ओर मुड़ता है।

1.5. अब्राहमिक धर्म उत्तरदायित्व
अधिकांश ईसाइयों का विश्वास है कि धर्मपरिवर्तन proselytism, जिसे ईसा मसीह के वचनों व कर्मों में धर्मोपदेश को साझा करने के रूप में समझा जाता है, प्रत्येक ईसाई का उत्तरदायित्व है। नये करार New Testament के अनुसार, ईसा ने अपने शिष्यों को" सभी राष्ट्रों में जाने व शिष्य बनाने” का आदेश दिया था

1.6. अब्राहमिक धर्म प्रोटेस्टेंट विश्वासों के बीच तुलना
यह सारिणी तीन भिन्न प्रोटेस्टेंट विश्वासों के पारंपरिक दृष्टिकोण का सारांश प्रस्तुत करती है।

1.7. अब्राहमिक धर्म इस्लाम
एक नव-धर्मांतरित मुस्लिम को मुल्लाफ़ कहा जाता है। इस्लाम के पांच स्तंभ, या आधार हैं, लेकिन इनमें से प्रमुख और सर्वाधिक महत्वपूर्ण यह विश्वास करना है कि ईश्वर व सृष्टिकर्ता केवल एक ही है, जिसे अल्लाह ईश्वर के लिये अरबी शब्द कहते हैं और यह कि इस्लामी पैगंबर, मुहम्मद, उनके अंतिम और आखिरी संदेश-वाहक हैं। किसी व्यक्ति को उसी क्षण से इस्लाम में धर्मांतरित मान लिया जाता है, जब वह निष्ठापूर्वक विश्वास की घोषणा करता है, जिसे शाहदा कहते हैं।
इस्लाम की शिक्षा के अनुसार प्रत्येक व्यक्ति जन्म से मुस्लिम ही होता है क्योंकि जन्म लेने वाले प्रत्येक शिशु का स्वाभाविक झुकाव अच्छाई की ओर व केवल एक सच्चे ईश्वर की आराधना की ओर होता है, लेकिन उसके अभिभावक व समाज उसे इस सीधे मार्ग से भटका सकते हैं। जब कोई व्यक्ति इस्लाम को स्वीकार करता है, तो ऐसा माना जाता है कि वह अपनी मूल स्थिति में लौट आया है। हालांकि इस्लाम की ओर धर्मांतरण इसके सर्वाधिक समर्थित तत्वों में से एक है, लेकिन इस्लाम से किसी अन्य धर्म में धर्मांतरण को स्वधर्म-त्याग का पाप माना जाता है और कुछ व्याख्याओं के अनुसाऔर कुछ न्यायिक क्षेत्राधिकारों के अंतर्गत इसके लिये मृत्यु-दंड का प्रावधान है।
इस्लाम में, खतना एक सुन्नाह रिवाज है, जिसका कुरान में ज़िक्र नहीं किया गया है। मुख्य विचार यह है कि इसका पालन करना अनिवार्य नहीं है और यह इस्लाम में प्रवेश करने की शर्त नहीं है। शफी` Shafi`i तथा हनबली Hanbali संप्रदायों में इसे अनिवार्य माना जाता है, जबकि मालिकी Maliki और हनाफी Hanafi संप्रदायों का मानना है कि यह केवल अनुशंसित है। हालांकि, यह किसी व्यक्ति द्वारा इस्लामिक पद्धतियों को अपनाये जाने के लिये पूर्व-शर्त नहीं है और न ही किसी व्यक्ति द्वारा खतना करने से इंकार किया जाना कोई पाप है। यह इस्लाम के पांच स्तंभों या विश्वास के छः आधारों में से एक नहीं है।

1.8. अब्राहमिक धर्म बहाई धर्म
हालांकि बहाई धर्म सक्रियता से धर्मांतरितों की खोज करता है, लेकिन इसमें धर्म-परिवर्तन निषिद्ध है और कोई" मिशनर” कार्य नहीं चलाया जाता. हालांकि, व्यावहारिक रूप से, धर्म-परिवर्तन और मिशनरी कार्य किये जाते हैं, लेकिन इन्हें क्रमशः" शिक्षा देना” और" मार्गदर्शन करना” कहा जाता है। अपने धर्म को दूसरों के साथ साझा करते समय बहाई लोग" एक श्रवण प्राप्त करने” के प्रति सतर्क होते हैं–जिसका अर्थ यह सुनिश्चित करना होता है कि वे जिस व्यक्ति को शिक्षा देने का प्रस्ताव दे रहे हैं, वह उनकी बात सुनने को तैयार है। उनके द्वारा अपनाये गये समुदायों में, लोगों के सांस्कृतिक आधार का स्थान लेने का प्रयास करने के बजाय "बहाई मार्गदर्शकों" को समाज में शामिल होने और अपने पड़ोसियों के साथ रहने और कार्य करने के दौरान बहाई सिद्धांतों को लागू करने के लिये प्रोत्साहित किया जाता है।
बहाई लोग सभी धर्मों की दिव्य उत्पत्ति को मान्यता प्रदान करते हैं और यह मानते हैं कि ये धर्म क्रमिक रूप से एक दिव्य योजना के एक भाग के रूप में उत्पन्न हुए प्रगतिशील प्रकटीकरण, तथा प्रत्येक नया प्रकटीकरण अपने पूर्ववर्तियों का स्थान लेता है और उन्हें पूर्ण करता है। बहाई लोग अपने स्वयं के धर्म को नवीनतम परंतु अंतिम नहीं मानते हैं और उनका विश्वास है कि इसकी शिक्षाएं – जो कि मानवता की एकात्मता के सिद्धांत के आस-पास केंद्रित है – वैश्विक समुदाय की आवश्यकताओं की पूर्ति के लिये सर्वाधिक उपयुक्त हैं।
अधिकांश देशों में, धर्मांतरंण के लिये केवल विश्वास की घोषणा करने वाले एक कार्ड को भरना होता है। इसमें बहाउल्लाह – इस धर्म के संस्थापक – को वर्तमान समय के लिये ईश्वर के दूत मानने, उनकी शिक्षाओं के प्रति जागरूक होने व उन्हें स्वीकार करने, तथा उनके द्वारा स्थापित संस्थाओं व नियमों के प्रति आज्ञाकारी बनने की घोषणा शामिल होती है।
बहाई धर्म में धर्मांतरण के साथ ही सभी ज्ञात धर्मों की आम बुनियाद में स्पष्ट विश्वास, मानवता की एकता और वृहत् स्तर पर समुदाय की सक्रिय सेवा, विशेषतः उन क्षेत्रों में, जिनसे एकता व मैत्री को बढ़ावा मिले, के प्रति एक प्रतिबद्धता शामिल होती है। चूंकि बहाई धर्म में कोई पुरोहित नहीं होते, अतः इस धर्म में आने वाले धर्मांतरितों को सामुदायिक जीवन के सभी पहलुओं में सक्रिय होने के लिये प्रोत्साहित किया जाता है। यहां तक कि हाल ही में धर्मांतरित हुए किसी व्यक्ति को भी स्थानीय आध्यात्मिक सब सभा Local Spiritual Assembly – सामुदयिक स्तर पर मार्गदर्शक बहाई संस्था – में कार्य करने के लिये चुना जा सकता है।

2.1. धार्मिक धर्म हिंदू धर्म
हिंदू धर्म धर्मांतरण का समर्थन नहीं करता और इसमें धर्मांतरण के लिये कोई रस्म मौजूद नहीं है। यह स्पष्ट रूप से परिभाषित नहीं है कि कोई व्यक्ति हिंदू कब बनता है क्योंकि हिंदू धर्म ने कभी भी दूसरे धर्मों को अपने प्रतिद्वंद्वियों के रूप में नहीं देखा. अनेक हिंदुओं की धारणा यह है कि ‘हिंदू होने के लिये व्यक्ति को हिंदू के रूप में जन्म लेना पड़ता है’ और ‘यदि कोई व्यक्ति हिंदू के रूप में जन्मा है, तो वह सदा के लिये हिंदू ही रहता है’; हालांकि, भारतीय कानून किसी भी ऐसे व्यक्ति को हिंदू के रूप में मान्यता प्रदान करता है, जो स्वयं को हिंदू घोषित करे. हिंदू धर्म के अनुसार, केवल एक ही परम सत्य है इस सत्य या ब्राह्मण का ज्ञान होना ही शोक का कारण है और आत्माएं तब तक पुनर्जन्म के शाश्वत चक्र में फंसी रहती है, जब तक उन्हें इस सत्य का ज्ञान हो जाए और सत्य तक" पहुंचने” के अनेक पथ - अन्य धर्मों द्वारा पालन किये जाने वाले पथों सहित - हैं। धर्म के लिये संस्कृत शब्द" मार्ग” का शाब्दिक अर्पथ होता है। धर्मांतरण की अवधारणा ही एक विरोधाभास है क्योंकि हिंदू ग्रंथ वेद तथा उपनिषद संपूर्ण विश्व को एक ही सत्य को देवता मानने वाला एक परिवार मानते हैं।
हिंदू धर्म में आस्था के पुनः प्रवर्तन का सबसे पहला उल्लेख शंकराचार्य के काल में आठवीं शताब्दी का है, जब जैन धर्म और बौद्ध धर्म प्रभावी बन गए थे। हिंदू धर्म में आक्रमण और सामूहिक धर्मांतरण का कोई प्रमाण मौजूद नहीं है। अनेक पीढ़ियों के संस्कृतीकरण के बाद गुज्जरों, अहोमों और हूणों सहित कई विदेशी समूह हिंदू धर्म में धर्मांतरित हुए. पूरी अठारहवीं शताब्दी के दौरान हुए संस्कृतीकरण के परिणामस्वरूप मणिपुर के आदिवासी समुदाय स्वयं को हिंदू मानने लगे.
हाल ही में, हिंदू धर्म से धर्मांतरित हो चुके लोगों का पुनः धर्मांतरण करने की अवधारणा प्रचलित हुई है। यह पुनः धर्मांतरण सदैव ही अन्य प्रमुख धर्मों के प्रचारीकरण evangelization, धर्म-परिवर्तन तथा धर्मांतरण गतिविधियों के खतरे की प्रतिक्रिया के रूप में ही होता रहा है; अनेक आधुनिक हिंदू उनके धर्म से किसी भी अन्य धर्म में धर्मांतरण के विचार के खिलाफ़ हैं। हिंदू पुनर्जागरण आंदोलनों के विकास के परिणामस्वरूप ऐसे लोगों के पुनः धर्मांतरण के कार्य में गति आई है, जो पहले हिंदू थे या जिनके पूर्वज हिंदू रहे थे। आर्य समाज भारत तथा परिषद हिंदू धर्म इंडोनेशिया जैसे राष्ट्रीय संगठन ऐसे पुनः धर्मांतरणों के द्वारा हिंदू बनने की इच्छा रखने वालों की सहायता करते हैं।
अमेरिका में जन्मे हिंदू गुरू, सतगुरू शिवाय सुब्रमुनियस्वामी ने हाऊ टू बिकम अ हिंदू – अ गाइड फॉर सीकर्स एन्ड बॉर्न हिन्दूज़ How to Become a Hindu - A Guide for Seekers and Born Hindus शीर्षक से एक पुस्तक लिखी. इस पुस्तक में, सुब्रमुनियस्वामी ने उस कार्य, जो उनके अनुसार" हिंदू धर्म में एक नैतिक धर्मांतरण” है, के लिये एक व्यवस्थित पद्धति, हिंदू धर्म में धर्मांतरित होने वाले लोगों के कथन, एक हिंदू वास्तव में क्या होता है, इस बारे में हिंदू प्राधिकारियों द्वारा दी गईं परिभाषाएं आदि प्रस्तुत की हैं।

2.2. धार्मिक धर्म जैन धर्म
जैन धर्म किसी भी ऐसे व्यक्ति को स्वीकार करता है, जो उनके धर्म को अपनाना चाहता हो. जैन धर्म में धर्मांतरित होने की इच्छा रखने वाले किसी भी व्यक्ति के लिये शाकाहारी होना तथा अर्हतों व सिद्धों को अपने तीर्थंकरों के रूप में स्वीकार करना अनिवार्य होता है।

2.3. धार्मिक धर्म बौद्ध धर्म
पारंपरिक रूप से नव बौद्ध किसी भिक्षु, भिक्षुणी या ऐसे ही किसी प्रतिनिधि की" शरण लेते हैं”. बौद्ध मतानुयायी अक्सर एकाधिक धार्मिक पहचान रखते हैं और अपने धर्म को जापान में शिंतो के साथ या चीन में; पारंपरिक चीनी धर्म के साथ ताओवाद और कन्फ्यूशियसवाद के साथ संयोजित करते हैं।
बौद्ध-धर्म की समय-रेखा के दौरान, जब बौद्ध धर्म संपूर्ण एशिया में फैला, तो पूरे देशों और क्षेत्रों के धर्मांतरण की घटनाएं अक्सर होती थीं। उदाहरणार्थ, बर्मा में ग्यारहवीं शताब्दी में, राजा अनोरथ ने अपने पूरे देश को थेरवाद बौद्ध धर्म में धर्मांतरित कर दिया. बारहवीं शताब्दी के अंत में, जयवर्मन सप्तम ने खमेर लोगों के थेरवाद बौद्ध धर्म में धर्मांतरण की भूमिका तैयार की. सत्रहवीं सदी में, जापान में एडो काल के दौरान, ईसाईयत जो पुर्तगालियों द्वारा जापान लागई थी को गैरकानूनी घोषित कर दिया गया और समस्त प्रजाजनों को बौद्ध या शिंतो मंदिरों में पंजीयन करवाने का आदेश दिया गया। २०वी सदी के मध्य में भीमराव आंबेडकर ने १० लाख हिंदू दलितों को बौद्ध धर्म की दीक्षा दी, यह विशाल धर्मांतरण विश्व इतिहास का सबसे बड़ा धर्मांतरण है।
बौद्ध धर्म के कुछ आंदोलनों में धर्मांतरण को प्रोत्साहन देने के अपवाद भी हो सकते हैं। उदाहरणार्थ, तिब्बती बौद्ध धर्म में, वर्तमान दलाई लामा धर्मांतरितों को जीतने के सक्रिय प्रयासों को हतोत्साहित करते हैं।

3. अन्य धर्म व संप्रदाय
नये धार्मि्क आंदोलनों एनआरएम/NRMs में धर्मांतरण के साथ विवाद जुड़े हुए हैं। संप्रदाय-विरोधी आंदोलन द्वारा वैचारिक सुधार या यहां तक कि मतारोपण brainwashing शब्द का प्रयोग भी किया जाता है। अक्सर वे कुछ विशिष्ट एनआरएम NRMs को संप्रदाय करार देंगे. संप्रदाय शब्द की अनेक भिन्न परिभाषाएं हैं। एनआरएम NRMs अत्यधिक विविधतापूर्ण होते हैं और यह स्पष्ट नहीं है कि क्या एनआरएम NRMs में होने वाला धर्मांतरण मुख्यधारा में होने वाले धर्मांतरण से भिन्न है। हालांकि, यह स्पष्ट है कि किसी भी एनआरएम NRMs के पहले दशक या उसके आस-पास की अवधि में, इसके सदस्यों का ज़बर्दस्त बहुमत अनिवार्य रूप से धर्मांतरित होना चाहिये क्योंकि यदि उस एनआरएम NRM के सदस्यों की पर्याप्त संख्या न रही होती, जो उसी में पले-बढ़े हैं, तो इतने लंबे समय तक उसका अस्तित्व भी न रहा होता). यह भी स्पष्ट है कि अपने जन्म के समय मुख्यधारा का प्रत्येक धर्म भी अवश्य ही इस चरण से गुज़रा होगा. नए धार्मिक आंदोलनों में मतारोपण विवाद भी देखें.
संयुक्त राज्य अमेरिका और नीदरलैण्ड्स दोनों में हुए अनुसंधानों ने यह प्रदर्शित किया है कि कुछ विशिष्ट भागों और राज्यों में मुख्यधारा के चर्चों में सहभागिता में कमी तथा किसी नए धार्मिक आंदोलन के सदस्य बननेवाले लोगों के प्रतिशत के बीच एक सकारात्मक अंतर्संबंध है। यही बात न्यू-एज New Age केंद्रों की मौजूदगी पर भी लागू होती है। डच अनुसंधान में जेहोवाह’स विटनेसेस Jehovahs Witnesses पहले धार्मिक रहे थे) और लैटर डे सेंट Latter Day Saint आंदोलन/मॉर्मोनवाद को भी एनआरएम NRMs में शामिल किया गया था जो कि इस अनुसंधान का अधिक सूचक था.
चर्च ऑफ साइंटोलॉजी Church of Scientology" तनाव मुक्ति परीक्षणों” का प्रदान करके धर्मांतरितों को आकर्षित करने का प्रयास करता है परीक्षण का चित्र देखें. अन्य धर्मों के विपरीत साइंटोलॉजी में धर्मांतरित व्यक्ति के लिये यह आवश्यक होता है कि चर्च में शामिल होने से पूर्व वह अनुबंधों पर हस्ताक्षर करे.
इस पैमाने के दूसरे छोपर वे धर्म हैं, जो किसी धर्मांतरित को स्वीकार नहीं करते, या ऐसा बहुत ही दुर्लभ तौर परकरते हैं। अक्सर ये अपेक्षाकृत छोटे, संकीर्ण-बनावट वाले अल्पसंख्यक धर्म होते हैं, जैसे याज़िदी, द्रुज़ और मैंडियन.
चीनी पारंपरिक धर्म में सदस्यता के लिये स्पष्ट मापदंडों का अभाव है और इसलिये धर्मांतरण के लिये भी कोई स्पष्ट मापदंड मौजूद नहीं हैं। ऐसा प्रतीत होता है कि अनेक गैर-ईसाई धर्म - याज़िदी, द्रुज़ और मैंडियन सहित - धर्मांतरण के लिये आवेदन करने वाले सभी आवेदनकर्ताओं को अस्वीकृत कर देते हैं। शेकर्स Shakers तथा हिजड़ों के कुछ भारतीय भातृ-समूह प्रजनन की अनुमति नहीं देते, अतः इनका प्रत्येक सदस्य धर्मांतरित होता है।

4. अंतर्राष्ट्रीय कानून
मानवाधिकारों पर संयुक्त राष्ट्र संघ के वैश्विक घोषणा-पत्र United Nations Universal Declaration of Human Rights" में धर्मांतरण को एक मानवाधिकार के रूप में परिभाषित किया गया है: "प्रत्येक व्यक्ति के पास विचार, विवेक और धर्म की स्वतंत्रता का अधिकार है; इस अधिकार में अपने धर्म या आस्था को बदलने की स्वतंत्रता शामिल है।." धारा18. इसके बावजूद, कुछ समूह धर्मांतरण को रोकते या प्रतिबंधित करते हैं नीचें देखें.
इस घोषणा-पत्र के आधापर यूनाइटेड नेशन्स कमीशन ऑन ह्युमन राइट्स United Nations Commission on Human Rights (यूएनसीएचआर

5. धर्मांतरण पर आंबेडकर के विचार
भीमराव आंबेडकर स्वतंत्र्य, समानता और भाईचारे की शिक्षा के बदले अपने ही अनुयायी को धृणा की नज़र से देखना आदि मुद्दो पर विरोध उठाकर समर्थकों के साथ धर्मांतरण कर बौद्ध धर्म अंगिकार किया था। धर्मांतरण धर्मांतरण नहीं बल्कि गुलामी की जंजिरे तोडने जैसा है एसा धर्मांतर क्यो? नामक पुस्तक में उन्होंने लिखा है। आंबेडकरने धर्म में सभी नागरिको समान अधिकार होना चाहिए इस बात का प्रतिपादन किया था।

6. धर्मांतरण पर गांधीजी के विचार
गांधीजी ने धर्मांतरण प्रक्रिया की आलोचना की है और सभी धर्मों को समान मानकर सभी का आदर करने का विचार रखा था। उनके कुछ उद्वरण निम्नलिखित हैं:-
मैं विश्वास नहीं करता कि एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति का धर्मांतरण करे। दूसरे के धर्म को कम करके ऑंकना मेरा प्रयास कभी नहीं होना चाहिए। इसका अर्थ है सभी धर्मों के सच में विश्वास करना और उनका सम्मान करना। इसका अर्थ है, सच्ची विनयशीलता. मेरा मानना है कि मानवतावादी कार्य की आड़ में धर्म-परिवर्तन रुग्ण मानसिकता का परिचायक है। यहीं लोगों द्वारा इसका सबसे अधिक विरोध होता है। आखिर धर्म नितांत व्यक्तिगत मामला है। यह हृदय को छूता है।.। मैं अपना धर्म इस वजह से क्यों बदलूँ कि ईसाई मत का प्रचार करनेवाले उस डॉक्टर का धर्म ईसाई है, जिसने मेरा इलाज किया है? या डॉक्टर मुझसे यह उम्मीद क्यों रखे कि मैं उससे प्रभावित होकर अपना धर्म बदल लूँगा? यंग इंडिया, 23 अप्रैल 1931 "यदि मेरे पास शक्ति है तथा मैं इसका प्रयोग कर सकता हूँ तो मुझे धर्म-परिवर्तन को रोकना चाहिए। हिंदू परिवारों में मिशनरी के आगमन का अर्थ वेशभूषा, तौर-तरीके, भाषा, खान-पान में परिवर्तन के कारण परिवार का विघटन है।" हरिजन, 5 नवम्बर 1935 "आज भारत में और अन्य कहीं भी धर्मांतरण की शैली के साथ सामंजस्य बिठाना मेरे लिए असंभव है। यह ऐसी गलती होगी, जिससे संभवत: शांति की ओर विश्व की प्रगति में बाधा आएगी। कोई ईसाई किसी हिंदू को ईसाई मत में धर्मांतरित क्यों करना चाहता है? यदि हिंदू भला आदमी है या धर्मपरायण है तो वह इससे संतुष्ट क्यों नहीं हो पाता?" हरिजन, 30 जनवरी 1937

7. आगे पढ़ें
कूपर, रिचर्ड एस. "मध्यकालीन मिस्र में खरज टैक्स के आकलन और संग्रह" अमेरिकी ओरिएंटल सोसाइटी के जर्नल, खंड 96, संख्या 3. जुलाई - सितंबर, 1976, पीपी 365-382.
होइबर्ग, डेल और इंदु रामचंद्रन. स्टूडेंट्स ब्रिटानिका इंडिया. लोकप्रिय प्रकाशन, 2000.
कर्टिन, फिलिप डी. ऑस्ट्रेलिया, विश्व इतिहास में क्रॉस कल्चरल व्यापार. कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस, 1984.
बैरेट, डी.वी. द न्यू बिलीवर्स - अ सर्वे ऑफ़ सेक्ट्स, कल्ट्स एंड ऑल्टर्नेटिव रेलिजन्स 2001 यूके, कैसेल एंड कं. ISBN 0-304-35592-5
रामस्टेड, मार्टिन. आधुनिक इंडोनेशिया में हिंदू धर्म: स्थानीय, राष्ट्रीय और वैश्विक हितों के बीच एक अल्पसंख्यक धर्म. रुट्लेज, 2004.
रावत, अजय एस. स्टुडेंटमैन एंड फॉरेस्ट्स: द खट्टा एंड गुज्जर सेटेलमेंट्स ऑफ़ सब-हिमालयन तराई. इंडस प्रकाशन, 1993.
बार्कर, इलीन The Making of a Moonie: Choice or Brainwashing? 1984
रैम्बो, लेविस आर. अंडरस्टैंडिंग रेलिजियस कन्वर्ज़न. येल यूनिवर्सिटी प्रेस, 1993.

  • आत क हमल करत रहत ह इस स गठन क म ख य उद द श य न ग ल ड म सभ क धर म तरण कर उन ह ईस ई बन न ह इसम म ख य र प स नग ल ग ज प र व त तर भ रत
  • ज त दल त स ह ज न ह न ह द धर म म ज त उत प ड न स बचन क ल ए धर म तरण क य ह श ष 13 11 ल ख ब द ध प र व त तर और उत तर ह म लय क ष त र
  • और न द क श क र रह ह तर ण व जय धर म तरण क म द द उठ त ह और कहत ह क यह भय और ल लच द ख कर धर म तरण कर य ज त ह द श क न त धर म, ज त
  • क र य क म ल उद द श य धर म तरण क म ध यम स र ष ट र तरण ह र ष ट र तरण स द श क एकत व अख डत खतर म पड ज त ह चर च धर म तरण क ल ए छल, झ ठ, प रल भन
  • ज न ह धर म तरण क ल ए मजब र क य गय थ इस क ष त र क ह न द ओ द व र ज ञ त ह आ ह क यह ग व म रहन व ल ग र म ण क भ धर म तरण क ल ए मजब र
  • क स वर ग क स म र ज य क स थ पन क ल ए लड ई लड ह ग ज क आ ग न धर म तरण करक ईस ई धर म अपन ल य थ और वह पर पर गत च न धर म क ख ल फ थ वह
  • म न यत ओ क अन स र प ज करन क ल ए स वत त र ह ल क न सरक र इस ल म स धर म तरण और म सलम न क अभ य ग क न ष ध करत ह ह ल क ध र म क सम ह क ब च
  • इस ल म स ह द धर म क धर म न तरण क स च उन व यक त य क स च बद ध क य गय ह ज न ह न क स क रण अपन ह न द धर म त य ग कर इस ल म धर म अ ग क र क य
  • य न त कत क उल ल घन नह करत र ज य धर म इस ल म ह सरक र इस ल म स धर म तरण और म स ल म पर म कदम चल न पर र क लग त ह ज न 2006 म सरक र न स व ल
  • कश म र पह च गए थ बजर ग दल कहत ह व भ रत द श स लव ज ह द, ग हत य व धर म तरण ज स गत व ध य क प र णत सम प त कर ह च न ल ग उनक एकम त र उद द श य
  • ल क न म कदम चल न और धर म तरण क अभ भ क न न र प स प रत ब ध त क य गय थ 1990 म बह दल य ल कत त र क श र आत क ब द, और धर म तरण पर प रत ब ध क छ ट
  • कह ज त ह क शह दत आज भ प र रण क स र त ह जब ब र ट श अत य च र और धर म तरण क त व रत बढ त 23 नव बर, 1899 क स लह ख स न जव न न अपन जनज त य
  • दल म क छ ईस ई ज स अल ज ण डर डफ भ थ ज म शनर थ और ह न द ओ क धर म न तरण क ल ए तरह तरह क उप य करत रहत थ ल लब ह र द इनक ह श ष य थ ज न ह न
  • क कण म स ल म ह स थ न य ईस इय म ईस ट इ ड यन क थ ल क स ह ज नक धर म तरण प र तग ल य न व शत ब द म क य थ शहर क जनस ख य क एक छ ट
  • गय थ ऐस म न ज त ह क प ट र क प गन आयर श ल ग क ईस ई धर म म धर म तरण क ल ए आयरल ड व पस गए ड क ल र शन क अन स र प ट र क न उत तर आयरल ड
  • भर म द ए गए व व द पर व व द फतव प रस त त करत ह अल - अजहर भ धर म तरण द व म म स र सरक र द व र न य क त प रच रक क प रश क ष त करत ह
  • भ रत भ रत य उपमह द व प तक व य प त रह ह व भ न न क रण स ह ए भ र धर म न तरण क ब द भ व श व क इस क ष त र क बह स ख यक आब द इस धर म म आस थ रखत
  • क न त प र च न ध र म क और स स क त क म न यत ओ क स रक षण क य ज एग धर म न तरण पर र क नह ह ज स द श म ल कत त र ह त ह ए भ र जत त र क तरह श सन
  • म ल यम स ह य दव क उत तर प रद श सरक र क यह क र यव ह करन पड य ग धर म तरण क ख ल फ और घर व पस क ल ए क फ चर च म रह 2005 म य ग आद त यन थ
  • क म स ल म गत व ध य क कर ब न गर न थ यद यप ग र - ब द ध क जबरन धर म तरण क क ई नई र प र ट नह थ ल क न सरक र न छ त र और गर ब य व ओ पर ब द ध
  • ह अब व श व धर हर स थल ह आज, कई च म ल ग इस ल म क प लन करत ह यह धर म तरण 10 व शत ब द म श र ह आ, और 17 व शत ब द तक सम ज क अभ ज त वर ग
  • जनस ख य 10 ल ख स बढ द यह व श व क सबस बड ध र म क र प तरण य धर म तरण म न ज त ह ब द ध व द व न, ब ध सत व ड भ मर व आ ब डकर ज न भ रत म
  • प द ह ए बच च क न न क अन स र म स ल म ह और इस ल म स द सर धर म म धर म तरण क म त य द व र धर मद र ह और द डन य म न ज त ह स न न इस ल म क ख ल फ
  • इस ल म म उब यद ल ल क द लचस प बढ ज सस अ तत इस ल म म उनक धर म तरण ह गय 1887 म उनक र प तरण क वर ष म वह प ज ब स स ध इल क चल
  • चटर ज व श व ह न द पर षद द व र क गई आल चन श म ल ह ज उनक क म धर म न तरण क व श ष तर क क व र द ध थ इसक अल व कई च क त स पत र क ओ म भ
  • ह आ क ष त र म ईस ई स क ल और अस पत ल ख ल ल क न ईस ई धर म म ब हत धर म तरण क ब वज द आद व स य न अपन प र पर क ध र म क आस थ ए भ क यम रख और
  • म नव ध क र क र यकर त बड प म न पर ब द ध धर म तरण सम र ह आय ज त कर, आम ब डकर क न गप र 1956 क धर म तरण सम र ह क अन करण करत ह ज य द तर भ रत य ब द ध
  • इत ह स क प स तक क व म चन करत ह ज ट प स ल त न क ह द ओ पर धर म तरण क ल ए मजब र करत ह वह स चत ह क कन नड भ ष म ट प क पत र ह द ओ
  • क श सन क अरब म स ल म सम द य क आर थ क र प स ल भ पह च न क ल ए और धर म तरण क हत त स ह त करन क ल ए धम म य स कर बढ न क ल ए ध मह क स थ पन
  • ब द ध क जनस ख य 10 ल ख बढ द यह व श व क सबस बड ध र म क र प तरण य धर म तरण म न ज त ह ब द ध व द व न, ब ध सत व ड ब ब स ह ब अम ब डकर न भ रत म

धर्मांतरण: धर्मांतरण विरोधी कानून क्या है, धर्म परिवर्तन के नियम, धर्म परिवर्तन कैसे करे

यूपी लॉ कमीशन ने धर्मांतरण पर योगी सरकार AajTak.

एक झटके में झारखंड की सारी समस्याएं नेपथ्य में चली गयी लगती हैं और बहस धर्मांतरण पर केन्द्रित हो गयी है. इस तरह धर्मांतरण पर रोक संबंधी कानून बनाने की बात छेड़ कर या उस दिशा में पहल कर एक बार भाजपा ने साबित कर दिया कि बहस का. Important role of Christian priests in conversion of tribes due to. आशुचित्र तमिल मीडिया ने रामलिंगम की मौत को अनदेखा कर फिर से इस उद्योग की प्राथमिकताओं को उजागर किया है। पिछले गुरुवार 7 फरवरी को चेन्नई के कोयमबेडु कुरुंगलेश्वरर मंदिर के पास एक फूल विक्रेता एक लोकप्रिय तमिल दैनिक में.

पाक में एक और हिंदू नाबालिगा का अपहरण के बाद जबरन.

पाकिस्तान प्रधानमंत्री इमरान खान ने सिंध प्रांत के घोटकी जिले में दो नाबालिग हिन्दू लड़कियों के धर्मांतरण और जबरन विवाह के मामले में संज्ञान लिया है और इसकी जांच के लिए मानवाधिकार मंत्रालय को जांच के निर्देश दिए हैं।. धर्मांतरण के जरिये देश में नफरत फैला रही हैं ईसाई. पाक में 50 अल्पसंख्यक लड़कियों का जबरन धर्मांतरण, सरकार मौन. Edited By Deshtv Bureau By Labanya Masant On जनवरी 19, 2020. Share. नई दिल्ली इस्लामाबाद। पाकिस्तान में पिछले कुछ महीनों के दौरान ही 50 अल्पसंख्यक हिंदू व सिख लड़कियों के जबरन धर्म.

अब अवैध धर्मांतरण कराने वालों की दुकानें होंगी.

सागर कभी पूर्वोत्तर राज्यों के साथ यूपी में धर्मांतरण का विरोध करने वाली भाजपा सरकार के नाक के नीचे हजारों लोगों को हिन्दू से ईसाई बना दिया गया और सरकार खामोश रही। इतना ही नहीं इसकी खबर आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत से लेकर सूबे के. इस्लामी धर्मांतरण का विरोध करने वाले रामलिंगम. India News पाक की नापाक हरकत पर सिख समुदाय ने किया प्रदर्शन, हिंदू बेटियों के धर्मांतरण पर दिल्ली में विरोध. 2 सितंबर 2019 पाकिस्तान में हिंदू लड़कियों के जबरन धर्मांतरण के खिलाफ कनाडा में प्रदर्शन, की ये मांग. 8 जुलाई 2019. त्योहारों के. धर्म की स्वतंत्रता विधेयक 2019 पारित, हिमाचल में. इस्लामाबादः प्रधानमंत्री इमरान खान के नए पाकिस्तान में अल्पसंख्यक लड़कियों के जबरन धर्मांतरण व निकाह की घटनाएं जारी हैं। ताजा मामला पाकिस्तान के सिंध प्रांत का है जहां एक और हिंदू लड़की को धर्मांतरण का शिकार बनाया. पाकिस्तान हिंदू समाज की जबरन धर्मांतरण के. देश में ईसाई मिशनरियों का धंधा काफी हद तक चौपट करने के बाद मोदी सरकार से अब उम्मीद की जा रही है कि वो धर्मांतरण को रोकने के लिए कड़ा कानून बनाएगी। अभी कोई भी चर्च या मस्जिद में खड़े होकर धर्म बदलने का एलान कर देता है और उसे.

जबरन धर्मांतरण Amar Ujala.

देश में धर्मांतरण का एक बड़ा नेटवर्क चलाया जा रहा है। इस कारण देश में हिंदू आबादी लगातार घट रही है। हिंदुओं के देश में ही आठ राज्यों में हिंदू अल्पसंख्यक हो गए हैं। इसमें सबसे बड़ी भूमिका ईसाई मिशनरियों की सामने आती रही है।. संथाल में ईसाई मिशनरी करा रही धर्मांतरण, एसआईटी. इस्लामाबाद, 4 फरवरी आईएएनएस पाकिस्तान हिंदू कौंसिल ने सरकार से जबरन धर्म परिवर्तन और हिंदू लड़कियों के बाल विवाह के खिलाफ बिना देर किए ठोस रणनीति बनाने की मांग की है। द नेशन की रिपोर्ट में कहा गया है कि पाकिस्तान हिंदू. पाकिस्तान सिख युवती का जबरन धर्मांतरण कर. रिपोर्ट में यह बताया गया है कि धर्मांतरण के लिए नियम कायदे क्या होने चाहिए. सरकार के सूत्रों के मुताबिक लॉ कमीशन ​समय पर अपनी रिपोर्ट सरकार को देती है और यह उसी तरीके की एक रिपोर्ट है.

Meaning of धर्मांतरण in Hindi meaning of डिक्शनरी.

पिछले दिनों एक ऑनलाइन सर्वेक्षण में डॉ.आंबेडकर को महात्मा गाँधी के बाद सबसे महान भारतीय चुना गया। भारत के लोकतंत्र को एक आधुनिक सांविधानिक स्वरूप देने में डॉ.​आंबेडकर का योगदान अब एक स्थापित तथ्य है जिसे शायद ही कोई. धर्मांतरण का कुचक्र प्रवक्‍ता.कॉम. NewDelhi भारत विरोधी शक्तियां धर्म परिवर्तन के माध्यम से पूरे भारत में हिंदुओं को अल्पसंख्यक बनाना चाहती हैं. धर्मांतरण कराने वाली संस्थाएं नब्बे के. Pakistan PM Imran Khan Orders Probe Into Forced Conversion. सिर्फ भारत में ही नहीं पूरे विश्व में धर्म परिवर्तन का मुद्दा गरमाता जा रहा है….एक और जहां धर्म की राजनीति करने वाले लोग, भोले भाले लोगों को बहकाकर जबरन धर्म परिवर्तन करवा रहे है…वहीं दूसरी और हिन्दुस्थान में हर दिन कहीं ना. धर्मांतरण पर आमराय के बाद ही कानून बनाएगी Naidunia. ममता ने कहा कि भाजपा रुपये के बल पर लोगों का धर्मांतरण करवा रही है। उन्होंने लोगों से किसी के बहकावे में नहीं आने की हिदायत दी। ममता ने कहा कि यहां सिर्फ मुझ पर विश्वास रखें बाकी किसी की भी बातों में न आएं। कुछ लोग अपनी.

मध्य प्रदेश के जबलपुर में भारी धर्मांतरण की आहट.

धर्म परिवर्तन करवाने का आरोप भी लगाया जेडीपी के एक नेता मोहन हंसदा ने कहा विहिप द्वारा आयोजित सामूहिक विवाह हिंदू रीति रिवाजों के अनुसार आयोजित किया जा रहा था हमें लगता है कि इस तरह आदिवासियों का धर्मांतरण किया. VHP: काशी प्रांत के धर्मांतरण प्रभावित क्षेत्रों. पाक: हिंदू लड़की के अपहरण जबरन धर्मांतरण का आरोप, इमरान के दावे खोखले दुनिया. धार्मिक अल्पसंख्यकों पर अत्याचार के लिए पूरी दुनिया में बदनाम हो चुके पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान में एक और हिंदू लड़की के अपहरण और जबरन धर्म परिवर्तन का मामला. किशोरी धर्मांतरण मामला: पाक की पंजाब सरकार ने. प्रेस वक्तव्य: चर्च द्वारा धर्मांतरण व अन्य दुष्कृत्यों की जांच हेतु आयोग तथा धर्मांतरण रोधी कानून बने विहिप. नई दिल्ली जूलाई 11, 2018। विश्व हिन्दू परिषद् ने आज कहा है कि चर्च व उसके द्वारा संचालित तथा कथित सेवा कार्य. Conversion Act In UP? यूपी में धर्मांतरण कानून?. राज्य विधि आयोग ने जबरन धर्मांतरण रोकने के लिए सख्त कानून बनाने की सिफारिश की है। इसमें प्रावधान strict law will made to stop religion conversion Law Commission gave report, UP Hindi News Hindustan. जबरन धर्मांतरण पर रोक सम्बंधी विधेयक को राज्यपाल. गरुवार को मध्यप्रदेश के सतना शहर के गांव में 30 से ज्यादा पादरियों और सेमिनरीद को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। इन पादरियों पर बजरंग दल ने आरोप लगाया है कि वो धर्मांतरण करा रहे थे। शुक्रवार को राज्य के एक पादरी को एंटी.

धर्मांतरण के छल 1 ⋆ Making India.

नई दिल्ली। उत्तर प्रदेश में बड़े पैमाने पर जबरन धर्मांतरण कराए जाने की रिपोर्ट सामने आने के बाद राज्य विधि आयोग ने योगी सरकार से कानून बनाने की सिफारिश की है। बता दें कि स्टेट लॉ कमीशन ने यूपी में धर्मांतरण को लेकर एक. धर्मांतरण पर रोक बुनियादी अधिकार का हनन है. पाकिस्तान में एक सिख किशोरी के अपहरण एवं जबरन धर्मांतरण को लेकर दबाव में आई पंजाब प्रांत की सरकार ने नाराज सिखों के साथ वार्ता करने के लिए एक उच्चस्तरीय समिति गठित की है। किशोरी के परिवार ने आरोप लगाया कि लड़की को बंदूक. पाकिस्तान में हिंदूओं के पक्ष में उतरे Jaipur Times. Продолжительность: 4:08.

Buy Kashmir Aur Kashmiri Pandit: Basne Aur Bikharne Ke 1500.

लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स में 2 दशक तक राजनीतिक विज्ञान पढ़ाने वाले गौतम सेन का कहना है कि धर्मांतरण के अलावा चर्च प्लांटिंग भी एक अहम मुद्दा है। इसके तहत राज्य के कई गाँवों में मंदिरों से ज्यादा चर्च बना दिगए हैं ताकि. भगवा के तले हो रहा है धर्मांतरण, लेकिन भगवा सरकार. सुप्रीम कोर्ट ने कहा वह अंतर धार्मिक या अंतर जातीय विवाह के खिलाफ नहीं है, लेकिन उसे युवती के भविष्य की चिंता छत्तीसगढ़ में मुस्लिम युवक ने हिंदू बनकर प्रेमिका से शादी की, फिर मुस्लिम बना Supreme court advises young man to be a. विदेशी चंदा पाने वाले एनजीओ को देना होगा. तीन तलाक, जम्‍मू कश्‍मीर से अनुच्‍छेद 370 हटाने व कश्मीर के पुनर्गठन को लेकर ऐतिहासिक बिल के बाद अब मोदी सरकार धर्मांतरण के खिलाफ बिल लाने की तैयारी में हैं। सूत्रों के अनुसार सरकार अगले सत्र में इस संबंध में कोई बिल संसद में. पाक में 50 अल्पसंख्यक लड़कियों का जबरन धर्मांतरण. धर्मांतरण किसी ऐसे नये धर्म को अपनाने का कार्य है, जो धर्मांतरित हो रहे व्यक्ति के पिछले धर्म से भिन्न हो. एक ही धर्म के किसी एक संप्रदाय से दूसरे में होने वाले परिवर्तन को सामान्यतः धर्मांतरण के बजाय पुनर्संबद्धता कहा जाता है।.

अरबों की सिंध आक्रमण के दौरान बहुत से हिंदुओं का.

यह किताब कश्मीर के उथल पुथल भरे इतिहास में कश्मीरी पण्डितों के लोकेशन की तलाश करते हुए उन सामाजिक राजनैतिक प्रक्रियाओं की विस्तार से विवेचना करती है जो कश्मीर में इस्लाम के उदय, धर्मांतरण और कश्मीरी पण्डितों की मानसिक ​सामाजिक. Religious Conversion Case In Jalaun UP जालौन: धर्मांतरण. जबरन धर्मांतरण रोकने के लिए नरेंद्र मोदी सरकार ने एक धर्र्मांतरण विरोधी कानून बनाने का प्रस्ताव रखा है, लेकिन विपक्ष और विशेषज्ञ इसे अनुपयोगी बताते हुए खारिज कर रहे हैं.

धर्मांतरण: आस्था बदलने की कवायद Truth of conversion.

Araboon Ki Sindh Aakraman Ke Dauran Bahut Se Hinduon Ka Jabran Dharmanataran Kiya Gaya Vaah Kiske Adhikaar Se Wapas Hindu Dharam Mein Aaye? अरबों की सिंध आक्रमण के दौरान बहुत से हिंदुओं का जबरन धर्मांतरण किया गया वह किसके अधिकार से वापस हिंदू धर्म में आए?. World News in Hindi, विश्व न्यूज़, International Hindi News. तिरुअनंतपुरम। धर्मांतरण और घर वापसी पर जारी राजनीतिक घमासान के बीच केंद्र सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि इस मुद्दे पर वह एकतरफा तौपर कोई कानून नहीं बनाने जा रही है। बुधवार को तीन वरिष्ठ केंद्रीय मंत्रियों ने इस मुद्दे पर मोदी सरकार का​. पाकिस्तान में धर्मांतरण: घर लौटी सिख iChowk. पाकिस्तान हिंदू समाज की जबरन धर्मांतरण के खिलाफ ठोस रणनीति की मांग. February 04th, 2020 IST. दैनिक भास्कर. पाकिस्तान हिंदू समाज की जबरन धर्मांतरण के खिलाफ ठोस रणनीति की मांग. धर्मांतरण रोकने के लिए बनेगा सख्त कानून Hindustan. यूपी के प्रयागराज में माघ मेला स्थित विश्व हिंदू परिषद शिविर में धर्म प्रसार विभाग के क्षेत्रीय चिंतन शिविर के दौरान धर्मांतरण का मुद्दा छाया रहा। पूर्वी उत्तर प्रदेश से आए 100 से अधिक प्रतिनिधियों को संबोधित करते हुए.

मालदा में सामूहिक विवाह कार्यक्रम के दौरान हमला.

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के महराजगंज में आज एक चर्च में हिंदू युवा वाहिनी के कार्यकर्ता पहुंच गए और बवाल करना शुरू कर दिया। कार्यकर्ताओं का आरोप है कि चर्च में स्थानीय लोगों का धर्म परिवर्तन कराया जा रहा. क्या धर्मांतरण कानून बनाने से जबरन धर्म परिवर्तन. राज्य सभा अतारांकित प्रश्न सं. 2739 10.08.2017 को उत्तर दिए जाने के लिए. हिन्दू लड़कियों का अपहरण और धर्मांतरण 2739. श्री लाल सिंह वडोदियाः क्या विदेश मंत्री यह बताने की कृपा करेंगे किः क क्या यह सच है कि पाकिस्तान में. देश में धर्मांतरण रोकने के लिए कानून क्यों जरूरी. आंकड़ों से स्पष्ट है कि हिन्दुओं का बड़े पैमाने पर धर्मांतरण हुआ. यह धर्मांतरण किसी बल प्रयोग, लोभ लालच से नहीं या हिन्दू धर्म की बुराइयों के कारण नहीं बल्कि एक विशेष साजिश के तहत हुआ. जिसे धोखे या छल से धर्मांतरण कहना​.

धर्मांतरण कर हिंदू लड़की से शादी करने Dainik Bhaskar.

धर्मांतरण Религиозное обращение. प्रश्न सं. 2739 हिन्दू लड़कियों का अपहरण और. पाकिस्तान हिंदू समाज की जबरन धर्मांतरण के खिलाफ ठोस रणनीति की मांग. एजेंसी,इस्लामाबाद। Last updated: Tue, 04 Feb 2020 PM. forcibly conversion in pakistan file pic. पाकिस्तान हिंदू कौंसिल ने सरकार से जबरन धर्म परिवर्तन और हिंदू लड़कियों के बाल.