गुरू(सिख धर्म)

गुरू एक सर्व उतम शक्ति है जो हर जीव आत्मा में ज्ञान भरती है। गुरू, संस्कृत शब्द है जिस का अर्थ है अँधेरे से रौशनी की तरफ लेकर जाने वाला।
सिख धर्म में गुरू अक्षर "शब्द" के लिए इस्तेमाल हुआ है। "शब्द" निरंकार दवारा प्रगट किया हुआ, उसका हुक्म/शक्ति है। "शब्द" को धुर की वाणी भी कहा गया है। यह वाणी सत पुरषों दवारा बिना कानो से सुनी जाती है और हृदये में प्रगट होती है। बाबा नानक व अन्य भक्तों ने इसी को अपना गुरू माना है। इसी द्वारा निरंकार का ज्ञान होता है। इसी को आसी ग्रंथ में सब से ऊपर माना गया है: "श्री गुरू सब ऊपर" - भट गयंद
इसको बीज मन्त्र भी कहा जाता है।

1. गुरु ਗੁਰੁ बनाम गुरू ਗੁਰੂ
आदि ग्रंथ में गुरू और गुरु दोनों शब्दों में भेद रखा गया है।
जो सिर्फ मनुष्य जाती को ज्ञान दे, उसे गुरु कहा है, लेकिन जो हर जीव चाहे जानवर, मनुष्य, पेड़, पोधे आदिक में ज्ञान भरे उसके लिए गुरू शब्द का इस्तेमाल किया है। आम भाषा में यह शब्द अदल बदल लिए जाते हैं। लेकिन गुरमत विचार में इसकी भिन्नता साफ़ समझाई है। यही नहीं गुर, गुरदेव, सतगुर, सतगुरु, सतगुरू शब्दों को भी लोग एकसार मानते हैं।

  • स ख धर म ख लस य स खमत प ज ब ਸ ਖ 15व सद म भ रत य स त पर पर स न कल एक धर म ह ज सक श र आत ग र न नक द व न क थ इस धर म क अन य य य
  • म स ल म द न धर म क अन य य क फ म त र म थ स ख धर म क स स थ पक ग र न नक क ब र म कह गय : ब ब न नक श ह फक र ह द द ग र म सलम न द प र
  • स ख धर म क इत ह स प रथम स ख ग र ग र न नक क द व र पन द रहव सद म दक ष ण एश य क प ज ब क ष त र म आग ज ह आ इसक ध र म क परम पर ओ क ग र
  • ग र हरग ब न द स ख क छठ ग र थ स ह ब क स क ख इत ह स म ग र अर ज न द व ज क स प त र ग र हरग ब न द स ह ब क दल - भ जन य द ध कहकर प रश स क गई
  • ख ल ह त ह च ह व स ख ह य नह ल गर शब द स ख धर म म द द ष ट क ण स इस त म ल ह त ह स ख क धर म ग र थ म ल गर शब द क न र क र द ष ट क ण
  • ग र ग ब न द स ह जन म: प ष श क ल सप तम स वत 1723 व क रम तदन स र 26 द सम बर 1666 - म त य 7 अक ट बर 1708 स ख क दसव ग र थ उनक प त ग र त ग
  • ग र अ गद द व स ख क एक ग र थ ग र अ गद द व मह र ज ज क स जन त मक व यक त त व थ उनम ऐस अध य त म क क र य श लत थ ज सस पहल व एक सच च स ख बन
  • प रत अ नश स त ह गए इस प रक र ग र स ह ब न स ख धर म क व स तव क ग ण ज क ग र ग रन थ स ह ब ज म दर ज ह ग र न नक द व ज द व र बन य गय क स
  • ज स रचन भ ह ग र अरजन द व स ह ब न इन सभ शबद क ग र ग रन थ स ह ब म अ क त क य ग र स ह ब न अपन क स भ प त र क स ख ग र बनन क ल ए य ग य
  • स ख धर म क आल चन अक सर अन य धर म य स द ध त क म नन व ल क द व र क गई ह स व म दय नन द सरस वत न अपन क त ब सत य र थ प रक श म स ख धर म
  • ग र हर क शन ज स ख क आठव ग र थ ग र हर क शन स ह ब ज क जन म स वन वद व स वन ब क रम सम वत ज ल ई क क रतप र स ह ब म ह आ
  • स ख धर म क अन य य य क स ख कहत ह इस कभ - कभ स क ख भ ल ख ज त ह इनक पहल ग र ग र न नक ज ह ग र ग र थ स ह ब स ख क पव त र ग रन थ ह
  • स ख धर म य स ख एक श वरव द धर म ह और न र क र क प ज र ह स ख धर म म च ड क अर थ ह : आद शक त - च ड क आद शक त कह गय ह क य क इस स
  • र म द स य ग र र म द स प ज ब ਸ ਰ ਗ ਰ ਰ ਮ ਦ ਸ ਜ स ख क ग र थ और उन ह ग र क उप ध 30 अगस त 1574 क द गय थ उन द न जब व द श आक रमणक र
  • स ख धर म भ रत म च थ सबस बड धर म ह और 550 वर ष स अस त त व म ह ज सक श र आत इसक स स थ पक ग र न नक क जन म स ह ई थ स ख ल ग म ख य र प स
  • न नक द व य ग र न नक द व स ख क प रथम ग र थ ग र न नक द वज क प रक श जन म अप र ल, ई. व श ख स द 3, स वत 1526 व क रम म तलव ड र यभ य
  • ह न द धर म और स ख धर म द न म लत भ रत क धरत स न कल धर म ह ह न द धर म एक अत प र च न अन द धर म ह ज कई हज र वर ष क व क स क म र ग तय करक
  • य ग र अर ज न द व 15 अप र ल 1563 30 मई 1606 स ख क व ग र थ ग र अर ज न द व ज शह द क सरत ज एव श न त प ज ह आध य त म क जगत म ग र ज
  • ग र त ग बह द र 1 अप र ल, 1621 24 नवम बर, 1675 स ख क नव ग र थ ज न ह न प रथम ग र न नक द व र बत ए गय म र ग क अन सरण करत रह उनक द व र
  • र ष ट र य स ख स गत एक स म ज क - स स क त क स स थ ह ज ग र ग रन थ स हब क सन द श क प र भ रत य उपमह द व प म प रस र त करन क लक ष य क स थ क म कर
  • क क ष त र म स ख धर म क व य पक व र सत और इत ह स ह ह ल क स ख वर तम न र प स प क स त न म एक छ ट स सम द य बन त ह अध क श स ख प ज ब प र त म
  • आद ग रन थ स ख स प रद य क प रम ख धर मग रन थ ह इस ग र ग र थ स ह ब भ कहत ह इसक स प दन स ख सम प रद य क प चव ग र श र ग र अर ज न द व ज
  • स ख धर म क दर शन, उनक पव त र ग रन थ ग र ग रन थ स ह ब म अत यन त व स त र स द य ह आ ह स ख धर म क अन य य य क ज वन - य पन क ल य व स त त म र गदर शन
  • स ख धर म क सम प रद य स आशय उन परम पर ओ एव सम प रद य स ह ज नक स ख धर म क म ख यध र स न कट सम बन ध रह ह क न त ग र ओ क क स अन य श खल क
  • न नक प ज ब ਨ ਨਕ क र त क प र ण म 1469 22 स त बर 1539 स ख क प रथम आद ग र ह इनक अन य य इन ह न नक, न नक द व ज ब ब न नक और न नकश ह
  • स ख धर म थ ईल ड म लगभग 70, 000 अन य य य क स थ एक म न यत प र प त अल पस ख यक धर म ह धर म भ रत स प रव स य द व र ल य गय थ ज 19व शत ब द क
  • सन तन स ख व ह ज स ख धर म क ह न द धर म क अ ग म नत ह उन ह न तत ख लस क व र ध क य थ व श षत स ह सभ आन द लन क समय म सन तन स ख न
  • क कम भ कहत ह ल क न स ख सम द य इस शर र क ल ए ल भद यक म नत ह यह प रथ प च कक र म स एक ह ज स ख व श ह त ग र ग ब न द स ह ज न आवश यक
  • ख लस स ख धर म क व ध वत द क ष प र प त अन य य य स म ह क र प ह ख लस प थ क स थ पन ग र ग ब न द स ह ज न क ब स ख व ल द न आन दप र स ह ब म
  • धर म स स क त: सन तन धर म एक धर म य ज वन पद धत ह ज सक अन य य अध क शत भ रत न प ल और म र शस म बह मत म ह इस व श व क प र च नतम धर म कह

ये हैं सिखों के दस गुरू, मुगलों से लिया था लोहा.

लीड द कम्पटीशन द्वारा प्रस्तुत सिख धर्म पर जरुरी जानकारी. सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक, का जन्म पाकिस्तान के लाहौर जिले के तलवंडी नामक गांव में हुआ । उन्होंने ही लंगर ​गुरुद्वारों में सभी आगंतुकों के लिए भोजन उपलब्ध कराने की. सिख धर्म और उनके दस गुरू कौन है,जानें ज्ञान मेला. सिख धर्म के 10 गुरु थे। सिक्खों का धार्मिक ग्रंथ श्री आदि ग्रंथ है, जिसमें 10 गुरुओं का वर्णन है। गुरु अंगददेव, गुरु अमरदास, गुरु रामदास, गुरु अरजनदेव, गुरु हरगोविंद, गुरु हरिराइ, गुरु हरिकिशन, गुरु तेगबहादुर, गुरु गोबिंद सिंह है। सबसे आखरी में.

Tag: सिख धर्म सुर्ख़ियां.

गुरू पर्व के अवसर एक नज़र गुरु नानक 11 साल की उम्र में विद्रोही बन गए थे. गुरु नानक एक महान धार्मिक प्रवर्तक और सिख धर्म के संस्थापक थे. नानकशाही नानक ने सिख धर्म में हिन्दू और इस्लाम दोनों की अच्छाइयों को शामिल किया. पंथ के मायने क्या सिखों का सिर्फ समूह या वो. सिख धर्म के संस्थापक संत नानक देव का जन्मदिन हर साल कार्तिक पूर्णिमा को मनाया जाता है। इस बार यह पर्व 12 नवंबर को है। इनके जन्म दिन को प्रकाश पर्व के रूप में मनाया जाता है। इसका कारण यह है कि इन्होंने समाज को आगे बढ़ने के लिए. इमरान की घोषणा श्रद्धालु बिना पासपोर्ट आ. सिख धर्म के संस्थापक और सिखों के पहले गुरू गुरुनानक देव की आज 550वीं जयंती है.

गुरु नानक ने जब जनेऊ पहनने से किया इनकार BBC News.

लखीसराय।वीरेंद्र सिंह: सिख धर्म के पांचवे गुरू, गुरू अर्जुन देव जी को उनके 413 वें शहादत दिवस पर याद किया गया। लखीसराय गुरूद्वारा प्. Guru Nanak Jayanti 2019 Date: जानिए कब है गुरु Jansatta. लाहौर, 12 नवंबर भाषा सिख धर्म के संस्थापक गुरू नानक देव जी के 550 वें प्रकाश पर्व के अवसर पर पाकिस्तान के पंजाब प्रांत स्थित गुरुद्वारा जन्मस्थान ननकाना साहिब में बड़ी संख्या में देश विदेश से सिख श्रद्धालु पहुंचे । पाकिस्तान के. गुरु हरकिशन साहिब प्रकाश उत्सव Lokmat News Hindi. 2019 का यह वर्ष सिख धर्म के लिए विशेष महत्व वाला है। इतिहास के पन्नों में जितना महत्व इस धर्म के संस्थापक और पहले गुरु गुरुनानक देव का है, उतना महत्व पंज प्यारों का भी है। इस दौरान निकलने वाली प्रभात फेरी के साथ ये पंज प्यारे.

गुरू नानक जयंती: जानिए गुरू नानक देव कैसे बन गए सिख.

Guru Nanak Jayanti Day धार्मिक मान्यताओं के अनुसार कार्तिक शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा के दिन सिख धर्म के पहले गुरु नानक देव जी का जन्म हुआ था। जिस कारण इनके जन्मदिन को प्रकाश पर्व के रूप में मनाया जाता है। इस बार गुरु नानक देव. सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक की जयंती पर विशेष. 15 अप्रैल का दिन देश में बडे गौरवपूर्ण तरीके से मनाया जाता है, क्योंकि इसी दिन सन् 1469 को सिखों के धर्म संस्थापक गुरू नानक देव का जन्म हुआ था। गुरू नानक देव सिखों के प्रथम गुरू थे। सुविधा की द्दष्टि से उनका प्रकाश उत्सव.

अनटाइटल्ड Forest.

सिख धर्म से बेदखल प्रोफेसर से जब मिला एक सिख पत्रकार. श्री गुरु ग्रंथ साहिब में ना सिर्फ 10 में से 6 गुरु साहेबान की बाणी है बल्कि विभिन्न परम्पराओं और क्षेत्रों से जुड़े दार्शनिक और विचारकों के बोलों को भी संकलित किया. प्रसिद्ध भारतीय गुरूद्वारे The List Academy. गुरुनानक देव जी के 550 वें प्रकाश पर्व पर जानें आखिर कौन थे सिखों के 10 गुरु। गुरु नानक देव जी सिख धर्म के प्रवर्तक गुरुनानक देव का जन्म 15 अप्रैल, 1469 में तलवंडी नाम के एक स्थान पर हुआ था। उनके जन्म के बाद तलवंडी का नाम बदलकर.

मोक्ष का मार्ग दिखाया गुरू नानकदेव ने Ajmernama.

आज 12 नवंबर के दिन पूरे भारत वर्ष में गुरु पर्व मनाया जा रहा है​। गुरू पर्व वास्तव में सिख धर्म के प्रथम गुरू, गुरू ना. Guru Nanak Jayanti 2019: करतारपुर साहिब, जहां गुरु नानक. सिख धर्म में दस गुरु थे, और गुरु नानक देव जी प्रथम गुरु थे सिख धर्म के संस्थापक । सिख परंपरा के सभी दस गुरुओं की कहानियां हर्षित और उत्थान हैं वह उनके त्याग को दर्शाती हैं। गुरुओं ने अच्छे, निर्दोष और धार्मिक लोगों की रक्षा के लिए अपना सब​. सिखों के चौथे गुरू रामदास जी का Oneindia Hindi. 20वीं सदी की शुरुआत में बनागए इस गुरुद्वारे से तीन प्रमुख सिख गुरू, गुरू रामदास जी, गुरू अर्जुन देव जी और गुरू हरगोविंद जी की स्मृति जुड़ी हुई है। सिख धर्म के यश वैभव और शालीनता को बखूबी दर्शाता है अमृतसर का स्वर्ण मंदिर Следующая Войти Настройки. धर्म गुरु Dharm रफ़्तार. New Delhi: सिखों के पहले गुरू और सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव की 12 नवम्बर को होने वाली 550 वीं जयंती समारोह में प्रधानमंत्री मोदी शामिल होंगे। शिरोमणि अकाली दल, गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी, और दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के. विभिन्न क्षेत्रों में कैसे मनाया जाता है गुरू पर्व. Guru Nanak Dev Ji Biography गुरु नानक देव सिख धर्म के संस्थापक और सिखों के पहले गुरु थे। उनकी जयंती प्रकाश पर्व या गुरु पर्व के रूप में मनाई जाती है।.

सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव की 550 Live India.

गुरु नानक जंयती कार्तिक मास के शुुक्ल पक्ष की पर्णिमा के दिन मनाते हैं। सिख धर्म के प्रथम गुरु नानकदेव का जन्म इस दिन हुआ था। बहुत धूम धाम से गुरु नानक देव जी के जन्म दिवस को मनाया जाता है। सिख धर्म के संस्‍थापक के तौपर भी. मैडम काॅबले सिख धर्म का गौरव शाली इतिहास. गुरु नानक देव जयंती प्रकाश पर्व सिख धर्म के श्रद्धालु सबसे बड़े त्यौहार के रूप में मनाया जाता है। गुरु प्रकाश पर्व 12 नवंबर दिन मंगलवार को कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि को पूरे भारत में बड़ी श्रद्धा व धूमधाम से मनाएंगे।. सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव की 550 Dailyhunt. इसके साथ ही गुरू गोबिन्द सिंह ने सिखों की पवित्र ग्रन्थ गुरु ग्रंथ साहिब को पूरा किया तथा उन्हें गुरु रूप में सिख धर्म के नौवें गुरु तेग बहादुर साहब की इकलौती संतान के रूप में जन्मे गोविंद सिंह की माता का नाम गुजरी था।.

गुरु नानक देव जयंती 2018: जानें सिख धर्म Inext Live.

सिखों के दसवें गुरू गुरुगोबिंद सिंह की जयंती 2 जनवरी 2020 को मनाई जाएगी। इस दिन को दुनियाभर में सिख त्यौहार की तरह मनाते हैं। गुरु गोबिंद सिंह आध्यात्मिक गुरु होने के साथ योद्धा, कवि और दार्शनिक भी थे। सिख धर्म में इनका. सिखों के दस गुरू. 20वीं सदी की शुरुआत में बनागए इस गुरुद्वारे से तीन प्रमुख सिख गुरू, गुरू रामदास जी, गुरू अर्जुन देव जी और गुरू हरगोविंद जी की स्मृति जुड़ी हुई है। सिख धर्म के यश वैभव और शालीनता को बखूबी दर्शाता है अमृतसर का स्वर्ण मंदिर. सिखों का प्रमुख त्योहार गुरू नानक Jagran Josh. सिख धर्म का भारतीय धर्मों में अपना एक खास स्थान है। सिख शब्द शिष्य से उत्पन्न हुआ है। गुरुनानक देव जी सिख धर्म के पहले गुरु और प्रवर्तक हैं। सिख धर्म में नानक जी के बाद नौ गुरु और हुए। अमृतसर न्यूज,अमृतसर समाचार. गुरु पर्व पर जानिए गुरु नानक जी से जुड़े उन 8. गुरु नानक जी सिख धर्म के संस्थापक थे. उन्हें इस धर्म के पहले धर्मगुरू के रूप में याद किया जाता है. उनका जन्म कार्तिक मास की पूर्णिमा को हुआ था. उनके जन्मदिन को गुरू पर्व या प्रकाशोत्सव के रूप में पूरे देश में बड़े ही हर्षोल्लास. पाक में मनाया गया गुरु नानक का 550वां Naya India. पंद्रहवीं शताब्दी में उपजा और सत्रहवीं शताब्दी में धर्म रूप में परिवर्तित हुआ था. उह उत्तर भारत में पंजाब राज्य में जन्मा था. इसके प्रथम गुरु थे गुरु नानक देव जी, और फ़िर बाद में नौ और गुरु हुए. सिख धर्म: सिख एक ही ईश्वर को मानते हैं, पर उसके पास. यकीनन आप अमृतसर के इन गुरु द्वारों से वाकिफ नहीं. Univarta: लंदन, 21 नवंबर वार्ता ब्रिटेन के दो शीर्ष संगठनों ने अपने धर्म के संस्थापक गुरू नानक देव के 550वें प्रकाश पर्व के मौके पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को लाइफटाइम एचिवमेंट पुरस्कार देकर सम्मानित किया है।.

सिख समुदाय के टोटल कितने गुरु थे और कितने Vokal.

गुरू नानक जयंती: जानिए गुरू नानक देव कैसे बन गए सिख धर्म के संस्थापक. गुरु नानक जयंती का त्योहार कार्तिक पूर्णिमा के दिन पूरे देश में धूम धाम से मनाया जाता है। इस साल यह पर्व 12 नवंबर यानी की मंगलवार को मनाया जा रहा है। यह त्योहार सिख. संस्‍कृति और विरासत मध्‍यकालीन इतिहास सिक्‍ख. 23 नवंबर को कार्तिक पूर्णिमा है. हिंदू धर्म में इस दिन का खास महत्व है. इसके अलावा सिख धर्म में भी इस दिन की बहुत अहमियत है. कार्तिक पूर्णिमा के ही दिन सिखों के पहले गुरु नानक देव जी का जन्म हुआ था. इस दिन को गुरुनानक जयंती और. गुरुनानक देव का प्रकाश पर्व ननकाना साहिब से लेकर. गुरु नानक देव जयंती 2018: जानें सिख धर्म की प्रार्थना और सत् श्री अकाल का सिख परंपरा की, सत् श्री अकाल कही जाने वाली शुभकामना दुनिया में सबसे अच्छी शुभकामना है। गुरु नानक देव जी के जन्मदिन के अवसर पर आओ हम खुद को याद. पाकिस्तान: सिख धर्म गुरू और मानवाधिकार. अगले वर्ष भारत और पूरे विश्व में महान संत और सिख धर्म के संस्थापक श्री गुरु नानक देवजी की 550वीं जयंती मनाई जाएगी। प्यार, शांति और भाईचारे की गुरु नानक की शिक्षा सर्वव्यापी है। प्रधानमंत्री ने गुरु नानक जयंती के महत्व को. इस दिन मनाई जा रही है गुरु नानक जयंती, जानें सिख. सुविधा की दृष्टि से गुरु नानक का प्रकाश उत्सव कार्तिक पूर्णिमा को मनाया जाता है। इस दिन को सिख धर्म के अनुयायी गुरु पर्व के रूप में मनाते हैं। आज के इस खास दिन जानतें हैं कुछ एेसे गुरूद्वारे के बारे में जो बेहद सुंदर और.

गुरुपर्व आज: ये हैं भारत के प्रसिद्ध गुरुद्वारे, सभी.

प्रोफेसर इरफान हबीब ने गुरू नानक देव के सामाजिक संदेश पर महत्वपूर्ण बातें रखीं. समाज और सुशासन के वाहक थे गुरू नानक देव. सिख धर्म के संस्थापक गुरू नानक देव की 550 वीं जयंती के उपलक्ष में दिल्ली के भाई वीर सिंह साहित्य… Thursday, July 25, 2019. सिख धर्म Drishti IAS. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने यह भी कहा कि करतारपुर के उद्घाटन के दिन और गुरू नानक देव के 550वें प्रकाश पर्व के दिन कोई सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव ने पाकिस्तान के करतारपुर में रावी नदी के किनारे स्थित दरबार साहिब. सदस्य लोकसभा. सिख गुरु सिख धर्म के आध्यात्मिक गुरु हैं, जिन्होंने 1469 में शुरू होने वाले लगभग ढाई शताब्दियों के दौरान इस धर्म की स्थापना की। वर्ष 1469 में गुरु नानक देव जी का जन्म हुआ, जो कि सिख धर्म के संस्थापक थे।. शहादत दिवस पर याद किगए सिखों के पांचवे गुरू गुरू. सिख धर्म के संस्थापक गुरू नानक देव Guru dev nanak ji जी के 550 वें प्रकाश पर्व के अवसर पर पाकिस्तान Pakistan के पंजाब प्रांत स्थित गुरुद्वारा जन्मस्थान ननकाना साहिब में बड़ी संख्या में देश विदेश से सिख श्रद्धालु पहुंचे।. जानिए कौन थे सिखों के तीसरे गुरु जिनका है आज. सन् 1699, सिख धर्म के दसवें नानक गुरू गोबिंद सिंह जी ने वैसाखी का पर्व मनाया। उन्होंने पवित्र अमृत अपने पांच प्यारों को छकाया और अंत में स्वयं उनके हाथों से भी पिया और वाहो वाहो गोबिंद सिंह आपे गुरु चेला की मिसाल दी।.

गुरु नानक जयंती Guru Nanak Jayanti in Hindi A.

मैं यह मानता हूं कि पंजाब के लोगों ने, पंजाब के जो सिख रूलर्स थे, पंजाब के जो सिख गुरू थे, उन्होंने एक भारी मैसेज सारे गुरु ग्रंथ साहब को अपना गुरु मानते हैं, सजदा करते हैं, हर रोज अरदास करते हैं, लेकिन उस पर कुछ लोगों ने धर्म और राजनीति को. Page 1 अध्याय 3 राजनीतिक शक्ति के रुप में सिखों. सिख धर्म की स्थापना लगभग 540 वर्ष पूर्व, गुरू नानक देव जी द्वारा की गई। सिख धर्म के दस गुरू के नाम. 1 श्री गुरूनानक जी 2 श्री गुरू अंगद देव जी 3 श्री गुरू अमर दास जी 4 श्री गुरू रामदास जी 5 श्री गुरू अर्जून देव जी 6 श्री गुरू हर. सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक का दिनांक eKhabri. सिख धर्म के दस गुरुओं की कड़ी में प्रथम हैं गुरु नानक। गुरु नानकदेव से मोक्ष तक पहुँचने के एक नए मार्ग का अवतरण होता है। इतना प्यारा और सरल मार्ग कि सहज ही मोक्ष तक या ईश्वर तक पहुँचा जा सकता है।गुरू नानक जयन्‍ती, 10 सिक्‍ख गुरूओं. गुरु नानक जयंती स्पेशल क्विज ों सिख HerZindagi. सिख बन्धुओं की धारणा है कि गुरु के नाम पर रोपित वृक्ष व बाग. अधिक हरे भरे व लोक मंगल करने वाले होते हैं। सिख धर्म में सेवा, संगत और लंगर का विशेष महत्व है। आज के. युग में जब वृक्षों के कम हो जाने से मानव का कष्ट बढ़ रहा है, वृक्ष धन. अभिवृद्धि.

सिख धर्म हिंदी GK.

गुरु नानक जी सिखों के प्रथम गुरु थे और उन्होंने ही सिख धर्म की स्थापना की थी. गुरू नानक गुरूपर्व, गुरू नानक का प्रकाश उत्सव और गुरू नानक जयंती के रूप में भी जाना जाता है. आइये इस लेख के माध्यम से गुरु नानक गुरुपर्व और गुरु. श्री गुरु नानक देव जी की 550वीं जयंती पर अनेक Pib. सिख समुदाय के टोटल कितने गुरु थे और कितने हैं? जवाब दें आपका प्रश्न है सिख धर्म में कुल कितने गुरु थे तो सिख धर्म में कुल और पढ़ें. user किस सिख गुरु को सच्चा बादशाह कहा जाता है एवं किसने खुद को सच्चा बादशाह कहा? जहां तक मैं जानती. Guru Nanak Dev 550 Prakash Parv Know about all ten sikh gurus. सिख धर्म के अनुयायियों के बीच एक बहुत ही धार्मिक एवं ऐतिहासिक महत्व रखने वाले श्री पौंटा साहिब गुरूद्वारे पर गुरू गोविंद सिंह जी ने 4 वर्ष बिताए थे। गुरू गोबिन्द सिंह जी ने यहां गुरूद्वारे की स्थापना कर दशम ग्रन्थ की रचना की थी। इसलिए.