कामिका एकादशी

हिंदू धर्म में एकादशी का व्रत महत्वपूर्ण स्थान रखता है। प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशियाँ होती हैं। जब अधिकमास या मलमास आता है तब इनकी संख्या बढ़कर 26 हो जाती है। श्रावण मास की कृष्ण एकादशी का नाम कामिका है। उसके सुनने मात्र से वाजपेय यज्ञ का फल मिलता है।

1. कथा
कुंतीपुत्र धर्मराज युधिष्ठिर कहने लगे कि हे भगवन, आषाढ़ शुक्ल देवशयनी एकादशी तथा चातुर्मास्य माहात्म्य मैंने भली प्रकार से सुना। अब कृपा करके श्रावण कृष्ण एकादशी का क्या नाम है, सो बताइए।
श्रीकृष्ण भगवान कहने लगे कि हे युधिष्ठिर! इस एकादशी की कथा एक समय स्वयं ब्रह्माजी ने देवर्षि नारद से कही थी, वही मैं तुमसे कहता हूँ। नारदजी ने ब्रह्माजी से पूछा था कि हे पितामह! श्रावण मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी की कथा सुनने की मेरी इच्छा है, उसका क्या नाम है? क्या विधि है और उसका माहात्म्य क्या है, सो कृपा करके कहिए।
नारदजी के ये वचन सुनकर ब्रह्माजी ने कहा- हे नारद! लोकों के हित के लिए तुमने बहुत सुंदर प्रश्न किया है। श्रावण मास की कृष्ण एकादशी का नाम कामिका है। उसके सुनने मात्र से वाजपेय यज्ञ का फल मिलता है। इस दिन शंख, चक्र, गदाधारी विष्णु भगवान का पूजन होता है, जिनके नाम श्रीधर, हरि, विष्णु, माधव, मधुसूदन हैं। उनकी पूजा करने से जो फल मिलता है सो सुनो।
जो फल गंगा, काशी, नैमिषारण्य और पुष्कर स्नान से मिलता है, वह विष्णु भगवान के पूजन से मिलता है। जो फल सूर्य व चंद्र ग्रहण पर कुरुक्षेत्और काशी में स्नान करने से, समुद्र, वन सहित पृथ्वी दान करने से, सिंह राशि के बृहस्पति में गोदावरी और गंडकी नदी में स्नान से भी प्राप्त नहीं होता वह भगवान विष्णु के पूजन से मिलता है।
जो मनुष्य श्रावण में भगवान का पूजन करते हैं, उनसे देवता, गंधर्व और सूर्य आदि सब पूजित हो जाते हैं। अत: पापों से डरने वाले मनुष्यों को कामिका एकादशी का व्रत और विष्णु भगवान का पूजन अवश्यमेव करना चाहिए। पापरूपी कीचड़ में फँसे हुए और संसाररूपी समुद्र में डूबे मनुष्यों के लिए इस एकादशी का व्रत और भगवान विष्णु का पूजन अत्यंत आवश्यक है। इससे बढ़कर पापों के नाशों का कोई उपाय नहीं है।
हे नारद! स्वयं भगवान ने यही कहा है कि कामिका व्रत से जीव कुयोनि को प्राप्त नहीं होता। जो मनुष्य इस एकादशी के दिन भक्तिपूर्वक तुलसी दल भगवान विष्णु को अर्पण करते हैं, वे इस संसार के समस्त पापों से दूर रहते हैं। विष्णु भगवान रत्न, मोती, मणि तथा आभूषण आदि से इतने प्रसन्न नहीं होते जितने तुलसी दल से।
तुलसी दल पूजन का फल चार भार चाँदी और एक भार स्वर्ण के दान के बराबर होता है। हे नारद! मैं स्वयं भगवान की अतिप्रिय तुलसी को सदैव नमस्कार करता हूँ। तुलसी के पौधे को सींचने से मनुष्य की सब यातनाएँ नष्ट हो जाती हैं। दर्शन मात्र से सब पाप नष्ट हो जाते हैं और स्पर्श से मनुष्य पवित्र हो जाता है।

2. उद्देश्य
कामिका एकादशी की रात्रि को दीपदान तथा जागरण के फल का माहात्म्य चित्रगुप्त भी नहीं कह सकते। जो इस एकादशी की रात्रि को भगवान के मंदिर में दीपक जलाते हैं उनके पितर स्वर्गलोक में अमृतपान करते हैं तथा जो घी या तेल का दीपक जलाते हैं, वे सौ करोड़ दीपकों से प्रकाशित होकर सूर्य लोक को जाते हैं।
ब्रह्माजी कहते हैं कि हे नारद! ब्रह्महत्या तथा भ्रूण हत्या आदि पापों को नष्ट करने वाली इस कामिका एकादशी का व्रत मनुष्य को यत्न के साथ करना चाहिए। कामिका एकादशी के व्रत का माहात्म्य श्रद्धा से सुनने और पढ़ने वाला मनुष्य सभी पापों से मुक्त होकर विष्णु लोक को जाता है।

3. महिमा
जो फल गंगा, काशी, नैमिषारण्य और पुष्कर स्नान से मिलता है, वह विष्णु भगवान के पूजन से मिलता है। जो फल सूर्य व चंद्र ग्रहण पर कुरुक्षेत्और काशी में स्नान करने से, समुद्र, वन सहित पृथ्वी दान करने से, सिंह राशि के बृहस्पति में गोदावरी और गंडकी नदी में स्नान से भी प्राप्त नहीं होता वह भगवान विष्णु के पूजन से मिलता है।
जो मनुष्य श्रावण में भगवान का पूजन करते हैं, उनसे देवता, गंधर्व और सूर्य आदि सब पूजित हो जाते हैं। अत: पापों से डरने वाले मनुष्यों को कामिका एकादशी का व्रत और विष्णु भगवान का पूजन अवश्यमेव करना चाहिए। पापरूपी कीचड़ में फँसे हुए और संसाररूपी समुद्र में डूबे मनुष्यों के लिए इस एकादशी का व्रत और भगवान विष्णु का पूजन अत्यंत आवश्यक है। इससे बढ़कर पापों के नाशों का कोई उपाय नहीं है।
हे नारद! स्वयं भगवान ने यही कहा है कि कामिका व्रत से जीव कुयोनि को प्राप्त नहीं होता। जो मनुष्य इस एकादशी के दिन भक्तिपूर्वक तुलसी दल भगवान विष्णु को अर्पण करते हैं, वे इस संसार के समस्त पापों से दूर रहते हैं। विष्णु भगवान रत्न, मोती, मणि तथा आभूषण आदि से इतने प्रसन्न नहीं होते जितने तुलसी दल से।

4. कथा
व्रत के पीछे क्या है कथा
एक गांव में एक वीर श्रत्रिय रहता था। एक दिन किसी कारण वश उसकी ब्राहमण से हाथापाई हो गई और ब्राहमण की मृत्य हो गई। अपने हाथों मरे गये ब्राहमण की क्रिया उस श्रत्रिय ने करनी चाही। परन्तु पंडितों ने उसे क्रिया में शामिल होने से मना कर दिया। ब्राहमणों ने बताया कि तुम पर ब्रहम हत्या का दोष है। पहले प्रायश्चित कर इस पाप से मुक्त हो तब हम तुम्हारे घर भोजन करेंगे।
इस पर श्रत्रिय ने पूछा कि इस पाप से मुक्त होने के क्या उपाय है। तब ब्राहमणों ने बताया कि श्रावण माह के कृष्ण पश्र की एकादशी को भक्तिभाव से भगवान श्रीधर का व्रत एवं पूजन कर ब्राहमणों को भोजन कराके सदश्रिणा के साथ आशीर्वाद प्राप्त करने से इस पाप से मुक्ति मिलेगी। पंडितों के बताये हुए तरीके पर व्रत कराने वाली रात में भगवान श्रीधर ने श्रत्रिय को दर्शन देकर कहा कि तुम्हें ब्रहम हत्या के पाप से मुक्ति मिल गई है।

  • पक ष क एक दश और अम वस य क ब द आन व ल एक दश क श क ल पक ष क एक दश कहत ह इन द न प रक र क एक दश य क भ रत य सन तन स प रद य म बह त महत त व
  • मत स य, अग न स क द, ल ग, भव ष य, व ष ण एव व ष ण धर म तर आगम व श षकर क म क कर ण, स प रभ द, व ख नस आद श ल पग र थ ज स म नस र, मयमत, अगस त य - सकल - व क र

कामिका एकादशी: कामिका एकादशी 2019, कामिका एकादशी कब है, अजा एकादशी, कामदा एकादशी, श्रावण पुत्रदा एकादशी, श्रावण पुत्रदा एकादशी 2019, अजा एकादशी २०१९, कामदा एकादशी 2019

कामिका एकादशी कब है.

रविवाऔर एकादशी का योग 28 जुलाई को Dainik Bhaskar. कामिका एकादशी व्रत मुहूर्त एकादशी व्रत तिथि – 28 जुलाई 2019 रविवार. एकादशी तिथि प्रारंभ सांय बजे 27 जुलाई 2019. एकादशी तिथि समाप्त सांय बजे 28 जुलाई 2019. पारण समय प्रातः से 29 जुलाई 2019. कामिका एकादशी. कामिका एकादशी 2019. कामिका एकादशी. एकादशी को विष्णुजी के साथ सूर्य भगवान की पूजा जरूर करें। एकादशी के दिन सुबह जल्दी उठें और नहाने के बाद तांबे के लोटे से सूर्य देवता को जल चढ़ाएं। जल अर्पण के समय ऊँ सूर्याय नम: मंत्र का जाप करें।. श्रावण पुत्रदा एकादशी. कामिका एकादशी 2019 पाप से भयभीत मनुष्यों को. सावन का पावन महीना चल रहा है ऐसे में भक्त भोलेनाथ की भक्ति में लीन हैं। लेकिन अगर आप भोलेनाथ को और प्रसन्न करना चाहते हैं तो आपको उनके आराध्य की भी पूजा जरूर करनी चाहिए। शास्त्रों में ऐसा बताया गया है कि भोलेनाथ भगवान विष्णु की.

कामदा एकादशी.

कामिका एकादशी व्रत भाग्य मंथन. सावन महीने में आने वाली कामिका एकादशी Kamika Ekadashi का हिंदू धर्म में विशेष महत्व है। इस एकादशी में भगवान विष्णु ​Lord Vishnu की पूजा की जाती है। पुराणों के अनुसार इस एकादशी के महत्व के. अजा एकादशी २०१९. जानिए कामिका एकादशी की पूजा विधि! News18 Hindi. नई दिल्ली। श्रावण माह के कृष्ण पक्ष में आने वाली एकादशी को कामिका एकादशी कहा जाता है। इस एकादशी में भगवान विष्णु के चतुर्भुज स्वरूप की पूजा की जाती है। जिनके हाथ में शंख, चक्र, गदा, पद्म सुशोभित हो। शास्त्रों में कामिका. कामिका एकादशी में क्या करें और क्या न पकवानगली. डिजिटल डेस्क। हिन्दू धर्म में जितना महत्व त्यौहारों का है, उतना ही महत्व व्रत का भी है, जो कि किसी न किसी भगवान से जुड़े होते हैं। इनमें से एक है श्रावण मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी जिसे कामिका एकादशी कहा जाता है। अन्य. Kamika ekadashi कामिका एकादशी शेयरचैट ShareChat. कामिका एकादशी 2019 श्रावण माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि को कामिका एकादशी कहते है वर्ष 2019 में कामिका एकादशी व्रत 28 जुलाई को है।. फूलों में सज रहे हैं श्री वृंदावन बिहारी कामिका. श्रावण माह में कृष्ण पक्ष में आने वाली एकादशी को कामिका एकादशी कहते है। इस बार यह एकादशी 28 जुलाई 2019, रविवार को मनाई जा रही है। इस एकादशी का महत्व एवं कथा यहां पढ़ें.

Kamika Ekadashi 2019: जानें कामिका एकादशी.

सावन के महीने को एक धार्मिक महीना माना जाता है इसलिए इस महीने में कामिका एकादशी पड़ने के कारण इसका महत्व काफी बढ़ जाता है। यहां जानें पूजा नियम. Kamika Ekadashi 2019: कब है कामिका एकादशी? व्रत के इन. Dus Ka Dum News in Hindi: kamika ekadashi upay कामिका एकादशी के दिन घर में स्थापित करें विष्णु जी की अष्टधातु की मूर्ति कामिका एकादशी के दिन भगवान को नारियल समेत ये चीजें. कामिका एकादशी आज Ajmernama. श्रावण मास में कई तीज त्यौहार आ रहे हैं व आगे भी आने वाले हैं। ऐसे में हम आपको बता रहे हैं कामिका एकादशी की जो 7 अगस्त को मनाई जाएगी। श्रावण की इस एकादशी को करने से सभी पापों का नाश होता है। इस व्रत को करने का भी खास महत्व.

कामिका एकादशी देती है वाजपेय यज्ञ का फल, पढ़ें.

नई दिल्ली, जेएनएन। रविवार, 28 जुलाई यानी आज सावन महीने की कामिका एकादशी है। इसका हिन्दू धर्म में बहुत महत्व है। सावन शिवजी का प्रिय महीना है और एकादशी भगवान विष्णु की प्रिय तिथि है। कामिका एकादशी पर इन दोनों देवताओं की. कामिका एकादशी 19 को, इस दिन ऐसे विधि विधान से. Ekadashi 2019, Kamika Ekadashi: आज 28 जुलाई रविवार को कामिका एकादशी का व्रत है. हिंदू धर्म में एकादशी तिथि का काफी महत्व है. पद्म पुराण में इस बात का उल्लेख मिलता है कि भगवान कृष्ण ने धर्मराज युधिष्ठिर को एकादशी का धार्मिक. कामिका एकादशी 2018, जानें सही तिथि और मुहूर्त. सावन महीने में पड़ने वाली पहली एकादशी को कामिका एकादशी कहा जाता है। यह एकादशी बहुत खास होती है क्योंकि यह भक्तों के सभी कष्टों को दूकर उनकी इच्छाएं पूरी करती है। तो आइए हम आपको इस पावन कामिका एकादशी के बारे में बताते. What is कामिका एकादशी Kamika Ekadasi Poojan Vidhi and. Know about कामिका एकादशी in Hindi, कामिका एकादशी के बारे में जाने, Explore कामिका एकादशी with Articles, कामिका एकादशी Photos​, कामिका एकादशी Video, कामिका एकादशी न्यूज़, कामिका ​एकादशी ताज़ा ख़बर in Hindi, जानें कामिका एकादशी के बारे में​.

Kamika Ekadashi कामिका एकादशी व्रत, जिसे Amar Ujala.

Kamika Ekadashi Vrat katha हिन्दू पुराणों में कामिका एकादशी व्रत कथा का महत्व विस्तार से बताया गया है। कामिका एकादशी पर भगवान विष्णु की पूजा विधि विधान से करने से व्यक्ति सभी पापों से मुक्ति पाकर. कामिका एकादशी व्रत से होती हैं भक्तों की सभी. वृंदावन में कामिका एकादशी पर ठा. बांकेबिहारी मंदिर में भक्तों की भीड़ दर्शनों को खूब उमड़ी। सुबह 7:45 बजे जैसे ही मंदिर के पट खुले समूचा परिसर ….

कामिका एकादशी जानिए शुभ मुहूर्त, पूजा विधि.

कामिका एकादशी व्रत कथा । kamika ekadashi vrat katha हिन्दू धर्म में वर्ष भर में मनाने वाली विभिन्न एकादशियों में से एक है ​कामिका एकादशी, जिसे भक्त कामदा एकादशी के नाम से भी जानते हैं।. जानिए कब पड़ रही है कामिका एकादशी और. कामिका एकादशी व्रत श्रवण मास कृष्ण पक्ष की गायारस तिथि के दिन रखा जाता है और कामिका एकादशी के लाभ लेने के लिए कामिका एकादशी की महिमा और कामिका एकादशी के उपाय करने होते हैं। कामिका एकादशी 2019 Kamika Ekadashi 2019 में. कामिका एकादशी व्रत करने से दूर होते हैं सभी कष्ट. नमो नारायण मित्रों मैं राहुलेश्वर स्वागत करता हूँ आपका भाग्य मंथन में। आज हम आपको बतायेगें श्रावण मास में पड़ने वाली कामिका एकादशी व्रत के बारे में। एकादशी तिथि पर किये जप, तप, व्रत, दान और रात्रि जागरण सभी का बहुत महत्व. कामिका एकादशी दैनिक भास्कर. रविवार, 28 जुलाई को सावन माह के शुक्ल पक्ष की कामिका एकादशी है। सावन शिवजी का प्रिय माह है और एकादशी भगवान विष्णु की प्रिय तिथि है। कामिका एकादशी पर इन दोनों देवताओं की विशेष पूजा करें। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं.

कामिका एकादशी की ताज़ा ख़बर, कामिका एकादशी.

Ekadashi 2019, Kamika Ekadashi: आज 28 जुलाई रविवार को कामिका एकादशी का व्रत है. हिंदू धर्म में एकादशी तिथि का काफी महत्व है. कामिका एकादशी का व्रत करने से कई यज्ञों के बराबर पुण्य मिलता है. धर्म शास्त्रों में इस बात का जिक्र है. कामिका एकादशी व्रत कामिका एकादशी की Shree. इस बार तो सावन में वैसे ही महासंयोग बन रहा है ऐसे में शिव शंभु को प्रसन्न करने का लिए इससे बड़ा कोई शुभ अवसर ही नहीं हो सकता है। आज कामिका एकादशी है और हिन्दू धर्म में इस एकादशी का विशेष महत्व बताया गया है। शास्त्रों के अनुसार जो व्यक्ति.

जानिए कामिका एकादशी व्रत का महत्व Oneindia Hindi.

श्रावण मास के कृष्ण पक्ष में आने वाली एकादशी को कामिका एकादशी कहा जाता है। इस बार यह एकादशी 7 अगस्त दिन मंगलवार को है लेकिन एकादशी तिथि 7 तारीख को सूर्योदय के समय नहीं होने से इस दिन एकादशी तिथि का क्षय हो गया है। गृहस्थ लोगों के. 19 जुलाई, कामिका एकादशी व्रत, जानें इस व्रत का. धर्म न्यूज़:श्रावण मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को कामिका एकादशी Kamika Ekadashi कहा जाता है। अन्य एकादशियों की तरह हिंदू धर्म में इस एकदशी का भी अपना ही खास महत्व होता है। इस बार 28 जुलाई को यह एकदशी मनाई जाएगी। मान्यता है. कामिका एकादशी हिंदी शब्दमित्र. हिंदू धर्म में एकादशी का व्रत महत्वपूर्ण स्थान रखता है। फ्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशियां होती हैं। जब अधिकमास या मलमास आता है तब इनकी संख्या बढ़कर 26 हो जाती है। स्वयं भगवान ने यही कहा है कि कामिका.

कामिका एकादशी के लाभ, विष्णु जी की हरिभूमि.

सावन महीने में कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि को कामिका एकादशी का व्रत पूजन किया जाता है। इस वर्ष कामिका एकादशी का व्रत 28 जुलाई 2019 को किया जाएगा। कामिका एकादशी के दिन पीले रंग का को बहुत महत्व दिया जाता है। इस एकादशी में भगवान​. सावन माह में रखें कामिका एकादशी Navodaya Times. Worship News in Hindi: kamika ekadashi कामिका एकादशी के दिन सच्चे मन से व्रत करने से सभी तरह की परेशानियों का अंत हो जाता है और हर काम में सफलता मिलती है।. कामिका एकादशी व्रत Dailyhunt. Kamika ekadashi 2019 date significance importance vrat rules all details 3724228 कामिका एकादशी इसी सप्‍ताह है. श्रावण मास में आने वाली इस एकादशी का खास महत्‍व है.

आज है कामिका एकादशी व्रत, जिसे रखने पर मिलता है.

कामिका एकादशी Kamika Ekadashi. कामिका एकादशी: आज करें ये छोटा सा काम Namaste. इतिहास. कामिका एकादशी श्रावण माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी के दिन मनाई जाती है. इस व्रत के पुण्य से जीवात्मा को पाप से मुक्ति मिलती है. यह एकादशी कष्टों का निवारण करने वाली और मनोवांछित फल प्रदान करने वाली होती है. कामिका एकादशी को​. कामिका एकादशी: सावन की इस एकादशी के दिन भूलकर. Navabharat: रविवार, 28 जुलाई यानी आज सावन महीने की कामिका एकादशी है। इसका हिन्दू धर्म में बहुत महत्व है। सावन शिवजी का प्रिय महीना है और एकादशी भगवान विष्णु की प्रिय तिथि है। कामिका एकादशी पर इन दोनों देवताओं की. Kamika Ekadashi Worship Of Lord Vishnu कामिका एकादशी. कामिका एकादशी का क्या है महत्व. क्यों रखा जाता है व्रत.

कामिका एकादशी व्रत कथा Kamika Ekadashi Vrat Katha.

सभी एकादशी व्रतों में से कामिका एकादशी को भगवान विष्णु का उत्तम व्रत माना जाता है क्योकि यह भगवान शिव के पावन महीने श्रावण में आता है।. Navabharat आज है कामिका एकादशी, जानें महत्व, शुभ. श्रावण मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को कामिका एकादशी कहा जाता है। इस एकादशई में भगवान विष्णु की celebrate kamika akadashi today, Astrology Hindi News Hindustan. Kamika Ekadashi Kamika Ekadashi 2019 Know The Importance. कामिका एकादशी व्रत. कामिका एकादशी की रात्रि को दीपदान तथा जागरण के फल का माहात्म्य चित्रगुप्त भी नहीं कह सकते। जो इस एकादशी की रात्रि को भगवान के मंदिर में दीपक जलाते हैं उनके पितर स्वर्गलोक में अमृतपान करते हैं तथा जो घी या तेल. कामिका एकादशी व्रत कथा । kamika Speaking Tree. कामिका एकादशी का व्रत विधान करके सभी लोग अपने कष्टों से मुक्त हो सकते हैं तथा मन की इच्छा को पूरा कर सकते हैं.

Kamika Ekadashi 2019 कामिका एकादशी व्रत कथा पूजन.

कामिका एकादशी. संज्ञा. परिभाषा श्रावण के कृष्ण पक्ष की एकादशी वाक्य में प्रयोग मनोरमा का जन्म कामिका एकादशी को हुआ था । समानार्थी शब्द श्रावण कृष्ण एकादशी, कामिका लिंग अज्ञात शब्द विन्यास विविधता कामिका एकादशी एक तरह. कमिका एकादशी पर तीन दिनों तक करना होता है Jansatta. 28 जुलाई 2019, रविवार को कामिका एकादशी है। सभी एकादशी व्रतों में से कामिका एकादशी को भगवान श्रीहरि विष्णु का उत्तम व्रत माना जाता है, क्योकि यह व्रत भगवान शिव के पवित्र माह श्रावण में आता है। इस दिन श्रीहरि विष्णुजी का. Kamika Ekadashi: इस तारीख को है कामिका एकादशी, व्रत. Kamika ekadashi 2019, puja vidhi, vrat katha and Importance in hindi कामिका एकादशी 2019 भगवान श्री कृष्ण ने युधिष्ठिर को बताया था कि जिस प्रकार पक्षियों में गरूड़, नागों में शेषनाग और मनुष्यों में ब्राह्मण श्रेष्ठ होते हैं उसी प्रकार सभी. आज कामिका एकादशी पर करें चावल का त्याग Patrika. हिंदू धर्म में एकादशी का व्रत महत्वपूर्ण स्थान रखता है। प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशियाँ होती हैं। जब अधिकमास या मलमास आता है तब इनकी संख्या बढ़कर 26 हो जाती है। श्रावण मास की कृष्ण एकादशी का नाम कामिका है। उसके सुनने मात्र से वाजपेय यज्ञ का फल मिलता.