• वाली

    वाली या वली एक उपाधि है जो अरब ख़िलाफ़त और उसमानी साम्राज्य द्वारा किसी प्रशासनिक विभाग के अध्यक्ष के लिए प्रयोग की जाती थी। यह आज भी बहुत सी अरब-भाषी देशों ...

  • सम्पर्क भाषा

    उस भाषा को सम्पर्क भाषा कहते हैं जो किसी क्षेत्र में सामान्य रूप से किसी भी दो ऐसे व्यक्तियों के बीच प्रयोग हो जिनकी मातृभाषाएँ अलग हैं। इसे कई भाषाओं में लि...

  • लिंबू भाषा

    लिंबू भाषा एक किरांत भाषा है। यह भाषा नेपाल के पूर्वी पहाडी क्षेत्और भारत के सिक्किम और उत्तरी पश्चिम बंगाल मै प्रयोजन होता है। यह भाषा सिरिजंगा लिपि मे लिखी...

  • लाओ भाषा

    लाओ या लाओतियन ताई-कादाई भाषा-परिवार की भाषा है। यह लाओस की आधिकारिक भाषा है, इसके अलावा यह थाईलैंड के उत्तरपूर्वी क्षेत्रों में बोली जाती है, जहां इसे इशान ...

  • मलय भाषा

    मलय बोधगम्यता के प्रत्येक बिंदु के आधापर पारस्परिक रूप से निकट भाषाओं का एक समूह है पर भाषाविद् इन सभी भाषाओं को अलग मानते हैं। यह सभी भाषायें एक बड़े समूह ज...

  • मणिपुरी भाषा

    मणिपुरी भारत के असम के निचले हिस्सों एवं मणिपुर प्रांत के लोगों द्वारा बोली जाने वाली प्रमुख भाषा है। इसकी कई उपभाषाएँ भी हैं। मणिपुरी भाषा, मेइतेइ मायेक लिप...

  • मंगोल भाषा

    मंगोल भाषा अलताइक भाषाकुल की तथा योगात्मक बनावट की भाषा है। यह मुख्यत: अनतंत्र मंगोल, भीतरी मंगोल के स्वतंत्र प्रदेश, बुरयात मंगोल राज्य में बोली जाती है। इन...

  • आइसलैण्डिक भाषा

    आइसलैंडिक आइसलैंड की भाषा है, जिसका संबंध उत्तर जर्मनिक भाषा से है। इसके निकटतम संबंधी फरोसे और कुछ नॉर्वेजियन बोलियां जैसे तेलेमार्क बोली और सोग्नामल हैं। ब...

  • अफ़ार भाषा

    अफ़ार एक अफ़्रीकी भाषा है जो इथियोपिया, इरीट्रिया और जिबूती में बोली जाती है। इस भाषा को बोलने वालो की संख्या १४-१५ लाख के लगभग है। इससे मिलती जुलती भाषा है ...

  • बर्बर भाषाएँ

    भाषावैज्ञानिक नज़रिए से इन्हें अफ़्रो-एशियाई या सामी-हामी भाषा-परिवार का सदस्य माना जाता है। बर्बर भाषाओं के छह प्रमुख शाखाएँ हैं - मध्य तैमैज़िग़्त - इसे मध...

  • पाशाई भाषा

    पाशाई अफ़ग़ानिस्तान के पूर्वी नूरिस्तान, नंगरहाऔर कुनर राज्यों में बोली जाने वाली एक दार्दी भाषा है। अनुमान है के १९९८ में इसे २१६,८४२ लोग बोलते थे। पाशाई बो...

  • नेपाली भाषा

    नेपाली, नेपाल की राष्ट्रभाषा है और भारतीय संविधान की ८वीं अनुसूची में सम्मिलित भाषाओं में से एक है। इसे खस कुरा, खस भाषा या गोर्खा खस भाषा भी कहते हैं तथा कु...

  • तुलू भाषा

    तुलू भारत के कर्नाटक राज्य के पश्चिमी किनारे में स्थित दक्षिण कन्नड़ और उडुपि जिलों में तथा उत्तरी केरल के कुछ भागों में प्रचलित भाषा है। पहले तुलू ब्राह्मण ...

  • तुर्कमेन भाषा

    तुर्कमेन तुर्कमेनिस्तान की राष्ट्रीय भाषा है। यह तुर्कमेनिस्तान में रहने वाले करीबन तीस लाख लोगो के अलावा उत्तरी पश्चिमी अफगानिस्तान में रहने वाले करीबन चार ...

  • जमैकन अंग्रेजी

    जमैकन अंग्रेजी जमैका में बोली जाने वाली अंग्रेजी भाषा है। इसमें अमेरिकन अंग्रेजी और ब्रिटिश अंग्रेजी का समिश्रण है, जिसमें ब्रिटिश अंग्रेजी की प्रमुखता है।

  • गोंडी भाषा

    गोंडी भाषा भारत के मध्य प्रदेश के मुख्यतः शहडोल, उमरिया, अनूपपुर, बालाघाट, छिंदवाड़ा, छत्तीसगढ़*छत्तीसगढ़ बस्तर संभाग की मुख्यभाषा है, महाराष्ट्र, आंध्र प्रद...

  • ऐंग्लो-सैक्सन भाषा

    एंग्लो-सैक्सॉन भाषा, पुरानी अंग्रेज़ी या ऐंग्लिस्क वह भाषा है जो आज के इंग्लैंड में ४५० से ११०० ईस्वी के काल में बोली जाती थी। यह एक जर्मैनी भाषा है जो उस का...

  • ऋणशब्द

    ऋणशब्द ऐसे शब्द होते हैं जो एक भाषा में उत्पन्न हुए हों लेकिन किसी अन्य भाषा में, बिना अनुवाद के, प्रयोग होते हों। उदाहरण के लिये, अंग्रेज़ी में एक पंच नामक ...

भाषाएँ

क्वान्यामा भाषा

क्रीम या oshikwanyama में अंगोला और नामीबिया की राष्ट्र भाषा है. यह Oshiwambo भाषा की मानक बोली और भाषा के साथ पारस्परिक कुछ है. लंबे Oshiwambo की भाषा ही ऐसी भाषा है जिसका मानक लिखित रूप में.

जोसफ टेफेन्थैलर

जोसफ टेफेन्थैलर एक ईसाई मिशनरी था जिसने भारत आकर यहाँ बहुत सारा भ्रमण किया और यहीं उसका देहान्त हुआ। भारत के बारे में लिखने वाले सबसे आरम्भिक यूरोपीय भूगोलविदों में उसकी गिनती होती है। वह लैटिन, स्पेनी, फ्रेंच, इतालवी, हिन्दुस्तानी, संस्कृत, अरबी, फारसी आदि अनेक भाषाएँ जानता था।

ऋणशब्द

ऋणशब्द ऐसे शब्द होते हैं जो एक भाषा में उत्पन्न हुए हों लेकिन किसी अन्य भाषा में, बिना अनुवाद के, प्रयोग होते हों। उदाहरण के लिये, अंग्रेज़ी में एक पंच नामक ...

ऐंग्लो-सैक्सन भाषा

एंग्लो-सैक्सॉन भाषा, पुरानी अंग्रेज़ी या ऐंग्लिस्क वह भाषा है जो आज के इंग्लैंड में ४५० से ११०० ईस्वी के काल में बोली जाती थी। यह एक जर्मैनी भाषा है जो उस का...

कोसा भाषा

कोसा / ˈ k oʊ s ə / दक्षिण अफ़्रीका की आधिकारिक भाषाओं में से एक है। यह लगभग 76 लाख लोगों द्वारा बोली जाती है, अर्थात दक्षिण अफ़्रिका की आबादी के लगभग 18% लो...

गोंडी भाषा

गोंडी भाषा भारत के मध्य प्रदेश के मुख्यतः शहडोल, उमरिया, अनूपपुर, बालाघाट, छिंदवाड़ा, छत्तीसगढ़*छत्तीसगढ़ बस्तर संभाग की मुख्यभाषा है, महाराष्ट्र, आंध्र प्रद...

चरकसी भाषा

कॉकस क्षेत्र के चरकस लोगों की कई भाषाओँ को चरकसी भाषा या चरकस्सी भाषा कहा जाता है - कॉकस के पश्चिमोत्तर क्षेत्र की कोई भाषा अदिगेय और कबरदीन की पूर्वज आदि चर...

जमैकन अंग्रेजी

जमैकन अंग्रेजी जमैका में बोली जाने वाली अंग्रेजी भाषा है। इसमें अमेरिकन अंग्रेजी और ब्रिटिश अंग्रेजी का समिश्रण है, जिसमें ब्रिटिश अंग्रेजी की प्रमुखता है।

तुर्कमेन भाषा

तुर्कमेन तुर्कमेनिस्तान की राष्ट्रीय भाषा है। यह तुर्कमेनिस्तान में रहने वाले करीबन तीस लाख लोगो के अलावा उत्तरी पश्चिमी अफगानिस्तान में रहने वाले करीबन चार ...

तुलू भाषा

तुलू भारत के कर्नाटक राज्य के पश्चिमी किनारे में स्थित दक्षिण कन्नड़ और उडुपि जिलों में तथा उत्तरी केरल के कुछ भागों में प्रचलित भाषा है। पहले तुलू ब्राह्मण ...

दार्दी भाषाएँ

दार्दी या दार्दिक भाषाएँ हिन्द-आर्य भाषाओं की एक उपशाखा है जिसकी सबसे जानी-मानी भाषा कश्मीरी है। दार्दी भाषाएँ उत्तरी पाकिस्तान, उत्तर-पूर्वी अफ़ग़ानिस्तान औ...

नेपाली भाषा

नेपाली, नेपाल की राष्ट्रभाषा है और भारतीय संविधान की ८वीं अनुसूची में सम्मिलित भाषाओं में से एक है। इसे खस कुरा, खस भाषा या गोर्खा खस भाषा भी कहते हैं तथा कु...

पाशाई भाषा

पाशाई अफ़ग़ानिस्तान के पूर्वी नूरिस्तान, नंगरहाऔर कुनर राज्यों में बोली जाने वाली एक दार्दी भाषा है। अनुमान है के १९९८ में इसे २१६,८४२ लोग बोलते थे। पाशाई बो...

पैशाची भाषा

पैशाची भाषा उस प्राकृत भाषा का नाम है जो प्राचीन काल में भारत के पश्चिमोत्तर प्रदेश में प्रचलित थी। पश्तो तथा उसके समीपवर्ती दरद भाषाएँ पैशाची से उत्पन्न एवं...

बघेली

बघेली या बाघेली, हिन्दी की एक बोली है जो भारत के बघेलखण्ड क्षेत्र में बोली जाती है। यह मध्य प्रदेश के रीवा, सतना, सीधी, उमरिया, एवं शहडोल, अनूपपुर में; उत्तर...

बर्बर भाषाएँ

भाषावैज्ञानिक नज़रिए से इन्हें अफ़्रो-एशियाई या सामी-हामी भाषा-परिवार का सदस्य माना जाता है। बर्बर भाषाओं के छह प्रमुख शाखाएँ हैं - मध्य तैमैज़िग़्त - इसे मध...

अफ़ार भाषा

अफ़ार एक अफ़्रीकी भाषा है जो इथियोपिया, इरीट्रिया और जिबूती में बोली जाती है। इस भाषा को बोलने वालो की संख्या १४-१५ लाख के लगभग है। इससे मिलती जुलती भाषा है ...

अवेस्ती भाषा

अवेस्ती भाषा एक पूर्वी इरानी भाषा है। यह भाषा पारसी धर्म जोरोस्ट्रियन अभेस्ता के पवित्र भजन एवं ग्रंथ में प्रयोजित है। यह भाषा इरानी भाषाऔं में से एक है। इरा...

आइसलैण्डिक भाषा

आइसलैंडिक आइसलैंड की भाषा है, जिसका संबंध उत्तर जर्मनिक भाषा से है। इसके निकटतम संबंधी फरोसे और कुछ नॉर्वेजियन बोलियां जैसे तेलेमार्क बोली और सोग्नामल हैं। ब...

मंगोल भाषा

मंगोल भाषा अलताइक भाषाकुल की तथा योगात्मक बनावट की भाषा है। यह मुख्यत: अनतंत्र मंगोल, भीतरी मंगोल के स्वतंत्र प्रदेश, बुरयात मंगोल राज्य में बोली जाती है। इन...

मणिपुरी भाषा

मणिपुरी भारत के असम के निचले हिस्सों एवं मणिपुर प्रांत के लोगों द्वारा बोली जाने वाली प्रमुख भाषा है। इसकी कई उपभाषाएँ भी हैं। मणिपुरी भाषा, मेइतेइ मायेक लिप...

मलय भाषा

मलय बोधगम्यता के प्रत्येक बिंदु के आधापर पारस्परिक रूप से निकट भाषाओं का एक समूह है पर भाषाविद् इन सभी भाषाओं को अलग मानते हैं। यह सभी भाषायें एक बड़े समूह ज...

लाओ भाषा

लाओ या लाओतियन ताई-कादाई भाषा-परिवार की भाषा है। यह लाओस की आधिकारिक भाषा है, इसके अलावा यह थाईलैंड के उत्तरपूर्वी क्षेत्रों में बोली जाती है, जहां इसे इशान ...

लिंबू भाषा

लिंबू भाषा एक किरांत भाषा है। यह भाषा नेपाल के पूर्वी पहाडी क्षेत्और भारत के सिक्किम और उत्तरी पश्चिम बंगाल मै प्रयोजन होता है। यह भाषा सिरिजंगा लिपि मे लिखी...

सम्पर्क भाषा

उस भाषा को सम्पर्क भाषा कहते हैं जो किसी क्षेत्र में सामान्य रूप से किसी भी दो ऐसे व्यक्तियों के बीच प्रयोग हो जिनकी मातृभाषाएँ अलग हैं। इसे कई भाषाओं में लि...

वाली

वाली या वली एक उपाधि है जो अरब ख़िलाफ़त और उसमानी साम्राज्य द्वारा किसी प्रशासनिक विभाग के अध्यक्ष के लिए प्रयोग की जाती थी। यह आज भी बहुत सी अरब-भाषी देशों ...