अजा एकादशी

हिंदू धर्म में एकादशी का व्रत महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशियाँ होती हैं। जब अधिकमास या मलमास आता है तब इनकी संख्या बढ़कर 26 हो जाती है। भाद्रपद कृष्ण एकादशी का क्या नाम है? व्रत करने की विधि तथा इसका माहात्म्य कृपा करके कहिए। मधुसूदन कहने लगे कि इस एकादशी का नाम अजा है। यह सब प्रकार के समस्त पापों का नाश करने वाली है। जो मनुष्य इस दिन भगवान ऋषिकेश की पूजा करना चाहिए।

1. कथा
कुंतीपुत्र युधिष्ठिर कहने लगे कि हे भगवान! भाद्रपद कृष्ण एकादशी का क्या नाम है? व्रत करने की विधि तथा इसका माहात्म्य कृपा करके कहिए। मधुसूदन कहने लगे कि इस एकादशी का नाम अजा है। यह सब प्रकार के समस्त पापों का नाश करने वाली है। जो मनुष्य इस दिन भगवान ऋषिकेश की पूजा करता है उसको वैकुंठ की प्राप्ति अवश्य होती है। अब आप इसकी कथा सुनिए।
प्राचीनकाल में हरिशचंद्र नामक एक चक्रवर्ती राजा राज्य करता था। उसने किसी कर्म के वशीभूत होकर अपना सारा राज्य व धन त्याग दिया, साथ ही अपनी स्त्री, पुत्र तथा स्वयं को बेच दिया।
वह राजा चांडाल का दास बनकर सत्य को धारण करता हुआ मृतकों का वस्त्र ग्रहण करता रहा। मगर किसी प्रकार से सत्य से विचलित नहीं हुआ। कई बार राजा चिंता के समुद्र में डूबकर अपने मन में विचार करने लगता कि मैं कहाँ जाऊँ, क्या करूँ, जिससे मेरा उद्धार हो।
इस प्रकार राजा को कई वर्ष बीत गए। एक दिन राजा इसी चिंता में बैठा हुआ था कि गौतम ऋषि आ गए। राजा ने उन्हें देखकर प्रणाम किया और अपनी सारी दु:खभरी कहानी कह सुनाई। यह बात सुनकर गौतम ऋषि कहने लगे कि राजन तुम्हारे भाग्य से आज से सात दिन बाद भाद्रपद कृष्ण पक्ष की अजा नाम की एकादशी आएगी, तुम विधिपूर्वक उसका व्रत करो।
गौतम ऋषि ने कहा कि इस व्रत के पुण्य प्रभाव से तुम्हारे समस्त पाप नष्ट हो जाएँगे। इस प्रकार राजा से कहकर गौतम ऋषि उसी समय अंतर्ध्यान हो गए। राजा ने उनके कथनानुसार एकादशी आने पर विधिपूर्वक व्रत व जागरण किया। उस व्रत के प्रभाव से राजा के समस्त पाप नष्ट हो गए।
स्वर्ग से बाजे बजने लगे और पुष्पों की वर्षा होने लगी। उसने अपने मृतक पुत्र को जीवित और अपनी स्त्री को वस्त्र तथा आभूषणों से युक्त देखा। व्रत के प्रभाव से राजा को पुन: राज्य मिल गया। अंत में वह अपने परिवार सहित स्वर्ग को गया।

2. उद्देश्य
हे राजन! यह सब अजा एकादशी के प्रभाव से ही हुआ। अत: जो मनुष्य यत्न के साथ विधिपूर्वक इस व्रत को करते हुए रात्रि जागरण करते हैं, उनके समस्त पाप नष्ट होकर अंत में वे स्वर्गलोक को प्राप्त होते हैं। इस एकादशी की कथा के श्रवणमात्र से अश्वमेध यज्ञ का फल प्राप्त होता है।

  • वर ष ह त ह श क ल प चम न ग प चम श क ल एक दश : प त रद एक दश प र ण म रक ष बन धन क ष ण एक दश अज एक दश क ष ण अष टम जन म ष टम प च ग श र वण म ह
  • पक ष क एक दश और अम वस य क ब द आन व ल एक दश क श क ल पक ष क एक दश कहत ह इन द न प रक र क एक दश य क भ रत य सन तन स प रद य म बह त महत त व
  • क ष ण एक दश क क य न म ह इसक व ध तथ फल क य ह स क प करक कह ए भगव न श र क ष ण कहन लग क इस एक दश क न म इ द र एक दश ह यह एक दश प प
  • व जय एक दश अपन न म न स र व जय प र दन करन व ल ह भय कर शत र ओ स जब आप घ र ह और पर जय स मन खड ह उस व कट स थ त म व जय न मक एक दश आपक
  • श क ल पक ष क एक दश क ह द वशयन एक दश कह ज त ह कह - कह इस त थ क पद मन भ भ कहत ह स र य क म थ न र श म आन पर य एक दश आत ह इस
  • क जन म आज स लगभग 3 हज र वर ष प र व व र णस म ह आ थ व र ण स म अश वस न न म क इक ष व क व श य र ज थ उनक र न व म न प ष क ष ण एक दश क द न
  • मध य प रद श र ज य क उज ज न नगर म प रत वर ष क र त क श क ल एक दश द वप रब ध न एक दश क आय ज त ह त ह क ल द स सम र ह त न अलग - अलग चरण म मन य
  • लखनऊ म इसक ब ध वत स थ पन ह ई म फ ल ग न श क ल पक ष क एक दश र गभर एक दश क म रज प र इक ई क गठन क य गय स कल य व म क तय अर थ त कल
  • द र ग क न व म ज य त ष गणपत दत त क ज य त ष य पर मर श पर ज य ष ठ श क ल एक दश तदन स र, 12 मई 1459 ई व र शन व र क र ज र म म घव ल क ज व त ह ग ड द य
  • एक प रम ख त य ह र ह म ख य र प स यह त य ह र भ द लगभग स तम बर म स क एक दश क द न और क छ क स थ न पर उस क आसप स मन य ज त ह इस म क पर ल ग प रक त
  • श क ल एक दश न र जल एक दश व क रम स वत श क रव र क उत तर प रद श क श हजह प र म जन म र म प रस द वर ष क आय म प ष क ष ण एक दश सफल
  • म द र ड ग ग कल य ण मन द र, ड ग ग म लप र - यह पर भ द रपद स क ल एक दश क व श ल म ल लगत ह अरब फ रस श ध स स थ न ट क - इसक स थपन 4 द स बर
  • श व त श वतर उपन षद ज ईश द दस प रध न उपन षद क अन तर एक दश एव श ष उपन षद म अग रण ह क ष ण यज र व द क अ ग ह छह अध य य और 113 म त र क इस
  • च ड प रस द भट ट क ब हतर न य त र ओ क स ग रह ह 23 ज न 1934 क न र जल एक दश क द न ग प श वर ग व ज ल चम ल उत तर ख ड क एक गर ब पर व र म जन म
  • म प र ण त य गन व ल क प नर जन म नह ह त फ ल ग न श क ल - एक दश क क श म र गभर एक दश कह ज त ह इस द न ब ब व श वन थ क व श ष श र ग र ह त ह
  • ऋग व दक ल स ल कर आज तक स स क त भ ष क म ध यम स सभ प रक र क व ङ मय क न र म ण ह त आ रह ह ह म लय स ल कर कन य क म र क छ र तक क स न क स र प म
  • जनत प रत वर ष आष ढ और क र त क एक दश क उनक दर शन क ल ए प ढरप र क व र य त र क य करत थ यह प रथ आज भ प रचल त ह इस प रक र क व र
  • भ ध र म क अन ष ठ न क र प म उसक स थ न द य गय ह प रत य क म स क एक दश श क ळ पक ष और श व त पक ष, म स क प रथम शन व र, श र वण म स क चत र थ स क र न त
  • ह यह प रत य क अम वस य स मवत अम वस य प र ण म र मनवम म क षद एक दश आद अवसर पर त र थय त र य क बड स ख य म आव गमन ह त ह और ग ग म
  • ह द धर म म एक दश क व रत महत वप र ण स थ न रखत ह प रत य क वर ष च ब स एक दश य ह त ह जब अध कम स य मलम स आत ह तब इनक स ख य बढ कर 26 ह ज त
  • थ इस ल ए यह त थ ग त जय त क न म स भ प रस द ध ह और इस एक दश क म क षद एक दश कहत ह भगव न न अर ज न क न म त त बन कर, व श व क म नव म त र
  • प प प ट, म झल र न पर वर तन, द ष ट क ण, कदम क फ ल, क स मत, मछ य क ब ट एक दश आह त थ त अमर ई, अन र ध, व ग र म ण क ल कह न य ह इन कह न य
  • बत य गय ह भगव न क न व द य लग न क मह म एक दश क द न क र तन अखण ड एक दस व रत रहन क प ण य और एक दश क र त म ज गरण करन क फ ल बत य गय ह इसक
  • थ र म र ग पर एक व श ल शह द स म रक क न र म ण ह आ, और प रत य क वर ष क र त क एक दश क द न यह म ल क आय जन ह त ह अम ठ र य सत क इत ह स एक हज र वर ष स
  • अपन शर र त य ग क य थ प रत य क एक दश और अक षय नवम क मथ र क पर क रम ह त ह द वशयन और द व त थ पन एक दश क मथ र - गर ड ग व न द - व न द वन क
  • श र खल म द ख य व द क ब द ट स ट ट म म श म ल क य गय थ ल क न, अ त म एक दश म त ड करन म असमर थ ह न क ब द 16 मह न क ल ए भ रत य ट स ट दस त
  • कहत ह क मह प रभ बल लभ च र य क न ष ठ क पर क ष ल न क ल ए उनक एक दश व रत क द न प र पह चन पर मन द र म ह क स न प रस द द द य मह प रभ
  • व स तव क कल य ग प र रम भ ह आ इस गण त स आज व स द न क क कल स वत व म स क क ष ण पक ष क एक दश त थ चल रह ह ब रह म ज क एक द न
  • अह स सत य, अपर ग रह, अस त य, न र भयत ब र ह चर य, सर वधर म समभ व आद एक दश व रत ह ज सक व यक त गत ज वन इन व रत क क रण श द ध नह ह वह सच च
  • कहत ह क मह प रभ बल लभ च र य क न ष ठ क पर क ष ल न क ल ए उनक एक दश व रत क द न प र पह चन पर मन द र म ह क स न प रस द द द य मह प रभ

अजा एकादशी: अजा एकादशी कब है, अजा एकादशी की कहानी, अजा एकादशी 2019, अजा एकादशी व्रत की कथा, एकादशी अगस्त 2019, एकादशी व्रत कथा 2019, एकादशी व्रत लिस्ट, एकादशी कब है 2019

अजा एकादशी 2019.

26 अगस्त को है अजा एकादशी व्रत, इस व्रत को Amar Ujala. भाद्रपद कृष्ण पक्ष की एकादशी का अजा या कामिका एकादशी के नाम से पूजा जाता है। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है तथा रात्रि जागरण व व्रत किया जाता है। शास्त्रों में कहा गया है कि इस दिन का व्रत करने से समस्त पापों और दुर्भाग्य से​. अजा एकादशी व्रत की कथा. अजा एकादशी व्रत कथा Aja Ekadashi Vrat Bh. अजा एकादशी व्रत कथा Aja Ekadashi Katha in Hindi. प्राचीनकाल में हरिशचंद्र नामक एक चक्रवर्ती राजा राज्य करता था। उसने किसी कर्म के वशीभूत होकर अपना सारा राज्य व धन त्याग दिया, साथ ही अपनी स्त्री, पुत्र तथा स्वयं को भी बेच दिया। वह राजा चांडाल​. एकादशी व्रत कथा 2019. अजा एकादशी कामिका एकादशी भाद्रपद Raju Das. श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के बाद यानी भाद्रपद कृष्ण एकादशी के दिन आती है अजा एकादशी। इस दिन व्रत करने वाले जातक को निराहार या अल्प आहार करना चाहिए। कहते हैं इस दिन उपवास करने से लक्ष्य की तन्मयता मिलती है। इस एकादशी को जया.

एकादशी कब है 2019.

Aja Ekadashi 2019: आज है अजा एकादशी व्रत का Jansatta. नई दिल्ली भाद्रपद मास की कृष्ण पक्ष की एकादशी को अजा एकादशी के नाम से जाना जाता है. अजा एकादशी पर भगवान विष्णु की पूजा अर्चना करने से देवी लक्ष्मी का आशीर्वाद भी प्राप्त हो सकता है. अजा एकादशी भगवान विष्णु की. अजा एकादशी की कहानी. Navabharat जानें अजा एकादशी का महत्व एवं व्रत विधि. अजा एकादशी कामिका एकादशी भाद्रपद कृ्ष्ण पक्ष की एकादशी अजा या कामिका एकादशी के नाम से जानी जाती है. इस एकादशी के दिन भगवान श्री विष्णु जी की पूजा.

अजा एकादशी की महिमा और महत्व, इन दिव्य प्रयोगों.

एक साल में 24 एकादशियां होती हैं, लेकिन मलमास या अधिकमास होने की स्थिति में इनकी संख्या 26 हो जाती है। हिंदू परंपरा में एकादशी को पुण्य कार्यों के लिए महत्वपूर्ण माना गया है। भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को अजा. जानें अजा एकादशी का महत्व, पूजा Navbharat Times. अजा एकादशी पर भगवान विष्णु की पूजा अर्चना करने से देवी लक्ष्मी का आशीर्वाद भी प्राप्त हो सकता है. Text अजा एकादशी व्रत कथा Bhakti Darshan. अब आप कृपा करके मुझे भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की एकादशी के विषय में भी बतलाइये। इस एकादशी का क्या नाम है तथा इसके व्रत का क्या विधान है? इसका व्रत करने से किस फल की प्राप्ति होती है? अजा एकादशी व्रत कथा Watch Youtube Vrat Kath Video Aja.

एकादशी व्रत 2020 डेट्स फ़ास्ट, एकादशी Shri Mathura Ji.

5 फरवरी बुधवार यानी आज जया एकादशी व्रत है। हिंदू शास्‍त्र के मुताबिक, माघ महीने के शुक्ल पक्ष में जो एकादशी आती है उसे जया एकादशी कहा जाता है। हालांकि अजा एकादशी. अजा एकादशी व्रत दैनिक भास्कर. Aja ekadashi 2019 date importance significance vrat vidhi 3752648 Aja Ekadashi 2019 का काफी महत्‍व है. इस एकादशी का व्रत रखने से भगवान विष्णु के साथ मां लक्ष्मी का आशीर्वाद प्राप्त होता है. Aja Ekadashi 2019 अजा एकादशी कब है 2019 में हरिभूमि. इस साल अजा एकादशी 26 अगस्त यानी की सोमवार को पड़ रही है। इस दिन व्रत रखना और पूजा करने से कई सारी समस्याएं दूर हो जाती हैं। इसलिए हम आपको इस व्रत की महत्वता के बारे में बताने जा रहे हैं। Read latest hindi news ताजा हिन्दी समाचार on.

क्या है अजा एकादशी का महत्व? Astrotak.

5 फरवरी 2020 को जया एकादशी का व्रत है। बता दें, हर साल माघ माह की शुक्ल पक्ष की एकादशी को जया एकादशी मनाई जाती है। जया एकादशी को अजा एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। आइए जानते हैं क्या है जया एकादशी का महत्व और कथा. अजा एकादशी 2019: व्रत करने से होता है सभी पापों का. आज अजा एकादशी है, जो व्यक्ति अजा एकादशी व्रत करता है उसके लिए मोक्ष के द्वार खुल जाते हैं। इससे सांसारिक लाभ तो प्राप्त होता ही है साथ में मृत्यु उपरांत परलोक में आनंद मिलता है। वहीं इस दिन भगवान विष्णु की विशेष.

Ekadashi Aja Ekadashi 2019 date puja vidhi importance vrat katha.

Aja Ekadashi 2019 अजा एकादशी का व्रत Aja Ekadashi Vrat रखना चाहते हैं और आपको अजा एकादशी 2019 की तिथि Aja Ekadashi Date 2019, अजा एकादशी शुभ मुहूर्त Aja Ekadashi 2019 Subh Mahurat, अजा. अजा एकादशी का व्रत कल, जानिए पूजा विधि और इसका. अजा एकादशी का महत्व: भगवान श्रीकृष्ण ने अर्जुन को अजा एकादशी के महत्व के बारे में बताया था। कृष्ण ने अर्जुन से कहा था कि कृष्णपक्ष में पड़ने वाली एकादशी के दिन जो व्यक्ति व्रत रखकर भगवान विष्णु एवं मां लक्ष्मी की पूजा करता. अजा एकादशी आज: इस विधि से करें पूजा Samachar Jagat. वैष्णव अजा या अन्नदा एकादशी उपवास कृष्ण पक्ष, भाद्रपद ​हृषिकेश मास, विक्रम संवत् 2076 मंगलवार, 27 अगस्त, 2019 अन्न ग्रहण न करें । यदि अनिवार्य हो तो जल, दूध, फल आदि ले सकते हैं। हरे कृष्ण महामन्त्र का जप तथा संकीर्तन भगवद् गीता.

Aja Ekadashi 2019: आज है अजा एकादशी, जानिए व्रत कथा.

आज अजा एकादशी है। विष्णु भगवान के भक्त और एकादशी का व्रत करनेवाले श्रद्धालु हर साल इस एकादशी पर विशेष तैयारियां करते हैं। नियम और पूजा विधि के अनुसार भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है। इस बार एकादशी तिथि 5. अजा एकादशी की महिमा और महत्व, इन दिव्य Aaj Tak. हिंदू धर्म में एकादशी का व्रत महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशियाँ होती हैं। जब अधिकमास या मलमास आता है तब इनकी संख्या बढ़कर 26 हो जाती है। भाद्रपद कृष्ण एकादशी का क्या नाम है? व्रत करने की विधि तथा इसका माहात्म्य कृपा करके. अजा एकादशी 2019 जानें एकादशी व्रत की पूजा विधि व. अजा एकादशी के व्रत में सबसे पहले सुबह उठकर स्नान करें, उसके सूर्य देवता को जल अर्पित करें। ध्यान रखें जल हमेशा तांबे के लोटे से चढ़ाएं उसके बाद सूर्य भगवान को लाल फूल अर्पित करें। व्रत के दिन किसी मंदिर में जाएं और ध्वज दान करें। शिवलिंग की. अजा एकादशी 2019 कई हजार पापों का नाश करता है यह. सोमवार Monday 26 अगस्त 2019 यानी की आज ही के दिन देशभर में अजा एकादशी Aja Ekadashi मनाया जा रहा है.

एकादशी महत्व कथा Speaking Tree.

नई दिल्ली। भाद्रपद माह के कृष्णपक्ष की एकादशी तिथि को अजा एकादशी के नाम से जाना जाता है। इस बार अजा एकादशी का क्षय हो गया है। क्योंकि यह एकादशी तिथि 26 अगस्त को सूर्योदय के बाद प्रारंभ होकर 27 अगस्त को सूर्योदय से पूर्व ही. अजा एकादशी 2019 इम्पोर्टेंस Significance Inext Live. भगवान श्री विष्णु जी की पूजा करनी चाहिए डेस्क अजा एकादशी का व्रत करने के लिए उपरोक्त. अजा एकादशी के दिन राशिनुसार करें ये Hindi News. जीवन मंत्र डेस्क.हिन्दू कैलेंडर के अनुसार भाद्रपद महीने के कृष्णपक्ष की एकादशी को अजा एकादशी कहा जाता है। ये श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के बाद पड़ती है। Aja Ekadashi on 26 August This fast is for happiness, prosperity and destruction of sins. Aja Ekadashi 2019: अजा एकादशी तिथि, महत्‍व. नई दिल्ली भाद्रपद मास की कृष्ण पक्ष की एकादशी को अजा एकादशी के नाम से जाना जाता है. अजा एकादशी पर भगवान विष्णु की. Aja Ekadashi 2019: अजा एकादशी व्रत आज, नहीं खाना. अन्नदाता एकादशी यानी अजा एकादशी भादो महीने के कृष्ण पक्ष की एकादशी को मनाया जाता है. माना जाता है कि इस दिन व्रत करने से तत्काल प्रभाव से सारी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं. इस मौके पर भगवान विष्णु के उपंद्र रूप की विधिवत.

अजा एकादशी आज, सुख समृद्धि और पाप Dainik Bhaskar.

Aja Ekadashi 2019: अजा एकादशी का व्रत सोमवार 26 अगस्‍त को है, इसका पारण मंगलवार 27 अगस्त किया जाएगा। आइए जानें इसकी व्रत कथा और यह व्रत कैसे करना चाहिए।. जानें अजा एकादशी की महत्व, भगवान Hindi News. हिन्दू धर्मं में अजा एकादशी 2019 का महत्व, इसकी व्रत कथा और पूजा विधि Aja Ekadashi Mahatav,Vrat Katha and Puja Vidhi in Hindi. अजा एकादशी व्रत: ये व्रत करने से राजा हरिश्चंद्र को. क्या है अजा एकादशी का महत्व? ज्योतिर्विद पंडित शैलेंद्र पांडेय से महाभाग्य में जानिए अजा एकादशी का क्या है महत्व और कैसे एकादशी के दिन महाउपायों से होगा महालाभ? What is the importance of Ajay Ekadashi? Astro Tips. 5th Sep 18. एकादशी 2019 एकादशी व्रत तिथि 2019 Ekadashi 2019. भाद्रपद कृष्ण पक्ष एकादशी को अजा एकादशी कहा जाता है। भगवान विष्णु का समर्पित इस व्रत Aja Ekadashi, Astrology Hindi News Hindustan.

अजा एकादशी व्रत: राजा हरिश्चंद्र को ये व्रत करने से.

हिंदू धर्म एकादशी का खास महत्व होता है. भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष में पड़ने वाली एकादशी को अजा या जया एकादशी कहा जाता है. इस बार ये एकादशी 26 अगस्त यानी आज पड़ रही है. इसी के साथ इस बार अजा एकादशी पर खास योग बन रहा है. दरअसल 26. अजा एकादशी के व्रत से सभी पाप होते हैं खत्म. अजा एकादशी Aja Ekadasi Aja Ekadashi Vrat Vidhi Aja Ekadasi Fast Story. भाद्रपद कृ्ष्ण पक्ष की एकादशी अजा या कामिका एकादशी के नाम से जानी जाती है. इस दिन की एकादशी के दिनभगवान श्री विष्णु जी की पूजा करनी चाहिए. 25 अगस्त के दिन वर्ष 2011 में अजा. अजा एकादशी व्रत कथा Aja Ekadashi Vrat Katha Aja Ekadashi. Aja Ekadashi 2019, Vrat Katha, Puja Vidhi Mahatva Parana Time: इस बार अजा एकादशी 26 अगस्त सोमवार को रखा गया जिसका पारण आज यानी कि 27 अगस्त को है। अजा एकादशी के दिन भगवान विष्णु सहित माता लक्ष्मी की पूजा का विधान है।.

कृष्ण एकादशी का हुआ क्षय इसलिए इस Oneindia Hindi.

14. 12 जुलाई 2019, शुक्रवार, देवशयनी एकादशी. 15. 28 जुलाई, 2019, रविवार, कामिका एकादशी. 16. 11 अगस्त, 2019, रविवार, श्रावण पुत्रदा एकादशी. 17. 26 अगस्त 2019, सोमवार, अजा एकादशी. 27 अगस्त, 2019, मंगलवार, गौना अजा एकादशी वैष्णवी एकादशी. अजा एकादशी व्रत और पूजा विधि in hindi धर्म रफ़्तार. पदम पुराण के अनुसार भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी को अजा एकादशी के नाम से जाना जाता है। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा तथा व्रत करने का विधान है। अजा एकादशी व्रत Aja Ekadashi Vrat साल 2019 में अजा एकादशी व्रत 15 फ़रवरी को रखा जाएगा।.

Aja Ekadashi 2018: अजा एकादशी व्रत विधि, महत्व और कथा.

अजा एकादशी व्रत कथा, Aja Ekadashi Vrat Katha, Aja Ekadashi Vrat Kahani, अजा एकादशी व्रत कब हैं २०१९, Aja Vrat Kab Hai 2019, अजा एकादशी व्रत कथा का पुण्य, Aja Ekadashi Vrat Katha Ka Punya, Aja Ekadashi Vrat Katha Pdf, Aja Ekadashi Vrat Katha Pdf Download, Aja Ekadashi Vrat. Aja Ekadashi 2019: आज अजा एकादशी के दिबन News State. अजा एकादशी Aja Ekadashi. जानिए पापों से मुक्ति दिलानेवाली अजा एकादशी. अन्नदाता एकादशी यानी अजा एकादशी Aja ekadshi भादो महीने के कृष्ण पक्ष की एकादशी को मनाया जाता है. माना जाता है कि इस दिन व्रत करने से तत्काल प्रभाव से सारी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं. इस मौके पर भगवान विष्णु के उपंद्र रूप. आज है जया एकादशी का व्रत, जानिए पूजा का मुहूर्त. भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी अजा नाम से प्रसिद्घ है तथा इसे अन्नदा एकादशी भी कहा जाता है। इस एकादशी के व्रत से जीव के जन्म जन्मांतरों के सभी पाप नष्ट हो जाते हैं, वहीं उनके संताप मिटने से.