परिवर्तिनी एकादशी

हिंदू धर्म में एकादशी का व्रत महत्वपूर्ण स्थान रखता है। प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशियाँ होती हैं। जब अधिकमास या मलमास आता है तब इनकी संख्या बढ़कर 26 हो जाती है। यह एकादशी जयंती एकादशी भी कहलाती है। इसका यज्ञ करने से वाजपेय यज्ञ का फल मिलता है। पापियों के पाप नाश करने के लिए इससे बढ़कर कोई उपाय नहीं। जो मनुष्य इस एकादशी के दिन मेरी पूजा करता है, उससे तीनों लोक पूज्य होते हैं।

1. पौराणिक कथा
युधिष्ठिर कहने लगे कि हे भगवान! भाद्रपद शुक्ल एकादशी का क्या नाम है? इसकी विधि तथा इसका माहात्म्य कृपा करके कहिए। तब भगवान श्रीकृष्ण कहने लगे कि इस पुण्य, स्वर्ग और मोक्ष को देने वाली तथा सब पापों का नाश करने वाली, उत्तम वामन एकादशी का माहात्म्य मैं तुमसे कहता हूँ तुम ध्यानपूर्वक सुनो।
यह एकादशी जयंती एकादशी भी कहलाती है। इसका यज्ञ करने से वाजपेय यज्ञ का फल मिलता है। पापियों के पाप नाश करने के लिए इससे बढ़कर कोई उपाय नहीं। जो मनुष्य इस एकादशी के दिन मेरी वामन रूप की पूजा करता है, उससे तीनों लोक पूज्य होते हैं। अत: मोक्ष की इच्छा करने वाले मनुष्य इस व्रत को अवश्य करें।
जो कमलनयन भगवान का कमल से पूजन करते हैं, वे अवश्य भगवान के समीप जाते हैं। जिसने भाद्रपद शुक्ल एकादशी को व्रत और पूजन किया, उसने ब्रह्मा, विष्णु सहित तीनों लोकों का पूजन किया। अत: हरिवासर अर्थात एकादशी का व्रत अवश्य करना चाहिए। इस दिन भगवान करवट लेते हैं, इसलिए इसको परिवर्तिनी एकादशी भी कहते हैं।
भगवान के वचन सुनकर युधिष्ठिर बोले कि भगवान! मुझे अतिसंदेह हो रहा है कि आप किस प्रकार सोते और करवट लेते हैं तथा किस तरह राजा बलि बलि को बाँधा और वामन रूप रखकर क्या-क्या लीलाएँ कीं? चातुर्मास के व्रत की क्या ‍विधि है तथा आपके शयन करने पर मनुष्य का क्या कर्तव्य है। सो आप मुझसे विस्तार से बताइए।
श्रीकृष्ण कहने लगे कि हे राजन! अब आप सब पापों को नष्ट करने वाली कथा का श्रवण करें। त्रेतायुग में बलि नामक एक दैत्य था। वह मेरा परम भक्त था। विविध प्रकार के वेद सूक्तों से मेरा पूजन किया करता था और नित्य ही ब्राह्मणों का पूजन तथा यज्ञ के आयोजन करता था, लेकिन इंद्र से द्वेष के कारण उसने इंद्रलोक तथा सभी देवताओं को जीत लिया।

  • पक ष क एक दश और अम वस य क ब द आन व ल एक दश क श क ल पक ष क एक दश कहत ह इन द न प रक र क एक दश य क भ रत य सन तन स प रद य म बह त महत त व

परिवर्तिनी एकादशी: एकादशी व्रत लिस्ट 2019, जलझूलनी एकादशी की कथा, एकादशी व्रत कथा, parivartini एकादशी 2019, एकादशी २०१८, अजा एकादशी, एकादशी बिरथ, एकादशी कैलेंडर

एकादशी बिरथ.

परिवर्तनी एकादशी 2019: भगवान विष्णु Navbharat Times. भाद्रपद के शुक्ल पक्ष में आने वाली एकादशी को पद्मा एकादशी और परिवर्तिनी एकादशी कहते हैं। इस बार यह एकादशी 9 सितंबर यानी आज है। पद्म पुराण के अनुसार चतुर्मास के दौरान आने वाली एकादशी का महत्व देवशयनी और देवप्रबोधिनी. अजा एकादशी. Navabharat परिवर्तिनी एकादशी के व्रत का महत्व. सूत्रों के अनुसार, 20 सितम्बर 2018 आज को भाद्रपद शुक्ल पक्ष की एकादशी है इस एकादशी को शास्त्रों में पद्मा एकादशी के नाम से जाना जाता है। आपको बता दे कि चतुर्मास में शयन के दौरान भगवान विष्णु इसी दिन करवट बदलते हैं इसलिए.

एकादशी व्रत कथा.

परिवर्तिनी एकादशी: जानिए क्यों होती है इस दिन. Parsva Ekadashi Katha in Hindi: कुछ जगह इसे पद्मा एकादशी या पार्श्‍व एकादशी भी कहा जाता है। इस दिन व्रत रखने का विधान है। इस व्रत को समस्त पापों से मुक्ति वाला माना जाता है। जानिए परिवर्तिनी एकादशी की पूजा विधि, मुहूर्त और व्रत कथा. जलझूलनी एकादशी की कथा. परिवर्तिनी एकादशी के दिन ऐसे करें पूजा News State. देखें साल 2019 में पड़ने वाली सभी एकादशी, उपवास के दिन, व्रत तिथियां, मुहूर्त और पूजा 9 सितंबर, 2019, सोमवार, पार्श्व परिवर्तिनी एकादशी. 19. 25 सितंबर, 2019, बुधवार, इंदिरा एकादशी. 20. 9 अक्टूबर, 2019, बुधवार, पापांकुशा एकादशी. 21. एकादशी व्रत लिस्ट 2019. परिवर्तिनी एकादशी. हिंदू धर्म में एकादशी का व्रत महत्वपूर्ण स्थान रखता है। प्रत्येक वर्ष चौबीस एकादशियाँ होती हैं। जब अधिकमास या मलमास आता है तब इनकी संख्या बढ़कर 26 हो जाती है। यह एकादशी जयंती एकादशी भी कहलाती है। इसका यज्ञ करने से वाजपेय यज्ञ का फल मिलता है।.

परिवर्तिनी एकादशी व्रत से मिलता है Prabhasakshi.

जलझूलनी एकादशी की पूजा विधि, Jal Jhulani Ekadashi Ki Puja Vidhi, Kaise Kare Jal Jhulani Ekadashi Ki Puja, Jal Jhulani Ekadashi Ki Pooja Vidhi, धर्म ग्रंथों के अनुसार, जो भी जातक परिवर्तिनी एकादशी व्रत करते हुए रात्रि जागरण करते हैं, उनके समस्त पाप नष्ट. पद्मा एकादशी व्रत और पूजा विधि in hindi धर्म रफ़्तार. परिवर्तिनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु के वामन अवतार की पूजा करने का विधान है. इस एकादशी के दिन भगवान विष्णु क्षीर सागर में सोते हुए करवट लेते हैं इसलिए इस एकादशी को परिवर्तिनी एकादशी कहा जाता है. यह एकादशी भाद्रपद के शुक्ल​. आज है जलझूलनी एकादशी, जानें इसका महत्व और क्या. परिवर्तिनी एकादशी के दिन ही राजा बलि ने विष्णु के वामन अवतार की पूजा की थी। वामन एकादशी के दिन उपवास रखकर पूरे विधि विधान से भगवान विष्णु की पूजा करने से सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।. परिवर्तिनी एकादशी के दिन भगवन विष्णु ने लिया करवट. एकादशी व्रत का नियम एकादशी व्रत करने का नियम बहुत ही सख्त होता है जिसमें व्रत करने वाले को एकादशी तिथि के पहले एकादशी शनिवार, 29 अगस्त परिवर्तिनी एकादशी रविवार, 13 सितंबर इन्दिरा एकादशी रविवार, 27 सितंबर पद्मिनी एकादशी.

परिवर्तनी एकादशी के व्रत का महत्व? संतान AajTak.

परिवर्तनी एकादशी,डोल ग्यारस की अनंत शुभकामनाओं के साथ शुभ सोमवार की मंगलकामना ॐ नमः शिवाय भोलेनाथ की कृपा सदैव बनी रहे। हरि ॐ नमो भगवते वासुदेवाय परिवर्तिनी एकादशी, इस व्रत को करने से मिलता है वाजपेय यज्ञ का फल भाद्रपद. परिवर्तिनी एकादशी 2019: जानें तिथि, महत्‍व. सुख और शांति के लिए परिवर्तिनी एकादशी के दिन एक नारियल व थोड़े बादाम भगवान विष्णु के मंदिर में चढ़ाएं। वहीं शाम को तुलसी के पौधे के सामने गाय के घी का दीपक लगाएं और ऊँ वासुदे Narad Manthan is a Hindi & English weekly news paper. 9 सितंबर को पद्मा एकादशी, भगवान विष्णु अमर उजाला. हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार, भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को जलझूलनी एकादशी कहते हैं। इसे परिवर्तिनी एकादशी व डोल ग्यारस आदि नामों से भी जाना जाता है। इस दिन भगवान वामन की पूजा की जाती है। इस बार यह एकादशी 9. परिवर्तिनी एकादशी 2019 Hindi News. धर्म डेस्क। भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को जलझूलनी​, जयंती और परिवर्तिनी एकादशी के नाम से जाना जाता है। जो मनुष्य इस एकादशी के दिन भगवान के वामन रूप की पूजा करता है, उसे तीनों लोकों में यश, वैभव की प्राप्ति होती है।.

परिवर्तिनी एकादशी के 30 बेस्ट फ़ोटो और वीडियो.

पद्म एकादशी के दिन सुबह नहा धोकर पीले रंग के वस्त्र पहन कर भगवान विष्णु का ध्यान कर व्रत का संकल्प लें धर्म न्यूज़. परिवर्तिनी एकादशी, इस व्रत को करने से Dainik Bhaskar. यह पद्मा परिवर्तिनी एकादशी जयंती एकादशी तथा वामन एकादशी भी कहलाती है। इसका यज्ञ करने से वाजपेय यज्ञ का फल मिलता है। पापियों के पाप नाश करने के लिए इससे बढ़कर कोई उपाय नहीं।. शुक्लपक्ष की एकादशी TransLiteral Foundation. इस एकादशी को परिवर्तिनी एकादशी भी कहते हैं जो लोग विधिपूर्वक इस एकादशी का व्रत करते हैं, उन्हें सभी पापों से मुक्ति मिल जाती है और सुखमय जीवन व्यतीत करते हैं। इस दिन भगवान को कमल अर्पित करने से भक्त उनके और अधिक निकट आ. परिवर्तिनी एकादशी 2019:Know इम्पोर्टेंस Naidunia. Parivartini Ekadashi 2019 Date, Muhurat: 9 सितंबर को परिवर्तिनी एकादशी है। इसे पार्श्व एकादशी Parsva Ekadashi, वामन एकादशी ​Vaman Ekadashi, जयझूलनी, डोल ग्यारस Dol Gyaras Date 2019 और जयंती एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। यह एकादशी.

जलझूलनी एकादशी की पूजा विधि Jyotish Upay & Totke.

परिवर्तिनी एकादशी आज 9 सितम्बर को मनाया जा रहा है इस दिन भगवान विष्णु के वामन अवतार की पूजा होती है। ऐसी मान्यता है, कि इस एकादशी पर भगवान विष्णु शयन करते हुए करवट लेते हैं, इसलिए इसे परिवर्तिनी एकादशी के नाम से पुकारा जाता. Parsva Ekadashi 2019: परिवर्तिनी पार्श्व एकादशी आज. Parivartini Ekadashi 2019 Vrat: भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को परिवर्तिनी एकादशी के नाम से जाना जाता है। इसे पार्श्व एकादशी, वामन एकादशी, जलझूलनी एकादशी, पद्मा एकादशी, डोल ग्यारस और जयंती एकादशी भी कहा जाता है।. Dharma news परिवर्तिनी एकादशी Dastak News. Parivartini Ekadashi 2019 Vrat: भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को परिवर्तिनी एकादशी के नाम से जाना जाता है। आज सोमवार को परिवर्तिनी एकादशी है। इसे पार्श्व एकादशी, वामन एकादशी, जलझूलनी एकादशी, पद्मा एकादशी, डोल ग्यारस और.

परिवर्तिनी एकादशी 2019 – जानें पार्श्व एकादशी.

वामन जयंती: आज वामन जयंती मनाई जा रही है. भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को वामन जयंती के नाम से जाना जाता है​. इसे परिवर्तिनी एकादशी है, पार्श्व एकादशी, वामन एकादशी, जलझूलनी एकादशी, पद्मा एकादशी, डोल ग्यारस और जयंती. 2024 परिवर्तिनी एकादशी पूजा तारीख व समय, 2024. शुक्लपक्ष की एकादशी भाद्रपद माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी को परिवर्तिनी वामन एकादशी कहते है ।. Parivartini Ekadashi Katha, Muhurat, Puja Vidhi: परिवर्तिनी. पांडुनंदन ने कहा भगवन! आप कृपा कर मुझे भाद्रपद शुक्लपक्ष की एकादशी के व्रत माहात्म्य की कथा सुनाइये और यह बताइए की इस एकादशी का देवता कौन है? इसकी पूजा कि क्या विधि है? भगवान श्रीकृष्ण ने कहा हे राजन! इस एकादशी को वामन जयंती एवं अंक. Ajab Gjab Blogs Parivartini Ekadashi परिवर्तिनी एकादशी. परिवर्तिनी एकादशी को भाद्रपद की शुक्ल पक्ष को मनाया जाता है. इसके नाम के अनुसार इस एकादशी का महत्व परिवर्तन यानि की बदलाव है. माना जाता है कि इस एकादशी के दिन भगवान विष्णु शेषनाग पर सोते हुए नींद नें करवट बदलते हैं. मान्यता.

Vaman jayanti 2019 vaman vrat katha bgys जब वामन भगवान ने.

इतिहास. भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी पाशर्व, परिवर्तिनी अथवा वामन द्वादशी के नाम से प्रसिद्ध है। इस दिन भगवान विष्णु श्रीरसागर में चार मास के श्रवण के पश्चात करवट बदलते है, क्याेंकि निद्रामग्न भगवान के करवट परिवर्तन के कारण ही. बड़ी फलदायी है परिवर्तिनी एकादशी Navodaya Times. हिन्दू धर्म ग्रंथों के अनुसार भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को पद्मा एकादशी या परिवर्तिनी एकादशी Padma Ekadashi कहा जाता है। मान्यता है कि इस दिन आषाढ़ मास से शेष शैय्या पर सोए भगवान विष्णुजी करवट बदलते हैं। इस शुभ दिन भगवान. भगवान विष्णु के वामन अवतार की होती है आराधना. Parivartini Ekadashi 2019: परिवर्तिनी एकादशी के दिन भगवान विष्णु के वामन अवतार की पूजा की जाती है. ऐसा कहा गया है कि इस एकादशी पर श्री हरि शयन करते हुए करवट लेते हैं, इसलिए इसे एकादशी को परिवर्तिनी एकादशी कहा जाता है.

सुप्रभात Images Shravan Kumar ShareChat भारत के आपन.

इस दिन भगवान श्री विष्णु शयन शैय्या पर सोते हुए करवट लेते हैं​, इसलिए इसे परिवर्तिनी एकादशी भी कहा जाता है। जानें शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और व्रत कथा।. परिवर्तिनी एकादशी: चार माह बाद भगवान विष्णु. परिवर्तिनी एकादशी व्रत कथा एवं पूजा विधि वैसे तो एकादशी हर महीने दो बार आती है। लेकिन साल में कई एकादशी ऐसी होती है जिनका विशेष महत्व है। जून महीने में निर्जला एकादशी के बाद अब 20 सितम्बर को परिवर्तिनी एकादशी आ रही है। इस एकादशी का. परिवर्तिनी एकादशी 2018 Hindi News इंडिया टीवी. परिवर्तिनी एकादशी की कथा – Parivartini Ekadashi ki Katha परिवर्तिनी एकादशी को पद्मा एकादशी Padma Ekadashi और बामन एकादशी के नाम से भी जाना जाता है। यह श्री महालक्ष्मी जी का व्रत है जो कि परम और आह्लादकारी है।.

वाजपेय यज्ञ का फल देने वाली परिवर्तिनी एकादशी.

परिवर्तिनी एकादशी Parsva Ekadashi. परिवर्तिनी एकादशी आर्काइव्ज. परिवर्तिनी एकादशी पर दान पुण्य करने का खास महत्व है, इसके साथ ही आज के दिन गरीबों को वस्त्र, धन, फल और मिठाई का दान करने से मनुष्य को अपने पापों से.

परिवर्तिनी एकादशी 2019: चार मास बाद भगवान विष्णु.

कल है वाजपेय यज्ञ का फल देने वाली Parivartani Ekadashi September 8​, 2019 LegendNews 0 Comments Parivartani Ekadashi, परिवर्तिनी एकादशी, भगवान विष्णु. कल सोमवार को Parivartani Ekadashi है, ज‍िसे योगिनी एकादशी भी कहते हैं। इस द‍िन भगवान श्री विष्णु शयन शैय्या. Parivartini Parsva Ekadashi 2019: परिवर्तिनी एकादशी आज. जीवन मंत्र डेस्क. हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार, भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को जलझूलनी एकादशी कहते हैं। इसे परिवर्तिनी एकादशी व डोल ग्यारस आदि नामों से भी जाना जाता है। Parivartini Ekadashi 2019 by This Fast Get By Blessings of.

परिवर्तिनी एकादशी की कथा Parivartini Ekadashi ki Katha.

भाद्रपद शुक्ल पक्ष की एकादशी को पद्मा एकादशी कहा जाता है. इसको परिवर्तिनी एकादशी और जयंती एकादशी भी कहा जाता है. इस एकादशी का व्रत करने से जाने अनजाने किये गए सारे पाप नष्ट हो जाते हैं. इस लोक में भौतिक सम्पन्नता और. Jaya chauhan Kawardha पद्मा परिवर्तिनी एकादशी 9. वर्तमान सप्ताह का शुभारंभ भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि और पद्मा एकादशी के साथ हो रहा है। वर्तमान शुक्ल पक्ष इसी हफ्ते की 14 तारीख यानी भाद्रपद की पूर्णिमा वाले दिन समाप्त हो जाएगा और उसके अगले ही दिन यानी रविवार 15. परिवर्तिनी एकादशी Times Now Hindi. Parivartini Ekadashi 2019: आज है पद्मा एकादशी, भगवान विष्णु के वामन अवतार की पूजा करने से होगी फल की प्राप्ति. इस दिन स्नान और दान का भी विशेष महत्व होता है। परिवर्तिनी एकादशी का व्रत करने से व्यक्ति को वाजपेय यज्ञ का फल प्राप्त. Parivartini Ekadashi 2019 परिवर्तिनी एकादशी हरिभूमि. भाद्र पद माह की शुक्ल पक्ष की एकादशी का नाम परिवर्तिनी एकादशी है. यह एकादशी पद्मा या जयंती एकादशी के नाम से भी जानी जाती है. परिवर्तिनी एकादशी 2019 व्रत डेट पूजा दैनिक जागरण. Navabharat: भाद्रपद शुक्ल पक्ष की एकादशी को पद्मा एकादशी कहा जाता है. इसको परिवर्तिनी एकादशी और जयंती एकादशी भी कहा जाता है. इस एकादशी का व्रत करने से जाने अनजाने किये गए सारे पाप नष्ट हो जाते हैं. इस लोक में.