ऐतिहासिक भौतिकवाद

ऐतिहासिक भौतिकवाद समाज और उसके इतिहास के अध्ययन में द्वंद्वात्मक भौतिकवाद के सिद्धांतों का प्रसारण है। आधुनिक काल में चूँकि इतिहास को मात्र विवरणात्मक न मानकर व्याख्यात्मक अधिक माना जाता है और वह अब केवल आकस्मिक घटनाओं का पुंज मात्र नहीं रह गया है, ऐतिहासिक भौतिकवाद ने ऐतिहासिक विचारधारा को अत्यधिक प्रभावित किया है।
17 मार्च 1883 को कार्ल मार्क्स की समाधि के पास उनके मित्और सहयोगी एंजिल ने कहा था, "ठीक जिस तरह जीव जगत् में डार्विन ने विकास के नियम का अनुसंधान किया, उसी तरह मानव इतिहास में मार्क्स ने विकास के नियम का अनुसंधान किया। उन्होंने इस सामान्य तथ्य को खोज निकाला जो अभी तक आदर्शवादिता के मलबे के नीचे दबा था कि इसके पहले कि वह राजनीति, विज्ञान, कला, धर्म और इस प्रकार की बातों में रुचि ले सके, मानव को सबसे पहले खाना पीना, वस्त्और आवास मिलना चाहिए। इसका अभिप्राय यह है कि जीवन धारण के लिए आसन्न आवश्यक भौतिक साधनों के साथ-साथ राष्ट्र अथवा युगविशेष के तत्कालीन आर्थिक विकास की प्रावस्था उस आधार का निर्माण करती है जिसपर राज्य संस्थाएँ, विधिमूलक दृष्टिकोण और संबंधित व्यक्तियों के कलात्मक और धार्मिक विचार तक निर्मित हुए हैं। तात्पर्य यह है कि इन उत्तरवर्ती परिस्थितियों को जिन्हें पूर्वगामी परिस्थितियों की जननी समझा जाता है, वस्तुत: स्वयं उनसे प्रसूत समझा जाना चाहिए।
यह ऐसी धारणा है जिसका मौलिक महत्व है और जो तत्वत: सरल है। इतिहास में वैसे ही मानव विचार में भी परिवर्तनों के लिए आदि प्रेरक शक्ति युगविशेष की आर्थिक उत्पादन की व्यवस्था और तज्जनित संबंधों में निहित होती है। यह धारणा उन सारी व्याख्याओं का विरोध करती है जो इतिहास के प्रारंभिक तत्वों को दैव, जगदात्मा, प्राकृतिक विवेक स्वातंत्र्य आदि जैसी भावात्मक वस्तुओं में ढूँढती हैं। इसकी उत्पत्ति वास्तविक सक्रिय मानव से होती है और उसके सही सही और महत्वपूर्ण अंत: संबंध सैद्धांतिक प्रत्यावर्तन के विकास और उनकी सजीव प्रक्रिया की प्रतिध्वनियों को प्रदर्शित करती है। संक्षेप में, चेतनता जीवन को नहीं निर्धारित करती किंतु जीवन चेतनता को निर्धारित करता है।
मार्क्स ने "दर्शन की दरिद्रता" पावर्टी ऑव फ़िलासफ़ी में लिखा, "हम कल्पना करें कि अपने भौतिक उत्तराधिकार में वास्तविक इतिहास, अपने पार्थिव उत्तराधिकार में, ऐसा ऐतिहासिक उत्तराधिकार है जिसमें मत, प्रवर्ग, सिद्धांतों ने अपने को अभिव्यक्त किया है। प्रत्येक सिद्धांत की अपनी निजी शताब्दी रही है जिसमें उसने अपने को उद्घाटित किया है। उदाहरण के लिए सत्ता के सिद्धांत की अपनी शताब्दी 11वीं रही है, उसी तरह जिस तरह 18वीं शताब्दी व्यक्तिवाद के सिद्धांत की प्रधानता की रही है। अत, तर्कत: शताब्दी सिद्धांत की अनुवर्तिनी होती है, सिद्धांत शताब्दी का अनुवर्ती नहीं होता। दूसरे शब्दों में, सिद्धांत इतिहास को बनाता है, इतिहास सिद्धांत को नहीं बनाता। अब यदि हम इतिहास और सिद्धांत दोनों की रक्षा की आशा के लिए पूछें कि आखिर सत्ता का सिद्धांत 11वीं शताब्दी में ही क्यों प्रादुर्भूत हुआ और व्यक्तिवाद 18वीं में क्यों और सत्ता सिद्धांत 18वीं में या व्यक्तिवाद 11वीं में, अथवा दोनों एक ही शताब्दी में क्यों नहीं हुए, तो हमें अनिवार्य रूप से तत्कालीन परिस्थितियों के विस्तार में जाने पर बाध्य होना पड़ेगा। हमें जानना पड़ेगा कि 11वीं और 18वीं शताब्दी के लोग कैसे थे, उनकी क्रमागत आवश्यकताएँ क्या थीं। उनके उत्पादन की शक्तियाँ, उनके उत्पादन के तरीके, वे कच्चे माल जिनसे वे उत्पादन करते थे और अंत में मानव मानव के बीच क्या संबंध थे, संबंध जो अस्तित्व की इन समस्त परिस्थितियों से उत्पन्न होते थे। किंतु ज्योंही हम मानवों को अपने इतिहास के पात्और उनके निर्माता मान लेते हैं त्योंही थोड़े चक्कर के बाद, हमें उस वास्तविक आदि स्थान का पता लग जाता है जहाँ से यात्रा आरंभ हुई थी, क्योंकि हमने उन शाश्वत सिद्धांतों को छोड़ दिया है, जहाँ से हमने आरंभ किया था।"
भोंड़े पत्थर के औजारों से धनुषबाण तक और शिकारी जीवन से आदिम पशुपालन पशुचारण तक, पत्थर के औजारों से धातु के औजारों तक लोहे की कुल्हाड़ी, लोहे के फालवाले लकड़ी के हल आदि कृषि के संक्रमण के साथ, सामग्री के उपयोग के लिए धातु के औजारों का आगे को विकास लोहार की धौंकनी और बर्तनों का आरंभ, दस्तकारी के विकास और उसका कृषि से प्रारंभिक औद्योगिक निर्माण के रूप में पृथक्करण, मशीनों की ओर संक्रमण और तब आधुनिक बड़े पैमाने के उद्योगों का औद्योगिक क्रांति के आधापर उदय–प्राचीन काल से हमारे युग तक की उत्पादक शक्तियों के क्रमिक विकास की यह एक मोटी रूपरेखा है। परिवर्तनों के इस क्रम के साथ-साथ मनुष्य के आर्थिक संबंध भी बदलते गए हैं और उनका विकास होता गया है। इतिहास को उत्पादन संबंधों के पाँच मुख्य प्रकार ज्ञात हैं–आदिम जातिवादी, दासप्रधान, सामंती, पूँजीवादी और समाजवादी। इन व्यवस्थाओं के विचाऔर प्रकार, यथा पूँजीवाद में मुनाफा, मजदूरी और लगान, शाश्वत नहीं बल्कि उत्पादन के सामाजिक संबंधों की सैद्धांतिक अभिव्यक्ति मात्र हैं। भौतिक परिवेश में विकसित होनेवाली ठोस आवश्यकताएँ एक व्यवस्था से दूसरी व्यवस्था के परिवर्तन के ऐतिहासिक क्रम को जन्म देती हैं। जब भीतरी अंतर्विरोधों के कारण आर्थिक आच्छादन फट जाता है, जैसा कि समाजवादी विश्लेषण का दावा है कि पूँजीवाद में घटित हो रहा है, तब इतिहास का एक नया अध्याय आरंभ हो जाता है।
इस धारणा के अनुसार मनुष्य की भूमिका किसी भी प्रकार निष्क्रियता की नहीं सक्रियता की है। एंजिल्स के कथानानुसार स्वतंत्रता आवश्यकता की स्वीकृति है। व्यक्ति प्राकृतिक नियमों से कहाँ तक बँधा है, यह जान लेना अपनी स्वतंत्रता की सीमाओं को जान लेना है। इच्छा मात्र से आदमी अपनी ऊँचाई हाथ भर भी नहीं बढ़ा सकता। किंतु मनुष्य ने उन भौतिक नियमों का राज समझकर उड़ना सीख लिया है जिनके बिना उसका उड़ना असंभव होता है। नि:संदेह मानव इतिहास का निर्माण करता है किंतु अपनी मनचाही रीति से नहीं। यह कहना कि यह विचारधारा मनुष्य पर स्वार्थ के उद्देश्यों को आरोपित करती है, इस विचार को फूहड़ बनाना है। यह हास्यास्पद होता, यदि सिद्धांत यह कहता कि आदमी सदा भौतिक स्वार्थ के लिए काम करता है। किंतु उसका मात्र इतना आग्रह है कि आदर्श स्वर्ग से बने बनाए नहीं टपक पड़ते किंतु प्रस्तुत परिस्थितियों द्वारा विकसित होते हैं। इसलिए इसका कारण खोजना होगा कि युगविशेष में आदर्शविशेष ही क्यों प्रचलित थे, दूसरे नहीं।
1890 में एंजिल्स ने लिखा, "अंततोगत्वा इतिहास के रूप को निश्चित करनेवाले तत्व वास्तविक जीवन में उत्पादन और पुनरुत्पादन है। इससे अधिक का न तो मार्क्स ने और न मैंने ही कभी दावा किया है। इसलिए अगर कोई इसको इस वक्तव्य में तोड़ मरोड़कर रखता है कि आर्थिक तत्व ही एकमात्र निर्णायक है, तो वह उसे अर्थहीन, विमूर्त और तर्करहित वक्तव्य बना देता है। आर्थिक परिस्थिति आधार निश्चय है, किंतु ऊपरी ढाँचे के विभिन्न सफल संग्राम के बाद विजयी वर्ग द्वारा स्थापित संविधान आदि–कानून के रूप–फिर संघर्ष करनेवालों के दिमाग में इन वास्तविक संघर्षो के परावर्तन, राजनीतिक, कानूनी, दार्शनिक सिद्धांत, धार्मिक विचाऔर हठधर्मी सिद्धांत के रूप में उनका विकास–यह भी ऐतिहासिक संघर्षो की गति पर अपना प्रभाव डालते हैं और अधिकतर अवस्थाओं में उनका रूप स्थित करने में प्रधानता: सफल होते हैं। इन तत्वों की एक दूसरे के प्रति एक क्रिया भी होती है–अन्यथा इस सिद्धांत को इतिहास के किसी युग पर आरोपित करना अनन्य-साधारण-समीकरण को हल करने से भी सरल होता।" वास्तव में यह विचार इस बात को स्वीकार करता है कि "सिद्धांत ज्योंही जनता पर अपना अधिकार स्थापित कर लेते हैं, वे भौतिक शक्ति बन जाते हैं।" बुनियादी तौपर तो नि:संदेह इसका आग्रह है कि सामाजिक परिवर्तनों के अंतिम कारणों को "दर्शन में नहीं प्रत्येक विशिष्ट युग के अर्थशास्त्र" में ढूँढ़ना होगा। सत्य तो यह है कि आरंभ में "कार्य" थे, शब्द नहीं।
इस विचारधारा का एक गत्यात्मक पक्ष भी है जो इस बात पर जोर देता है कि प्रतयेक सजीव समाज में उत्पादन की विकासशील शक्तियों और प्रतिगत्यात्मक संस्थाओं में, उन लोगों में जो स्थितियों को जैसी की तैसी रहने देना चाहते हैं और जो उन्हें बदलना चाहते हैं, विरोध उत्पन्न होता है। यह विरोध जब इस मात्रा तक पहुँच जाता है कि उत्पादन संबंध समाज की "बेड़ियाँ बन जाते हैं" तब क्रांति हो जाती है। इस विश्लेषण के अनुसार पूँजी का एकाधिपत्य उत्पादन पर बेड़ी बनकर बैठ गया है और यही कारण है कि समाजवादी क्रांतियाँ हुई और जहाँ अभी तक नहीं हुई हैं वहाँ पूँजीवाद स्थायी रूप से संकट में पड़ गया है। यह समय में युद्धों और उसकी निरंतर तैयारियों से ही दूर हो सकता है। समाजवादी समाज में जो अंतविरोध पैदा होंगे, वे, वास्तव में, अभी तो निश्चय से अधिक कल्पना की वस्तु हैं।

Atheism च र व क Cārvāka ऐत ह स क भ त कव द Historical materialism पद र थ Matter भ रत म व ज ञ न क इत ह स और भ त कव द Stanford Encyclopedia article
आध र और अध रचन Base and Superstructure ऐत ह स क भ त कव द Historical Materialism क प रवर ग, ज प रत य क स म ज क - आर थ क ढ च क आध रभ त स रचन त मक
इत य द क व य ख य क ह ज स व य पक अर थ म द व द व त मक भ त कव द य ऐत ह स क भ त कव द कह गय ह वस बन ध - ग प तक ल क प रस द ध द व द व त मक तर कश स त र
क इत ह स ह म र क स द व र प रत प द त वर ग - स घर ष क स द ध त ऐत ह स क भ त कव द क ह उपस ध ह ओर स इर थ ह यह अत र क त म ल य क स द ध त क अन क ल
प रण ल क स व क र करत ह म र क स क व च र क द सर व श षत उसक ऐत ह स क भ त कव द Historical materialism ह क छ ल खक इसक इत ह स क अर थश स त र य
म महत त वप र ण भ म क न भ य दर शन क क ष त र म ग र म श न ऐत ह स क भ त कव द क समस य ओ क ओर प रम खत स ध य न द य क र व स क द र न ल ख गय
ल कप र य प स त क वर ग - स घर ष क हथ य र बन गय द वन द व त मक और ऐत ह स क भ त कव द क सरल र प - र ख प रगत प रक शन, म स क 1977 प 59 यह क स स य ग ह
स म ज क और आन व श क य न ज न ट क व व धत ए ह ह न शब द च न क ऐत ह स क ह न र जव श स आय ह ज च न र जव श क ब द सत त म आय च न र जव श न
प रव त त य क अध ययन क य ज त ह इसम प रत म ओ हड ड य स क क और अन य ऐत ह स क प र वश ष क आध र पर इत ह स क प नर न र ध रण क य ज त ह इस तरह क अवश ष
प रण ल पर क स ह सकत ह उसक र जश स त र क उसक य त र क भ त कव द और उसक भ त कव द क उसक ब द ध व द स क ई त र क क स ब ध नह स थ प त ह प त र ज य

च र व क दर शन एक भ त कव द न स त क दर शन ह यह म त र प रत यक ष प रम ण क म नत ह तथ प रल क क सत त ओ क यह स द ध त स व क र नह करत ह यह दर शन
समय व ल न न क व च र स प रभ व त थ म क स क क क र त म आपन ऐत ह स क य गद न क य ज सस आपक प रस द ध अ तरर र ष ट र य स तर पर ह गई आपक क र य
एश य ई सम ज 1986 म र क स और प छड ह ए सम ज 1986 भ रत य इत ह स और ऐत ह स क भ त कव द 1992 पश च म एश य और ऋग व द 1994 भ रत य नवज गरण और य र प 1996
आज व क सम प रद य क इत ह स बत न व ल क ई भ ग र थ उपलब ध नह थ आज व क भ त कव द क प रच रक ह न क स थ - स थ ब द ध और ब र ह मणव द य क प रत द व द व
अन य दर शन ग र थ म म लत ह च र व क मत एक प रक र क यथ र थव द और भ त कव द ह इसक अन स र क वल प रत यक ष ह प रम ण ह अन म न और आगम स द ग ध ह त
प रस थ पन ओ क पर श द ध प रम ण क ल ए न गमन क आवश यकत ह त ह द व द व त मक भ त कव द क अध ययन म इन द न पद धत य क इस त म ल ह न च ह य प रत य क व षय
स र फ ल खन क बज य उनक सम क ष ह न च ह ए इसक ब वज द म र क स न ऐत ह स क भ त कव द क आर थ क न यत व द पर आध र त स इ स ऑफ स स इट प रक श त करन क प रय स
उनक स द ध त उस य ग क व श ष ट प रव त त य क व र द ध थ व ज ञ न तथ भ त कव द स प रभ व त सम ज क समक ष उन ह न म क त क ठ स घ ष त क य क स स र ईश वरमय
स रतत त व जड पद र थ Matter नह अप त म ल च तन ह आदर शव द जड त य भ त कव द क व पर त र प प रस त त करत ह यह आत म क - अभ त क क प र थम क ह न तथ भ त क
र ज य शब द क उपय ग त न अलग - अलग तर क स क य ज सकत ह पहल इस एक ऐत ह स क सत त म न ज सकत ह द सर इस एक द र शन क व च र अर थ त म नव य सम ज

क रचन करत ह ठ क ह अस त त वव द आत मन ष ठत वस त न ष ठत ब द ध व द भ त कव द मन व श ल षण र न द क र त इम न एल क ट ज ञ नम म स तत त वम म स म ल यम म स
श र ण - सहय ग तथ स सद त मक और स व ध न क म र ग पर ज र द य वह म र क स क ऐत ह स क भ त कव द क स थ न पर न त क तथ अन र थ क non - economic तत व क प रभ व क
व च रक स ह ड ल त ह ए व य ख य और म ल य कन क भ ष न श चय ह भ त कव द भ ह और ऐत ह स क भ ल क न क ल म ल कर वह प रभ त वश ल परम पर स बह त अलग नह
ह इस ब च फ र स म क ड ल क 1715 - 1780 न अन भवव द तथ ल म ट र न भ त कव द क प रव त त य क ब न य द ड ल क ड ल क क कहन थ क स व दन ह स प र ण
वस त ओ क गत श लत पर वर तन म त र त मक एव ग ण त मक द न स म ज क गठन क ऐत ह स क व य ख य करन व ल म र क स क यह स द ध त ह ग ल क द व द वव द पद धत क
म थ य स फ कल स स यट क अध यक ष न र व च त ह ई उन ह न प श च त य भ त कव द सभ यत क कड आल चन करत ह ए प र च न ह न द सभ यत क श र ष ठ स द ध
पर स थ त य क आकलन करक ह ल ग करन पर ज र द य अपन प स तक व ज ञ न क भ त कव द एव दर शन - द ग दर शन म इस सम बन ध म उन ह न सम यक प रक श ड ल
प र क त क व ज ञ न स न कल दल ल क ज र य द व द व त मक भ त कव द और ऐत ह स क भ त कव द क प ष ट क य ज न लग स ट ल न न ख द कई तरह क व ज ञ न
ल यबन ज दक र त और न य टन न क र य - क रण क पद धत द व र तर कव द और य त र क भ त कव द क व क स क य थ उनक अन स र स ष ट और मन ष य न यम न श स त थ इस द ष ट क ण
स स क त क व च रध र ओ क म ध यम स स म न य क त ह त ह म क स व बर न ऐत ह स क भ त कव द य आर थ क न यत व द, क सम क ष करत ह ए कह क स तर करण व श द ध र प

  • Atheism च र व क Cārvāka ऐत ह स क भ त कव द Historical materialism पद र थ Matter भ रत म व ज ञ न क इत ह स और भ त कव द Stanford Encyclopedia article
  • आध र और अध रचन Base and Superstructure ऐत ह स क भ त कव द Historical Materialism क प रवर ग, ज प रत य क स म ज क - आर थ क ढ च क आध रभ त स रचन त मक
  • इत य द क व य ख य क ह ज स व य पक अर थ म द व द व त मक भ त कव द य ऐत ह स क भ त कव द कह गय ह वस बन ध - ग प तक ल क प रस द ध द व द व त मक तर कश स त र
  • क इत ह स ह म र क स द व र प रत प द त वर ग - स घर ष क स द ध त ऐत ह स क भ त कव द क ह उपस ध ह ओर स इर थ ह यह अत र क त म ल य क स द ध त क अन क ल
  • प रण ल क स व क र करत ह म र क स क व च र क द सर व श षत उसक ऐत ह स क भ त कव द Historical materialism ह क छ ल खक इसक इत ह स क अर थश स त र य
  • म महत त वप र ण भ म क न भ य दर शन क क ष त र म ग र म श न ऐत ह स क भ त कव द क समस य ओ क ओर प रम खत स ध य न द य क र व स क द र न ल ख गय
  • ल कप र य प स त क वर ग - स घर ष क हथ य र बन गय द वन द व त मक और ऐत ह स क भ त कव द क सरल र प - र ख प रगत प रक शन, म स क 1977 प 59 यह क स स य ग ह
  • स म ज क और आन व श क य न ज न ट क व व धत ए ह ह न शब द च न क ऐत ह स क ह न र जव श स आय ह ज च न र जव श क ब द सत त म आय च न र जव श न
  • प रव त त य क अध ययन क य ज त ह इसम प रत म ओ हड ड य स क क और अन य ऐत ह स क प र वश ष क आध र पर इत ह स क प नर न र ध रण क य ज त ह इस तरह क अवश ष
  • प रण ल पर क स ह सकत ह उसक र जश स त र क उसक य त र क भ त कव द और उसक भ त कव द क उसक ब द ध व द स क ई त र क क स ब ध नह स थ प त ह प त र ज य
  • च र व क दर शन एक भ त कव द न स त क दर शन ह यह म त र प रत यक ष प रम ण क म नत ह तथ प रल क क सत त ओ क यह स द ध त स व क र नह करत ह यह दर शन
  • समय व ल न न क व च र स प रभ व त थ म क स क क क र त म आपन ऐत ह स क य गद न क य ज सस आपक प रस द ध अ तरर र ष ट र य स तर पर ह गई आपक क र य
  • एश य ई सम ज 1986 म र क स और प छड ह ए सम ज 1986 भ रत य इत ह स और ऐत ह स क भ त कव द 1992 पश च म एश य और ऋग व द 1994 भ रत य नवज गरण और य र प 1996
  • आज व क सम प रद य क इत ह स बत न व ल क ई भ ग र थ उपलब ध नह थ आज व क भ त कव द क प रच रक ह न क स थ - स थ ब द ध और ब र ह मणव द य क प रत द व द व
  • अन य दर शन ग र थ म म लत ह च र व क मत एक प रक र क यथ र थव द और भ त कव द ह इसक अन स र क वल प रत यक ष ह प रम ण ह अन म न और आगम स द ग ध ह त
  • प रस थ पन ओ क पर श द ध प रम ण क ल ए न गमन क आवश यकत ह त ह द व द व त मक भ त कव द क अध ययन म इन द न पद धत य क इस त म ल ह न च ह य प रत य क व षय
  • स र फ ल खन क बज य उनक सम क ष ह न च ह ए इसक ब वज द म र क स न ऐत ह स क भ त कव द क आर थ क न यत व द पर आध र त स इ स ऑफ स स इट प रक श त करन क प रय स
  • उनक स द ध त उस य ग क व श ष ट प रव त त य क व र द ध थ व ज ञ न तथ भ त कव द स प रभ व त सम ज क समक ष उन ह न म क त क ठ स घ ष त क य क स स र ईश वरमय
  • स रतत त व जड पद र थ Matter नह अप त म ल च तन ह आदर शव द जड त य भ त कव द क व पर त र प प रस त त करत ह यह आत म क - अभ त क क प र थम क ह न तथ भ त क
  • र ज य शब द क उपय ग त न अलग - अलग तर क स क य ज सकत ह पहल इस एक ऐत ह स क सत त म न ज सकत ह द सर इस एक द र शन क व च र अर थ त म नव य सम ज
  • क रचन करत ह ठ क ह अस त त वव द आत मन ष ठत वस त न ष ठत ब द ध व द भ त कव द मन व श ल षण र न द क र त इम न एल क ट ज ञ नम म स तत त वम म स म ल यम म स
  • श र ण - सहय ग तथ स सद त मक और स व ध न क म र ग पर ज र द य वह म र क स क ऐत ह स क भ त कव द क स थ न पर न त क तथ अन र थ क non - economic तत व क प रभ व क
  • व च रक स ह ड ल त ह ए व य ख य और म ल य कन क भ ष न श चय ह भ त कव द भ ह और ऐत ह स क भ ल क न क ल म ल कर वह प रभ त वश ल परम पर स बह त अलग नह
  • ह इस ब च फ र स म क ड ल क 1715 - 1780 न अन भवव द तथ ल म ट र न भ त कव द क प रव त त य क ब न य द ड ल क ड ल क क कहन थ क स व दन ह स प र ण
  • वस त ओ क गत श लत पर वर तन म त र त मक एव ग ण त मक द न स म ज क गठन क ऐत ह स क व य ख य करन व ल म र क स क यह स द ध त ह ग ल क द व द वव द पद धत क
  • म थ य स फ कल स स यट क अध यक ष न र व च त ह ई उन ह न प श च त य भ त कव द सभ यत क कड आल चन करत ह ए प र च न ह न द सभ यत क श र ष ठ स द ध
  • पर स थ त य क आकलन करक ह ल ग करन पर ज र द य अपन प स तक व ज ञ न क भ त कव द एव दर शन - द ग दर शन म इस सम बन ध म उन ह न सम यक प रक श ड ल
  • प र क त क व ज ञ न स न कल दल ल क ज र य द व द व त मक भ त कव द और ऐत ह स क भ त कव द क प ष ट क य ज न लग स ट ल न न ख द कई तरह क व ज ञ न
  • ल यबन ज दक र त और न य टन न क र य - क रण क पद धत द व र तर कव द और य त र क भ त कव द क व क स क य थ उनक अन स र स ष ट और मन ष य न यम न श स त थ इस द ष ट क ण
  • स स क त क व च रध र ओ क म ध यम स स म न य क त ह त ह म क स व बर न ऐत ह स क भ त कव द य आर थ क न यत व द, क सम क ष करत ह ए कह क स तर करण व श द ध र प

Unit 6 ऐतिहासिक भौतिकवाद eGyanKosh.

ऐतिहासिक भौतिकवाद समाज और उसके इतिहास के अध्ययन में द्वंद्वात्मक भौतिकवाद के सिद्धांतों का प्रसारण है। आधुनिक काल में चूँकि इतिहास को मात्र विवरणात्मक न मानकर व्याख्यात्मक अधिक माना जाता है और वह अब केवल आकस्मिक घटनाओं का पुंज मात्र नहीं रह गया. Dictionary भारतवाणी Part 61. मार्क्सवादी दर्शन को आम तौपर द्वंद्वात्मक भौतिकवाद कहा जाता है. इसका मतलब समझने के लिए थोड़ा उस समय की परिस्थिति को देखना होगा. मार्क्स जर्मनी के रहनेवाले थे और उस समय जर्मनी दार्शनिक सोच विचार का गढ़ बना हुआ था खासकर नौजवानों.

हर अगली पीढ़ी तेजतर होती है hastakshep हस्तक्षेप.

चाक्रिक, रेखिक, ऐतिहासिक भौतिकवाद, विधेयवाद. सापेक्ष्यवाद, परिकल्पनावाद, साहित्य का विकासवादी. सिद्धान्त, मानसिक प्रक्रिया का सिद्धान्त। 2. साहित्येतिहास के विभिन्न सिद्धान्तों की प्रासंगिकता। 3​. साहित्येतिहास लेखन में. RBSE Class 12 Political Science Notes Chapter 10 मार्क्सवाद. उदाहरण वाक्य के साथ ऐतिहासिक भौतिकवाद, अनुवाद स्मृति मिला 0 वाक्यांश मिलान वाक्य ऐतिहासिक भौतिकवाद.0 एमएस. Paper i political theory. ऐतिहासिक भौतिकवाद और भक्ति आंदोलन. पक भौतिकवाद. खर द्वन्द्वात्मक भौतिकवाद. ग, ऐतिहासिक भौतिकवाद अथवा इतिहास को भौतिकवादी व्याख्या. आधार. 2. अधिरचना. घ? वर्ग ​संघर्ष का सिद्धांत. च, ऐतिहासिक भौतिकवाद और भक्ति ​आंदोलन. निष्कर्ष.

Tag: ऐतिहासिक भौतिकवाद.

अपने सामाजिक, सांस्कृतिक एवं ऐतिहासिक पहलुओं में लिंग ​Gender पुरुष एवं स्त्री के मध्य. शक्ति के कार्य के संबंध है दूसरे संदर्भ में इस शब्द का प्रयोग ऐतिहासिक भौतिकवाद ​Historical Materialism की पाँचवी अवस्था. के उस भाग को व्यक्त करने में. ऐतिहासिक भौतिकवाद के मूल सिद्धान्त Aetihasik. साहित्य की समस्याएं और प्रगतिशील दृष्टिकोण, मार्क्स, एलाइनेशन सिद्धान्त और साहित्य, परसाई रचनावली, हिन्‍दी साहित्य का इतिहास, रास्ता इधर है, स्वाधीनता संग्राम: बदलते परिप्रेक्ष्य, भारतीय इतिहास और ऐतिहासिक भौतिकवाद,. माइक्रोसॉफ्ट वर्ड uprtou. वाल्टर बेंजामिन जर्मन के एक दार्शनिक, सांस्कृतिक आलोचक और निबंधकार थे. जर्मन आदर्शवाद, पश्चिमी मार्क्सवाद, और यहूदी रहस्यवाद के तत्वों को मिलाकर, बेंजामिन ने सौंदर्य सिद्धांत, साहित्यिक आलोचना एवं ऐतिहासिक भौतिकवाद के लिए Следующая Войти Настройки Конфиденциальность. ऐतिहासिक भौतिकवाद Tag - हमारीवाणी. Contents. भूमिका: ऐतिहासिक संदर्भ Historical Context कार्ल मार्क्स 1818 1883 ई. Karl Marx 1818 1883 AD कार्ल मार्क्स के निर्णायक विचार Crucial Ideas of Karl Marx द्वन्द्वात्मक भौतिकवाद Dialectical Materialism ऐतिहासिक भौतिकवाद Historical Materialism. कार्ल मार्क्स: जिनके विचारों ने दुनिया को नई राह. Tag: ऐतिहासिक भौतिकवाद 0 Like 4:00am 12 Aug 2018 ऐतिहासिक भौतिकवाद 0 Like 4:08am 27 May 2018 ऐतिहासिक भौतिकवाद.

नामवर सिंह मार्क्सवादी सौंदर्यशास्त्र के.

कार्ल मार्क्स की जीवनी और उनके ऐतिहासिक भौतिकवाद एक ऐसे यूनानी दार्शनिक तथा वैज्ञानिक की जिन्होंने समाजवाद का विकास किया। कार्ल मार्क्स के. आईएएस मुख्य परीक्षा पाठ्यक्रम: समाजशास्त्र. इतिहास का दर्शन शब्द ऐतिहासिक अध्ययन की उस विषय शाखा की ओर इंगित करता है जो. मानवी सभ्यता की अन्तिम प्रगति साहित्येतिहास आतेखन शास्त्र में विकास के सिद्धांतों में चानिक, रैखिक व ऐतिहासिक भौतिकवाद का. सिद्धांत की उपादेयता के. Page 1 ४.० साहित्येतिहास दर्शन और आलेखन कला. जब मैं कहता हूं हर पीढ़ी तेजतर होती है, तो ऐतिहासिक पीढ़ियों की बात करता हूं, न्यूटन के बेटे का न्यूटन से बड़ा ऐतिहासिक भौतिकवाद में अर्थ प्रधानता अर्थ ही मूल है के सिद्धांत को ऐंटोनियो ग्राम्सी ने संशोधित कर उसमें.

MASO06 Uttarakhand Open University.

राजनीति भाग 07, कॉल मार्क्स की थ्योरी, ऐतिहासिक भौतिकवाद, द्वंदात्मक भौतिकवाद Historical & Dialectical Materialism एक वैज्ञानिक तथ्य था, जिसको कॉल मार्क्स ने अपने ऐतिहासिक भौतिकवाद में समाज के विकास प्रक्रिया को समझाया ।. Half roti is good nothing. आस्तिक हिंदुओंके लिये तो ऋग्वेदके अश्विनी कुमारों के विमान,रावणका पुष्पक विमान और त्रिपुरों व शाल्वका शोभ विमान ऐतिहासिक सत्य हैं । भौतिकवादी नास्तिकों को इन पर बेशक विश्वास न हो, महर्षि भरद्वाज रचित यन्त्रसर्वस्व, महर्षि.

महत्वपूर्ण राजनीतिक दर्शन Part 18: Important Political.

2 Class struggle. 3 Legal theory of Rights. 4 Historical Materialism. निम्नलिखित में से किन्हीं दो परं संक्षिप्त टिप्पणी लिखें। 1 सामान्य हित की अवधारणा. 2 वर्ग – संघर्ष HIFS. 3 कानूनी अधिकारों का सिद्धान्त. 4 ऐतिहासिक भौतिकवाद. 545 100. 2. ऐतिहासिक भौतिकवाद Aetihaasik E Pustakalaya. मार्क्स ने ऐतिहासिक अध्ययन के आधापर समाजवाद का प्रतिपादन किया है। इसीलिए मार्क्स को मार्क्सवाद के अन्तर्गत ऐतिहासिक भौतिकवाद को द्वन्द्वात्मक भौतिकवाद के पूरक सिद्धान्त के रूप में मान्यता प्राप्त है। मार्क्स की​. Bhautikvaad Meaning in English भौतिकवाद का GyanApp. मार्क्स के जन्म को दो सौ साल पूरे हो चले – अमन वासिष्ठ. Post Views: 109 अमन वासिष्ठ मार्क्स के जन्म को दो सौ साल हो चुके हैं, मार्क्स ने समाज को नए ढंग से व्याख्यायित किया। द्वंद्वात्मक भौतिकवाद, ऐतिहासिक भौतिकवाद, वर्ग संघर्ष के​…. Depiction of class conflict in the works of Nagarjun Dyuthi @ CUSAT. ऐतिहासिक भौतिकवाद मार्क्स के विचारों की धूरी है। यह सिद्धान्त इतिहास, संस्कृति और सामाजिक परिवर्तन की सभी आदर्शवादी व्याख्याओं को नकारता है।. अनटाइटल्ड. द्वंद्वात्मक भौतिकवाद और ऐतिहासिक भौतिकवाद के बीच अंतर क्या iPhone 4 के लिए टेक्स्ट टोन प्राप्त करना संभव है.

दामोदर धर्मानंद कोसांबी: भारतीय इतिहास की.

Meaning of भौतिकवाद Bhautikvaad in English भौतिकवाद का अंग्रेज़ी में मतलब: मार्क्स द्वारा प्रतिपादित वर्ग संघर्ष का सिद्धांत ऐतिहासिक भौतिकवाद की ही उपसिधि है ओर साइर्थ ही यह अतिरिक्त मूल्य के सिद्धांत के अनुकूल है संदर्भ Reference. Shyam kashyap Author Profile:Vani Prakashan. स्‍तालिन ने ऐसी ही आवश्‍यकता की पूर्ति के लिए ​द्वन्‍द्वात्‍मक और ऐतिहासिक भौतिकवाद शीर्षक निबंध को सूत्रबद्ध किया था और सोवियत संघ की कम्‍युनिस्‍ट पार्टी का संक्षिप्‍त इतिहास में उसे समाविष्‍ट करके सभी पार्टी ​सदस्‍यों के लिए सुलभ.

ऐतिहासिक भौतिकवाद क्या है? Scotbuzz.

मूल्य Rs. 0 पृष्ठ 409 साइज 8 MB लेखक रचियता अली अशरफ Ali Asharaf ऐतिहासिक भौतिकवाद समाज के मार्क्सवादी सिध्दान्त की रूपरेखा पुस्तक पीडीऍफ़ डाउनलोड करें, ऑनलाइन पढ़ें, Reviews पढ़ें Etihasik Bhautikwad Samaj Ke Markswadi Sidhdant Ki. GK Questions with Answers on Ancient Indian History: Systems of. मार्क्स ने भौतिकवादी दार्शनिकता को विकसित करते हुए प्रकृति को जानने समझने की कोशिश के साथ साथ मानव समाज को समझने के साथ जोड़ दिया। उनके द्वारा ऐतिहासिक भौतिकवाद की खोज एक बड़ी वैज्ञानिक उपलब्धि थी। उनका मानना था. ऐतिहासिक भौतिकवाद समाज के E Pustakalaya. ए कार्ल मार्क्स ऐतिहासिक भौतिकवाद, उत्पादन का तरीका, अलगाव, वर्ग संघर्ष। बी एमिल डर्कहेम श्रम, सामाजिक तथ्य, आत्महत्या, धर्म और समाज का विभाजन। सी मैक्स वेबर सामाजिक कार्य, आदर्श प्रकार, प्राधिकरण, नौकरशाही, विरोधवादी नैतिकता.

50 से अधिक पुस्तकें ल‍िखने वाले साहित्यकार श्याम.

निषेध के निषेध का नियम ऐतिहासिक. भौतिकवाद अतिरिक्त मूल्य का सिद्धात. सामाजिक जीवन के भोतिक आधार श्रम. पूजी उत्पादन शक्ति वर्ग वगो का. अन्त:संबन्ध और अन्तर्विरोध वर्ग संघर्ष. वर्ग संघर्ष में सामाजिक परिवर्तन मार्क्स तथा. New ऐतिहासिक भौतिकवाद Status, Photo, Video Nojoto. 2 x 20 40. 1 वैश्वीकरण के विभिन्न आयामों पर एक निबंध लिखिए। अथवा. भारत में धर्मनिरपेक्षता की आवश्यकता के ऐतिहासिक समाजशास्त्पर एक निबंध लिखिए। 20. ऐतिहासिक भौतिकवाद पर चर्चा कीजिए। अथवा. मार्क्सवाद का अवलोकन कीजिए और इसकी.

बुद्ध के बाद मानव इतिहास के महानतम चिन्तक आधुनिक.

इकाई इतिहास के प्रमुख सिद्धान्तः चक्रीय ऐतिहासिक भौतिकवाद, समाजशास्त्रीय. तुलनात्मक, रचना संबंधी, वैश्विक व्यवस्था, इकोलॉजिकल एवं इतिहास के. पराआधुनिकतावादी आलोचक।. 3. Unit 4. Debate in History: representative study of at least four major debates of. Prelium.p65 MDU. New ऐतिहासिक भौतिकवाद Status, Photo, Video. Find the latest Status about ऐतिहासिक भौतिकवाद from top creators only on Nojoto App. Also find​.

Government Gazette 122 2016, I.1 E Government Gazette of India.

कार्ल मार्क्स का सर्वाधिक महत्वपूर्ण विचार द्वंद्वात्मक भौतिकवाद है जिसे ऐतिहासिक. भौतिकवाद या इतिहास की भौतिकवादी व्याख्या के रूप में जाना जाता है। द्वंद्वात्मक. भौतिकवाद में. मानव जीवन की परिवर्तनशील भौतिक दशाओं में​. Historical materialism meaning in Hindi historical materialism in. वाल्टर बेंजामिन जर्मन के एक दार्शनिक, सांस्कृतिक आलोचक और निबंधकार थे. जर्मन आदर्शवाद, पश्चिमी मार्क्सवाद, और यहूदी रहस्यवाद के तत्वों को मिलाकर, बेंजामिन ने सौंदर्य सिद्धांत, साहित्यिक आलोचना एवं ऐतिहासिक भौतिकवाद के लिए. मार्क्सवादी दर्शन के बारे में Pratirodh. मार्क्सवाद एक ऐतिहासिक भौतिकवाद की पद्धति का उपयोग करता है, जो वर्ग, समाज और विशेष रूप से पूंजीवाद के विकास के साथ ​साथ प्रणालीगत आर्थिक, सामाजिक और राजनीतिक परिवर्तन में वर्ग संघर्षों की भूमिका का विश्लेषण और.

Buy Social Thinkers and Ideology Karl Marx H Book.

पीछे द्वन्द्वात्मक एवं ऐतहासिक भौतिकवाद का विश्व द़्अष्​टिकोणहै जिसके अभाव में माक्र्सवादी सौन्दर्य शास्त्र का बित होसकता जब तक कि नवीन ज्ञान विज्ञान के प्रकाश में द्​वन्द्वात्मकऔर ऐतिहासिक भौतिकवाद ही गलत न साबित हो जाए. कार्ल मार्क्स Karl Marx Samajshastriya Rawat Books. द्वंद्वात्मक भौतिकवाद – हेगेल से मार्क्स तक Ashok Kumar Pandey जनपक्ष के पाठक जानते ही हैं कि मार्क्सवाद के एंटी ड्यूहरिंग में एंगेल्स कहते हैं, इस प्रणाली में पहली बार समस्त प्राकृतिक, ऐतिहासिक एवं बौद्धिक जगत को एक. Vikash Vatsnabh – Vichar Bindu. 6 लोजाइनस की उदात्त संबंधी अवधारणा लिखिए. 7 ऐतिहासिक भौतिकवाद का अर्थ विशद कीजिए. 8 अस्तित्ववाद का स्वरुप स्पष्ट कीजिए. 9 अरस्तू के अनुकरण सिध्दांत का संक्षिप्त परिचय. दीजिए। 10 हिंदी आलोचना की मनोविश्लेषणवादी पध्दती का.