अकाली

अकाल शब्द का शब्दार्थ है - कालरहित। भूत, भविष्य तथा वर्तमान से परे, पूर्ण अमरज्योति ईश्वर, जो जन्ममरण के बंधन से मुक्त है और सदा सच्चिदानंद स्वरूप रहता है, उसी का अकाल शब्द द्वारा बोध कराया गया है। उसी परमेश्वर में सदा रमण करने वाला अकाली कहलाया। कुछ लोग इसका अर्थ काल से भी न डरने वाला लेते हैं। परंतु तत्वतः दोनों भावों में कोई भेद नहीं है। सिक्ख धर्म में इस शब्द का विशेष महत्व है। सिक्ख धर्म के प्रवर्तक गुरु नानक देव ने परमपुरुष परमात्मा की आराधना इसी अकालपुरुष की उपासना के रूप में प्रसारित की। उन्होंने उपदेश दिया कि हमें संकीर्ण जातिगत, धर्मगत तथा देशगत भावों से ऊपर उठकर विश्व के समस्त धर्मों के मानने वालों से प्रेम करना चाहिए। उनसे विरोध न करके मैत्रीभाव का आचरण करना चाहिए, क्योंकि हम सब उसी अकालपुरुष की संतान हैं। सिक्ख गुरुओं की वाणियों से यह स्पष्ट है कि सभी सिक्ख संतों ने अकालपुरुष की महत्ता को और दृढ़ किया और उसी के प्रति पूर्ण उत्सर्ग की भावना जागृत की। प्रत्येक अकाली के लिए जीवन निर्वाह का एक बलिदानपूर्ण दर्शन बना जिसके कारण वे अन्य सिक्खों में पृथक् दिखाई देने लगे।
इसी परंपरा में सिक्खों के छठे गुरु हरगोविंद ने अकाल बुंगे की स्थापना की। बुंगे का अर्थ है एक बड़ा भवन जिसके ऊपर गुंबज हो। इसके भीतर अकाल तख्त अमृतसर में स्वर्ण मंदिर के सम्मुख की रचना की गई और इसी भवन में अकालियों की गुप्त मंत्रणाएँ और गोष्ठियाँ होने लगीं। इनमें जो निर्णय होते थे उन्हें गुरुमताँ अर्थात् गुरु का आदेश नाम दिया गया। धार्मिक समारोह के रूप में ये सम्मेलन होते थे। मुगलों के अत्याचारों से पीड़ित जनता की रक्षा ही इस धार्मिक संगठन का गुप्त उद्देश्य था। यही कारण था कि अकाली आंदोलन को राजनीतिक गतिविधि मिली। बुंगे से ही गुरुमताँ को आदेश रूप से सब ओर प्रसारित किया जाता था और वे आदर्श कार्य रूप में परिणत किए जाते थे। अकाल बुंगे का अकाली वही हो सकता था जो नामवाणी का प्रेमी हो और पूर्ण त्याग और विराग का परिचय दे। ये लोग बड़े शूर वीर, निर्भय, पवित्और स्वतंत्र होते थे। निर्बलों, बूढ़ों, बच्चों और अबलाओं की रक्षा करना ये अपना धर्म समझते थे। सबके प्रति इनका मैत्रीभाव रहता था। मनुष्य मात्र की सेवा करना इनका कर्तव्य था। अपने सिर को हमेशा ये हथेली पर लिए रहते थे।
30 मार्च सन् 1699 को गुरु गोविंदसिंह ने खालसा पंथ की स्थापना की। इस पंथ के अनुयायी अकाली ही थे। औरंगजेब के अत्याचारों का मुकाबला करने के लिए अकाली खालसा सेना के रूप में सामने आए। गुरु ने उन्हें नीले वस्त्र पहनने का आदेश दिया और पाँच ककार धारण करना भी उनके लिए अनिवार्य हुआ। अकाली सेना की एक शाखा सरदार मानसिंह के नेतृत्व में निहंग सिंही के नाम से प्रसिद्ध हुई। फारसी भाषा में निहंग का अर्थ मगरमच्छ है जिसका तात्पर्य उस निर्भय व्यक्ति से है जो किसी अत्याचार के समक्ष नहीं झुकता। इसका संस्कृत अर्थ निसर्ग है अर्थात् पूर्ण रूप से अपरिग्रही, पुत्र, कलत्और संसार से विरक्त पूरा-पूरा अनिकेतन। निहंग लोग विवाह नहीं करते थे और साधुओं की वृत्ति धारण करते थे। इनके जत्थे होते थे और उनका एक अगुआ जत्थेदार होता था। पीड़ितों, आर्तों और निर्बलों की रक्षा के साथ-साथ सिक्ख धर्म का प्रचार करना इनका पुनीत कर्तव्य था। जहाँ भी ये ठहरते थे, जनता इनका आदर करती थी। जिस घर में ये प्रवेश पाते थे वह अपने को परम सौभाग्यशाली समझता था। ये केवल अपने खाने भर को ही लिया करते थे और आदि न मिला तो उपवास करते थे। ये एक स्थान पर नहीं ठहरते थे। कुछ लोग इनकी पक्षीवृत्ति देखकर इन्हें विहंगम भी कहते थे। सचमुच ही इनका जीवन त्याग और तपस्या का जीवन था। वीर ये इतने थे कि प्रत्येक अकाली अपने को सवा लाख के बराबर समझता था। किसी की मृत्यु की सूचना भी यह कहकर दिया करते थे कि वह चढ़ाई कर गया, जैसे मृत्यु लोक में भी मृत प्राणी कहीं युद्ध के लिए गया हो। सूखे चने को ये लोग बदाम कहते थे और रुपए और सोने को ठीकरा कहकर अपनी असंग भावना का परिचय देते थे। पश्चिम से होने वाले अफगानों के आक्रमणों का मुकाबला करना और हिंदू कन्याओं और तरुणियों को पापी आततायियों के हाथों से उबारना इनका दैनिक कार्य था।
महाराजा रणजीत सिंह के समय अकाली सेना अपने चरम उत्कर्ष पर थी। इसमें देश भर के चुने सिपाही होते थे। मुसलमान गाजियों का ये डटकर सामना करते थे। मुल्तान, कश्मीर, अटक, नौशेरा, जमशेद, अफगानिस्तान आदि तक इन्हीं के सहारे रणजीत सिंह ने अपना साम्राज्य बढ़ाया। अकाल सेना के पतन का कारण कायरों और पापियों का छद्मवेश में सेना के निहंगों में प्रवेश पाना था। इससे इस पंथ को बहुत धक्का लगा।
अंग्रेजों ने भी अकालियों की वीरता से भयभीत होकर हमेशा उन्हें दबाने का प्रयास किया। इधर अकाली इतिहास में एक नया अध्याय आरंभ हुआ। जो गुरुद्वारे और धर्मशालाएँ दसों सिक्ख गुरुओं ने धर्मप्रचाऔर जनता की सेवा के लिए स्थापित की थीं और जिन्हें सदृढ़ रखने के लिए महाराज रणजीत सिंह ने बड़ी-बड़ी जागीरें लगवा दी थीं वे अंग्रेजी राज्य के समय अनेक नीच आचरण वाले महंतों और पुजारियों के अधिकार में पहुँच गई थीं। उनमें सब प्रकार के दुराचरण होने लगे थे। उनके विरोध में कुछ सिक्ख तरुणों ने गुरुद्वारों के उद्धार के लिए अक्टूबर, सन् 1920 में अकालियों की एक नई सेना एकत्रित की। इसका उद्देश्य अकालियों की पूर्व परंपरा के अनुसार त्याग और पवित्रता का व्रत लेना था। इन्होंने कई नगरों में अत्याचारी महंतों को हटाकर मठों पर अधिकाकर लिया। इस समय गुरुनानक की जन्मभूमि ननकाना साहब जिला शेखपुरा, वर्तमान पाकिस्तान में के गुरुद्वारे पर महंत नारायण दास का अधिकार था। उससे मुक्त करने के लिए भी गुरुमता प्रस्ताव पास किया गया। सरदार लक्ष्मण सिंह ने 200 अकालियों के साथ चढ़ाई की; परंतु उनका तथा उनके साथियों का बड़ी निर्दयता के साथ वध कर दिया गया और उन्हें नाना प्रकार की क्रूर यातनाएँ दी गईं। और भी बहुत से मठों को छीनने में अकालियों को अनेक बलिदान करने पड़े। ब्रिटिश सरकार ने पहले महंतों की भरपूर सहायता की परंतु अंत में अकालियों की जीत हुई। सन् 1925 तक समस्त गुरुद्वारे, शिरोमणि गुरुद्वारा कमेटी के अंतर्गत धारा 195 के अनुसार आ गए। अकालियों की सहायता में महात्मा गांधी ने बड़ा योग दिया और भारतीय कांग्रेस ने अकाली आंदोलन को पूरा-पूरा सहयोग दिया।
सन् 1925 से गुरुद्वारा ऐक्ट बनने के पश्चात् इसी के अनुसार गुरुद्वारा प्रबंधक समिति का पहला निर्वाचन 2 अक्टूबर 1926 को हुआ। अब शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति का निर्वाचन प्रति पाँचवें वर्ष होता है। इस समिति का प्रमुख कार्य गुरुद्वारों की देखभाल, धर्म प्रचार, विद्या का प्रसार इत्यादि है। शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति के अतिरिक्त एक केंद्रीय शिरोमणि अकाली दल भी अमृतसर में स्थापित है। इसके जत्थे हर जिले में यथाशक्ति गुरुद्वारों का प्रबंध और जनता की सेवा करते हैं।

ह अक ल दल अक ल दल क गठन द स बर 1920 क 14 श र मण ग र द व र प रब धक कम ट स ख ध र म क शर र क एक क र य बल क र प म क य गय थ अक ल दल ख द
अक ल तख त प ज ब भ ष ਅਕ ਲ ਤਖ ਤ, श ब द क अर थ: क ल स रहत परम त म क स ह सन स ख क प च तख त म स एक ह यह हर मन द र स ह ब पर सर अम तसर
बब बर अक ल सन म अक ल य स अलग ह कर बन एक उग र स ख सम ह थ ग र द व र स ध र क प रश न पर अक ल य क अह सक म र ग इन ह पसन द नह थ स तम बर
अक ल भ जन क एक व य पक अभ व ह ज क स भ पश वर ग य प रज त पर ल ग ह सकत ह इस घटन क स थ य इसक ब द आम त र पर क ष त र य क प षण, भ खमर मह म र
अक ल पत र क भ रत म प रक श त ह न व ल प ज ब भ ष क एक सम च र पत र अखब र ह भ रत म प रक श त ह न व ल सम च र पत र क स च NEWSPAPERS.co.in
अक ल य क समर थन और प रभ व बढ न लग इस ब च अम तसर म 13 अप र ल 1978 क अक ल क र यकर त ओ और न र क र य क ब च ह सक झड प ह ई इसम 13 अक ल क र यकर त
क र जप त न अक ल ज स ग र ट र जप त न अक ल भ कह ज त ह इसक अल व हम इस अक ल क ब द लख ड अक ल भ कह सकत ह य अक ल म पड थ इसम
अक ल अरब عقال, iqal: ब धन य रस स य अग ल, अरब प र ष द व र आमत र पर पहन ज न व ल एक पर ध न सह यक ह यह एक क ल रस स ह ज स अरब प र ष
अक ल तख त एक स प र स 2318 भ रत य र ल द व र स च ल त एक म ल एक स प र स ट र न ह यह ट र न अम तसर ज क शन र लव स ट शन स ट शन क ड: ASR स 06: 05AM बज छ टत
अक ल तख त एक स प र स 2317 भ रत य र ल द व र स च ल त एक म ल एक स प र स ट र न ह यह ट र न स य ल द र लव स ट शन स ट शन क ड: SDAH स 07: 40AM बज छ टत ह
म अक ल क बह त प र न इत ह स रह ह 1022 - 1033 क ब च कई ब र अक ल पड सम प र ण भ रत म बड स ख य म ल ग मर थ 1700 क प र र भ म भ अक ल न
कम य न स ट प र ट ब लप र, पश च म ब ग ल ड प ट स प कर चरणज त स ह अटव ल, अक ल दल, फ ल ल र, प ज ब सदन क न त प रणव म खर ज क ग र स, ज ग प र, पश च म

स वर ष स लग त र व और व ल कसभ क स सद ह व श र मण अक ल दल क सदस य और प ज ब क प र व उप म ख यम त र स खब र स ह ब दल क पत न ह
एक भय नक अक ल पड थ ज सम लगभग 30 ल ख ल ग न भ ख स तड पकर अपन ज न ज न ग व ई थ य द व त य व श वय द ध क समय थ म न ज त ह क अक ल क क रण अन ज
सत श र अक ल 1977 म बन ह न द भ ष क फ ल म ह स न ल दत त र न र य शत र घन स न ह प र मन थ सत श र अक ल इ टरन ट म व ड ट ब स पर
प रक श स ह ब दल भ रत क प ज ब प र त क प र व म ख यम त र ह एव श र मण अक ल दल ब दल क प रम ख ह प ज ब क भ तप र व म ख यम त र प रक श स ह ब दल
सत श र अक ल प ज ब ਸਤ ਸ ਰ ਅਕ ਲ प ज ब भ ष म प रय क त एक अभ व दन ह और इसक अध कतर उपय ग स खमत क अन य ईय द व र और क छ प ज ब ह न द ओ द व र
अक ल म स रस ह न द क व ख य त स ह त यक र क द रन थ स ह द व र रच त एक कव त स ग रह ह ज सक ल य उन ह सन 1989 म स ह त य अक दम प रस क र स सम म न त
अध यक ष पद स हट द य यह नह वह अक ल दल स भ न क ल द ए गए इसक ब द श र त हड न नई प र ट सर वह द श र मण अक ल दल एसएचएसएड क गठन क य वर ष
क हल - प ज ब क व ध न सभ क प र व ध यक ष रव करन स ह क हल - य व अक ल दल प ज ब क न त रव क हल - कन ड क र ष ट र य म द न ह क ख ल ड
ਕ ਦਰਤ ਦ ਚਮਤਕ ਰ 1947 प क स त न घल घ र प ज ब ਪ ਕ ਸਤ ਨ ਘਲ ਘ ਰ 1948 अक ल लहर द इत ह स प ज ब ਅਕ ਲ ਲਹ ਰ ਦ ਇਤ ਹ ਸ 1951 ब ब ख द स ह प ज ब
ह र म दरव ज क न र म ण भ अक ल र हत प र ज क ट क अन तर गत क य गय ह नव ब आसफउद द ल न यह दरव ज 1783 ई. म अक ल क द र न बनव य थ त क ल ग
क ष त र म प ज ब स ब प रद श बन न क ल य 1950 क दशक म श र मण अक ल दल क न त त व म चल थ इसक क रण प ज ब बह स ख यक प ज ब, हर य णव बह स ख यक
स सद ह 2014 क च न व म इन ह न प ज ब क फ र जप र स ट स श र मण अक ल दल क ओर स भ ग ल य भ रत क र ष ट र य प र टल पर स सद क ब र म स क ष प त
स सद ह 2014 क च न व म इन ह न प ज ब क आन दप र स ट स श र मण अक ल दल क ओर स भ ग ल य भ रत क र ष ट र य प र टल पर स सद क ब र म स क ष प त

व ध न सभ ख ड श म ल ह ज ह हरत प स ह, ब क रम स ह मज ठ य श र मण अक ल दल स न ल द त भ रत य र ष ट र य क ग र स र ज क म र व रक भ रत य र ष ट र य
स सद ह 2014 क च न व म इन ह न प ज ब क खड र स ह ब स ट स श र मण अक ल दल क ओर स भ ग ल य भ रत क र ष ट र य प र टल पर स सद क ब र म स क ष प त
क र एक भ रत य र जन त ज ञ ह और भ रत य प ज ब क प र व सत त ध र श र मण अक ल दल क न त ह अक ट बर 2010 म वह स वत त र भ रत म पहल मह ल व त त
अम ब क और अम ब ल क व च त रव र य क पत न य बन ल क न व च त रव र य क अक ल म त य क क रण वह द न न स त न रह गय भ ष म न पहल ह ब रह मचर य व रत
अम ब क और अम ब ल क व च त रव र य क पत न य बन ल क न व च त रव र य क अक ल म त य क क रण वह द न न स त न रह गय भ ष म न पहल ह ब रह मचर य व रत

  • ह अक ल दल अक ल दल क गठन द स बर 1920 क 14 श र मण ग र द व र प रब धक कम ट स ख ध र म क शर र क एक क र य बल क र प म क य गय थ अक ल दल ख द
  • अक ल तख त प ज ब भ ष ਅਕ ਲ ਤਖ ਤ, श ब द क अर थ: क ल स रहत परम त म क स ह सन स ख क प च तख त म स एक ह यह हर मन द र स ह ब पर सर अम तसर
  • बब बर अक ल सन म अक ल य स अलग ह कर बन एक उग र स ख सम ह थ ग र द व र स ध र क प रश न पर अक ल य क अह सक म र ग इन ह पसन द नह थ स तम बर
  • अक ल भ जन क एक व य पक अभ व ह ज क स भ पश वर ग य प रज त पर ल ग ह सकत ह इस घटन क स थ य इसक ब द आम त र पर क ष त र य क प षण, भ खमर मह म र
  • अक ल पत र क भ रत म प रक श त ह न व ल प ज ब भ ष क एक सम च र पत र अखब र ह भ रत म प रक श त ह न व ल सम च र पत र क स च NEWSPAPERS.co.in
  • अक ल य क समर थन और प रभ व बढ न लग इस ब च अम तसर म 13 अप र ल 1978 क अक ल क र यकर त ओ और न र क र य क ब च ह सक झड प ह ई इसम 13 अक ल क र यकर त
  • क र जप त न अक ल ज स ग र ट र जप त न अक ल भ कह ज त ह इसक अल व हम इस अक ल क ब द लख ड अक ल भ कह सकत ह य अक ल म पड थ इसम
  • अक ल अरब عقال, iqal: ब धन य रस स य अग ल, अरब प र ष द व र आमत र पर पहन ज न व ल एक पर ध न सह यक ह यह एक क ल रस स ह ज स अरब प र ष
  • अक ल तख त एक स प र स 2318 भ रत य र ल द व र स च ल त एक म ल एक स प र स ट र न ह यह ट र न अम तसर ज क शन र लव स ट शन स ट शन क ड: ASR स 06: 05AM बज छ टत
  • अक ल तख त एक स प र स 2317 भ रत य र ल द व र स च ल त एक म ल एक स प र स ट र न ह यह ट र न स य ल द र लव स ट शन स ट शन क ड: SDAH स 07: 40AM बज छ टत ह
  • म अक ल क बह त प र न इत ह स रह ह 1022 - 1033 क ब च कई ब र अक ल पड सम प र ण भ रत म बड स ख य म ल ग मर थ 1700 क प र र भ म भ अक ल न
  • कम य न स ट प र ट ब लप र, पश च म ब ग ल ड प ट स प कर चरणज त स ह अटव ल, अक ल दल, फ ल ल र, प ज ब सदन क न त प रणव म खर ज क ग र स, ज ग प र, पश च म
  • स वर ष स लग त र व और व ल कसभ क स सद ह व श र मण अक ल दल क सदस य और प ज ब क प र व उप म ख यम त र स खब र स ह ब दल क पत न ह
  • एक भय नक अक ल पड थ ज सम लगभग 30 ल ख ल ग न भ ख स तड पकर अपन ज न ज न ग व ई थ य द व त य व श वय द ध क समय थ म न ज त ह क अक ल क क रण अन ज
  • सत श र अक ल 1977 म बन ह न द भ ष क फ ल म ह स न ल दत त र न र य शत र घन स न ह प र मन थ सत श र अक ल इ टरन ट म व ड ट ब स पर
  • प रक श स ह ब दल भ रत क प ज ब प र त क प र व म ख यम त र ह एव श र मण अक ल दल ब दल क प रम ख ह प ज ब क भ तप र व म ख यम त र प रक श स ह ब दल
  • सत श र अक ल प ज ब ਸਤ ਸ ਰ ਅਕ ਲ प ज ब भ ष म प रय क त एक अभ व दन ह और इसक अध कतर उपय ग स खमत क अन य ईय द व र और क छ प ज ब ह न द ओ द व र
  • अक ल म स रस ह न द क व ख य त स ह त यक र क द रन थ स ह द व र रच त एक कव त स ग रह ह ज सक ल य उन ह सन 1989 म स ह त य अक दम प रस क र स सम म न त
  • अध यक ष पद स हट द य यह नह वह अक ल दल स भ न क ल द ए गए इसक ब द श र त हड न नई प र ट सर वह द श र मण अक ल दल एसएचएसएड क गठन क य वर ष
  • क हल - प ज ब क व ध न सभ क प र व ध यक ष रव करन स ह क हल - य व अक ल दल प ज ब क न त रव क हल - कन ड क र ष ट र य म द न ह क ख ल ड
  • ਕ ਦਰਤ ਦ ਚਮਤਕ ਰ 1947 प क स त न घल घ र प ज ब ਪ ਕ ਸਤ ਨ ਘਲ ਘ ਰ 1948 अक ल लहर द इत ह स प ज ब ਅਕ ਲ ਲਹ ਰ ਦ ਇਤ ਹ ਸ 1951 ब ब ख द स ह प ज ब
  • ह र म दरव ज क न र म ण भ अक ल र हत प र ज क ट क अन तर गत क य गय ह नव ब आसफउद द ल न यह दरव ज 1783 ई. म अक ल क द र न बनव य थ त क ल ग
  • क ष त र म प ज ब स ब प रद श बन न क ल य 1950 क दशक म श र मण अक ल दल क न त त व म चल थ इसक क रण प ज ब बह स ख यक प ज ब, हर य णव बह स ख यक
  • स सद ह 2014 क च न व म इन ह न प ज ब क फ र जप र स ट स श र मण अक ल दल क ओर स भ ग ल य भ रत क र ष ट र य प र टल पर स सद क ब र म स क ष प त
  • स सद ह 2014 क च न व म इन ह न प ज ब क आन दप र स ट स श र मण अक ल दल क ओर स भ ग ल य भ रत क र ष ट र य प र टल पर स सद क ब र म स क ष प त
  • व ध न सभ ख ड श म ल ह ज ह हरत प स ह, ब क रम स ह मज ठ य श र मण अक ल दल स न ल द त भ रत य र ष ट र य क ग र स र ज क म र व रक भ रत य र ष ट र य
  • स सद ह 2014 क च न व म इन ह न प ज ब क खड र स ह ब स ट स श र मण अक ल दल क ओर स भ ग ल य भ रत क र ष ट र य प र टल पर स सद क ब र म स क ष प त
  • क र एक भ रत य र जन त ज ञ ह और भ रत य प ज ब क प र व सत त ध र श र मण अक ल दल क न त ह अक ट बर 2010 म वह स वत त र भ रत म पहल मह ल व त त
  • अम ब क और अम ब ल क व च त रव र य क पत न य बन ल क न व च त रव र य क अक ल म त य क क रण वह द न न स त न रह गय भ ष म न पहल ह ब रह मचर य व रत
  • अम ब क और अम ब ल क व च त रव र य क पत न य बन ल क न व च त रव र य क अक ल म त य क क रण वह द न न स त न रह गय भ ष म न पहल ह ब रह मचर य व रत

पंजाब में भाजपा से गठबंधन बरकरार सुखबीर SamayLive.

चंडीगढ़। दिल्ली विधानसभा के चुनाव में भाजपा को समर्थन देने के मुद्दे पर यू टर्न लेने के लिए अकालियों पर बरसते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने आज कहा कि अपने राजनैतिक हितों की ख़ातिर अकाली दल ने संवैधानिक. अकाली दल विल सपोर्ट BJP इन दिल्ली पोल्स Outlook Hindi. केंद्र में भारतीय जनता पार्टी बीजेपी की सहयोगी पार्टी अकाली दल ने दिल्ली में विधानसभा चुनाव लड़ने से किनारा कर लिया है. सहयोगी होने के बाद भी पंजाब में अकाली दल नागरिकता संशोधन कानून सीएए का विरोध कर रहा है. लोकसभा. Haryana Assembly Election 2019: Shiromani Akali Dal To Contest. 29 जनवरी भाषा दिल्ली विधानसभा चुनाव में शिरोमणि अकाली दल ने भाजपा को समर्थन देने का फैसला किया है। भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा और शिरोमणि अकाली दल प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने बुधवार को इसकी घोषणा की ।. अकाली नेता की हत्या से गर्माई राजनीति हिंदी. अनुराग कश्यप की फिल्म उड़ता पंजाब में दलजीत दोसांज की पुलिस वाले की भूमिका तो याद ही होगी. उन्‍हीं दोसंज को रकाबगंज गुरुद्वारे में घुमाकर अकाली नेता जीके ने सिख राजनीति में अपनी छवि के साथ भी बड़ा रिस्क लिया है. हरियाणा: इकलौता विधायक BJP में गया, तो भड़के. अकाली दल का यू टर्न, दिल्‍ली चुनाव में बीजेपी को सपोर्ट का ऐलान January 29, 2020 LegendNews 0 Comments अकाली दल, दिल्ली चुनाव, बीजेपी, सपोर्ट. नई दिल्‍ली। नागरिकता संशोधन कानून CAA के मुद्दे पर दिल्ली में चुनाव न लड़ने का फैसला करने वाली.

शिरोमणि अकाली दल Hindustan.

अकाली दल को उसके 99वें स्थापना दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट किया, मैं पंजाब में हमारी सहयोगी पार्टी शिरोमणि अकाली दल को उनके 99वें स्थापना दिवस की बधाई देता हूं। भारत की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टियों में से एक,. अकाली दल का अजीब निर्णय, Akali Dals Sach Kahoon. अकाली चीफ सुखबीर ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा, ​अकाली बीजेपी गठबंधन महज राजनीतिक गठबंधन नहीं है। यह भावनाओं, से जुड़ा है और पंजाब व देश की जनता की शांति, भविष्य व हित के लिए है। पहले कुछ गलतफहमिया थीं जो दूर हो गई हैं।. अकाली भाजपा गठबंधन अब मजबूरियों का सौदा – जनचौक. दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा का समर्थन करने का अकाली दल ने किया ऐलान,अकाली दल के नेता सुखबीर बादल ने प्रेस को संबोधित करते हुए कहा है कि अकाली दल भाजपा.

नई अकाली दल Naidunia.

हरियाणा विधानसभा चुनाव: बीजेपी के साथ चुनाव लड़ेगी शिरोमणि अकाली दल, 22 सितंबर को होगी कोर कमेटी की बैठक. Haryana assembly elections 2019:हरियाणा में इससे पहले अकाली दल ने हमेशा इंडियन नेशनल लोकदल इनेलो के साथ मिलकर चुनाव. अकाली दल के 99वें स्थापना दिवस पर पीएम मोदी बोले. नागरिकता संशोधन कानून सीएए के मुद्दे पर दिल्ली मेंa चुनाव न लड़ने का फैसला करने वाली शिरोमणि अकाली दल एसएडी ने वापसी करते हुए बीजेपी को समर्थन देने की घोषणा कर दी। यह घोषणा बीजेपी अध्यक्ष जे पी नड्डा और अकाली नेता सुखबीर सिंह.

दिल्ली चुनाव में भाजपा को मिला शिरोमणि अकाली.

संशोधित नागरिकता कानून CAA को लेकर बीजेपी और उसकी सहयोगी अकाली दल में ठन गई है. दिल्ली SGPC के अध्यक्ष और अकाली दल के नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने सोमवार को ऐलान किया कि पार्टी ने दिल्ली विधानसभा चुनाव नहीं लड़ने का. पंजाब में भाजपा और अकाली दल के बीच गठबंधन Patrika. अमृतसर: 98 वर्ष पूरे कर चुके पंजाब के राजनीतिक दल शिरोमणी अकाली दल का आज 99वां स्थापना दिवस है। आज ही अकाली दल के अध्यक्ष का चुनाव होना है। वर्तमान में अकाली दल की कमान बादल परिवार में है। सुखबीर सिंह बादल पार्टी के अध्यक्ष.

Shiromani akali dal leaders may announce support to BJP from Sikh.

भारतीय जनता पार्टी और शिरोमणि अकाली दल के बीच पति पत्नी का अटूट रिश्ता बताया जाता रहा है, लेकिन अब नौबत तलातक आ गई है। हरियाणा के बाद दिल्ली में भी गठजोड़ टूटने के बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि अकाली भाजपा गठबंधन. संगरुर रैली के लिए अकाली दल का बड़ा प्लान. नई दिल्ली। हरियाणा में शिरोमणि अकाली दल के एकमात्र विधायक बलकौर सिंह ने भारतीय जनता पार्टी का दामन थाम लिया​। इसपर अकाली दल ने नाराजगी जाहिर की है और इसे गठबंधन धर्म का उल्लंघन बताया है। पार्टी के विधायक के बीजेपी में. दिल्ली चुनाव: अकाली दल का यू टर्न, BJP को समर्थन. Delhi Assembly Polls 2020: भारतीय जनता पार्टी भाजपा से गठबंधन तोड़ने के अपने आलाकमान के फैसले के बाद दिल्ली में शिरोमणी अकाली दल के नेता संकट में हैं। चुनाव लड़ने की महीनों से तैयारी कर रहे इनके कार्यकर्ताओं की स्थिति आगे.

अकाली दल ने मारी पलटी,CAA पर बीजेपी को दिया.

बीते 20 जनवरी को शिरोमणि अकाली दल नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने नागरिकता संशोधन कानून पर भाजपा के साथ मतभेद के चलते दिल्ली विधानसभा चुनाव में नहीं उतरने का ऐलान किया था. हालांकि, बुधवार को भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ लम्बी. अकाली सिख हिंदी शब्दमित्र. शिरोमणि अकाली दल के बागी नेता सुखदेव सिंह ढींढसा ने मंगलवार को कहा कि संशोधित नागरिकता कानून को लेकर दिल्ली शिरोमणि अकाली दल ने सोमवार को कहा कि नागरिकता संशोधन कानून सीएए पर सहयोगी भाजपा द्वारा उसका रुख बदलने के लिए कहे. रतिया से अकाली उम्मीदवार कुलविंदर सिंह ने भरा. शिरोमणि अकाली दल के इस रुख के बाद यह साफ हो गया है कि एनडीए में सब कुछ ठीक नहीं है. पंजाब में CAA का विरोध करना अकाली दल की AajTak. संगरुरः शिरोमणि अकाली दल की और से सुखबीर बादल के नेतृत्व में संगरुर में 2 फ़रवरी को होने वाली रैली के लिए आड़ी चोटी का जोर लगाए हुए है। रैली को लेकर सभी हलकों में दिग्ज नेता मीटिंगें ले रहे। इसी के चलते लहरागागा में प्रेम.

Delhi Assembly Election 2020 BJP Akali alliance broken 21 year old.

अकाली दल ने कहा सुखबीर बादल ने सीएए पर जो स्टैंड लिया, भाजपा उस पर दोबारा विचार के लिए कह रही थी भाजपा ने दिल्ली में सहयोगी दलों जद यू के लिए 2 सीट और लोजपा के लिए एक सीट छोड़ी, 10 पर फैसला जल्द Sukhbir Singh Badal, Shiromani Akali. अकाली दल का यू टर्न, दिल्‍ली चुनाव में बीजेपी को. नई दिल्‍ली। नागरिकता संशोधन कानून CAA के मुद्दे पर दिल्ली में चुनाव न लड़ने का फैसला करने वाली शिरोमणि अकाली दल ​SAD ने वापसी करते हुए बीजेपी को समर्थन देने की घोषणा कर दी। यह घोषणा बीजेपी अध्यक्ष जे पी नड्डा और अकाली. अकाली दल के पूर्व अध्यक्ष ने हरसिमरत कौर को दी. शिरोमणि अकाली दल शिअद के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने मंगलवार को कहा कि पंजाब में भाजपा के साथ उनकी पार्टी का गठबंधन बरकरार है, जो कि 20 साल से है। शिरोमणि अकाली दल शिअद​ के प्रमुख सुखबीर सिंह बादल ने यहां मीडिया से कहा,.

भाजपा की सहयोगी अकाली दल का नागरिकता Bhaskar.

शिरोमणी अकाली दल और इनेलो के रतिया से उम्मीदवार कुलविंदर सिंह कुणाल ने गुरुवार को अपना नामांकन दाखिल कर दिया। नामांकन दाखिल करने के दौरान अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल भी मौजूद रहे। उन्होंने कार्यकर्ताओं को. शिरोमणी अकाली दल BBC News हिंदी. विशेषज्ञ EXPERT. अकाली सिख. संज्ञा. परिभाषा नानक संप्रदाय के साधु जो सिपर लोहे के चक्र सहित काली पगड़ी धारण करते हैं वाक्य में प्रयोग अकाली सिख बहुत ही बहादुर होते हैं । समानार्थी शब्द अकाली सिक्ख, अकाली लिंग पुल्लिंग एक तरह. अकाली दल के अध्यक्ष का चुनाव आज Sudama News. शिरोमणि अकाली दल पंजाब, भारत का एक प्रमुख क्षेत्रीय राजनीतिक दल है। प्रकाश सिंह बादल के नेतृत्व सुखबीर सिंह बादल इसके वर्तमान अध्यक्ष हैं। विश्व में सिखों को राजनीतिक आवाज़ देना इस दल का प्रमुख लक्ष्य है। तराजू इसका चुनाव चिह्न है।.

दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा का समर्थन करने.

दिल्ली विधानसभा चुनावों में टिकट न मिलने के बाद अब अकाली दल असमंजस में है कि इस चुनाव में बीजेपी को समर्थन दे या नहीं​। नाकरिकता संशोधन कानून विवाद के चलते अकाली इस बार चुनाव नहीं लड़ रहे हैं, लेकिन इस चुनाव में उनकी क्या. अकाली दल ने हरियाणा में भाजपा से गठबंधन तोड़ा. इस घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया देते हुए दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि चुनाव नहीं लड़ने का रुख अकाली दल का है। तिवारी ने कहा, अकाली दल हमारे सबसे पुराने सहयोगी दलों में से है।. दिल्ली विधानसभा चुनाव: अकाली दल ने भाजपा को तो. अमृतसर, PNL दिल्ली में बीजेपी के साथ गठबंधन टूटने के बाद अकाली दल ने पंजाब गठबंधन को लेकर अपना स्टैंड क्लीयर किया है। अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि दिल्ली में चाहे जो कुछ भी हुआ हो, लेकिन पंजाब में.

दिल्ली विधानसभा चुनाव में BJP को मिला अकाली दल.

दिल्ली चुनाव: अकाली दल का यू टर्न, BJP को समर्थन देने का ऐलान. 29 Jan 2020. खबर कैसी लगी? Select Rate. 1, 2, 3, 4, 5. Show All Comments. प्रतिक्रिया दें. बड़ी खबरें image. Corona virus: एयर इंडिया, इंडिगो ने चीन जाने वाली उड़ानें की रद्द image. AIMPLB का SC. दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा को मिला. अकाली दल का अजीब निर्णय, Akali Dals strange decision, अकाली दल का आधार पंजाब में ही है जहां पार्टी तीन बार भाजपा के सहयोग के साथ सरकार बना चुकी है।. अकाली दल Archives Legend News Hindi News, Latest News in. नई दिल्लीः नागरिकता संशोधन कानून सीएए के मुद्दे पर दिल्ली मेंa चुनाव न लड़ने का फैसला करने वाली शिरोमणि अकाली दल एसएडी ने वापसी करते हुए बीजेपी को समर्थन देने की घोषणा कर दी। यह घोषणा बीजेपी अध्यक्ष जे पी नड्डा और. अकाली दल नहीं लड़ेगा दिल्ली चुनाव मनजिंदर सिंह. नई दिल्ली। देश में लोकसभा चुनाव की तैयारी जोर शोर से चल रही है। गठबंधन बनने और टूटने का खेल जारी है। सीट बंटवारे का फॉर्मूला भी धीरे धीरे तय हो रहे हैं। इसी कड़ी में पंजाब के अंदर भाजपा और शिरोमणि अकाली दल के बीच गठबंधन फाइनल हो गया है।.

अकाली बीजेपी के पंजाब गठबंधन को लेकर सुखबीर बादल.

Delhi Chunav Samachar: दिल्ली विधानसभा चुनाव में अकाली दल ने बीजेपी को समर्थन देने की घोषणा की है। पहले उसने सीएए के मुद्दे पर नाराज होकर चुनाव न लड़ने का फैसला किया था। उसकी मांग थी इसमें सभी धर्मों को शामिल करना चाहिए. SAD BJP coalition: अकाली ने बदला मूड Navbharat Times. नई दिल्ली, एएनआइ जेएनएन। दिल्ली में शिरोमणि अकाली दल और भाजपा का गठबंधन टूट गया है। दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा कि नागरिकता संशोधन कानून सीएए पर अकाली दल के स्टैंड की वजह से. शिरोमणि अकाली दल दिल्ली में नहीं लड़ेगा चुनाव. अगले महीने होने वाले दिल्ली विधानसभा चुनाव Delhi Assembly Election के लिए शिरोमणि अकाली दल Shiromani Akali Dal और भारतीय जनता पार्टी BJP का गठबंधन टूट गया है. वहीं, अकाली दल ने दिल्ली में चुनाव नहीं लड़ने की बात कही है. पहले कहा. उलझनों में नजर आता शिरोमणि अकाली दल Punjab Kesari. अकाली सरकार में हुये बिजली समझौतों के कारण लोगों के साथ हुआ अन्याय. चंडीगढ़, 21 जनवरी वार्ता पंजाब के सहकारिता एवं जेल मंत्री सुखजिन्दर सिंह रंधावा तथा नौ अन्य विधायकों ने पिछली अकाली भाजपा सरकार के समय हुए बिजली.

दिल्ली में यू टर्न लेकर अकाली दल ने.

दिल्ली विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा अपने सहयोगी दल शिरोमणि अकाली दल को मनाने में कामयाब हो गई है। सीएए के मुद्दे पर दिल्ली चुनाव में अभी तक भाजपा से अलग रही अकाली दल ने आखिर अपना समर्थन दे ही दिया। आज भाजपा अध्यक्ष. SAD supports BJP । दिल्ली चुनाव: अकाली दल ने दिया BJP. New Akali Dal: नाराज अकाली दल के टकसाली नेताओं ने अलग पार्टी के गठन का एलान कर दिया है. शिरोमणि अकाली दल दिल्ली में चुनाव नहीं लड़ेगी. दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष जे पी नड्डा ने दिल्ली में शिरोमणि अकाली दल के साथ संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस करते हुए आम आदमी पार्टी पर जमकर हमला बोला. नड्डा ने आम आदमी पार्टी पर जन लोकपाल, स्वराज से मुंह फेरने और. अकाली आंदोलनकारियों की क्या मांग थी? Vokal. राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन.

ब्रह्मास्त्र

ब्रह्मास्त्र ब्रह्मा द्वारा निर्मित एक अत्यन्त शक्तिशाली और संहारक अस्त्र है जिसका उल्लेख संस्कृत ग्रन्थों में कई स्थानों पर मिलता है। इसी के समान दो और अस्त...

वार्षिकी (वित्त)

वित्त सिद्धांत में वार्षिक भृति या वार्षिकी का मतलब ऐसे भुगतान से है जो एकसमान मात्रा में निश्चित अन्तराल पर एक निश्चित अवधि तक किया जाता है। उदाहरण के लिये ...