सामाजिक न्याय

एक विचार के रूप में सामाजिक न्याय की बुनियाद सभी मनुष्यों को समान मानने के आग्रह पर आधारित है। इसके मुताबिक किसी के साथ सामाजिक, धार्मिक और सांस्कृतिक पूर्वर्ग्रहों के आधापर भेदभाव नहीं होना चाहिए। हर किसी के पास इतने न्यूनतम संसाधन होने चाहिए कि वे ‘उत्तम जीवन’ की अपनी संकल्पना को धरती पर उतार पाएँ। विकसित हों या विकासशील, दोनों ही तरह के देशों में राजनीतिक सिद्धांत के दायरे में सामाजिक न्याय की इस अवधारणा और उससे जुड़ी अभिव्यक्तियों का प्रमुखता से प्रयोग किया जाता है। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि उसका अर्थ हमेशा सुस्पष्ट ही होता है। सिद्धांतकारों ने इस प्रत्यय का अपने-अपने तरीके से इस्तेमाल किया है। व्यावहारिक राजनीति के क्षेत्र में भी, भारत जैसे देश में सामाजिक न्याय का नारा वंचित समूहों की राजनीतिक गोलबंदी का एक प्रमुख आधार रहा है। उदारतावादी मानकीय राजनीतिक सिद्धांत में उदारतावादी-समतावाद से आगे बढ़ते हुए सामाजिक न्याय के सिद्धांतीकरण में कई आयाम जुड़ते गये हैं। मसलन, अल्पसंख्यक अधिकार, बहुसंस्कृतिवाद, मूल निवासियों के अधिकार आदि। इसी तरह, नारीवाद के दायरे में स्त्रियों के अधिकारों को ले कर भी विभिन्न स्तरों पर सिद्धांतीकरण हुआ है और स्त्री-सशक्तीकरण के मुद्दों को उनके सामाजिक न्याय से जोड़ कर देखा जाने लगा है।
यद्यपि एक विचार के रूप में विभिन्न धर्मों की बुनियादी शिक्षाओं में सामाजिक न्याय के विचार को देखा जा सकता है, लेकिन अधिकांश धर्म या सम्प्रदाय जिस व्यावहारिक रूप में सामने आये या बाद में जिस तरह उनका विकास हुआ, उनमें कई तरह के ऊँच-नीच और भेदभाव जुड़ते गये। समाज-विज्ञान में सामाजिक न्याय का विचार उत्तर-ज्ञानोदय काल में सामने आया और समय के साथ अधिकाधिक परिष्कृत होता गया। क्लासिकल उदारतावाद ने मनुष्यों पर से हर तरह की पुरानी रूढ़ियों और परम्पराओं की जकड़न को ख़त्म किया और उसे अपने मर्जी के हिसाब से जीवन जीने के लिए आज़ाद किया। इसके तहत हर मुनष्य को स्वतंत्रता देने और उसके साथ समानता का व्यवहार करने पर ज़ोर ज़रूर था, लेकिन ये सारी बातें औपचारिक स्वतंत्रता या समानता तक ही सिमटी हुई थीं। बाद में उन्नीसवीं सदी की शुरुआत में कई उदारतावादियों ने राज्य के हस्तक्षेप द्वारा व्यक्तियों की आर्थिक भलाई करने और उन्हें अपनी स्वतंत्रता को उपभोग करने में समर्थ बनाने की वकालत की। कई यूटोपियाई समाजवादियों ने भी एक ऐसे समाज की कल्पना की जहाँ आर्थिक, सामाजिक या सांस्कृतिक आधापर लोगों के साथ भेदभाव न होता हो। स्पष्टतः इन सभी विचारों में सामाजिक न्याय के प्रति गहरा सरोकार था। इसके बावजूद मार्क्स ने इन सभी विचारों की आलोचना की और ज़ोर दिया कि न्याय जैसी अवधारणा की आवश्यकता पूँजीवाद के भीतर ही होती है क्योंकि इस तरह की व्यवस्था में उत्पादन के साधनों पर कब्ज़ा जमाये कुछ लोग बहुसंख्यक सर्वहारा का शोषण करते हैं। उन्होंने क्रांति के माध्यम से एक ऐसी व्यवस्था कायम करने का लक्ष्य रखा जहाँ हर कोई अपनी क्षमता के अनुसार काम करने और अपनी आवश्यकता के अनुसार चीज़ें हासिल करने की परिस्थितियाँ प्राप्त हों। लेकिन बीसवीं सदी के पूर्वार्ध में मार्क्सवाद और उदारतावाद का जो व्यावहारिक रूप सामने आया, वह उनके आश्वासनों जैसा न हो कर विकृत था। मार्क्सवाद से प्रेरित रूसी क्रांति के कुछ वर्षों बाद ही स्तालिनवाद की सर्वसत्तावादी संरचनाएँ उभरने लगीं। वहीं उदारतावाद और पूँजीवाद ने आंतरिक जटिलताओं के कारण दुनिया को दो विश्व-युद्धों, महामंदी, फ़ासीवाद और नाज़ीवाद जैसी भीषणताओं में धकेल दिया। पूँजीवाद को संकट से उबारने के लिए पूँजीवादी देशों में क्लासिकल उदारतावादी सूत्र से लेकर कींसवादी नीतियों तक हर सम्भव उपाय अपनाने की कोशिश की गयी। इस पूरे संदर्भ में सामाजिक न्याय की बातें नेपथ्य में चली गयीं या सिर्फ़ इनका दिखावे के तौपर प्रयोग किया गया। इसी दौर में उपनिवेशवाद के ख़िलाफ़ चलने वाले संघर्षों में मानव-मुक्ति और समाज के कमज़ोर तबकों के हकों आदि की बातें ज़ोरदार तरीके से उठायी गयीं। ख़ास तौपर भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में सभी तबकों के लिए सामाजिक न्याय के मुद्दे पर गम्भीर बहस चली। इस बहस से ही समाज के वंचित तबकों के लिए संसद एवं नौकरियों में आरक्षण, अल्पसंख्यकों को अपनी आस्था के अनुसार अधिकार देने और अपनी भाषा का संरक्षण करने जैसे प्रावधानों पर सहमति बनी। बाद में ये सहमतियाँ भारतीय संविधान का भाग बनीं।
इसी के साथ-साथ मानकीय उदारतावादी सिद्धांत में राज्य द्वारा समाज के कुछ तबकों की भलाई या कल्याण के लिए ज़्यादा आय वाले लोगों पर टैक्स लगाने का मसला विवादास्पद बना रहा। कींस ने पूँजीवाद को मंदी से उबारने के लिए राज्य के हस्तक्षेप के ज़रिये रोज़गार पैदा करने के प्रावधानों का सुझाव दिया, लेकिन फ़्रेड्रिख़ वान हायक, मिल्टन फ़्रीडमैन और बाद में रॉबर्ट नॉज़िक जैसे विद्वानों ने आर्थिक गतिविधियों में राज्य के हस्तक्षेप की आलोचना की। इन लोगों का मानना था कि इससे व्यक्ति की स्वतंत्रता और आर्थिक आज़ादी को चोट पहुँचती है। जॉन रॉल्स ने 1971 में अपनी किताब अ थियरी ऑफ़ जस्टिस में ताकतवर दलीलें दीं आख़िर क्यों समाज के कमज़ोर तबकों की भलाई के लिए राज्य को सक्रिय हस्तक्षेप करना चाहिए। अपनी थियरी में रॉल्स शुद्ध प्रक्रियात्मक न्याय की अवधारणा प्रस्तुत करते हुए वितरणमूलक न्याय के लक्ष्य को हासिल करने की कोशिश करते हुए दिखाई देते हैं। अपने न्याय के सिद्धांत में उन्होंने हर किसी को समान स्वतंत्रता के अधिकार की तरफ़दारी की। इसके साथ ही भेदमूलक सिद्धांत के माध्यम से यह स्पष्ट किया कि सामाजिक और आर्थिक अंतरों को इस तरह समायोजित किया जाना चाहिए कि इससे सबसे वंचित तबके को सबसे ज़्यादा फ़ायदा हो।
बाद के वर्षों में रॉल्स के सिद्धांत की कई आलोचनाएँ भी सामने आयीं, जो दरअसल सामाजिक न्याय के संदर्भ कई नये आयामों का प्रतिनिधित्व करती थीं। इस संदर्भ में समुदायवादियों और नारीवादियों की द्वारा की गयी आलोचनाओं का विशेष रूप से उल्लेख किया जा सकता है। समुदायवादियों ने सामान्य तौपर उदारतावाद और विशेष रूप से रॉल्स के सिद्धांत की इसलिए आलोचना की कि इसमें व्यक्ति की अणुवादी संकल्पना पेश किया गया है। रॉल्स जिस व्यक्ति की संकल्पना करते हैं वह अपने संदर्भ और समुदाय से पूरी तरह कटा हुआ है। बाद में, 1980 के दशक के आख़िरी वर्षों में, उदारतावादियों ने समुदायवादियों की आलोचनाओं को उदारतावाद के भीतर समायोजित करने की कोशिश की जिसके परिणामस्वरूप बहुसंस्कृतिवाद की संकल्पना सामने आयी। इसमें यह माना गया कि अल्पसंख्यक समूहों के साथ वास्तविक रूप से तभी न्याय हो सकता है, जब उन्हें अपनी संस्कृति से जुड़े विविध पहलुओं की हिफ़ाज़त करने और उन्हें सार्वजनिक रूप से अभिव्यक्त करने की आज़ादी मिले। इसके लिए यह ज़रूरी है कि इनके सामुदायिक अधिकारों को मान्यता दी जाए। इस तरह सैद्धांतिक विमर्श के स्तर पर बहुसंस्कृतिवाद ने सामाजिक न्याय की अवधारणा में एक नया आयाम जोड़ा।
यहाँ उल्लेखनीय है कि साठ के दशक से ही पश्चिम में नारीवादी आंदोलन, नागरिक अधिकार आंदोलन, गे, लेस्बियन और ट्रांस-जेंडर आंदोलन और पर्यावरण आंदोलन आदि उभरने लगे थे। बाद के दशकों में इनका प्रसार ज़्यादा बढ़ा और इन्होंने सैद्धांतिक विमर्श को भी गहराई प्रदान की। मसलन, नारीवादियों ने उदारतावाद और रॉल्सवादी रूपरेखा की आलोचना की। अपने विश्लेषण द्वारा उन्होंने पितृसत्ता को नारीवादियों के समान हक के रास्ते में सबसे बड़ी रुकावट के रूप में रेखांकित किया। इसी तरह, गे, लेस्बियन और ट्रांस- जेंडर लोगों ने समाज में ‘सामान्य’ या ‘नार्मल’ की वर्चस्वी रूपरेखा पर सवाल उठाया और अपने लिए समान स्थिति की माँग की। नागरिक अधिकार आंदोलनों द्वारा पश्चिम में, ख़ास तौपर अमेरिकी समाज में काले लोगों ने अपने लिए बराबरी की माँग की। मूल निवासियों ने भी अपने सांस्कृतिक अधिकारों की माँग करते हुए बहुत सारे आंदोलन किये हैं। बहुसंस्कृतिवादियों ने अपनी सैद्धांतिक रूपरेखा में इन सभी पहलुओं को समेटने की कोशिश की है। इन सभी पहलुओं ने सामाजिक न्याय के अर्थ में कई नये आयाम जोड़े हैं। इससे स्पष्ट होता है कि विविध समूहों के लिए सामाजिक न्याय का अलग-अलग अर्थ रहा है।
असल में विकासशील समाजों में पश्चिमी समाजों की तुलना में सामाजिक न्याय ज़्यादा रैडिकल रूप में सामने आया है। मसलन, दक्षिण अफ़्रीका में अश्वेत लोगों ने रंगभेद के ख़िलाफ़ और सत्ता में अपनी हिस्सेदारी के लिए ज़ोरदार संघर्ष किया। इस संघर्ष की प्रकृति अमेरिका में काले लोगों द्वारा चलाये गये संघर्ष से इस अर्थ में अलग थी कि दक्षिण अफ़्रीका में काले लोगों को ज़्यादा दमनकारी स्थिति का सामना करना पड़ रहा था। इस संदर्भ में भारत का उदाहरण भी उल्लेखनीय है। बहुसंस्कृतिवाद ने जिन सामुदायिक अधिकारों पर जोर दिया उनमें से कई अधिकार भारतीय संविधान में पहले से ही दर्ज हैं। लेकिन यहाँ सामाजिक न्याय वास्तविक राजनीति में संघर्ष का नारा बन कर उभरा। मसलन, भीमराव आम्बेडकर और उत्पीड़ित जातियों और समुदायों के कई नेता समाज के हाशिये पर पड़ी जातियों कोशिक्षित और संगठित होकर संघर्ष करते हुए अपने न्यायपूर्ण हक को हासिल करने की विरासत रच चुके थे। इसी तरह पचास और साठ के दशक में राममनोहर लोहिया ने इस बात पर जोर दिया कि पिछड़ों, दलितों, अल्पसंख्यकों और स्त्रियों को एकजुट होकर सामाजिक न्याय के लिए संघर्ष करना चाहिए। लोहिया चाहते थे कि ये समूह एकजुट होकर सत्ता और नौकरियों में ऊँची जातियों के वर्चस्व को चुनौती दें। इस पृष्ठभूमि के साथ नब्बे के दशक के बाद सामाजिक न्याय भारतीय राजनीति का एक प्रमुख नारा बनता चला गया। इसके कारण अभी तक सत्ता से दूर रहे समूहों को सत्ता की राजनीति के केंद्र में आने का मौका मिला। ग़ौरतलब है कि भारत में भी पर्यावरण के आंदोलन चल रहे हैं। लेकिन ये लड़ाइयाँ स्थानीय समुदायों के अपने ‘जल, जंगल और जमीन’ के संघर्ष से जुड़ी हुई हैं। इसी तरह विकासशील समाजों में अल्पसंख्यक समूह भी अपने ख़िलाफ़ पूर्वग्रहों से लड़ते हुए अपने लिए ज़्यादा बेहतर सुविधाओं की माँग कर रहे हैं। इस अर्थ में सामाजिक न्याय का संघर्ष लोगों के अस्तित्व और अस्मिता से जुड़ा हुआ संघर्ष है।
इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि सामाजिक न्याय के नारे ने विभिन्न समाजों में विभिन्न तबकों को अपने लिए गरिमामय ज़िंदगी की माँग करने और उसके लिए संघर्ष करने के लिए प्रेरित किया है। सैद्धांतिक विमर्श में भी यूटोपियाई समाजवाद से लेकर वर्तमान समय तक सामाजिक न्याय में बहुत सारे आयाम जुड़ते गये हैं। यह भी उल्लेखनीय है कि विकसित समाजों की तुलना में विकासशील समाजों में सामाजिक न्याय का संघर्ष बहुत जटिलताओं से घिरा रहा है। अधिकांश मौकों पर इन समाजों में लोगों को सामाजिक न्याय के संघर्ष में बहुत ज़्यादा संरचात्मक हिंसा और कई मौकों पर राज्य की हिंसा का भी सामना करना पड़ा है। लेकिन सामाजिक न्याय के लिए चलने वाले संघर्षों के कारण इन समाजों में बुनियादी बदलाव हुए हैं। कुल मिला कर समय के साथ सामाजिक न्याय के सिद्धांतीकरण में कई नये आयाम जुड़े हैं और एक संकल्पना या नारे के रूप में इसने लम्बे समय तक ख़ामोश या नेपथ्य में रहने वाले समूहों को भी अपने के लिए जागृत किया है।
== सन्दर्भ ==धरम करम के लिए
1. जॉन रॉल्स 1971, अ थियरी ऑफ़ जस्टिस, ऑक्सफ़र्ड युनिवर्सिटी प्रेस, लंदन.
2. इलानोर ज़िलियट 1986, ‘द सोशल ऐंड पॉलिटिकल थॉट ऑफ़ बी.आर. आम्बेडकर’, थॉमस पैंथम और केनेथ एल. ड्युश्च सम्पा., पॉलिटिकल थॉट इन मॉडर्न इण्डिया, सेज पब्लिकेशंस, नयी दिल्ली.
3. विल किमलिका 1996, मल्टीकल्चरल सिटीज़नशिप: अ लिबरल थियरी ऑफ़ माइनॉरिटी राइट्स, क्लेरैंडन प्रेस, ऑक्सफ़र्ड.
4. विल किमलिका 2009, समकालीन राजनीति दर्शन: एक परिचय, अनु. कमल नयन चौबे पियर्सन, नयी दिल्ली.

स म ज क न य य एव सशक त करण र ज यम त र भ रत सरक र भ रत सरक र म एक र ज य म त र ह
स म ज क न य य एव सशक त करण म त र लय, भ रत सरक र भ रत सरक र क एक म त र लय ह
प र क त क न य य Natural justice न य य सम बन ध एक दर शन ह ज क छ व ध क म मल म न य यप र ण just य द षरह त fair प रक र य ए न र ध र त करन एव
165 स म ज क न य य न य यश स त र Jurisprudence न य यश स त र भ रत य न य य बह व कल प न य य क य ह न य य क पर भ ष न य य क व श षत ए न य य क म ल
स म ज क स रक ष सम जश स त र स म ज क स ज ल स म ज क व ज ञ न सम ज मन व ज ञ न स म ज क क शल स म ज क समर थन स म ज क कमज र स म ज क न य य और अध क र त म त र लय स मज क
श म ल ह पर मर श, श क ष य प रश क षण क ल ए प रद न करन आपर ध क न य य क श र न य य और स ध रक प रण ल य क न न न र म त ओ क न न प रवर तन कर म य वक ल
democracy sidebar स म ज क ल कत त र एक र जन त क, स म ज क और आर थ क व च रध र ह ज प ज व द अर थव यवस थ क ढ च म स म ज क न य य क ल ए, और स म ह क
च त र: Cjsflowco.sv दण ड - न य य क अन तर गत व सभ त त र, क र य एव सरक र स स थ ए आत ह ज स म ज क न य त रण क बन न रखन अपर ध क र कन तथ कम करन
क न न एव न य य म त र लय भ रत सरक र क एक प रम ख म त र लय ह व ध और न य य म त र लय भ रत सरक र क सबस प र न अ ग ह इसक स थ पन वर ष 1833 म उस

स म न य: न म नल ख त व षय आत ह - 1. न य य क ध रण Conception of Justic 2. क न न एव न य य म स ब ध 3. न य य क प लन क उद द श य क प र त करन व ल
आध र प रद न क य ह र ल स न स म ज क सहय ग म न य य क भ म क क स पष ट करत ह ए न य य क सरल करण क य ह और अपन न य य स द ध न त क प रक र य तमक आध र
स पष ट क य क उनक द व र द य गय स द ध त व श व क न य य स स ब ध त नह ह अ तर र ष ट र य स तर पर न य य क अपन स कल पन व यक त करन क ल ए र ल स न द ल
म नव ध क र एव स म ज क न य य क स द ध त सम ज - क र य क ल ए ब न य द महत त व क ह अत कह ज सकत ह क सम ज - क र य व यक त क स म ज क पर य वरण स त रतम य
जस ट स न उद रव द क नई द श व च तन प रद न क ह इस प स तक म स म ज क न य य क स कल पन व कस त करक र ल स न एक आदर श र जन त क व यवस थ क न र म ण
जन म: 18 मई 1948 भ रत य जनत प र ट क र जन त और भ रत क क द र य स म ज क न य य व अध क र त म त र ह भ रत क क न द र य म त र म डल नर न द र म द क
एक भ रत य र जन त ज ञ तथ प र व भ रत सरक र क प द रहव ल कसभ क म त र म डल म स म ज क न य य एव सशक त करण म त र लय म म त र बन य गय ह vlfgks
जह ज र न म त र लय ज क व सन स सद य म मल क म त र लय पवन ब सल स म ज क न य य एव सशक त करण म त र लय म क ल व सन क जनज त य म मल क म त र लय क त ल ल
ह व तर क द त ह क न य य क शब द वल व स तव म द भ न न क न त एक द सर स स ब ध त व च र स म न य न य य और व श ष न य य स सन दर भ त ह जब एक
ड र ज व स ज ल एक भ रत य र जन त ज ञ तथ वर तम न ह म चल प रद श सरक र म स म ज क न य य एव अध क र त म त र ह व भ रत य जनत प र ट क र जन त ह
र मद स ब ड आठवल एक भ रत य र जन त ज ञ तथ वर तम न म क न द र य स म ज क न य य एव अध क र त र ज यम त र भ रत सरक र ह व भ रत क वर ष ठ सदन र ज यसभ
प र य क एम खड ग एक भ रत य र जन त ज ञ तथ वर तम न म कर न टक सरक र म स म ज क न य य एव अध क र त म त र ह व कर न टक व ध नसभ म च त त प र स व ध यक

न य य स वत त रत सम नत और भ ईच र क सर व च च स द ध त क स च व ल भ रत क एक र ष ट र य र जन त क दल ह इसक गठन म ख यत: एक क र त क र स म ज क
र ज न द र प ल ग तम वर तम न द ल ल सरक र म स म ज क न य य एव अध क र त व भ ग, अन स च त ज त जनज त व भ ग, रज स ट र र आफ क - आपर ट व स स इट ज म त र ह
मदन द ल वर एक भ रत य र जन त ज ञ तथ व प र व र जस थ न सरक र म स म ज क न य य एव अध क र त म त र लय क म त र थ व भ रत य जनत प र ट क र जन त ह
लखन घनघ र य एक भ रत य र जन त ज ञ तथ वर तम न मध य प रद श सरक र म स म ज क न य य एव न शक तजन कल य ण, अन स च त ज त कल य ण म त र ह व जबलप र प र व
ह व प र व र जस थ न व ध नसभ क अध यक ष ह व प र व म क न द र य स म ज क न य य एव अध क र त र ज य म त र रह च क ह और व भ रत य जनत प र ट क
भ वरल ल म घव ल एक भ रत य र जन त ज ञ तथ वर तम न र जस थ न सरक र म स म ज क न य य एव अध क र त आपद प रब धन म त र ह इनक छव एक क शल प रश सक क
ग ल ब द व एक भ रत य र जन त ज ञ तथ वर तम न उत तर प रद श सरक र म स म ज क न य य र ज यम त र ह व भ रत य जनत प र ट क र जन त र ह
आओ, अभ न त और न टकक र आओ, ह थ स और द म ग स क म करन व ल आओ और स व य क आज द और स म ज क न य य क नय द न य क न र म ण क ल य समर प त कर द
श र ड न प ल यन क भ रत सरक र क प द रहव ल कसभ क म त र म डल म स म ज क न य य एव सशक त करण र ज यम त र म म त र बन य गय ह

  • स म ज क न य य एव सशक त करण र ज यम त र भ रत सरक र भ रत सरक र म एक र ज य म त र ह
  • स म ज क न य य एव सशक त करण म त र लय, भ रत सरक र भ रत सरक र क एक म त र लय ह
  • प र क त क न य य Natural justice न य य सम बन ध एक दर शन ह ज क छ व ध क म मल म न य यप र ण just य द षरह त fair प रक र य ए न र ध र त करन एव
  • 165 स म ज क न य य न य यश स त र Jurisprudence न य यश स त र भ रत य न य य बह व कल प न य य क य ह न य य क पर भ ष न य य क व श षत ए न य य क म ल
  • स म ज क स रक ष सम जश स त र स म ज क स ज ल स म ज क व ज ञ न सम ज मन व ज ञ न स म ज क क शल स म ज क समर थन स म ज क कमज र स म ज क न य य और अध क र त म त र लय स मज क
  • श म ल ह पर मर श, श क ष य प रश क षण क ल ए प रद न करन आपर ध क न य य क श र न य य और स ध रक प रण ल य क न न न र म त ओ क न न प रवर तन कर म य वक ल
  • democracy sidebar स म ज क ल कत त र एक र जन त क, स म ज क और आर थ क व च रध र ह ज प ज व द अर थव यवस थ क ढ च म स म ज क न य य क ल ए, और स म ह क
  • च त र: Cjsflowco.sv दण ड - न य य क अन तर गत व सभ त त र, क र य एव सरक र स स थ ए आत ह ज स म ज क न य त रण क बन न रखन अपर ध क र कन तथ कम करन
  • क न न एव न य य म त र लय भ रत सरक र क एक प रम ख म त र लय ह व ध और न य य म त र लय भ रत सरक र क सबस प र न अ ग ह इसक स थ पन वर ष 1833 म उस
  • स म न य: न म नल ख त व षय आत ह - 1. न य य क ध रण Conception of Justic 2. क न न एव न य य म स ब ध 3. न य य क प लन क उद द श य क प र त करन व ल
  • आध र प रद न क य ह र ल स न स म ज क सहय ग म न य य क भ म क क स पष ट करत ह ए न य य क सरल करण क य ह और अपन न य य स द ध न त क प रक र य तमक आध र
  • स पष ट क य क उनक द व र द य गय स द ध त व श व क न य य स स ब ध त नह ह अ तर र ष ट र य स तर पर न य य क अपन स कल पन व यक त करन क ल ए र ल स न द ल
  • म नव ध क र एव स म ज क न य य क स द ध त सम ज - क र य क ल ए ब न य द महत त व क ह अत कह ज सकत ह क सम ज - क र य व यक त क स म ज क पर य वरण स त रतम य
  • जस ट स न उद रव द क नई द श व च तन प रद न क ह इस प स तक म स म ज क न य य क स कल पन व कस त करक र ल स न एक आदर श र जन त क व यवस थ क न र म ण
  • जन म: 18 मई 1948 भ रत य जनत प र ट क र जन त और भ रत क क द र य स म ज क न य य व अध क र त म त र ह भ रत क क न द र य म त र म डल नर न द र म द क
  • एक भ रत य र जन त ज ञ तथ प र व भ रत सरक र क प द रहव ल कसभ क म त र म डल म स म ज क न य य एव सशक त करण म त र लय म म त र बन य गय ह vlfgks
  • जह ज र न म त र लय ज क व सन स सद य म मल क म त र लय पवन ब सल स म ज क न य य एव सशक त करण म त र लय म क ल व सन क जनज त य म मल क म त र लय क त ल ल
  • ह व तर क द त ह क न य य क शब द वल व स तव म द भ न न क न त एक द सर स स ब ध त व च र स म न य न य य और व श ष न य य स सन दर भ त ह जब एक
  • ड र ज व स ज ल एक भ रत य र जन त ज ञ तथ वर तम न ह म चल प रद श सरक र म स म ज क न य य एव अध क र त म त र ह व भ रत य जनत प र ट क र जन त ह
  • र मद स ब ड आठवल एक भ रत य र जन त ज ञ तथ वर तम न म क न द र य स म ज क न य य एव अध क र त र ज यम त र भ रत सरक र ह व भ रत क वर ष ठ सदन र ज यसभ
  • प र य क एम खड ग एक भ रत य र जन त ज ञ तथ वर तम न म कर न टक सरक र म स म ज क न य य एव अध क र त म त र ह व कर न टक व ध नसभ म च त त प र स व ध यक
  • न य य स वत त रत सम नत और भ ईच र क सर व च च स द ध त क स च व ल भ रत क एक र ष ट र य र जन त क दल ह इसक गठन म ख यत: एक क र त क र स म ज क
  • र ज न द र प ल ग तम वर तम न द ल ल सरक र म स म ज क न य य एव अध क र त व भ ग, अन स च त ज त जनज त व भ ग, रज स ट र र आफ क - आपर ट व स स इट ज म त र ह
  • मदन द ल वर एक भ रत य र जन त ज ञ तथ व प र व र जस थ न सरक र म स म ज क न य य एव अध क र त म त र लय क म त र थ व भ रत य जनत प र ट क र जन त ह
  • लखन घनघ र य एक भ रत य र जन त ज ञ तथ वर तम न मध य प रद श सरक र म स म ज क न य य एव न शक तजन कल य ण, अन स च त ज त कल य ण म त र ह व जबलप र प र व
  • ह व प र व र जस थ न व ध नसभ क अध यक ष ह व प र व म क न द र य स म ज क न य य एव अध क र त र ज य म त र रह च क ह और व भ रत य जनत प र ट क
  • भ वरल ल म घव ल एक भ रत य र जन त ज ञ तथ वर तम न र जस थ न सरक र म स म ज क न य य एव अध क र त आपद प रब धन म त र ह इनक छव एक क शल प रश सक क
  • ग ल ब द व एक भ रत य र जन त ज ञ तथ वर तम न उत तर प रद श सरक र म स म ज क न य य र ज यम त र ह व भ रत य जनत प र ट क र जन त र ह
  • आओ, अभ न त और न टकक र आओ, ह थ स और द म ग स क म करन व ल आओ और स व य क आज द और स म ज क न य य क नय द न य क न र म ण क ल य समर प त कर द
  • श र ड न प ल यन क भ रत सरक र क प द रहव ल कसभ क म त र म डल म स म ज क न य य एव सशक त करण र ज यम त र म म त र बन य गय ह

सामाजिक न्याय: सामाजिक न्याय विभाग योजना, सामाजिक न्याय अधिकारिता मंत्रालय भारत सरकार, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय के कार्य, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के कार्य, सामाजिक न्याय विभाग के कार्य, सामाजिक न्याय मंत्रालय, सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय की अधिसूचना, सामाजिक न्याय और सशक्तिकरण विभाग

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के कार्य.

ST.com सामाजिक न्याय महात्मा गांधी एंव. Block 5 पहचान, प्रतिष्ठा और सामाजिक न्याय I Collection home page​. Browse. Subscribe to this collection to receive daily e mail notification of new additions. RSS Feed. Collections Items Sorted by Submit Date in Descending order 1 to 4 of 4. सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय के कार्य. सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण जिला बैतूल. सामाजिक न्याय के इच्छुक जाति समूहों का एक बड़ा मध्यवर्ग तैयार है, जो सामूहिक रूप से निर्णायक स्थिति में है. ज़रूरत है इनके नेतृत्व और सहयोग से सामाजिक न्याय को दूसरे चरण तक ले जाने की, वरना राजनीति का दूसरा पक्ष पहले से ही.

सामाजिक न्याय विभाग योजना.

सामाजिक न्याय कासगंज India Kasganj. Опубликовано: 10 янв. 2019 г. सामाजिक न्याय अधिकारिता मंत्रालय भारत सरकार. सांप्रदायिकता और निजीकरण सामाजिक न्याय के. कक्षा 11 के लिए राजनीति विज्ञान की पाठ्यपुस्तक राजनीतिक सिद्धांत का अध्याय 04. More Info. Metadata. Time Required, not set. Interactivity Type, expositive. Reading Level, not set. Curricular, true. Educational Subject, political science. Educational Alignment, ncf. Based on Url, not set. Source. सामाजिक न्याय मंत्रालय. सामाजिक न्याय सोनभद्र, उत्तर प्रदेश Sonbhadra. मुख पृष्ठ सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय भारत सरकार. सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय भारत सरकार. सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय भारत सरकार. वर्तमान में इस पृष्ठ के लिए कोई भी जानकारी उपलब्ध नहीं है, जल्द ही इस. आरक्षण और सामाजिक न्याय के Dainik Bhaskar. सामाजिक न्याय वेबसाइट नीतियां मदद हमसे संपर्क करें फ़ीडबैक. जिला प्रशासन द्वारा स्वामित्व वाली सामग्री. © जिला सिद्धार्थनगर, उत्तर प्रदेश. राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत.

सामाजिक न्याय जिला इंदौर, मध्य प्रदेश शासन भारत.

भारत की सामाजिक न्‍याय निष्‍पक्षता सुनिश्चित करने के प्रति दृढ़ संकल्‍प. 03 Mar 2017 10 min read. मार्टिन लूथर किंग ने कहा था कि जहां भी अन्‍याय होता है वहां हमेशा न्‍याय को खतरा होता है यह बात केवल वैधानिक न्‍याय के बारे में ही सही नहीं है. Beggary Will Stopped In MP सामाजिक न्याय विभाग MP. प्रमुख कार्य सामाजिक न्‍याय के क्षेत्र में कतिपय विशिष्‍ट सेवाएं उपलब्‍ध कराने, इस क्षेत्र में कार्यरत स्‍वैच्छिक संगठनो को बढावा देने और सामाजिक न्‍याय योजनाओं में जनभागीदारी सुनिश्चित करने की जिम्‍मेदारी प्रदेश स्‍तर पर सामाजिक. सामाजिक न्याय विभाग जिला श्योपुर, मध्यप्रदेश. Bhopal News in Hindi: एमपी के सभी नगर निगम क्षेत्रों में अब बच्चे या बूढ़े या फिर महिलाएं भीख मांगते नजर नहीं आएंगे। सामाजिक न्याय विभाग ने निर्देश जारी किए हैं कि अब प्रदेश के किसी भी हिस्से में भीख मांगने पर रोक लगाई जाए।. File सामाजिक न्याय NROER. जो लोग सोचते समझते हैं तथा एक बेहतर समाज का स्वप्न देखते हैं, उन्हें भारत में सामाजिक न्याय की अवधारणा पर पिछले कुछ वर्षों से मंडरा रहे खतरों ने चिंतित कर रखा है। ये खतरे सामाजिक न्याय के विरोधियों की ओर से भी हैं, और. सफाई कर्मचारी की मौत के मामले में सामाजिक. सामाजिक न्याय के लिये विशेष पहल. Submitted by editorial on Sat, 06 ​09 2018. Author. देवीदयाल गौतम, स्वदेश सिंह. Source. योजना, मई, 2018. हमने अब तक पिछड़ेपन का आधार सिर्फ जाति को मानकर काम किया था लेकिन केन्द्र सरकार ने सशक्तीकरण के लिये नये.

उप संचालक सामाजिक न्याय एवं निःशक्तजन कल्याण.

सामाजिक न्याय की राजनीति का दूसरा चरण शुरू होने जा रहा है​। उत्तर प्रदेश की सरकार कोटा के भीतर Hindustan Nazaria Column on 22nd August, Nazariya Hindi News Hindustan. सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय की. सामाजिक न्याय. Filter Service category wise. सब, प्रमाण पत्र, सामाजिक न्याय, आपूर्ति राजस्व न्यायालय राजस्व बिल. फ़िल्टर. एनआईसी सर्विस डेस्क शिकायत कैसे दर्ज करें? वेबसाइट नीतियां सहायता हमसे संपर्क करें फ़ीडबैक. जिला प्रशासन द्वारा.

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय Pib.

दुनिया में मानवाधिकारों के सामने कई अवरोध लेकिन सामूहिक प्रयास दिखा रहे हैं बेहतरी का रास्ता वेनेज़्वेला संकट पर सुरक्षा परिषद में अमेरिका और रूस द्वारा पेश परस्पर विरोधी प्रस्ताव ख़ारिज यूएन की स्थापना के समय से ही साथ. सामाजिक न्याय कार्यालय, नीमच हेतु वाहन निविदा. You are here: Home Notifications & Orders सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के अधीन राइस द्वारा संचालित आवासीय विद्यालयों में शैक्षणिक संशोधित रिक्त पदों का विवरण. No of Visitors: 019576760, Nodal Officer: Shri. Jai Narayan Meena, Phone: 0141 ​2220194, Email:. सामाजिक न्याय एवं निःशक्तजन District Sehore. योजनाओं कार्यों के क्रियान्वयन इत्यादि कार्यों के भ्रमण हेतु एक चार पहिया वाहन बोलेरो इंडिगो सी एस स्विफ्ट डिजायर टैक्सी परमिट, मासिक पूर्णकालिक दैनिक आधापर किराये पर लेने बाबत निविदा सील बंद लिफाफे में दिनांक 08 जुलाई 2019. सामाजिक न्याय को चुनावी तिकड़म से आगे ले जाने. नीति आयोग का सामाजिक न्याय और अधिकारिता वर्टिकल एसजे एंड ई सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय सामाजिक न्याय और अधिकारिता विभाग और विकलांग व्यक्तियों का सशक्तिकरण विभाग, जनजातीय कार्य मंत्रालय और अल्पसंख्यक कार्य.

सामाजिक न्‍याय एवं नि:शक्‍तजन कल्‍याण जिला खरगौन.

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय द्वारा विकलांग व्यक्तियों के लिए विभिन्न योजनाओं और कार्यक्रमों पर दी गई जानकारी सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय द्वारा सामाजिक रक्षा के लिए योजनाएं. सामाजिक न्याय जिला उज्जैन, मध्य प्रदेश शासन. सामाजिक न्याय. पर जाएँ. जिला अदालत. स्थान जिला अदालत शहर बलिया पिन कोड 277001 फोन 05498 ​220478 ईमेल dcbalin. वेबसाइट नीतियां मदद हमसे संपर्क करें फ़ीडबैक. जिला प्रशासन द्वारा स्वामित्व वाली. सामाजिक न्याय जिला सिद्धार्थनगर उत्तर प्रदेश. इंदिरा गांधी राष्‍ट्रीय वृद्धावस्‍था पेंशन योजना. 60 वर्ष से अधिक आयु के समस्‍त हितग्राहियों को जिनका नाम बी.पी.एल. सूची में है, इंदिरागांधी राष्‍ट्रीय वृद्धावस्‍था पेंशन योजना प्रदाय की जाती हैं । प्रकाशित तिथि: 07 09 2019. विवरण देखें.

सामाजिक न्याय के बिना विकास अधूरा.

जनचौक ब्यूरो. भागलपुर। स्थानीय वृंदावन परिणय स्थल, लहेरी टोला में एक दिवसीय सामाजिक न्याय सम्मेलन को संबोधित करते हुए मुख्य वक्ता वरिष्ठ पत्रकार बुद्धिजीवी अनिल चमड़िया ने कहा कि जातिवादी होकर सामाजिक न्याय की लड़ाई को आगे. सामाजिक न्याय जिला इटावा India District Etawah. मानव जीवन व सामाजिक व्यवस्था की आधारषिला सामाजिक न्याय है। यह प्रकृति का वह पक्ष है जिसके आधापर मनुष्य को नैतिक व सदाचारी माना जाता हैै। प्राचीन काल से सामाजिक व आर्थिक न्याय का विचार समाजवादी विचारकों व राजनीतिज्ञों के. हमारी पार्टी घर्मनिरपेक्षता, सामाजिक न्याय और. सामाजिक न्याय के मामले में सबसे अच्छा रेकॉर्ड बीएसपी का है, दूसरे नंबर पर कांग्रेस और सबसे ख़राब रेकॉर्ड बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए का रहा है। वी. पी. सिंह ने अपने प्रधानमंत्री काल में मंडल कमिशन की सिफ़ारिश को लागू कर. कार्यालय कलेक्टर सामाजिक न्याय एवं निःशक्तजन. मुख्यमंत्री निःशक्त विवाह प्रोत्साहन योजना. मध्यप्रदेश शासन, सामाजिक न्याय एवं नि:शक्‍तजन कल्‍याण विभाग के अंतर्गत दीनदयाल अन्त्योदय मिशन प्रदेश के निःशक्त, निर्धन और कमजोर परिवारों की सहायता के लिये आम लोगों की भावना और उनकी.

सामाजिक न्याय एवं निःशक्तजन कल्याण बड़वानी.

सामाजिक न्याय और सशक्तिकरण विभाग वर्ष 1992 में सामाजिक कल्याण विभाग के विभाजन के बाद स्वतंत्र रूप से काम कर रहा है विभाग सामाजिक रूप से विशेषाधिकार के तहत देखभाल, संरक्षण और पुनर्वास के लिए कई योजनाएं लागू कर रहा है। इससे पहले. खबरदार: सामाजिक न्याय में सामान्य न्याय Aaj Tak. 2019 के लोकसभा के चुनाव परिणाम कई दृष्टि से चौंकाने वाले हैं. बीजेपी की अप्रत्‍याशित जीत इसका एक पहलू है. लेकिन साथ ही, सामाजिक न्‍याय की राजनीति के भविष्‍य पर भी इन नतीजों के बाद सवाल उठने लगे हैं. इन सवालों की शुरुआत उत्‍तर.

फॉर्म सामाजिक न्याय और सशक्तिकरण विभाग.

सामाजिक एवं निःशक्तजन कल्याण के क्षेत्र में कतिपय विशिष्ट सेवाएं उपलब्ध कराने, इस क्षेत्र में कार्यरत स्वैच्छिक संगठनों को बढ़ावा देने और सामाजिक योजनाओं में जनभागीदारी सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी प्रदेश स्तर पर. सामाजिक न्याय के लिये विशेष पहल Hindi Water Portal. विभागीय योजनाओं की जानकारी स.क्र. योजना का नाम स.क्र. योजना का नाम 1 इंदिरा गांधी राष्ट्रीय वृद्धावस्था पेंशन 13 इंदिरा गांधी राष्ट्रीय निःशक्त पेंशन 2 इंदिरा गांधी राष्ट्रीय विधवा पेंशन 14 बहुविकलांग एवं मानसिक रूप से अविकसित. पत्रिका सामाजिक न्याय के लिए. वर्ष 1985 86 में पूर्ववर्ती कल्याण मंत्रालय को महिला एवं बाल विकास विभाग तथा कल्याण विभाग में विभक्त किया गया था। इसी के साथ तत्क.

सामाजिक न्याय एवं निःशक्तजन कल्याण जिला.

लोक जनशक्ति पार्टी लोजपा अध्यक्ष एवं केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने बुधवार को इस बात पर जोर देने के लिए अपनी पार्टी के लोकसभा उम्मीदवारों की सूची का उल्लेख किया कि वह धर्मनिरपेक्षता, सामाजिक न्याय के पक्ष में खड़ी है। पासवान. सामाजिक न्याय और सशक्तिकरण हरियाणा India. राजनीतिक दलों और विभिन्न जातियों के आरक्षण आरक्षण खेलने की चाल के चलते एनडीए की सरकार ने सामाजिक न्याय के सिद्धांत को शीर्षासन करा दिया है। सामान्य वर्ग को आर्थिक आधापर नौकरियों और उच्च शिक्षा में 10 प्रतिशत.

सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय MyGov.

केन्द्रीय सामाजिक न्याय व सशक्तिकरण मंत्री थावरचंद गहलोत को राज्यसभा का नेता चुना गया है। राज्यसभा के नेता का चयन केंद्र में सत्ताधारी दल द्वारा किया जाता है। 2014 19 में राज्यसभा के नेता अरुण जेटली थे।. अनुदान मांगें 2018 19 विश्लेषण सामाजिक न्याय. सामाजिक न्याय और अधिकारिता विभाग विशेषाधिकार प्राप्त सामाजिक रूप से देखभाल, संरक्षण और पुनर्वास के लिए कई योजनाएं लागू कर रहा है। पहले सामाजिक न्याय और अधिकारिता विभाग बहुत कम क्षेत्र में काम कर रहा था, जिसमें कुछ कल्याणकारी.

समाजवादी विकास विजन और सामाजिक न्याय कार्यक्रम.

Продолжительность: 46:29. सामाजिक न्याय का अजेंडा अब अछूत बन Satya Hindi. कॉपीराइट © 2019 सामाजिक न्याय और सशक्तिकरण विभाग, हरियाणा सरकार, भारत सर्वाधिकार सुरक्षित। आगंतुकों की संख्या: 00814585. पृष्ठ अंतिम अपडेट किया गया: 14 08 2019 अपराह्न. मान्य सीएसएस!! एचटीएमएल सत्यापनकर्ता डब्ल्यू सी एक जी 2.0. सामाजिक न्याय एवं नि:शक्तजन कल्याण जिला छतरपुर. सामाजिक न्याय. पर जाएँ. जिला अदालत. जिला न्यायाधीश, तहसील कैंपस, रॉबर्ट्सगंज, सोनभद्र, यूपी स्थान तहसील कैंपस शहर सोनभद्र पिन कोड 231216 फोन 05444 ​222161 मोबाइल 8004940523 ईमेल dcsonin. वेबसाइट.

धर्मार्थ संस्था

ऐसी संस्थाये जो बिना किसी लाभ के उद्देश्य से कार्य करती है, धर्मार्थ संस्था कहलाती है ।। सेवा भाव, सदस्यों के हितों के लिए कार्य, स्कूल, कॉलेज, चिकित्सा कार्...

माता-पिता एवं वरिष्ठ नागरिक भरण-पोषण एवं कल्याण अधिनियम, 2007

माता-पिता एवं वरिष्ठ नागरिक भरण-पोषण एवं कल्याण अधिनियम, 2007 भारत सरकार का एक अधिनिय है जो वृद्ध व्यक्तियों एवं माता-पिता के भरण-पोषण एवं देखरेख का एक प्रभा...