सामाजिक पूँजी

सामाजिक पूँजी के विचार को नये सिरे से प्रासंगिक बनाने का श्रेय अमेरिकी समाज-विज्ञान को जाता है। फ़्रांसीसी समाजशास्त्री एमील दुर्ख़ाइम के समय से ही इससे मिलती- जुलती धारणाओं पर ग़ौर किया जाता रहा है, पर बीसवीं सदी के आख़िरी दशक में अमेरिकी समाज-विज्ञान के हलकों ने इस पर नये लहजे में बहस शुरू की। अमेरिकी समाज में नागरिक संस्थाओं की गिरती हुई सदस्यता से पैदा हुए सरोकारों की इस बहस के पीछे मुख्य भूमिका रही। समाज वैज्ञानिकों ने देखा कि महामंदी और विश्वयुद्ध के बाद पैदा हुई पीढ़ी के तिरोहित हो जाने और मनोरंजन के इलेक्ट्रॉनिक साधनों के सहारे घर की दुनिया में कैद हो जाने की प्रवृत्ति के कारण अमेरिका में सामाजिक संस्थाओं की गतिविधियाँ ठप पड़ गयी हैं। इसके प्रति अनुक्रिया करते हुए रॉबर्ट पुटनैम ने सामाजिक पूँजी की अवधारणा को टटोला। दुर्ख़ाइम के समाजशास्त्रीय परिप्रेक्ष्य में जो सूत्रीकरण सामाजिक एकजुटता और उसके मैकेनेकिल और ऑर्गनिक आयामों के रूप में उभरता है, उसी से मिलता-जुलता परिप्रेक्ष्य पुटनैम के विमर्श में दिखाई पड़ता है। सामाजिक पूँजी के सिद्धांत के मर्म में आग्रह यह है कि सामाजिक नेटवर्कों के महत्त्व को नज़रअंदाज़ नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि सामाजिक संपर्क व्यक्तियों और उनके समूहों की उत्पादकता को प्रभावित करते हैं। लोग विभिन्न मकसदों से अपने सम्पर्कों और रिश्तों को एक महत्त्वपूर्ण संसाधन की तरह इस्तेमाल करते हैं। वे जैसे ही किसी समस्या में फँसते हैं या उनके जीवन में कोई परिवर्तन होता है, वे दोस्तों, नाते-रिश्तों और परिजनों को आवाज़ देते हैं। लोगों का समूह आपस में जुड़ कर अपने समान हितों को साधने का प्रयास करता है। इसी बात को व्यापक धरातल पर इस प्रकार कहा जा सकता है कि सामाजिक संगठन के सभी रूप अंतर्वैयक्तिक संबंधों के धागों से बँधे होते हैं।
नब्बे के दशक के मध्य में रॉबर्ट पुटनैम ने इस प्रश्न पर कई विवादात्मक लेख लिखे। इसके बाद 2000 में तथ्यों- आँकड़ों से भरी हुई उनकी विश्लेषणात्मक पुस्तक बौलिंग एलोन प्रकाशित हुई जिसके पन्नों पर दर्ज एक विचलित कर देने वाली छवि ने सभी का ध्यान आकर्षित किया। इस किताब में पुटनैम दिखाते हैं कि अमेरिकी लोग एक बौलिंग एली में अकेले ही खेल रहे हैं जबकि कुछ समय पहले तक वहाँ विभिन्न टीमें एक संगठित लीग के तहत आपस में खेला करती थीं। नब्बे के दशक में हुई बहस से पहले सामाजिक पूँजी के विचार के साथ समुदाय की अवधारणा नहीं जोड़ी जाती थी। पर, पुटनैम और उनके साथियों ने तर्क दिया कि सामाजिक पूँजी की अहमियत व्यक्ति तक ही सीमित नहीं है, बल्कि वह एक व्यापक सामाजिक हित की गारंटी भी करती है। सामाजिक पूँजी के स्तर में गिरावट आने पर समुदाय के अस्तित्व पर ही विपरीत असर पड़ता है।
पुटनैम के प्रयासों से राजनीतिक समाजशास्त्र की उन परम्पराओं में नयी जान पड़ी जिनके तहत माना जाता था कि स्वयंसेवी संस्थाएँ व्यक्तियों को आपस में सूत्रबद्ध करके एक व्यापक संसार की रचना करती हैं। उन्नीसवीं सदी में अलैक्सिस द टॉकवील ने अमेरिकी लोकतंत्र से संबंधित अपने विख्यात अवलोकनों में दिखाया था कि किस तरह विभिन्न हित-समूह और नागरिक संगठन निरंतर अन्योन्यक्रिया के माध्यम से पूरी लोकतांत्रिक व्यवस्था की एकजुटता बनाये हुए हैं। ध्यान रहे कि युरोप के बारे में टॉकवील की मान्यता थी कि वहाँ स्थिरता लाने की यही भूमिका राजशाही और कुलीनतंत्र के नेतृत्व में जारी परम्पराओं ने निभायी है। पुटनैम के विचारों की प्रासंगिकता का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि मीडिया ने उन्हें हाथो-हाथ लिया और उनका प्रभाव समाज-विज्ञान के दायरों के परे चला गया। अनगिनत रेडियो और टीवी कार्यक्रमों में उन्हें अपनी बात कहने का मौका मिला। दो अमेरिकी राष्ट्रपतियों ने उनसे राय ली और कई युरोपीय प्रधानमंत्रियों ने उनके विचारों पर ग़ौर किया। पुटनैम से पहले दूसरे बुद्धिजीवी सामाजिक रिश्तों और नेटवर्कों के आईने में विभिन्न सामाजिक-राजनीतिक परिघटनाओं की जाँच का प्रयास कर चुके थे। जेन जैकब्स द्वारा विभिन्न शहरों में होने वाले अपराधों के बीच फ़र्क का पता लगाने के लिए सामाजिक रिश्तों की असमानता का अध्ययन किया चुका था। इसी विचार के आधापर फ़्रांसीसी समाजशास्त्री पिएर बोर्दियो भिन्न दिशा में सामाजिक- आर्थिक ग़ैर-बराबरी के पुनरुत्पादन की व्याख्या कर चुके थे। बोर्दियो ने अपने साथी लोइक वाकाँ के साथ प्रकाशित रचना में लिखा था कि सामाजिक पूँजी ऐसे वास्तविक और निराकार संसाधनों का योगफल है जो किसी व्यक्ति या समूह को किसी सामाजिक नेटवर्क की सदस्यता की बदौलत हासिल होते हैं। ये नेटवर्क आपसी जान-पहचान के कमोबेश संस्थागत रूप ले चुके संबंधों के ज़रिये टिके रहते हैं। व्यक्ति अपनी सामाजिक पूँजी के आधापर हासिल की गयी उस सामाजिक-आर्थिक हैसियत को अगली पीढ़ी के हवाले कर पाता है जो उसने प्रभावशाली परिजनों, महँगे स्कूलों में पढ़ने वाले अपने सहपाठियों और किसी ख़ास क्लब के साथी सदस्यों की सोहबत के बदौलत हासिल की होती है। इस सामाजिक पूँजी को लगातार प्रासंगिक और प्रभावी रखने के लिए व्यक्ति आपसी मेल-जोल में अपने समय का योजनाबद्ध निवेश करता है।
इस व्याख्या से स्पष्ट है कि बोर्दियो साठ के दशक में प्रचलित वर्ग-विश्लेषण के नव-मार्क्सवादी दायरे में चिंतन कर रहे थे। उनकी दिलचस्पी यह दिखाने में थी कि अभिजनों के समूह किस तरह अपनी सत्ता की निरंतरता बनाये रखते हैं। इसके विपरीत जेम्स कोलमैन ने सामाजिक पूँजी की अवधारणा का इस्तेमाल करते हुए कई अफ़्रीकन-अमेरिकन हाई स्कूल छात्रों के बीच किये गये आनुभविक अध्ययनों के ज़रिये दिखाया कि परिवाऔर समुदाय द्वारा मिले हुए गुणों द्वारा कम आमदनी और अच्छे स्कूल में पढ़ने की सुविधा न मिल पाने जैसी कमियों की भरपाई हो जाती है। बच्चे के संज्ञानात्मक विकास में ऐसे गुण महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं। कोलमैन एक ऐसे समाजशास्त्री थे जिनकी अर्थशास्त्र में काफ़ी दिलचस्पी थी। उन्होंने तर्कसंगत सामाजिक चयन सिद्धांत रैशनल चॉयस थियरी का आलोचना करते हुए कहा कि यह सिद्धांत व्यक्तिगत निजी-हित पर आधारित रवैये की तो व्याख्या कर लेता है, पर सहकारी व्यवहाऔर परोपकारी रवैये को नहीं समझ पाता। इस लिहाज़ से सामाजिक पूँजी का सिद्धांत रैशनल चॉयस थियरी की यह कमी पूरी कर देता है।
कहना न होगा कि बोर्दियो की निगाह में सामाजिक पूँजी की अवधारणा ऊँच-नीच कायम रखने में मददगार थी और कोलमैन उसे वंचित समूहों को आगे बढ़ाने में सहायक के तौपर देख रहे थे। हालाँकि यह एक अहम मानकीय अंतर था, पर कुल मिला कर दोनों ही विद्वानों ने इस सिद्धांत के विभिन्न आयामों को समृद्ध किया। नब्बे के दशक में जब इसके इर्द-गिर्द बहस शुरू हुई तो इस सिद्धांत को नये सिरे से प्रश्नांकित किया गया और अपने-अपने तर्कों के पक्ष में ढेर सारी तथ्यगत दलीलें जुटायी गयीं। कुछ अध्ययनों से स्पष्ट हुआ कि सामाजिक नेटवर्कों का लाभ असामाजिक और अपराधिक मकसदों से भी उठाया जाता है। कुछ नेटवर्क ऐसे मूल्यों और आचरण-संहिताओं को मजबूत करते हैं जिनके प्रभाव के तहत लोग समस्याओं के ठीक से निदान करने में असमर्थ हो जाते हैं। बहस यह भी हुई कि इस सिद्धांत का कितना हिस्सा समाजशास्त्रीय है और कितना अर्थशास्त्री। इसी के तहत पूछा गया कि क्या पूँजी शब्द का इस्तेमाल इसमें केवल रूपक के तौपर किया जा रहा है या सामाजिक पूँजी को बाकायदा नापा भी जा सकता है और उससे होने वाले मुनाफ़े की दर का भी पता लगाया जा सकता है।

म त र म प ज स ग रहण क स भव बन त ह मश न न र म ण, स चन प र द य ग क ल ह एव इस प त, अल य म न यम, उर वरक तथ औषध उद य ग आद स य क त प ज क पन क
ब र ट न व त त य प ज क क ल म प रव श कर च क थ उसक प ज पत प ज न व श क ल भद यक स थ न च हत थ ज भ रत म म ल गय त उनक प ज पर ल भ क ग र ट
स म ज क न टवर क ग स व एक ऑनल इन स व प ल टफ र म य स इट ह त ह ज ल ग क ब च स म ज क न टवर क ग अथव स म ज क स ब ध क बन न अथव उनक पर लक ष त
प रम ण ह व त त य प ज क भ मण डल करण स उपज जन - व र ध प रव त त य क ख ल फ चल रह आ द लन भ इस श र ण म आत ह स म ज क आ द लन क एक ख ब
म नवव ज ञ न य और स म ज क इत ह सक र आद क ल य वर ग एक आवश यक वस त ह स म ज क व ज ञ न म स म ज क वर ग क अक सर स म ज क स तर करण क स दर भ म
क प रभ व ढ ग स चल न प ज तथ अन य स स ध न क उच त प रय ग करन प ज क व द ध एव म ल य व द ध करन व न व श त प ज पर न यम त तथ उच त प रत फल
Non - renewable प र क त क स स धन वह प र क त क प ज natural capital ह ज न व श क वस त म बदल कर ब न य द प ज infrastructural capital प रक र य ओ म
ल भ क प रश न ह छ ट म ट घन क बड प ज म पर णत करन म प र त स हन प रद न क य ह उस बड प ज क ल ककल य ण क क र य म प रय क त कर द श
द त ह तथ उसक प ज क स वय अध क र ह ज त ह वह अपन प ज और उसक ल भ क भ फ र स उत प दन क क रम म लग द त ह इस प रक र प ज और प द व र द न
र प स ज म म द र ह उद यम एक महत व क क ष न त ह ज भ म श रम तथ प ज क नए उत प द बन न य स व ए प रद न करन क ल ए आपस म म ल त ह यह शब द
व च र क क र य न व त करन क अवसर क ल भ उठ न लग द श म व य प र क प ज स हस तथ अन भव क नय क ष त र म ल व य प र व श वव य प ह सक द श क म ल

प रत स पर ध द व र न र ध र त ह त ह प ज व द एक आर थ क पद धत ह ज सम प ज क न ज स व म त व, उत प दन क स धन पर व यक त गत न य त रण, स वत त र औद य ग क
ग ण त मक द न स म ज क गठन क ऐत ह स क व य ख य करन व ल म र क स क यह स द ध त ह ग ल क द व द वव द पद धत क आल चन करत ह प ज भ ग क भ म क
ह म हत सर व च च भ रत य न गर क म स एक पद म भ षण प र प तकर त ह स म ज क क रण म उनक य गद न क ल ए प रस क र म हत क जन म र जस थ न क ज धप र
स म ज क सन दर भ म सम नत equality क अर थ क स सम ज क उस स थ त स ह ज सम उस सम ज क सभ ल ग सम न अलग - अलग नह अध क र य प रत ष ठ status
म बदल ज त ह म नव स स धन उत प दन म प रय क त ह सकन व ल प ज ह यह म नव प ज क शल और उन म न ह त उत प दन क ज ञ न क भ ड र ह यह प रत भ श ल
क स थ ह त ह बड प म न पर द र - द र क द श स व य प र क ल ए बड प ज क आवश यकत ह त ह ज सम म ल त प ज व द क पन य और व ण ज य ब क द व र
म नन क स थ ज न न क स म तक स म ज क क र य करन व ल स धक भ थ इन ह न वक लत व यवस य क म ध यम स कम य समस त प ज सम ज क कमज र वर ग क न गर क
औद य ग क करण त व र स म ज क एव व च र क पर वर तन आध न क द श क ब हर क ओर द खन क द ष ट क ण भ त क एव म नव य प ज क अ तरर ष ट र य प रव ह
उनम व श ष व य प र क स ब ध ह त ह व द श प ज पर उन ह न र भर रहन पड त ह ब ज र, व द श वस त प ज प र व ध क क शलत अपन द श क ल ग क प रश क षण
हर क स म क प ज द व र जनत क श षण क ख त म क र प म क थ और म हनतकश आम जनत क सत त क स थ पन तथ एक सम नत प र ण स म ज क ढ च क न र म ण

कम पन आवश यक खर च क प र त क पश च त स म ज क व र ष ट र य ह त क य जन ओ म व न य ग कर द त ह 2. प ज न र म ण - ब म त स प र प त प रब य ज क
क पर य प त स ख य क ब न क ई भ स गठन द सर म ल यव न स स धन ज स - प ज प र द य ग क एव अन य क ह त ह ए भ व श ष टत क स थ न ग रहण करन क
क मग र मह ल ओ क अपन ब क चल त ह ज सक ज र य औरत क स वर ज ग र क ल ए प ज म ह य कर य ज त ह यह न र आ द लन, मज द र आ द लन और सहक र त आ द लन क
द य ह आब द क बह त कम प रत शत स क षर ह और इस ल ह ज स य द श म नव य प ज क ल ह ज स भ दर द र ह व क स क अर थश स त र स ब ध ल खन म स त ल त
ह न द पत र क ए स म ज क व यवस थ क ल ए चत र थ स तम भ क क र य करत ह और अपन ब त क मनव न क ल ए एव अपन पक ष म स फ - स थर व त वरण त य र करन
करत स म त प ज : स धरणतय सहक र सम त य क सदस य सम ज क एक व श ष वर ग क व यक त ह ह त ह इसल ए सम त द व र एकत र त क गई प ज स म त ह त ह
इस ल भ क दम पर उसक प स उत तर त तर प ज जम ह त चल ज त ह इस प ज स चय क गहन और द रग म आर थ क - स म ज क फल त र थ ह त ह और इसक गर भ स प रभ त व
क ब वज द व क सश ल द श म बकर य क स ख य म न र तर व ध द इनक स म ज क और आर थ क महत व क दर श त ह प र क त क र प स न म न क रक बकर व क स दर
ब ल क भ गत न करन क ल ए खर च क य धन, क र यश ल प ज कहल त ह एक उद यम क द न ह प रक र क प ज ज ट न ह त ह यह धन अपन घर स प र क य ज सकत

  • म त र म प ज स ग रहण क स भव बन त ह मश न न र म ण, स चन प र द य ग क ल ह एव इस प त, अल य म न यम, उर वरक तथ औषध उद य ग आद स य क त प ज क पन क
  • ब र ट न व त त य प ज क क ल म प रव श कर च क थ उसक प ज पत प ज न व श क ल भद यक स थ न च हत थ ज भ रत म म ल गय त उनक प ज पर ल भ क ग र ट
  • स म ज क न टवर क ग स व एक ऑनल इन स व प ल टफ र म य स इट ह त ह ज ल ग क ब च स म ज क न टवर क ग अथव स म ज क स ब ध क बन न अथव उनक पर लक ष त
  • प रम ण ह व त त य प ज क भ मण डल करण स उपज जन - व र ध प रव त त य क ख ल फ चल रह आ द लन भ इस श र ण म आत ह स म ज क आ द लन क एक ख ब
  • म नवव ज ञ न य और स म ज क इत ह सक र आद क ल य वर ग एक आवश यक वस त ह स म ज क व ज ञ न म स म ज क वर ग क अक सर स म ज क स तर करण क स दर भ म
  • क प रभ व ढ ग स चल न प ज तथ अन य स स ध न क उच त प रय ग करन प ज क व द ध एव म ल य व द ध करन व न व श त प ज पर न यम त तथ उच त प रत फल
  • Non - renewable प र क त क स स धन वह प र क त क प ज natural capital ह ज न व श क वस त म बदल कर ब न य द प ज infrastructural capital प रक र य ओ म
  • ल भ क प रश न ह छ ट म ट घन क बड प ज म पर णत करन म प र त स हन प रद न क य ह उस बड प ज क ल ककल य ण क क र य म प रय क त कर द श
  • द त ह तथ उसक प ज क स वय अध क र ह ज त ह वह अपन प ज और उसक ल भ क भ फ र स उत प दन क क रम म लग द त ह इस प रक र प ज और प द व र द न
  • र प स ज म म द र ह उद यम एक महत व क क ष न त ह ज भ म श रम तथ प ज क नए उत प द बन न य स व ए प रद न करन क ल ए आपस म म ल त ह यह शब द
  • व च र क क र य न व त करन क अवसर क ल भ उठ न लग द श म व य प र क प ज स हस तथ अन भव क नय क ष त र म ल व य प र व श वव य प ह सक द श क म ल
  • प रत स पर ध द व र न र ध र त ह त ह प ज व द एक आर थ क पद धत ह ज सम प ज क न ज स व म त व, उत प दन क स धन पर व यक त गत न य त रण, स वत त र औद य ग क
  • ग ण त मक द न स म ज क गठन क ऐत ह स क व य ख य करन व ल म र क स क यह स द ध त ह ग ल क द व द वव द पद धत क आल चन करत ह प ज भ ग क भ म क
  • ह म हत सर व च च भ रत य न गर क म स एक पद म भ षण प र प तकर त ह स म ज क क रण म उनक य गद न क ल ए प रस क र म हत क जन म र जस थ न क ज धप र
  • स म ज क सन दर भ म सम नत equality क अर थ क स सम ज क उस स थ त स ह ज सम उस सम ज क सभ ल ग सम न अलग - अलग नह अध क र य प रत ष ठ status
  • म बदल ज त ह म नव स स धन उत प दन म प रय क त ह सकन व ल प ज ह यह म नव प ज क शल और उन म न ह त उत प दन क ज ञ न क भ ड र ह यह प रत भ श ल
  • क स थ ह त ह बड प म न पर द र - द र क द श स व य प र क ल ए बड प ज क आवश यकत ह त ह ज सम म ल त प ज व द क पन य और व ण ज य ब क द व र
  • म नन क स थ ज न न क स म तक स म ज क क र य करन व ल स धक भ थ इन ह न वक लत व यवस य क म ध यम स कम य समस त प ज सम ज क कमज र वर ग क न गर क
  • औद य ग क करण त व र स म ज क एव व च र क पर वर तन आध न क द श क ब हर क ओर द खन क द ष ट क ण भ त क एव म नव य प ज क अ तरर ष ट र य प रव ह
  • उनम व श ष व य प र क स ब ध ह त ह व द श प ज पर उन ह न र भर रहन पड त ह ब ज र, व द श वस त प ज प र व ध क क शलत अपन द श क ल ग क प रश क षण
  • हर क स म क प ज द व र जनत क श षण क ख त म क र प म क थ और म हनतकश आम जनत क सत त क स थ पन तथ एक सम नत प र ण स म ज क ढ च क न र म ण
  • कम पन आवश यक खर च क प र त क पश च त स म ज क व र ष ट र य ह त क य जन ओ म व न य ग कर द त ह 2. प ज न र म ण - ब म त स प र प त प रब य ज क
  • क पर य प त स ख य क ब न क ई भ स गठन द सर म ल यव न स स धन ज स - प ज प र द य ग क एव अन य क ह त ह ए भ व श ष टत क स थ न ग रहण करन क
  • क मग र मह ल ओ क अपन ब क चल त ह ज सक ज र य औरत क स वर ज ग र क ल ए प ज म ह य कर य ज त ह यह न र आ द लन, मज द र आ द लन और सहक र त आ द लन क
  • द य ह आब द क बह त कम प रत शत स क षर ह और इस ल ह ज स य द श म नव य प ज क ल ह ज स भ दर द र ह व क स क अर थश स त र स ब ध ल खन म स त ल त
  • ह न द पत र क ए स म ज क व यवस थ क ल ए चत र थ स तम भ क क र य करत ह और अपन ब त क मनव न क ल ए एव अपन पक ष म स फ - स थर व त वरण त य र करन
  • करत स म त प ज : स धरणतय सहक र सम त य क सदस य सम ज क एक व श ष वर ग क व यक त ह ह त ह इसल ए सम त द व र एकत र त क गई प ज स म त ह त ह
  • इस ल भ क दम पर उसक प स उत तर त तर प ज जम ह त चल ज त ह इस प ज स चय क गहन और द रग म आर थ क - स म ज क फल त र थ ह त ह और इसक गर भ स प रभ त व
  • क ब वज द व क सश ल द श म बकर य क स ख य म न र तर व ध द इनक स म ज क और आर थ क महत व क दर श त ह प र क त क र प स न म न क रक बकर व क स दर
  • ब ल क भ गत न करन क ल ए खर च क य धन, क र यश ल प ज कहल त ह एक उद यम क द न ह प रक र क प ज ज ट न ह त ह यह धन अपन घर स प र क य ज सकत

सामाजिक पूँजी: सामाजिक पूंजी की परिभाषा, सांस्कृतिक पूंजी क्या है, मीडिया मिक्स क्या है

सामाजिक पूंजी की परिभाषा.

ज्योति कुमारी फुरसत का कार्य क्षेत्र में. सामाजिक पूँजी के विचार को नये सिरे से प्रासंगिक बनाने का श्रेय अमेरिकी समाज विज्ञान को जाता है। फ़्रांसीसी समाजशास्त्री एमील दुर्ख़ाइम के समय से ही इससे मिलती जुलती धारणाओं पर ग़ौर किया जाता रहा है, पर बीसवीं सदी के आख़िरी दशक में अमेरिकी. सांस्कृतिक पूंजी क्या है. विकास की पूंजी Jansatta. ब्रिटिश शासन का सामाजिक, आर्थिक एवं राजनितिक प्रभाव 1857 का विद्रोह सामाजिक धार्मिक सुधार आंदोलन डूप्ले ने भारत की पूँजी मद्रास में तलाश कर भयानक भूल की, क्लाइव ने इसे बंगाल में खोज लिया І यह कथन निम्नलिखित में से किसका है?. Dictionary भारतवाणी Part 7. 20, सामाजिक सेवाओं का पूंजी लेखा, B. CAPITAL ACCOUNT OF SOCIAL SERVICES, 4537.33, 8854.44, 9327.46, 10963.90. 21, शिक्षा, खेल, कला और संस्‍कृति, Education, Sports, Art and Culture, 4202, 56.29, 332.78, 329.78, 2833.79. 22, चिकित्‍सा और जन स्‍वास्‍थ्‍य, Medical and Public Health.

हमारे बारे में नाबार्ड राष्ट्रीय कृषि और.

सामाजिक औधोगिक संस्थान: BHRA Social Busness भीम राव अंबेडकर सामाजिक व्यापार ने भारतवर्ष के आर्थिक तौपर कमजोऔर समाप्ति के उपरांत सामाजिक व्यापार योजना से जुड़े सभी भागीदारों या निशेयर धारकों पूँजी निवेशकों की योजना में. एक्सेल Union Budget. भारत के समाजों में ठहराव की जो स्थिति थी, वह बदल रही है। समाज जागरूक हो रहे हैं। वे अपनी मांगें व्यवस्था के सामने रख रहे हैं। इस समय बदलाव की स्थिति है। संक्रमण. कॉरपोरेट युग में नेहरूवादी बजट BBC News हिंदी. इन और अन्य देशों में सामाजिक प्रगति में कमी आर्थिक वृद्धि को भी कम कर देती है, जो मानवीय ज़रूरतों के संबंध में.

चैप्टर 001 Shodhganga.

मैं और दो प्रकार की पूंजियों पर ध्यान केन्द्रित करूँगा, जिनको ध्यान में रखा जाना चाहिए – वह हैं सामाजिक पूँजी और संस्थागत पूँजी। विशेष रूप से यह वर्तमान भारतीय संदर्भ में काफी महत्वपूर्ण हैं। यदि कोई संस्था संबंधी स्थल का. सामाजिक प्रभाव आकलन Nalco. वास्तव में भारत एक ऐसे दौर से गुजर रहा है, जहाँ सुधार के नाम पर नीतियां बना कर एक खास तबके ने प्राकृतिक, आर्थिक और सामाजिक पूँजी को चुराया है. केवल आर्थिक भ्रष्टाचार को मिटाने की बात करने वाले वास्तव में चाहते हैं कि लूट. Page 1 वित्तीय वर्ष 2008 2009 के आय व्ययक की. शताब्दी के मध्य तक GNP प्रति व्यक्ति को विकास का सूचक माना जाता रहा है इसके बाद सामाजिक कल्याण तथा विकास. प्रक्रिया की गुणवत्ता की तरफ अर्थव्यवस्था में पूँजी की कमी से सामाजिक विकास पर कम ध्यान केन्द्रित रहता है। जिससे श्रम में.

Dictionary भारतवाणी Part 247.

सामाजिक पूँजी Социальный капитал. Lekt esa फ़ोkerk,¡ &,डी ifjp CG,Scert. पिछले दो दशकों में दुनिया ने विकास के जिन प्रतिमानों को गढ़ा, उनके परिणामों को देखते हुए यह कहना मुश्किल है कि ये प्रतिमान दुनिया को स्थायी समृद्धि की ओर ले जा रहे हैं या ऐसे सामाजिक विभाजनों की ओर जिनका परिणाम अंतत:. Microsoft Word EXEUCTIVE SUMMARY. दूसरे विश्व युद्ध के अंत के आस पास विकास, अर्थशास्त्र में एक सीधी सादी सोच थी और इसे मुख्यत: पूँजी निवेश का मगर उसी तरह मानव पूँजी, अर्थ संस्थान और दूसरी चीज़ें जैसे सामाजिक क़ायदे जिन्हें हम पूरी तरह नहीं समझते, वो भी. चैप्टर 1.pmd ncert. पूँजी लागत रुपए में. योजना. आवर्ती लागत रुपए में. 40.000. 75.000. 50.000. पीने के पानी की सुविधा. आराम गृह. सफाई ​मूत्रालय और भौचालय. कुल. 20.000. 40.000. 75.000. 2.00.000. 1.00.000. तलिका 3: सामाजिक आर्थिक पूँजी निवेश. गतिविधियाँ निवेष के क्षेत्र.

मानव पूँजी निर्माण में शिक्षा की क्या भूमिका.

समस्याए जो समूह के द्वारा नही सुलझ पायें, गाँव की सामाजिक समस्याएँ समूहों के लिए पूँजी. जुटाने के स्रोत तथा गाँव में उपस्थित सम्पति एवं सरकारी विकास कार्यक्रम का सही उपयोग. कर अपनें गरीब सदस्यों का विकास करना। – कहानी, चार्ट द्वारा. अनटाइटल्ड 64 DDE, MDU, Rohtak. एकॉनमी चाहे कितनी भी मार्केट ऑरियेंटेड रही हो हमारी सामाजिक पूँजी का ह्रास नहीं होता था हमने किस बिना के बल पर नोटबंदी के वज्रपात को सह लिया? इसी सामाजिक पूँजी के बल पर न? अब यही समाज खंड खंड हो रहा है. अगर आप चेतन समाज. सामाजिक सरोकारों से हटता सिनेमा Garbhanal. How does linguistic diversity add to Indias social capital? Analyse. भाषाई विविधता भारत की सामाजिक पूँजी को कैसे बढाती है? विश्लेषण करें। Introduction. India is a land of many languages, boasting of 22 languages accepted by the Constitution and many more languages and. डूप्ले ने भारत की पूँजी. Meaning of सामाजिक पूँजी in English सामाजिक पूँजी का अर्थ ​सामाजिक पूँजी ka Angrezi Matlab Pronunciation of सामाजिक पूँजी सामाजिक पूँजी play. Meaning of सामाजिक पूँजी in English. Social capital.

Busieco क्यू ans 11.

आर्थिक विकास में पूँजी. निर्माण के महत्व पर विस्तृत चर्चा कीजिए । 28 5 तकनीकी एवं सामाजिक द्वैतवाद से आप क्या समझते हैं? Elucidate the indicators of human resource ब पूँजी निर्माण की स्थिर दर. स सामाजिक ऊपरी पूँजी की पर्याप्त दर. ​द पहले से. अनटाइटल्ड eGyanKosh. सामाजिक पूँजी के विचार को नये सिरे से प्रासंगिक बनाने का श्रेय अमेरिकी समाज विज्ञान को जाता है। फ़्रांसीसी समाजशास्त्री एमील दुर्ख़ाइम के समय से ही इससे मिलती जुलती धारणाओं पर ग़ौर किया जाता रहा है, पर बीसवीं सदी. Day 38 – Q 3. How does linguistic diversity add to TLP IASbaba. किस प्रकार व्यक्ति विभिन्न सामहिकताओं से संदर्भ में सामाजिक स्तरीकरण, व्यक्ति को कार्य. जडा होता है जैसे समूह, वर्ग, पर्शियन व्हील से बदल दिया जाए तो रहट, जिस पर भारी पूँजी निवेश की आवश्यकता पड़ती है. तब मात्र एक जोड़ी बैल तथा एक. आर्थिक विकास और जलवायु परिवर्तन की कीमत Hindi. परिचय. सामाजिक आर्थिक विकास सामाजिक पूंजी से शुरू होकर उद्योगों के विकास तक पंहुचता है। यह सामाजिक पूंजी सबसे पहले एकजुटता के रूप में प्रकट होती है। अर्थात जिस समाज में एकता और एकजुटता नहीं है, कलह और वैमनस्य है, वहाँ विकास का काम. कॉर्पोरेट प्रोफाइल नेशनल सफाई कर्मचारी फाइनेंस. सामाजिक विषमता प्रत्येक समाज में कुछ लोगों के पास धन, संपदा, शिक्षा, स्वास्थ्य एवं शक्ति जैसे मूल्यवान संसाधन का दूसरों की अपेक्षा ज्यादा बड़ा हिस्सा होता है। यह सामाजिक संसाधन पूँजी के तीन रूपों में विभाजित किए भारतीय समाज जा. अनटाइटल्ड Aajeevika. मानव पूँजी के निर्माण में शिक्षा की महत्वपूर्ण भूमिका हैं: i शिक्षा अच्छी नौकरी और वेतन के रूप में फल देती है।.

सामाजिक पूँजी के विचार को नये सिरे से प्रासंगिक.

श्रेष्ठतम मानव पूँजी उपलब्ध है तो उस देश की भौतिक संसाधन और भी उत्पादक बन जाती. है प्रसिद्ध मानवीय पूँजी के विकास के लिए शिक्षा प्रशिक्षण स्वस्थ्य. जीवन स्तर में मानव विकास किसी भी देश के आर्थिक सामाजिक विकास का आधार होता. भारत को सामाजिक न्याय चाहिए AFEIAS. आजीविका के बेहतर अवसर कृषि आधारित एवं गैर कृषि आधारित ग्राम स्तरीय संगठनों के रूप में प्रभावी सामाजिक पूँजी सषक्त अधोसंरचना समस्त पात्रों हेतु सामाजिक विकास व सामाजिक सुरक्षा सार्वजनिक सेवाओं की सुचारू व बेहतर प्रदायगी.

सामाजिक एवं राजनीतिक सत्ता Eklavya.

इससे पूंजी केवल कुछ लोगों तक सीमित होती गई। भारत में याराना पूँजीवाद पाँव पसारने लगा। निजी क्षेत्र को मिली इस शक्ति के परिणाम भी सामने आए। परन्तु किसके लिए? स्पष्टतः साधारण जन के लिए नहीं आए। हाल ही के एक अध्ययन में इस. जाति और सामाजिक पूँजी दलित दस्तक. क्षेत्र स्तरीय समितियों ALF के लिए सामाजिक पूँजी का निर्माण हो सके। सरकारी. विभागों तथा अन्य संस्थाओं से क्षेत्र स्तरीय समितियों ALF को जोड़ते हुए नगर. महिला संघ का मुख्य दायित्व संसाधनों का लामबंदी एवं जुड़ाव भी होगा ताकि. संक्षेपिका PRD, Madhya Pradesh MP. इसके विपरीत, जब शक्ति का प्रयोग सामाजिक मान्यता के बिना ही अन्य लोगों को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है तो उसे चूँकि ज्ञान सत्ता का एक केन्द्र है और ज्ञान को पूँजी, जेण्डर तथा धर्म वर्ग जाति प्रभावित करते हैं तथा ज्ञाइन सबको.

About Us Bhra Social Business.

सामाजिक स्थिरक. Social aspect. सामाजिक पहलू. Social capital. सामाजिक पूँजी. Social contract. सामाजिक संविदा. Social Darwinism. सामाजिक डार्विनवाद. Social democracy. सामाजिक लोकतंत्र. Social equality. सामाजिक समता समानता. Social exclusion. सामाजिक अपवर्जन. INTERNATIONAL RESEARCH JOURNAL OF COMMERCE, ARTS. मूल्यांकन जब अपने स्तर पर करता है तो उसे सामाजिक अंकेक्षण. कहा जाता है। इसमें 10. काम का मूल्यांकन. 11. ग्राम सभा में अनिवार्य सामाजिक ऑडिट सामाजिक ऑडिट. फोरम इससे सामाजिक जागरूकता के रूप में सामाजिक पूँजी. विकसित होगी। संगठन. Ecosystem Small Industries Development Bank of India. विवरण 1 बिहार की समेकित निधि पूँजी खाता संवितरण. क सामान्य सेवाओं पर पूंजी परिव्यय. ख सामाजिक सेवाओं पर पूंजी परिव्यय. ग आर्थिक सेवाओं पर पूंजी परिव्यय. घ लोक ऋण​. ड ऋण एवं अग्रिम. विवरण क बिहार की समेकित निधि पर भारित ​. Page 1 M न्यूजलेटर की शुरूआत आखिर क्यों 0Y भारत. विकास और सशक्तीकरण को प्रोत्साहित किया जाता है, जिससे सामाजिक पूँजी सामाजिक नेटवर्क. और भरोसा का विकास होता है और क्षमता में वृद्धि होती है। सामाजिक असर के मूल्यांकन के संदर्भ को फोकस करना विकास और बेहतर विकास की दिशा में.

पूँजी बाजार तथा जोखिम प्रबंध केन्‍द्र IIM Bangalore.

उन्होंने सामाजिक पूँजी के सिद्धांत का प्रचार किया। उन्होंने मानव के परिश्रम के संदर्भ में. पूँजीवाद के मूल सिद्धांतों को स्वीकार किया। प्रत्येक व्यक्ति का परिश्रम, पूँजी का निर्माण करता. है। परन्तु पूँजी का एक सामाजिक महत्व भी है।. सोशल ऑडिट. राजस्व खाता भुगतान. Revenue Account Disbursements. 5 12. 3. पूँजी खाता प्राप्तियों सम्पदा तथा पूंजी कार्यकलापों पर कर. Taxes on Property and Capital Transactions. 0029. भू राजस्व सामाजिक सेवाओं का पूँजी गत खाता. B. CAPITAL ACCOUNT OF SOCIAL. SERVICES. सामाजिक पूंजी के हिस्सेदार अमर उजाला. कोर्स समन्वयक, प्रो0 ए0आर0सिद्दीकी, भूगोल विभाग ने कहा कि भारत में मनुष्य सामाजिक पूँजी के रूप में है। मनुष्य अपने ज्ञान और श्रम से विकास की सारी संभावनाओं को प्राप्त कर सकता है। डॉ0 अश्वजीत चौधरी ने कुलपति, राजर्षि टंडन. अनटाइटल्ड Aam Aadmi Party. यू तो क्षेत्र में काम करना हमने सन 2009 में एम ए सामाजिक उद्यमिता के कोर्स. के प्रोजेक्ट के सामाजिक पूँजी. 1. सांस्कृतिक पूंजी – इस शब्द से यह तात्पर्य है कि यदि बच्चे के पास. ऐसी वस्तु हो जो उसे उसकी संस्कृति की वजह से मिली है। जैसे कि. जाति सामाजिक पूँजी है.जातीय वरीयताक्रम उस. Meaning of पूँजी Punji in English पूँजी का अंग्रेज़ी में मतलब: Below is the complete list for the meanings of पूँजी in English: सामान्यतः इसे किसी वर्ष में पूँजी स्टॉक में होने वाली वृद्धि के रूप में परिभाषित करते हैं संदर्भ Reference सामाजिक पूँजी के.

HTML Paper A and V Publication.

मुख्यमंत्री एवं समाज कल्याण मंत्री के साथ विभिन्न सामाजिक एवं जातीय संगठनों के प्रतिनिधियों की बैठकें होंगी, उन्हें इस बचत से पूँजी निर्माण करने और उसे अपने परिवार के रहन सहन और रोजगार के लिए उपयोग में लेने का आह्वान​. पंचायत की विकासात्मक भूमिकाएं एवं कार्य. आर्थिक विकास को समझने में जनसंख्या, मानव पूँजी, सामाजिक पूँजी, संसाधन निधि, प्रौद्योगिकी, संस्थाएँ तथा राजनीतिक अर्थव्यवस्था ने इसे महत्त्वपूर्ण रूप से दर्शाया है। विकास में प्रकृति की भूमिका को समझने में जलवायु. Punji Meaning in English पूँजी का अंग्रेजी में GyanApp. यहीं से फिल्म उद्योग पर पूँजी का वर्चस्व इतना अधिक बढ़ा कि उसने कंटेंट और सामाजिक सरोकारों को बहुत पीछे ढकेल दिया। यही वजह है कि आज की फिल्मों में हमें गाँवों के भारत की तस्वीर कम दिखती है जबकि मेट्रो शहरों मुंबई या गोवा.

कब थमेगा नीतियों का भ्रष्टाचार Navbharat Times.

निगम सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय के अंतर्गत पूर्णत: भारत सरकार का उपक्रम है। वर्तमान में निगम की प्राधिकृत अंश पूँजी रू.710.00 करोड एवं प्रदत्त पूँजी रू. 641 करोड है। एनएसकेएफडीसी का प्रमुख उद्देश्य मैनुअल. सिंडिकेट पूंजी बाजार सेवाएँ Syndicate Bank. भारत में आदिवासी, दलित व ओबीसी के लोग सब जगह पिछड़े हैं, तो उसका एक प्रमुख कारण इन वर्गों के व्यक्तियों के पास सामाजिक पूँजी का भारी अकाल होना भी है। अमेरिका की ड्युक विश्वविद्यालय के समाज शास्त्र के प्रोफेसर नान लिन. अनटाइटल्ड. सामाजिक जनसांख्यिकी इसमें जनसंख्या के सामाजिक, आर्थिक व राजनीतिक जाति एक ऐसी सामाजिक संस्था है जो भारत में हजारों सालों से प्रचलित है। 4. उदारीकरण वह प्रक्रिया जिसमें सरकारी विभागों का निजीकरण, पूंजी, व्यापार व श्रम.