भाटी यदुवंशी राजपूत केसे बनें?

भारत में जादौन ठाकुर तो जादौन पठानों का छठी सदी में हुआ क्षत्रिय करण रूप है ।क्योंकि अफगानिस्तान अथवा सिन्धु नदी के मुअाने पर बसे हुए जादौन पठानों का सामन्तीय अथवा जमीदारीय खिताब था तक्वुर ! जो भारतीय भाषाओं में ठक्कुर , ठाकुर ,टैंगॉर तथा ठाकरे रूपों में प्रकाशित हुआ।जमीदारी खिताबों के तौर पर भारत में इस शब्द का प्रयोग उन लोगों के लिए सबसे पहले हुआ।जो तुर्की काल में जागीरों के अथवाभू-खण्डों के मालिक थे ।

भाटी यदुवंशी राजपूत केसे बनें?

बंजारो के राजपूत बनने की कहानी पढ़े?

Lucknowfirst

असली यदुवंशी कौन ? (1) अहीर अथवा जादौन ! एक विश्लेषण --भाग प्रथम